Submit your post

Follow Us

प्रिया रमानी ने कोर्ट में जो कुछ कहा वो हर किसी को ध्यान से सुनना चाहिए

124
शेयर्स

एमजे अकबर-प्रिया रमानी मामले से जुड़ी एक अहम खबर आई है. प्रिया ने कोर्ट में पेशी के दौरान कहा कि निजी तौर पर उन्हें इस केस की बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ी है. मामला दिल्ली के एक कोर्ट में चल रहा है.

मामला क्या था?

पिछले साल मीटू मूवमेंट के दौरान, अक्टूबर-नवंबर के महीने में एमजे अकबर के ऊपर यौन शोषण के आरोप लगे थे. उनके ऊपर करीब 15 औरतों ने सेक्सुअल हैरेसमेंट के आरोप लगाए थे. प्रिया भी उनमें से एक थीं. उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए एमजे अकबर पर आरोप लगाया था कि उन्होंने उनका यौन शोषण किया. साथ ही यह भी आरोप लगाया था कि अकबर दर्जनों महिला पत्रकारों का यौन शोषण कर चुके हैं. और वह अकेली नहीं हैं.

इस मामले की सुनवाई काफी हाई प्रोफाइल रही है, और हर सुनवाई के दौरान मीडिया की नज़र इस पर बनी रही है.
इस मामले की सुनवाई काफी हाई प्रोफाइल रही है, और हर सुनवाई के दौरान मीडिया की नज़र इस पर बनी रही है.

सोशल मीडिया पर प्रिया रमानी के इस बयान के बाद एमजे अकबर के ऊपर  कई और महिलाओं ने इसी तरह के आरोप लगाए. 2 दर्जन से अधिक महिला पत्रकारों ने यौन शोषण की बात सोशल मीडिया के जरिए कही. बात बढ़ती चली गई. आखिरकार एमजे अकबर को मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा. उसके बाद अकबर ने प्रिया रमानी पर मानहानि का केस ठोक दिया.

9 सितंबर को एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल  के कोर्ट में  इस मामले की सुनवाई हुई. प्रिया रमानी की पेशी में एमजे अकबर की तरफ से सीनियर एडवोकेट गीता लूथरा ने प्रिया रमानी से सवाल-जवाब किए. प्रिया ने अपने बचाव में कहा,

 

‘जब मैंने वोग मैगजीन में अपने पहले जॉब इंटरव्यू के अनुभव के बारे बताया और ट्वीट किया, तो मैंने  सच कहा था. हममें से बहुतों को ये विश्वास दिलाते हुए पाला-पोसा जाता है कि चुप्पी एक गुण है.’

‘एमजे अकबर को लेकर मैंने जितनी भी बातें कहीं हैं, सब लोगों की भलाई और पब्लिक इंटरेस्ट में कही हैं. मुझे ये आशा थी कि मी टू मूवमेंट के तहत किए गए ये खुलासे महिलाओं को सशक्त करेंगे, और काम की जगह पर उनके अधिकारों को बेहतर तरीके से समझने में मदद करेंगे.

मुझे इस केस से कुछ मिलने वाला नहीं है. चुप रहकर मैं इस पूरी निशानेबाजी से (जो मुझपर की जा रही है) बच सकती थी, लेकिन वो सही काम नहीं होता.’

रमानी के समर्थन में कई पत्रकार भी पहुंचे थे जब उन पर मानहानि का केस किया गया था. तस्वीर: ट्विटर
रमानी के समर्थन में कई पत्रकार भी पहुंचे थे जब उन पर मानहानि का केस किया गया था. तस्वीर: ट्विटर

प्रिया से सवाल-जवाब में पूछा गया कि उन्होंने द एशियन एज में कितने आर्टिकल लिखे. उन आर्टिकल्स की हेडलाइन भी पूछी गई. इन के जवाब में प्रिया ने बताया कि उन्होंने स्टॉक एक्सचेंज पर आर्टिकल्स लिखे थे, लेकिन हेडलाइंस उन्हें याद नहीं हैं. मामले की अगली सुनवाई 24 अक्टूबर को होगी.


वीडियो: बच्चे ने इसरो को लेटर लिखकर वो बात कह दी, जिसका ख्याल किसी को नहीं आया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

ड्राइवर्स ने गुड़गांव से इंजिनियर लड़की को कैब में बैठाया, ग्रेटर नोएडा ले जाकर गैंगरेप किया

ऑनलाइन कैब बुक नहीं हुई थी. इसलिए लड़की ने हाथ से कैब रुकवाई थी.

लड़का दारू पीकर मां, भाभी और बहन का रेप करता था, परिवार ने मार डाला

हत्या वाले दिन भी भाभी का रेप करने की कोशिश कर रहा था.

रेप के लिए झाड़ियों में ले गया, कुछ लोगों ने बचाया, फिर उन्होंने ही गैंगरेप किया

नोएडा में पुलिस चौकी से आधा किलोमीटर दूर हुई घटना.

13 साल की जिस लड़की ने रात भर हुए गैंगरेप के बाद आत्महत्या की, वो पहले से प्रेगनेंट थी

एक-दो नहीं. छह लोग. छह रेपिस्ट.

अंग्रेजी कमजोर थी, इसलिए कॉलेज स्टूडेंट ने सुसाइड कर लिया

स्कूल की पढ़ाई हिंदी में की थी. कॉलेज अंग्रेजी में कर रही थी.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में बच्चियों से बलात्कार केस का फैसला टल गया है

वकीलों की हड़ताल की वजह से फैसले में देरी होगी.

रेप के बाद नाबालिग मां बन गई, पंचायत ने बच्चे को 20 हजार में बेचने का फरमान सुना दिया!

पहली बार टीचर ने, फिर बिजली बनाने वाले रेप किया था.

अस्पताल के टॉयलेट में इस महिला ने जो किया जान लेंगे तो आपको स्कूल याद आ जाएगा

पुलिसवाले टॉर्च लेकर उसे ढूंढ़ रहे हैं.

बर्फीली नदी में डूब रहा था, लोग बचाने गए तो पता चला लाश के टुकड़े ठिकाने लगा रहा था

मगर ये कुछ भी नहीं था, पूरी कहानी अभी बाकी थी.

81 साल की बुजुर्ग महिला के मुंह पर कालिख पोती, नंगे पांव पूरे गांव में घसीटा

जूतों की माला पहनाई.