Submit your post

Follow Us

रंगोली चंदेल का विरोध करने वाले ये लोग खुद रंगोली जैसी हिंसक और घटिया सोच रखते हैं

एक्ट्रेस कंगना रनौत की बहन रंगोली चंदेल. ट्विटर ने उनका अकाउंट सस्पेंड कर रखा है. उनके एक ट्वीट के चलते. उनका लोगों ने खूब विरोध किया. लेकिन कुछ अति-विरोधी लोगों ने उनके ऊपर हुए एसिड अटैक तक को सही ठहरा दिया.

ये विरोध क्यों हो रहा है?

रंगोली के उस ट्वीट की वजह से, जिसमें उन्होंने ‘मुल्लाओं’ और सेक्युलर मीडिया को गोली मारने की बात कही थी.

रंगोली का ये ट्वीट उत्तर प्रदेश के मोरादाबाद में हुई घटना के तुरंत बाद आया था. असल घटना ये थी कि एक कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की मौत के बाद डॉक्टर्स और पुलिस की टीम परिवारवालों का सैंपल लेने गई थी. उसी वक्त टीम के ऊपर लोगों ने हमला कर दिया. हमले के तुरंत बाद ये खबर आई कि कोरोना से मरने वाला व्यक्ति जमात से लौटा था.

हालांकि, बाद में साफ हुआ कि वो जमात से लौटे किसी व्यक्ति के संपर्क में आया था, खुद जमात में नहीं गया था. लेकिन रंगोली शायद तब तक ट्वीट कर चुकी थीं. और मृतक को ‘जमाती’ पुकार चुकी थीं.

खैर, ट्वीट में आगे लिखा है कि पुलिसवालों और डॉक्टर्स के ऊपर हुए हमले में मौत भी हुई. जबकि असल में उन्हें चोट आई थी, मौत नहीं हुई थी.

यानी रंगोली ने न सिर्फ गैरजिम्मेदाराना तरीके से फेक न्यूज़ फैलाई. बल्कि यहूदियों के नरसंहार सरीखे उदाहरण का इस्तेमाल किया. यानी हेट स्पीच का क्राइम किया.

Rangoli Chandel Tweet
रंगोली का ट्वीट, जिसके बारे में हमने ऊपर बताया है.

फिल्म डायरेक्टर रीमा कागती और एक्ट्रेस कुब्रा सैत जैसे लोगों ने रंगोली का विरोध किया. ट्विटर, मुंबई पुलिस से एक्शन लेने की अपील की. कुछ ही देर बाद रंगोली का अकाउंट ही सस्पेंड कर दिया गया.

अब एंट्री हुई एसिड अटैक को सही बताने वालों की

इतना कुछ होने के बाद लोगों की भीड़ ट्विटर पर आ गई. सही गलत के बीच लोग एसिड अटैक की पैरवी तक पहुंच गए.

रंगोली खुद एसिड अटैक सर्वाइवर हैं. उन्होंने एक आदमी के शादी के प्रपोज़ल को ठुकरा दिया था, इसलिए उसने 2006 में रंगोली के ऊपर एसिड फेंक दिया था. ठीक होने के लिए रंगोली को 54 सर्जरी से गुज़रना पड़ा.

कुछ ट्वीट्स पर नज़र डालिए.

‘भगवान जो करता है ठीक करता है. एक बार फिर एसिड अटैक.’

Rangoli Chandel Tweet 1
रंगोली के खिलाफ हुए ट्वीट.

दूसरे ने लिखा,

‘जिस आदमी ने तुम्हारे ऊपर एसिड फेंका, वो सच में दूर की सोचने वाला रहा होगा.’

Rangoli Chandel Tweet 2
रंगोली के खिलाफ हुए ट्वीट.

तीसरे ने लिखा,

‘अब वक्त आ गया है कि ये फिर से पता किया जाए कि उस ‘गुंडे’ ने एसिड क्यों फेंका था.’

Rangoli Chandel Tweet 4
रंगोली के खिलाफ हुए ट्वीट.

इसी तरह के कई सारे ट्वीट्स की भरमार इस वक्त ट्विटर पर है.

एसिड अटैक को सही ठहराना कितना गलत?

रंगोली का विरोध ही इसी बात पर हुआ कि उन्होंने समुदाय विशेष के खिलाफ हिंसक बातें लिखीं. फिर उस हिंसक सोच का बदला दूसरी हिंसा से कैसे लिया जा सकता है? वो भी एसिड अटैक जैसी हिंसा. जिसका सामना करने वाला हर पल असहनीय पीड़ा झेलता है. लंबी लड़ाई लड़ता है–मानसिक, शारीरिक और कानूनी.

सबसे बड़ी बात ये है कि एसिड अटैक को इंडिया में बड़े तौर पर एक जेंडर से जुड़े हुए क्राइम के रूप में चिह्नित किया गया है. जब हम एक लड़की पर एसिड अटैक होने की दुआ करते हैं, हम जाने कितनी हजार लड़कियों के साथ अन्याय करते हैं.


देखिये भारत में कोरोना कहां-कहां और कितना फैल गया है.


वीडियो देखें: कंगना की बहन रंगोली का एकाउंट ट्विटर ने सस्पेंड किया तो वो अब ये आरोप लगा रहीं हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

महिला डॉक्टर का आरोप, पेशेंट ने यौन शोषण किया, झुंड बनाकर हमला किया

जैसे तैसे कमरे में बंद कर डॉक्टर्स ने खुद को बचाया.

पिज़्ज़ा मंगवाया था, डिलीवरी बॉय ने नंबर लेकर अश्लील मैसेज भेजने शुरू कर दिए

लड़की ने ट्विटर पर बताई पूरी घटना.

इस आदमी ने बच्ची का रेप और हत्या कर जंगल में फेंका, जानवरों ने कंकाल तक न छोड़ा

बच्ची की उम्र जानकर उल्टी आती है.

दिल्ली यूनिवर्सिटी की महिला प्रोफेसरों ने बताया- ऑनलाइन क्लासों में लोग भद्दे मैसेज लिख रहे

वीडियो पर ऑनलाइन लेक्चर देने वाले टीचर्स ने की शिकायत.

कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने पर औरत ने कलाई की नस काट ली, डॉक्टर को पुलिस बुलानी पड़ी

अस्पताल में दो घंटे तक हंगामा करती रही महिला.

होम क्वारंटीन में रह रही लड़की भूख हड़ताल पर क्यों है?

कोयंबटूर में पढ़ती थी, केरल में अपने घर आई थी.

लॉकडाउन: मां बाजार गई थी, घर में रेप के बाद 13 साल की बेटी की हत्या हो गई

लोग सोशल मीडिया पर इंसाफ मांग रहे हैं.

दर्द से जूझ रही प्रेगनेंट महिला को अस्पताल ने भर्ती नहीं किया, पार्किंग एरिया में बच्चे को जन्म दिया!

घटना इंदौर के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल की है.

लॉकडाउन : सरकारी हेल्पलाइन ने बताया, हर मिनट छह बच्चों का शोषण हो रहा है

अलग-अलग तरीकों से.

बिहार : गर्भपात के बाद महिला अस्पताल पहुंची, कोरोना के आइसोलेशन वॉर्ड डॉक्टर ने ही रेप कर दिया

महिला की मौत के बाद खुला मामला