Submit your post

Follow Us

क्या समझौता करके खत्म किया जा सकता है रेप केस?

111
शेयर्स

साल 1996 में एक फिल्म आई थी. राजा की आएगी बारात. रानी मुखर्जी थीं लीड रोल में. फिल्म का हीरो रानी का रेप करता है. मामला कोर्ट जाती है. रानी दलील देती हैं कि क्या अब मेरे घर कभी बारात नहीं आएगी. इसके बाद जज साहब फैसला नहीं देते, समझौता करवा देते हैं. हीरो की हिरोइन से शादी हो जाती है. हीरो का परिवार हिरोइन को बहुत प्रताड़ित करता है. लेकिन हिरोइन चुपचाप सब सहती है, आखिर में पूरे खानदान और हीरो का दिल जीत लेती है.

इस फिल्म में रेपिस्ट के रेपिस्ट होने को पूरी ताकत से जस्टिफाई किया गया है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट (शहर का नाम प्रयागराज हो गया है. लेकिन कोर्ट का नाम अभी इलाहाबाद हाईकोर्ट ही है) में रेप से जुड़ी एक याचिका आई है. समझौते के लिए. और इसी याचिका से याद आ गई रानी मुखर्जी की फिल्म.

राजा की आएगी बारात का एक सीन
फिल्म में अपने रेपिस्ट से शादी के बाद उसका दिल जीतने की भी पूरी कोशिश करती है रानी. वॉट एन आय’रानी’!

अब जान लेते हैं मामला क्या है

मामला मुजफ्फरनगर का है. 6 मार्च, 2019 को रूही (बदला हुआ नाम) की शादी नदीम (बदला हुआ नाम) से हुई. शादी में रूही के परिवार ने 7 लाख रुपये खर्च किये. नदीम के परिवार ने विदाई से पहले 50 हजार रुपये कैश की मांग रख दी. लड़केवालों को जैसे-तैसे मनाकर लड़कीवालों ने रूही की विदाई करवा दी. शादी की पहली ही रात पहले नदीम ने और फिर उसके जीजा ने रूही का रेप किया. बेहोश हालत में रूही को अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी सास ने गला दबाकर उसे मारने की कोशिश की.

गांव के ही एक शख्स ने रूही के परिवार को घटना की सूचना दी. रूही के भाई ने पुलिस में FIR दर्ज करवाई. रेप और दहेज उत्पीड़न का केस दर्ज किया गया. पुलिस ने जांच के बाद नदीम और उसके परिवार के चार लोगों के खिलाफ चार्जशीट फाइल की.

दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक़, नदीम ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई. इसमें कहा कि उसके और रूही के बीच समझौता हो चुका है. दोनों पति-पत्नी की तरह रह रहे हैं. इसलिए उसके और उसके परिवार के खिलाफ मुजफ्फरनगर सेशन कोर्ट में चल रहे मामले को रद्द किया जाए. लेकिन हाईकोर्ट ने इस याचिका को ही रद्द कर दिया.

रेप की घटनाएं रुक नहीं रहीं और लोग समझौता करके केस रफा-दफा करने चले हैं.
रेप की घटनाएं रुक नहीं रहीं और लोग समझौता करके केस रफा-दफा करने चले हैं.

क्या कहा हाईकोर्ट ने?

जस्टिस संजय कुमार सिंह की बेंच ने कहा कि जिन लोगों पर आरोप लगा है उनका आचरण सभ्य समाज के मानकों के खिलाफ है. बेंच ने कहा कि इस तरह के अपराधों पर समझौते की अनुमति नहीं दी जा सकती है. ऐसा किया गया तो पैसे और पावर वाले लोग कमज़ोर वर्ग पर समझौते का दबाव बनाएंगे. और इस तरह के मामलों में आरोपी सजा से बच जाएंगे.
ऐसे वक्त में जब हर दिन अखबार रेप, छेड़छाड़ की खबरों से पटे होते हैं. तब हाईकोर्ट का ये फैसला उम्मीद देने वाला है, कानून व्यवस्था पर हमारा भरोसा बढ़ाने वाला है.

बात फिल्म से शुरू हुई थी तो खत्म भी उसी से करते हैं. राजा की आएगी बारात में हीरो को हीरो बनाने की बजाए, हिरोइन को उसका दिल जीतने की कोशिश करते दिखाने की बजाए उसके खिलाफ केस चलना था, उसे कड़ी से कड़ी सजा दी जानी थी. रेपिस्ट के साथ विक्टिम की शादी कर देना इंसाफ नहीं है, विक्टिम को समाज के तानों, विक्टिम शेमिंग से बचाने का सही तरीका नहीं है. बल्कि ये उसके साथ अन्याय है और उसके दोषी को गिफ्ट दे देने जैसा है.


वीडियोः ये क्या! आज़म ख़ान ने भैंस चुराई तो उनकी पत्नी ने दूध?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

एक लाख रुपए दहेज के लिए पत्नी और तीन महीने की बेटी को जिंदा जलाया

कमाई बचाकर मायके वालों ने मोटरसाइकल दी, पर ससुराल पक्ष खुश नहीं था.

शहीद की नाबालिग बेटी का दो साल तक रेप करने वाला, पुलिसवाला है

वीडियो बनाकर ब्लैकमेल कर रहा था.

विधवा औरत को एक आदमी से प्यार हो गया, लोगों ने दोनों को पीटा, बाल काटे, पेशाब पिलाई

लोगों के मुताबिक ये रिलेशन 'अवैध' है. कमाल है.

पाकिस्तान: मेडिकल कॉलेज में मिली हिंदू लड़की की लाश, सुसाइड नहीं, हत्या है

शोएब अख्तर भी इंसाफ की लड़ाई में कूद चुके हैं.

तलाकशुदा औरत से दोस्ती की, विश्वास जीता, फिर दोस्त के साथ मिलकर उसका रेप कर दिया

औरत एक बच्ची की मां है.

दिल्ली के मशहूर इंद्रप्रस्थ पार्क में लड़की का गैंगरेप हुआ, उसे बिना कपड़ों के फेंक दिया

मॉर्निंग वॉक के लिए गए लोग तो लड़की दिखी, 'भैया मुझे छोड़ दो' की रट लगा रही थी.

हैदराबाद का ये कॉलेज पढ़ाई के बजाय लड़कियों को जांघों का आकार छुपाना सिखा रहा है

कपड़े लंबे होंगे तो अच्छे रिश्ते आएंगे, पढ़ाई तो फिर कभी होती रहेगी.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम से बचाई गई लड़की का चलती गाड़ी में गैंगरेप

ये वही शेल्टर होम है जहां 34 बच्चियों का यौन शोषण हुआ था.

मंदिर में लड़कियों का यौन शोषण करने वाले प्रफेसर को BHU ने वापस बुलाया और फिर बवाल हो गया

इतना बवाल कि लड़के यूनिवर्सिटी के गेट पर धरना दे रहे हैं.

गैंगरेप के बाद इतना डरी कि आधा किलोमीटर बिना कपड़ों के भागती रही

राजस्थान के भीलवाड़ा की घटना. लड़की 15 साल की है.