Submit your post

Follow Us

छह महीने के बच्चे ने कोरोना को हराया, मां ने बताया कैसे जीती जंग

महाराष्ट्र के ठाणे ज़िले में आने वाला कल्याण इलाका. यहां रहने वाली एक औरत जब 11 अप्रैल (शनिवार) को अपने छह महीने के बच्चे के साथ अस्पताल से लौटी, तो हर किसी ने तालियों से स्वागत किया. क्यों? क्योंकि बच्चे ने कोरोना वायरस को हरा दिया था. नौ दिन तक मुंबई के कस्तूरबा अस्पताल में रहने के बाद वह वापस अपने घर आया था.

कैसे हुआ बच्चा कोरोना पॉजिटिव?

‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चे के दादा परिवार में सबसे पहले कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. वो डायबटीज़ के मरीज़ हैं. कुछ दिनों से बुखार था. डॉक्टर ने चेक करने के बाद कोरोना टेस्ट करवाने को कहा. 3 अप्रैल को पता चला कि COVID-19 हो गया है. कस्तूरबा अस्पताल में आइसोलेटेड कर दिए गए.

इधर बच्चे को भी बुखार आ रहा था. मां ने बताया कि फिजिशियन के पास लेकर गए थे, लेकिन दवा का कुछ असर नहीं हुआ. फिर कल्याण के शास्त्री अस्पताल लेकर गए, लेकिन अस्पताल ने सुविधाओं की कमी बताकर बच्चे को एडमिट नहीं किया. बच्चे को मुंबई के SRCC अस्पताल रेफर कर दिया. बच्चे की मां उसे लेकर 57 किलोमीटर दूर SRCC अस्पताल गई, डॉक्टर्स ने कहा कि उनके पास बच्चों को एडमिट करने के लिए COVID-19 वॉर्ड नहीं है. आगे बच्चे की मां ने बताया,

‘तब तक उसका चेहरा पीला पड़ चुका था. बुखार उतर नहीं रहा था. मैंने डॉक्टर्स के सामने भीख मांगी कि मेरे बच्चे का इलाज कर दें. तब डॉक्टर ने फाइनली कस्तूरबा अस्पताल के लिए रेफरेंस लेटर लिखा.’

महिला जब तक बच्चे को लेकर कस्तूरबा अस्पताल पहुंची, 4 अप्रैल की सुबह हो चुकी थी. वहां भी परिवार को आधा दिन इंतज़ार करना पड़ा. महिला ने बताया कि अस्पताल ने उनसे कहा कि वो मुंबई के बाहर के मरीज़ को एडमिट नहीं कर रहे.

फिर हेल्थ मिनिस्टर को पता चला

महिला के पहचान वालों ने पूरा मामला किसी तरह महाराष्ट्र के हेल्थ मिनिस्टर राजेश टोपे तक पहुंचाया. उन्होंने अस्पताल को निर्देश दिया कि बच्चे को एडमिट किया जाए. फिर अस्पताल में बच्चे समेत पूरे परिवार का चेकअप हुआ. महिला और उसके 6 साल के बेटे की रिपोर्ट निगेटिव आई. लेकिन छह महीने के बच्चे, उसके पिता और दादी की रिपोर्ट पॉजिटिव आई.

सभी को आइसोलेटेड वॉर्ड में भर्ती किया गया. इधर महिला के छह साल के बच्चे को संभालने की जिम्मेदारी पड़ोसियों ने ले ली. महिला ने अपने छोटे बेटे के साथ अस्पताल में रुकने का फैसला किया. उन्हें दो और कोरोना पॉजिटिव लोगों के साथ कमरा दिया गया. महिला बताती हैं कि पूरे अस्पताल में बच्चे को हर कोई खिलाता रहता था. कोरोना वायरस की वजह से फैले तनाव में बच्चे की आवाज़ राहत देती थी. बच्चे की मां ने बताया,

‘वो लोग अपने पलंग से उसे पुकारते थे, उसके साथ खेलते थे. वो हमेशा उन लोगों को हंसाता था.’

इस हफ्ते बच्चे का दो बार टेस्ट हुआ. दोनों बार रिपोर्ट निगेटिव आई. 11 अप्रैल को उसे डिस्चार्ज कर दिया गया और महिला को सुरक्षा के तौर पर कुछ दवाएं दी गईं. बच्चे के पिता और दादा-दादी अभी भी एडमिट हैं.

शनिवार को जब महिला अपने बच्चे के साथ घर लौटी, तो लोगों ने बच्चे का स्वागत किया. महिला कहती हैं, ‘बीते दिनों मैंने कठिनाई और खुशी दोनों पल जिए.’


वीडियो देखें: इटली से भारत आईं, कोरोना वायरस से बच गईं,लेकिन इस वजह से मौत हो गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने पर औरत ने कलाई की नस काट ली, डॉक्टर को पुलिस बुलानी पड़ी

अस्पताल में दो घंटे तक हंगामा करती रही महिला.

होम क्वारंटीन में रह रही लड़की भूख हड़ताल पर क्यों है?

कोयंबटूर में पढ़ती थी, केरल में अपने घर आई थी.

लॉकडाउन: मां बाजार गई थी, घर में रेप के बाद 13 साल की बेटी की हत्या हो गई

लोग सोशल मीडिया पर इंसाफ मांग रहे हैं.

दर्द से जूझ रही प्रेगनेंट महिला को अस्पताल ने भर्ती नहीं मिली, पार्किंग एरिया में बच्चे को जन्म दिया!

घटना इंदौर के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल की है.

लॉकडाउन : सरकारी हेल्पलाइन ने बताया, हर मिनट छह बच्चों का शोषण हो रहा है

अलग-अलग तरीकों से.

बिहार : गर्भपात के बाद महिला अस्पताल पहुंची, कोरोना के आइसोलेशन वॉर्ड डॉक्टर ने ही रेप कर दिया

महिला की मौत के बाद खुला मामला

कर्फ्यू तोड़ने वालों से पुलिस ने कहा, 'एक-दूसरे को चूमो और सेक्सी डांस करके दिखाओ'

एक नाबालिग को ये पूरा दृश्य देखने पर मजबूर भी किया

डिलिवरी के लिए पहुंची महिला को अस्पताल ने लौटा दिया, सड़क पर बच्चे को जन्म दिया

...और बच्चे की मौत हो गई.

कोरोना वायरस: लॉकडाउन का फायदा उठाकर 9 लड़कों ने नाबालिग का गैंगरेप किया

ऐसे माहौल में भी इन लड़कों को डर नहीं लगा.

'कोरोना' चिल्लाकर लड़की पर थूकने वाले को पुलिस ने धर लिया है

दिल्ली का ही है आरोपी, सफ़ेद स्कूटी और CCTV फुटेज ने मदद की