Submit your post

Follow Us

3000 लोगों की जान बचाने वाली ब्रिगेडियर एसवी सरस्वती की कहानी

ब्रिगेडियर एस वी सरस्वती. सैन्य नर्सिंग सेवाओं की उप महानिदेशक. 3000 से ज्यादा इमरजेंसी और लाइफ सेविंग सर्जरी में हिस्सा लेने का रिकॉर्ड इनके नाम है. 15 सितंबर को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उन्हें राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटेंगल पुरस्कार से सम्मानित किया.

कौन हैं एस वी सरस्वती?

सरस्वती आंध्र प्रदेश के चित्तूर ज़िले से आती हैं. मिलिट्री नर्सिंग सर्विसेस (MNS) में 28 दिसंबर, 1983 को कमीशन हुई थीं. 35 साल से ज़्यादा वक्त तक उन्होंने सेना में काम किया. बतौर ऑपरेशन थिएटर नर्स उन्होंने 3000 से अधिक आपातकालीन और ‘लाइफ़-सेविंग’ सर्जरीस में हिस्सा लिया है. उन्होंने हज़ारों रेसिडेंट्स और नर्सेस को ट्रेन किया है.

ब्रिगेडियर सरस्वती ने कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर MNS का प्रतिनिधित्व किया है. ‘बेसिक लाइफ सपोर्ट’ में एक हज़ार से अधिक सैनिकों और परिवारों को उन्होंने ट्रेन किया. Brigadier SV Saraswati ने रोगी शिक्षण सामग्री और कार्डियैक सर्जरी के लिए इंप्रोवाइज़्ड ड्रेप किट्स और घाव सीने के लिए धागे तैयार किए हैं.

भारत के ज़्यादातर आर्मी अस्पतालों में काम कर चुकीं कई आधिकारिक और प्रशासनिक पदों पर रहीं, जिसके बाद उन्हें MNS का उप-महानिदेशक बना दिया गया. उन्हें 2005 में ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ़ कमेंडेशन, 2007 में संयुक्त राष्ट्र पदक (एमओएनओसी) और 2015 में चीफ़ ऑफ़ द आर्मी स्टाफ़ कमेंडेशन से सम्मानित किया गया.

राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार 2020 से नवाज़ी गईं ब्रिगेडियर एस वी सरस्वती
राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल पुरस्कार 2020 से नवाज़ी गईं ब्रिगेडियर एस वी सरस्वती. (तस्वीर, प्रेसिडेंट ऑफ इंडिया के ओफिशियल यूट्यूब चैनल से ली गयी है)

क्या है फ्लोरेंस नाइटिंगल अवॉर्ड?

ये अवॉर्ड नर्सिंग के क्षेत्र में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले प्रोफेशनल्स को दिया जाता है. इसका नाम फ्लोरेंस नाइटिंगल के नाम पर पड़ा, जिन्हें नर्सिंग को एक व्यवस्थित प्रोफेशनल बनाने का सबसे बड़ा क्रेडिट दिया जाता है. कौन थी फ्लोरेंस नाइटिंगल? 1820 में इनका जन्म हुआ था, एक धनी ब्रिटिश परिवार में. पैरेंट्स चाहते थे कि अच्छे घर में शादी हो जाए, इसलिए पढ़ाया-लिखाया और शादी की तैयारी शुरू कर दी. लेकिन फ्लोरेंस को तो दूसरों की सेवा करना पसंद था. वो नर्स बनना चाहती थीं. परिवार वाले इसके खिलाफ थे, उन्हें लगता था कि ये उनकी प्रतिष्ठा से मेल नहीं खाता. परिवार ने मना कर दिया. फिर फ्लोरेंस ने कह दिया कि वो कभी शादी नहीं करेंगी और निकल पड़ीं अपनी नर्सिंग की ट्रेनिंग के लिए. खुद सीखकर उन्होंने बाकी महिलाओं को भी नर्सिंग में ट्रेनिंग देनी शुरू की.

Florence Nightingale (2)
फ्लोरेंस नाइटिंगेल ने नर्सिंग की फील्ड में काफी अहम बदलाव किए थे. (फोटो- Getty)

1853 से 1856 तक क्रीमियन वॉर चला. एक तरफ रूस था, तो दूसरी तरफ ऑटोमन एम्पायर, यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस, और सारडीनिया. इस युद्ध में ब्रिटेन के कई सैनिक घायल हुए. तब फ्लोरेंस अपने साथ ट्रेन्ड हुईं 38 नर्सों को लेकर सैनिकों की सेवा के लिए पहुंच गईं. उन्होंने देखा कि युद्ध में लगी चोटों और घावों से ज्यादा आस-पास की गंदगी, और उससे फैली बीमारियां सैनिकों की जान ले रही थीं. जैसे टाइफाइड, कॉलरा, दस्त. फिर ब्रिटेन की सरकार की मदद से फ्लोरेंस ने एक अस्पताल बनवाया. मरीज़ों की साफ-सफाई पर खासा फोकस किया. इससे मरने वालों की संख्या में तेज़ी से कमी आई. फ्लोरेंस जब सैनिकों का ध्यान रख रही थीं, तब रोज़ रात में हाथ में एक जलता हुआ लैंप लेकर अस्पताल का राउंड लेती थीं, इस वजह से उन्हें लेडी विद द लैंप भी कहा जाता था. इसके बाद उन्होंने 1860 में नाइटिंगेल ट्रेनिंग स्कूल भी खोला, जहां नर्सिंग की प्रोफेशनल ट्रेनिंग शुरू हुई. और इन्हीं फ्लोरेंस नाइटिंगेल के जन्मदिन के मौके पर मनाया जाता है इंटरनेशनल नर्सेज़ डे और इनके नाम पर ही नर्सिंग का ये प्रतिष्ठिक फ्लोरेंस नाइटिंगल अवॉर्ड भी दिया जाता है.

 


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

श्वेता सिंह गौर की बेटी बोली- पापा ने कहा था, स्कूल से लौटोगी तो मां मरी मिलेगी

पुलिस ने 29 अप्रैल को श्वेता के पति दीपक को गिरफ्तार किया है. श्वेता की मौत के बाद से ही दीपक फरार चल रहे थे.

रूसी सैनिक ने नाबालिग को रेप से पहले धमकाया- मेरे साथ सोओ नहीं तो 20 और ले आऊंगा

विक्टिम 16 साल की है और घटना के वक्त छह महीने की प्रेग्नेंट थी.

UP: BJP की जिला पंचायत सदस्य श्वेता सिंह गौर की मौत, घर पर मिला शव, पति फरार

मौत से कुछ घंटे पहले फेसबुक पोस्ट में खुद को बताया था घायल शेरनी.

राजस्थानः लिफ्ट देने के बहाने महिला को कार में बैठाया, फिर रेप और मर्डर के बाद कुएं में फेंकने का आरोप

कार की नंबर प्लेट से हुई आरोपी की पहचान.

पेरू की सरकार ऐसा बिल ले आई कि रेपिस्ट को नपुंसक बना दिया जाएगा

तीन साल की बच्ची का रेप हुआ, लोग इतने नाराज़ हुए कि सरकार को इतना बड़ा कदम उठाना पड़ा.

13 साल की लड़की का इतनी बार गैंगरेप हुआ कि पुलिस ने 80 लोगों को आरोपी बनाया

कोरोना से मां की मौत हुई, विक्टिम को अस्पताल से उठा ले गई औरत.

शक था कि पत्नी पॉर्न एक्ट्रेस है, बच्चों के सामने दिल दहलाने वाली क्रूरता की

कर्नाटक के बेंगलुरु की घटना.

'तुम तलाकशुदा, मेरी बीवी के ब्रेस्ट्स नहीं, हम दोनों एक-दूसरे के काम आ जाएंगे'

हॉस्टल वॉर्डन का आरोप, प्रिंसिपल सेक्स करने का दबाव बना रहा था.

उस शाम नदिया रेप पीड़िता के साथ क्या हुआ था? जमीनी हकीकत आई सामने

इस मामले को लेकर पश्चिम बंगाल सरकार सवालों के घेरे में है.

पत्नी जेल अधिकारी, पति ने कैदियों से मिलाने के बहाने महिला का यौन शोषण किया?

यूपी के बाराबंकी का मामला, घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.