Submit your post

Follow Us

प्रेमी के साथ मिलकर पूरे परिवार को मारने वाली शबनम, जिसे अब कभी भी फांसी हो सकती है

शबनम. उत्तर प्रदेश के रामपुर ज़िला जेल में बंद एक कैदी. जो आज़ाद भारत में फांसी की सज़ा पाने वाली पहली महिला हो सकती है. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल और देश के राष्ट्रपति दोनों ने ही उसकी दया याचिका खारिज कर दी है. अब जेल प्रशासन ने फांसी की तैयारियां शुरू कर दी हैं. शबनम ने अपने प्रेमी सलीम के साथ मिलकर अपने ही परिवार के सात लोगों की हत्या कर दी थी. घटना 14 अप्रैल, 2008 को हुई थी.

रामपुर ज़िला जेल के जेलर राकेश कुमार वर्मा ने इंडिया टुडे से कहा,

“उसकी दया याचिका राष्ट्रपति ने खारिज कर दी है. हमने अमरोहा जिला प्रशासन से उसके डेथ वॉरंट के लिए बात की है. वॉरंट मिलते ही उसे मथुरा जिला जेल भेजा जाएगा, क्योंकि औरतों को फांसी देने की व्यवस्था वहीं पर है.”

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, पूरे देश में केवल मथुरा जेल में महिला कैदियों को फांसी पर चढ़ाने की व्यवस्था है.

Mathura District Jail
पूरे देश में केवल मथुरा जेल में महिला कैदियों को फांसी पर चढ़ाने की व्यवस्था है.

लेकिन शबनम है कौन? और उसका अपराध क्या है?

अमरोहा जिले के बावनखेड़ी गांव की रहने वाली शबनम दो विषयों में एमए है. पढ़ाई पूरी होने के बाद शबनम गांव के ही प्राथमिक स्कूल में पढ़ाने जाती थी. शबनम के घर में ही लकड़ी की कटाई का एक वर्कशॉप था. वहां काम करने वाले सलीम को शबनम पसंद करने लगी. सलीम आठवीं पास है.

इस पूरी घटना के बारे में इस मामले के इनवेस्टिगेटिंग ऑफिसर रहे आरपी गुप्ता ने डिटेल में आजतक से बात की. उन्होंने बताया,

“शबनम ने अपने पिता शौकत अली को बताया कि वो और सलीम एक दूसरे को पसंद करते हैं. शादी करना चाहते हैं. सलीम एक तो कम पढ़ा-लिखा था, ऊपर से उनके यहां काम करता था. ऐसे में सोशल स्टेटस का हवाला देते हुए शौकत ने इस रिश्ते के लिए साफ इनकार कर दिया. काफी दिनों तक शबनम इसे लेकर परेशान रही, घरवालों को मनाती रही, लेकिन जब वो नहीं माने तो उसने घरवालों की हत्या का प्लान बनाया.”

आरपी गुप्ता ने बताया कि इन दोनों ने सोचा कि सबको मारने के बाद दोनों शादी कर लेंगे और पूरी प्रॉपर्टी भी इनकी हो जाएगी. शबनम के दोनों भाई छुट्टी पर घर आए थे, जिस रात हत्या हुई उसी दिन सुबह वो लोग वापस जाने के लिए निकल गए थे. लेकिन शबनम ने बहाना करके उन्हें आधे रास्ते से वापस बुलाया. उन्होंने बताया,

“उसने सलीम से नशे की गोलियां मंगवाईं. दूध में मिलाकर अपने माता-पिता, दोनों भाई और भाभियों को पिलाई. जब वो बेहोश हो गए तो उसने सलीम को बुलाया. उसने खुद सबके सिर पकड़े और सलीम ने कुल्हाड़ी से सब पर हमला किया. इसके बाद दोनों ने अपने हाथ-पांव धोए और सलीम अपने घर चला गया. शबनम का 11 महीने का भतीजा अर्श बच गया था. उनसे सलीम को बुलाया, उसने आने से इनकार किया तो शबनम ने खुद गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी.”

हत्या के बाद रात करीब साढ़े 12 बजे शबनम अपने घर की छत पर गई, और गांव वालों को आवाज़ लगाकर बुलाया.

शबनम पर कैसे हुआ पुलिस को शक?

आरपी गुप्ता ने बताया कि शुरुआत में शबनम पीड़ित लग रही थी. वो बहुत रो रही थी. ऐसे में पुलिस की हिम्मत नहीं हो रही थी कि उस पर दबाव डालकर उससे कुछ पूछा जाए. शबनम ने अपने चचेरे भाईयों पर घटना को अंजाम देने का आरोप लगाया. उसने कहा कि उसके और उसके चाचा के परिवार के बीच प्रॉपर्टी को लेकर विवाद चल रहा था इसलिए उन लोगों ने ऐसा किया.

बेसिक पूछताछ के तहत आरपी गुप्ता ने शबनम से कुछ सवाल पूछे, जिनके जवाब के आधार पर उन्हें शक हुआ कि शबनम इस घटना में इनवॉल्व हो सकती है-

– आरोपी घर में कैसे घुसे? इस पर शबनम ने कहा कि वो दीवार के सहारे घुसे, जबकि दीवार पर किसी के चढ़ने के कोई निशान नहीं थे.
– हमला करने वाले किधर से भागे? जवाब में शबनम ने कहा कि जीने से. हालांकि, जीने से भागते तो दरवाज़ा खुला मिलता, लेकिन दरवाज़ा अंदर से बंद था.
– घटना के वक्त कहां थी? शबनम ने बताया कि उसे गर्मी लग रही थी, वो ऊपर गई थी. जबकि उसके घर बिजली थी, इनवर्टर भी था, ऐसे में उसे ही क्यों गर्मी लग रही थी? इस पर शबनम कुछ बोल नहीं पाई थी.
– रात का वक्त था. जब घरवाले अपने-अपने कमरों में थे, उनके शरीर चादर से ढके हुए थे, ऐसे में उसे कैसे पता चला कि उन्हें मार दिया गया है. इस पर शबनम ने कहा कि उसने सबकी चादर हटाकर देखी थी. जबकि, इस बात का कोई तुक नहीं बनता, जब आपको घटना का कुछ पता नहीं था तो आप घरवालों की चादर उठाकर क्यों देखेंगे?

आरपी गुप्ता ने बताया कि इस दौरान यूपी की मुख्यमंत्री मायावती भी शबनम से मिलने पहुंची थीं. वो मुआवजे के तौर पर पांच लाख शबनम को देना चाहती थीं, लेकिन शक के आधार पर उन्होंने ही रुपये देने से उन्हें रोका था.

Shabnam ने प्रेमी के साथ मिलकर परिवार के सात लोगों की हत्या कर दी. सांकेतिक फोटो

Shabnam ने प्रेमी के साथ मिलकर परिवार के सात लोगों की हत्या कर दी. सांकेतिक फोटो

अब तक पुलिस को सलीम के रोल के बारे में मालूम नहीं था. इस बीच एक मुखबिर ने सलीम को लेकर जानकारी दी. सलीम को गजरौला से पकड़ा गया और शुरुआती पूछताछ में ही उसने सारी बात बता दी. उसने हत्या की बात स्वीकारी इसके बाद शबनम से कड़ाई से पूछताछ की गई. तब उसने भी अपना गुनाह कुबूल कर लिया.

इसके बाद नशीली दवा के रैपर शबनम के घर से, हत्या में इस्तेमाल हुई कुल्हाड़ी तालाब से और खून से सने कपड़े सलीम के घर से बरामद किए गए.

इस मामले में साल 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने दोनों को सज़ा-ए-मौत देने के इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को बरकरार रखा. दया याचिका खारिज होने के बाद अब उन्हें कभी भी फांसी दी जा सकती है. बता दें कि सलीम इस वक्त आगरा जेल में बंद है.

पवन जल्लाद दे सकते हैं फांसी

मेरठ के पवन जल्लाद. जिन्होंने निर्भया के दोषियों को फांसी पर लटकाया था. शबनम को भी फांसी पर वही लटका सकते हैं. पवन जल्लाद ने मथुरा जेल पहुंचकर तैयारियों का जायज़ा लिया. उन्होंने कहा,

“उसने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपने परिवार वालों को मार डाला. उन्हें फांसी मिलनी चाहिए. मैं ट्रायल करूंगा, रस्सी की जांच करूंगा और देखूंगा कि बोर्ड पूरी तरह तैयार है कि नहीं.”

दूसरी तरफ, इंडिया टुडे ने शबनमे के चाचा सत्तार अली से बात की. उन्होंने कहा कि उसने अपने ही परिवार के सात लोगों को बेरहमी से मार डाला था. उसे फांसी मिलनी ही चाहिए.


नव्या नवेली नंदा ने ट्रोल को तबीयत से जवाब दिया!

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

पुडुचेरी में किरण बेदी की जगह लेने वाली तमिलिसाई सुंदराराजन कौन हैं?

पुडुचेरी में किरण बेदी की जगह लेने वाली तमिलिसाई सुंदराराजन कौन हैं?

वो तेलंगाना की पहली महिला गवर्नर भी हैं.

बेटियों के साथ फोटो डालकर एक्ट्रेस ने पूछा, 'बेटा होने से ही परिवार पूरा होता है क्या?'

बेटियों के साथ फोटो डालकर एक्ट्रेस ने पूछा, 'बेटा होने से ही परिवार पूरा होता है क्या?'

साथ में एक पते की बात कही है.

श्वेता मीटिंग में माइक म्यूट करना भूल गई और अब सबको 'पंडित' के अफ़ेयर के बारे में पता है

श्वेता मीटिंग में माइक म्यूट करना भूल गई और अब सबको 'पंडित' के अफ़ेयर के बारे में पता है

अगली श्वेता बनने से ऐसे बचें.

राहुल गांधी पैट्रियार्की से लड़ना चाहते हैं, लेकिन उनके तरीके सही नहीं हैं

राहुल गांधी पैट्रियार्की से लड़ना चाहते हैं, लेकिन उनके तरीके सही नहीं हैं

पितृसत्ता के खिलाफ बोल रहे थे, पर उसी को बल देने वाला उदाहरण दे दिया.

किरण बेदी के पांच विवाद जिन्होंने दमदार IPS की छवि की भद्द पीट दी

किरण बेदी के पांच विवाद जिन्होंने दमदार IPS की छवि की भद्द पीट दी

PDS के तानाशाही फैसले से लेकर नस्लभेदी ट्वीट तक...

प्रिया रमानी के बरी होने पर लोग बोले- हम उस बात का जश्न मना रहे, जिसकी जरूरत ही नहीं होनी चाहिए

प्रिया रमानी के बरी होने पर लोग बोले- हम उस बात का जश्न मना रहे, जिसकी जरूरत ही नहीं होनी चाहिए

यौन शोषण के आरोपी ने विक्टिम को कोर्ट में घसीटा, फैसले ने सोशल मीडिया का दिल जीत लिया.

किस तरह प्रिया रमानी के एक ट्वीट ने लिख दी केंद्रीय राज्यमंत्री रहे एमजे अकबर के पतन की कहानी

किस तरह प्रिया रमानी के एक ट्वीट ने लिख दी केंद्रीय राज्यमंत्री रहे एमजे अकबर के पतन की कहानी

प्रिया सहित करीब 20 महिला पत्रकारों ने मीटू मूवमेंट के दौरान एमजे अकबर पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे.

दुबई की राजकुमारी को पिता ने तीन साल से बंधक बनाकर रखा, सामने आया नया वीडियो

दुबई की राजकुमारी को पिता ने तीन साल से बंधक बनाकर रखा, सामने आया नया वीडियो

प्रिंसेस लतीफा ने साल 2018 में दुबई से भागने की कोशिश की थी.

नहर में बस गिरने के बाद इस लड़की ने जो बहादुरी दिखाई, उसकी चर्चा हर तरफ हो रही है

नहर में बस गिरने के बाद इस लड़की ने जो बहादुरी दिखाई, उसकी चर्चा हर तरफ हो रही है

शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर लड़की को शाबाशी दी.

रेप की वो घटना जिस पर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री-रक्षा मंत्री को विक्टिम से माफी मांगनी पड़ी

रेप की वो घटना जिस पर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री-रक्षा मंत्री को विक्टिम से माफी मांगनी पड़ी

डिफेंस मिनिस्टर के ऑफिस में हुआ रेप. सरकार ने मामला दबाने की कोशिश की.