Submit your post

Follow Us

यौन शोषण करता था पुलिस वाला, लड़की ने आवाज़ उठाई तो घिनापे की हद ही पार कर दी

पुलिस. हमें बताया जाता है, कैम्पेन चलाए जाते हैं कि जब भी किसी परेशानी में हों पुलिस को कॉल करें. 100, 121 डायल करें. लेकिन क्या हो जब एक पुलिसवाला ही एक लड़की और उसके परिवार के लिए परेशानी का सबब बन जाए. और इसमें ऊपर से लेकर नीचे तक पूरा पुलिस महकमा भी उस पुलिसवाले के साथ मिल जाए? बस्ती की एक लड़की और उसका परिवार बीते एक साल से एक पुलिसवाले की ऐसी ही मनमानी का सामना कर रहा है.

क्या हुआ था सालभर पहले पहले?

आरोपी पुलिस वाला सब इंस्पेक्टर है. उसका नाम दीपक सिंह है. मार्च, 2020 में कोविड 19 महामारी के चलते पूरे देश में लॉकडाउन लगा था. लोग मास्क पहन रहे हैं या नहीं, सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो कर रहे हैं या नहीं, ये सब चेक करने के लिए दीपक सिंह की ड्यूटी लगी थी. खबर के लिए हम पीड़ित लड़की का नाम नंदिनी रख रहे हैं. एक रोज़ नंदिनी कहीं जा रही थी, कथित तौर पर उसने मास्क नहीं लगाया था. दीपक सिंह ने उसे रोका, उसका फोन नंबर नोट किया और फिर उसे जाने दिया. इसके बाद वो नंदिनी को अश्लील मैसेज भेजने लगा. नंदिनी ने अश्लील मैसेजेस को लेकर ऑब्जेक्ट किया तो दीपक ने कथित तौर पर धमकी दी कि वो नंदिनी और उसके परिवार के खिलाफ झूठे मामले दर्ज करवा देगा.

Lockdown School Colleges Rules
सांकेतिक फोटो: रॉयटर्स

इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, इस घटना के तीन महीने बाद यानी जून में एक सड़क को राजस्व अधिकारियों की गांववालों से कुछ बहस हुई तो दीपक सिंह ने नंदिनी के परिवार के खिलाफ कई मामले दर्ज कर दिए. नंदिनी का ये भी आरोप है कि 30 अगस्त, 2020 को दो कॉनस्टेबल उनके घर में जबरन घुस आए थे. उसकी बहन की नहाते हुए तस्वीरें खींच ली. उन तस्वीरों से ब्लैकमेल करके वो लोग नंदिनी के परिवार पर दबाव बना रहे थे कि वो दीपक के खिलाफ अपना केस वापस ले लें. आरोप है कि उनके परिवार को कोतवाली बुलाकर उन्हें पीटा भी गया. इसके बाद नंदिनी ने राज्य महिला आयुक्त और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पास इस मामले की शिकायत की.

एसपी ने किया था आरोपी पुलिसवाले का बचाव

घटना के वक्त बस्ती के एसपी थे हेमराज मीणा. 20 मार्च को उनका ट्रांसफर कर दिया गया. उनकी जगह आशीष श्रीवास्तव ने बस्ती एसपी का काम संभाला है. बीते शुक्रवार यानी 19 मार्च को मीणा ने मीडिया से इस घटना को लेकर बात की थी. उन्होंने कहा था कि नंदिनी के आरोप झूठे हैं. उनके मुताबिक, 13 जून, 2020 को राजस्व विभाग की टीम विक्टिम के गांव में गई थी. सड़क नापने के लिए. लेकिन गांववालों ने उन्हें रोक दिया. पुलिस को सूचना दी गई, जिसके बाद दीपक सिंह मौके पर पहुंचा था. लेकिन गांव के लोगों ने राजस्व और पुलिस टीम को बंधक बना लिया था.

मीणा ने कहा था कि नंदिनी ने कुछ वॉट्सऐप मैसेज के प्रिंटआउट दिए थे. लेकिन जिस नंबर से मैसेज किए गए थे वो दीपक सिंह का नंबर नहीं था.

Up Police (1)
पुलिसवाले पर आरोप है कि मास्क चेकिंग के बहाने लड़की का नंबर लेकर वो उसे अश्लील मैसेज करने लगा. आवाज़ उठाने पर उसके पूरे परिवार के खिलाफ FIR दर्ज करवा दी.. (सांकेतिक फोटो- PTI)

क्या कार्रवाई हुई?

जब नंदिनी ने राज्य महिला आयुक्त और मुख्यमंत्री से शिकायत की, तब मामले की जांच के लिए हाई लेवल जांच कमिटी बनाई गई. ADG अखिल कुमार के नेतृत्व में. इस कमिटी ने नंदिनी के गांव जाकर उसके परिवार और गांव वालों से बात की. अपने स्तर पर पूरे मामले की जांच की. जांच में सामने आया कि दीपक सिंह ने अपने पद का गलत फायदा उठाया. अखिल कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा,

“मुख्य आरोपी दीपक सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है. निष्पक्ष जांच सुनिश्चित करने के लिए हमने सभी आरोपी पुलिसवालों का दूसरे जिलों में ट्रांसफर कर दिया है. राजस्व विभाग के जिन अधिकारियों का नाम आया है उनका भी ट्रांसफर किया जा सकता है. मामले की जांच संत कबीर नगर जिले की पुलिस करेगी, ताकि पूरी ट्रांसपैरेंसी बनी रहे.”

पुलिस के मुताबिक, हाई लेवल जांच कमिटी के सुझावों के आधार पर इस मामले में 13 लोगों के खिलाफ FIR की गई है. IPC की धारा 323 (जान बूझकर नुकसान पहुंचाना), 324 (खतरनाकर हथियारों या तरीकों से जान बूझकर नुकसान पहुंचाना), 211 (झूठा केस दर्ज करना), 342 (बंधक बनाना), 504 (शांति भंग करने के मकसद से जान बूझकर किसी की इंसल्ट करना), 506 (धमकी), 354 (महिला की गरिमा का अपमान), 452 (नुकसान पहुंचाने के मकसद से किसी के घर में घुसना), 120 B (आपराधिक षडयंत्र) और IT एक्ट की संबंधित धाराओं के तहत मामले दर्ज किए गए हैं.


असम चुनाव: लाइका दोधिया नेशनल पार्क में रह रहीं इस महिला ने PM मोदी से क्या मांग की?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

लोगों के घरों में बर्तन मांजने का काम करती हैं, BJP ने चुनाव का टिकट दे दिया

एक महीने की छुट्टी लेकर चुनावी कैंपेन कर रही हैं.

डियर तीरथ रावत जी, औरतें बच्चा पैदा करने की मशीन नहीं हैं

राशन कम मिलने के पीछे जो तर्क दिया वो सुनकर माथा पीट लेंगे.

कंधे पर बच्चा, सिर पर लाइट उठाने वाली 'मां' को हर्ष गोयनका ने सैल्यूट किया, ट्विटर ने क्लास लगा दी

लोग बोले- शर्म आनी चाहिए.

PM आवास योजना के ऐड में जिस महिला की फोटो छपी, उसने खुद ही पोल खोल दी!

महिला का दावा- बिना पूछे ही तस्वीर छाप दी गई.

डायरेक्टर ने प्रियंका चोपड़ा से कहा था- नाचते हुए इतने कपड़े उतारना कि पैंटी दिख जाए

उस घटना को लेकर प्रियंका को अब तक किस बात अफसोस है?

औरंगाबाद की SP मोक्षदा, जो झुग्गियों और स्कूलों में जाकर गज़ब की 'ड्यूटी' कर रही हैं!

एक बच्ची के रेप से आहत महिला IPS की मुहिम को सम्मान.

माननीया कंगना रनौत जी ने फटी हुई जींस पहनी है तो कुछ सोचकर ही पहनी होगी!

आइए, रिप्ड जींस का इतिहास और कंगना रनौत में संवेदनाएं ढूंढें.

क्या सच में मैच में हारने की वजह से गीता-बबीता फोगाट की बहन रितिका ने सुसाइड कर लिया?

रितिका के आखिरी मैच में क्या हुआ था उनके साथ?

फटी जींस वाली बात पर तीरथ सिंह रावत की बेटी को घसीटने वाले उनसे ज्यादा बीमार हैं

फटी जींस में लड़कियों के घुटने देख संस्कार बतिया रहे थे CM.

गर्भ गिराने को लेकर संसद जो नया बिल पास हुआ है उसमें क्या है

अबॉर्शन को लेकर देश में अब तक क्या नियम थे?