Submit your post

Follow Us

'सिर्फ तौलिया लपेटकर पढ़ाते हैं', चेन्नई में बच्चों का स्कूल टीचर पर आरोप, कनिमोई ने उठाया मामला

तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई. यहां का पद्म शेषाद्रि बाल भवन स्कूल. कई स्टूडेंट्स ने एक टीचर के खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. सिर्फ वर्तमान छात्रों ने ही नहीं, बल्कि पूर्व स्टूडेंट्स ने भी ऐसे आरोप लगाए हैं. आरोप यह भी हैं कि बार-बार शिकायत करने के बाद भी स्कूल के मैनेजमेंट ने टीचर पर कोई कार्रवाई नहीं की. अब राज्य की सत्ताधारी पार्टी की दो सांसदों ने इसकी जांच की बात कही है. इन सांसदों में कनिमोई भी शामिल हैं.

क्या है मामला?

इंडिया टुडे से जुड़े प्रमोद माधव की रिपोर्ट के मुताबिक, स्कूल की कुछ स्टूडेंट्स ने आरोप लगाया कि राजगोपालन नाम के टीचर सिर्फ एक तौलिया लपेटकर ऑनलाइन क्लास लेते हैं. यही नहीं, क्लास लेते हुए कुछ स्टूडेंट्स को ‘वेरी क्यूट’ जैसे मेसेज भेजते हैं. उनकी प्रोफाइल पिक पर टिप्पणी करते हैं.

इन स्टूडेंट्स ने सोशल मीडिया पर भी ऐसे आरोप लगाए. उन्होंने आरोप लगाया कि कई बार शिकायत करने के बाद भी स्कूल के मैनेजमेंट की तरफ से कार्रवाई नहीं की गई. इन आरोपों के बाद स्कूल के पूर्व छात्रों ने भी एक बयान जारी किया. यह बयान पद्म शेषाद्रि बाल भवन ग्रुप ऑफ स्कूल्स की डीन शीला राजेंद्रन को संबोधित था. इसमें कहा गया,

“राजगोपालन 20 साल से स्कूल से जुड़े हैं. अकांउटेंसी और बिजनेस पढ़ाते हैं. राजगोपालन लगातार बच्चों का यौन शोषण कर रहे हैं. अपने व्यवहार के जरिए उन्होंने स्टूडेंट और टीचर के रिश्ते को बार-बार खराब किया है.”

इन पूर्व छात्रों ने यह भी आरोप लगाया कि राजगोपालन ने लड़कियों को गलत तरीके से छुआ है, उनका यौन उत्पीड़न किया है. साथ ही यह आरोप भी कि राजगोपालन ने स्टूडेंट्स को लगातार यह धमकी दी है कि अगर वे किसी भी तरह की शिकायत करेंगे, तो वे उन्हें जानबूझकर कम नंबर देंगे.

पद्म शेषाद्रि बाल भवन स्कूल के पूर्व छात्रों द्वारा जारी किया गया बयान. जिसमें उन्होंने आरोपी टीचर को संस्पेंड करने से लेकर नाबालिग बच्चों की पहचान उजागर ना होने की बात सुनिश्चित करने की मांग रखी है. (फोटो: स्पेशल अरेंजमेंट)
पद्म शेषाद्रि बाल भवन स्कूल के पूर्व छात्रों द्वारा जारी किया गया बयान. जिसमें उन्होंने आरोपी टीचर को संस्पेंड करने से लेकर नाबालिग बच्चों की पहचान उजागर ना होने की बात सुनिश्चित करने की मांग रखी है. (फोटो: स्पेशल अरेंजमेंट)

इन आरोपों के अलावा पूर्व छात्रों ने कुछ मांग भी रखी हैं. जैसे राजोपालन को तुरंत सस्पेंड किया जाए. राजगोपालन के खिलाफ जांच के लिए निष्पक्ष पैनल का गठन किया जाए. इसकी जानकारी बाल संरक्षण और लिंग संवेदनशीलता के लिए बनाई गई समितियों को दी जाए. साथ ही साथ पीड़िता नाबालिग बच्चों की पहचान उजागर ना हो, उनके खिलाफ किसी भी तरह की जवाबी कार्रवाई ना की जाए, यह भी सुनिश्चित किया जाए.

कनिमोई ने उठाया मामला

इन आरोपों के सामने के बाज डीएमके की सांसद कनिमोई ने ट्वीट किया. उन्होंने लिखा,

“पद्म शेषाद्रि स्कूल में कॉमर्स के टीचर के ऊपर लगे यौन शोषण के आरोप चौकाने वाले हैं. इस मामले की जांच होनी चाहिए. जो लोग भी शामिल हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. स्कूल के मैनेजमेंट के खिलाफ भी, जिसने स्टूडेंट्स से बार-बार मिली शिकायतों के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की. मैं वादा करती हूं कि यह मामला प्रशासन में बैठे लोगों तक लेकर जाउंगी.”

साउथ चेन्नई से डीएमके सांसद तमिझाची थंगपांडियन ने इन आरोपों को डरावना और गंभीर बताया. उन्होंने ट्वीट किया,

“आरोपी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए. स्कूल के मैनेजमेंट को आरोपी को बचाने की जगह, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.”

इन आरोपों पर डीन शीला राजेंद्रन ने जवाब दिया है. उन्होंने कहा है कि जैसा कि बताया जा रहा है, उससे उलट इन आरोपों के बारे में कभी भी स्कूल मैनेजमेंट को जानकारी नहीं दी गई. उन्होंने बच्चों के माता-पिता को संबोधित करते हुए कहा कि ऐसे व्यवहार, जिससे बच्चों के शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर गलत असर पड़े, उसके प्रति स्कूल में जीरो-टॉलरेंस की पॉलिसी अपनाई जाती है. यह भी कहा कि इन आरोपों की निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से जांच की जाएगी.


 

वीडियो- NCERT की कविता में ‘छोकरी’ और ‘चूसना’ शब्द का इस्तेमाल हुआ, तो दो गुटों में लोग बंट गए!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

महिला क्रिकेट टीम के करोड़ों रुपये दबाकर क्यों बैठा है BCCI?

महिला क्रिकेट टीम के करोड़ों रुपये दबाकर क्यों बैठा है BCCI?

बड़ी नाइंसाफी है.

इंटरनैशनल फुटबॉलर को लॉकडाउन में गुज़ारे के लिए क्या-क्या करना पड़ रहा, सरकार को शर्मिंदा होना चाहिए

इंटरनैशनल फुटबॉलर को लॉकडाउन में गुज़ारे के लिए क्या-क्या करना पड़ रहा, सरकार को शर्मिंदा होना चाहिए

नौ महीने पहले मदद का आश्वासन देकर भूल गई सरकार.

बिहार: मरीजों का हाल जानने अस्पताल पहुंची विधायक कुर्सी के लिए डॉक्टर से उलझ गईं

बिहार: मरीजों का हाल जानने अस्पताल पहुंची विधायक कुर्सी के लिए डॉक्टर से उलझ गईं

अब वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने महिला को तीन बच्चों के गर्भपात की इसलिए दी अनुमति

बॉम्बे हाईकोर्ट ने महिला को तीन बच्चों के गर्भपात की इसलिए दी अनुमति

गर्भावस्था 24 हफ्ते की कट ऑफ अवधि को पार कर गई थी.

अश्लील क्या है, कक्षा 1 की किताब में छपी 'आम की टोकरी' कविता या लोगों का दिमाग?

अश्लील क्या है, कक्षा 1 की किताब में छपी 'आम की टोकरी' कविता या लोगों का दिमाग?

'छोकरी' और 'चूसना' जैसे शब्दों वाली इस कविता को एक पक्ष भद्दा बता रहा है.

जिन केके शैलजा के दम पर केरल ने पूरी दुनिया में वाहवाही लूटी, उन्हें कैबिनेट से क्यों हटाया?

जिन केके शैलजा के दम पर केरल ने पूरी दुनिया में वाहवाही लूटी, उन्हें कैबिनेट से क्यों हटाया?

क्या बात इतनी सीधी है जिनती पिनरई विजयन दिखा रहे हैं?

तजिंदर बग्गा ने सोनिया गांधी पर ये घटिया ट्वीट कर दिखा दिया, छिछोरई क्या होती है

तजिंदर बग्गा ने सोनिया गांधी पर ये घटिया ट्वीट कर दिखा दिया, छिछोरई क्या होती है

विपक्षी पार्टी की महिला है तो उसको कुछ भी कह सकते हैं, 'कई पतियों वाली' भी?

कोरोना मरीज़ों को घर-घर जाकर खोजने वाली आंगनबाड़ी और आशा वर्कर्स की ऐसी हालत हो गई

कोरोना मरीज़ों को घर-घर जाकर खोजने वाली आंगनबाड़ी और आशा वर्कर्स की ऐसी हालत हो गई

आखिर किस मकसद से आंगनबाड़ी की शुरुआत हुई थी?

तूफ़ान से हुए नुकसान के बीच मॉडलिंग कर रही एक्ट्रेस को लोगों ने खूब सुनाया!

तूफ़ान से हुए नुकसान के बीच मॉडलिंग कर रही एक्ट्रेस को लोगों ने खूब सुनाया!

जिनके सिर पर छत सलामत हो उन्हें तूफ़ान रोमैंटिक लगते हैं, लोगों ने कहा.

नीतीश कुमार से मोहब्बत का दर्द बांटने वाले की शादी क्यों नहीं हुई, पता चल गया!

नीतीश कुमार से मोहब्बत का दर्द बांटने वाले की शादी क्यों नहीं हुई, पता चल गया!

पंकज गुप्ता और उनकी वर्चुअल कथित गर्लफ्रेंड के ब्रेकअप में नीतीश की बड़ी भूमिका थी.