Submit your post

Follow Us

अनुराग कश्यप के खिलाफ़ बोल तो दिया, अब पायल घोष का आगे क्या होगा?

बीते दिनों एक्ट्रेस पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर यौन शोषण के आरोप लगाए. अगर आप न्यूज़ से अपडेटेड रहते हैं, तो ये बात अबतक आपको पता होगी. इसके बाद इस मामले में कई अपडेट आए. अनुराग की वकील ने एक स्टेटमेंट निकाला, जिसमें उन्होंने एक्ट्रेस के सभी आरोपों को खारिज किया है. अनुराग के सपोर्ट में कई एक्ट्रेसेज ने ट्वीट किया है. उनकी एक्स वाइफ कल्कि केकलां ने भी उनका सपोर्ट किया है. दूसरी ओर NCW यानी नेशनल कमीशन फॉर वीमेन ने मामला संज्ञान में लेते हुए जांच की अपील की है. इस मसले में आगे क्या होता है, ये भी आपको पता चल जाएगा. लेकिन आज मैं इस मसले को बताते हुए आपसे एक बड़े मसले पर बात करूंगी.

PP-KA-COLUMN_010616-070408-600x150

अनुराग कश्यप पर लगे इस तरह के आरोप इंडस्ट्री के लिए नए नहीं हैं. साल 2018 में तनुश्री दत्ता ने एक 9 साल पुराना मामला उठाया था. जब उन्होंने ज़ूम टीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि फिल्म ‘हॉर्न ओके प्लीज’ में एक गाने के शूट के दौरान नाना पाटेकर ने उनका यौन शोषण किया था. उन्हें गलत तरीके से छुआ था, जिसकी शिकायत करने का नतीजा तनुश्री को भुगतना पड़ा था. तनुश्री के मुताबिक़, नाना ने अपनी पावर का इस्तेमाल करते हुए तनुश्री की गाड़ी पर हमला करवाया था.

2008 में गाने की शूटिंग के दौरान सेट पर मौजूद नाना और तनुश्री दत्ता.
2008 में गाने की शूटिंग के दौरान सेट पर मौजूद नाना और तनुश्री दत्ता.

हॉलीवुड और मीडिया में इस वक़्त तक मीटू मूवमेंट गरम हो चुका था. तनुश्री से प्रेरणा लेते हुए कई एक्टर्स और सिंगर्स सामने आईं. अपनी बातें बताईं. कई अनुभव और इंडस्ट्री में साख रखने वाले पुरुष एक्टर्स के नाम सामने आए. ये भी आरोप लगे कुछ लड़कियों पर कि उन्होंने पर्सनल वजहों के चलते, मात्र पुरुष एक्टर को डीफेम करने के लिए झूठे आरोप लगाए.

15-20 दिन मीडिया में जमकर बवाल हुआ. ऐसा लगा कि क्रांति आ जाएगी. औरतों के लिए उनके काम करने की जगहें सुरक्षित हो जाएंगी. शायद कुछ हद तक हुई भी, शायद लोगों के दिमाग कुछ खुले. मगर फिर क्या हुआ.

– 8 महीने बाद नाना पाटेकर का केस क्लोज हो गया. पुलिस ने फाइल बंद कार दी. वजह दी गई- पर्याप्त सुबूत नहीं मिले.

– आलोक नाथ, जिनके ऊपर गंभीर आरोप थे. और सिर्फ एक नहीं, कई प्रतिष्ठित और अनुभवी एक्ट्रेस के आरोप थे. जिनमें रेणुका शहाणे जैसी सीनियर एक्ट्रेस भी शामिल थीं. उस केस में एक भी लीगल एक्शन नहीं हुआ, बल्कि कुछ महीनों बाद खबर आई कि आलोक नाथ ‘मैं भी’ नाम की एक फिल्म, जो ‘मी टू’ फ्रेज़ का अनुवाद है, में कास्ट हो रहे हैं. हालांकि इसके बाद इस फिल्म की कोई जानकारी नहीं आई.

Alok Nath (1)

– कैलाश खेर, जिनके ऊपर एक से अधिक महिलाओं के आरोप थे, उनके खिलाफ भी कुछ नहीं हुआ.

– विकास बहल पर इंटरनल इन्क्वाइरी हुई, जिसमें कुछ नहीं निकला. उन्हें क्लीन चिट मिली और वो इंडस्ट्री में लौट चुके हैं.

– अनु मलिक, एक से अधिक आरोपों के बाद एक मशहूर रियलिटी शो में जज की कुर्सी पर लौट गए.

Anu-Malik

– रजत कपूर, वरुण ग्रोवर, मुकेश छाबड़ा जैसे और कुछ नाम थे, जिनके खिलाफ कुछ भी साबित नहीं हो पाया. क्योंकि कई मसलों में पहचान गुप्त होने के कारण पता ही नहीं चला कि कितने आरोप सच हैं और कितने मनगढ़ंत. कुछ ने आरोप कबूलते हुए माफ़ी मांगी. और कुछ ने आरोपों को सिरे से नकारते हुए स्टेटमेंट जारी किए.

– इन सबसे बीच ज़िक्र अभिजीत भट्टाचार्य का भी. सिंगर, 90s के दशक में शाहरुख़ खान की आवाज़ कहलाते थे. 2018 में जब इन पर आरोप लगे, तो इन्होंने क्या कहा- मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता. न ही मुझे कुछ जानना है. आरोप लगाने वाली ये औरतें बूढ़ी और रिटायर्ड हैं. जीवन में इन्होंने कभी भी सफलता नहीं देखी है. ये अपने पतियों और दूसरे पुरुषों को पीटने वाली औरतें हैं. फ्रस्ट्रेटेड हैं. इनकी कहानियां मनगढ़ंत हैं. जब के ये आरोप हैं, तब तो मैं पैदा भी नहीं हुआ था. आरोपों के बाद अभिजीत का कुछ नहीं हुआ. जबकि ठीक दो साल पहले अभिजीत महिला पत्रकार के साथ अभद्रता करने के आरोप में गिरफ्तार हो चुके थे. उन्होंने पत्रकार को ‘बुढ़िया’, ‘बीमार पाकिस्तानी’ कहा और यौन हिंसा की बातें कही थीं. ये सब पब्लिक में हुआ था. फिर भी अभिजीत हर तरह की पब्लिक अपियरेंस करते रहे.

अभिजीत पर पहले भी ऐसे आरोप लग चुके हैं.

एक और केस है. मलयालम इंडस्ट्री से, जिसके बारे में आपने कम सुना होगा. मीटू मूवमेंट की शुरुआत से भी सालभर पहले ही एक एक्ट्रेस ने मलयाली एक्टर दिलीप पर चलती गाड़ी में रेप करवाने के आरोप लगाए थे. उसके बाद दिलीप गिरफ्तार भी हुए. पहले जमानत की अपील करते रहे. फिर जमानत पर बाहर आए. उसके बाद से लगातार केस की सुनवाइयां टलवाने की कोशिश करते रहे. दिलीप के खिलाफ गवाह भी मिले, जो ये साबित करते थे कि दिलीप की एक्ट्रेस से अनबन थी. मगर बाद में इनमें से कई गवाह होस्टाइल हो गए. यानी उन्होंने अपना बयान बदल लिया.

दिलीप

तो क्या वजह है कि इंडिया में इतना बड़ा मूवमेंट चलकर भी क़ानून के दरवाज़े नहीं खटखटा पाया. ये समझने के लिए मैंने बात की हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस करने वाली वकील विजयलक्ष्मी से. उन्होंने बताया:

– पहली बात ये कि जब केस देर से रिपोर्ट होता है, तो कानून मजबूर हो जाता है. हालांकि औरतें शिकायत करने में जिस तरह की तकलीफों का सामना करती हैं, खासकर गरीब तबके में, इसके मद्देनज़र कानून ये लिबर्टी देता है कि केस देर से रिपोर्ट हो सके. लेकिन कानून की कुछ सीमाएं हैं. जैसे फॉरेंसिक या मेडिकल रिपोर्ट्स. देर से रिपोर्ट हुए केस में वो विक्टिम का साथ नहीं देंगी.

– कई केस सोशल मीडिया से ऊपर ही नहीं आए. आप कम से कम FIR तो करें. या विमेंस कमीशन के थ्रू जाने की कोशिश करें. अफोर्ड कर सकते हैं, तो वकील का सहारा लें. कोर्ट के लिए हर केस का सुओ मोटो कॉग्निजेंस लेना मुमकिन नहीं होता.

– कोर्ट का फ़र्ज़ है आरोपी को भी खुद को साबित करने का मौका देना. ऐसे में आपके सुबूत कमज़ोर हैं, तो ज़ाहिर है आपका केस हल्का होता है. आरोपी का भी वकील होगा, उस वकील का भी फ़र्ज़ है कि वो अपने क्लाइंट को बचाए. इसके लिए वो हरसंभव कोशिश करेगा.

– सुबूत की कमी से न सिर्फ आप न्याय से दूर हो जाते हैं, बल्कि डिफेमेशन केस में फंस सकते हैं आप. ये कानूनी प्रावधान हैं.

– जैसा कि कोर्ट का मानना है, किसी निर्दोष को सज़ा नहीं होनी चाहिए, कोर्ट अपना वक़्त लेता है. देरी होना न्यायिक प्रक्रिया का दूसरा नाम है. फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट भी लगेगी तो भी एक से डेढ़ साल लग ही जाएंगे.

– केस कोर्ट में जाने के बाद भी दिक्कतें होती हैं. रेप के केस में बेल आसानी से नहीं मिलती. लेकिन मिल गई तो हमेशा ये खतरा रहता है कि वो एविडेंस और गवाहों के साथ छेड़छाड़ करेगा. अगर वो पावरफुल व्यक्ति है, तो जेल के अंदर से गवाहों को धमकाने या पैसे देने जैसे काम करवा सकता है. ऐसे में गवाह होस्टाइल हो सकता है.

– हीनस क्राइम्स जैसे मर्डर या रेप में कोर्ट सेटलमेंट का विकल्प नहीं देती. यानी आप चाहें कि कोर्ट से बाहर पैसे लेकर मामला ख़त्म कर दें तो नहीं करवा सकते. लेकिन अक्सर ऐसा होता है. लीगली सेटलमेंट तो हो नहीं सकता. इसलिए लोग पैसे देकर शिकायतकर्ता से होस्टाइल होने को कह देते हैं. रेप या अन्य आरोप लगाने वाले परिवार ऐसे में बयान बदल लेते हैं. मसलन, उस वक्त बहुत अंधेरा था, अपराधी दिखा नहीं. या फिर मुझे ठीक से याद नहीं, वगैरह.

सोशल मीडिया पर नेम कॉलिंग से क्या होता है

कई लड़कियों का मानना है कि इस तरह की नेम कॉलिंग से उनको अपने उस पास्ट से आज़ादी मिलती है, जो उन्हें परेशान करता है. किसी लड़की, जिसे सताया गया है, उसके लिए ये मुक्ति की फीलिंग लेकर आ सकता है. लेकिन कानून के लिहाज़ से शिकायत करना और न्याय के लिए पेशेंस रखना बेहद ज़रूरी हो जाता है.

पायल घोष और अनुराग कश्यप के केस में क्या होता है, ये तो आने वाला वक़्त ही बताएगा. लेकिन तब तक ज़रूरी है कि आप अपने साथ हो रहे यौन शोषण की शिकायत करने में कोई देरी न करें. आपके सामने कई डर होंगे. बदनामी के, नौकरी जाने के. लेकिन ये एक चॉइस है, जो न्याय के लिए आपको करनी ही होगी.


वीडियो: अनुराग कश्यप पर लगे यौन शोषण के आरोप पर उनकी पत्नी रहीं कल्की और आरती बजाज ने क्या कहा है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोपी की पांच बेटियां हैं.

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

उस समय मां ने ही शव की पहचान की थी.

कैब ड्राइवर कर रहा था गंदे इशारे, सांसद-एक्ट्रेस ने ऐसे सिखाया सबक

कैब ड्राइवर कर रहा था गंदे इशारे, सांसद-एक्ट्रेस ने ऐसे सिखाया सबक

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

झारखंड: परिवार का आरोप- क्लीनिक में पहले बेटी का यौन शोषण हुआ, फिर मां को 40 लोगों ने पीटा

झारखंड: परिवार का आरोप- क्लीनिक में पहले बेटी का यौन शोषण हुआ, फिर मां को 40 लोगों ने पीटा

रसूखदार डॉक्टर और कम्पाउंडर पर लगे गंभीर आरोप.

पाकिस्तान में विदेशी महिला से गैंगरेप के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है

पाकिस्तान में विदेशी महिला से गैंगरेप के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है

इस गैंगरेप के बाद जांच अधिकारी के दिए बयान से लोग गुस्से में हैं.

उत्तराखंड: परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की, तो घर के सामने ही गोलियों से भून डाला!

उत्तराखंड: परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की, तो घर के सामने ही गोलियों से भून डाला!

उधम सिंह नगर जिले से आया ऑनर किलिंग का खौफनाक मामला.

झारखंड : फेसबुक पर दोस्त बने लड़के से मिलने गई, घर जिंदा नहीं लौटी!

झारखंड : फेसबुक पर दोस्त बने लड़के से मिलने गई, घर जिंदा नहीं लौटी!

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में लड़की के साथ रेप की पुष्टि हुई है.

पार्क में एक्ट्रेस और उनकी दोस्तों से मारपीट के आरोप पर क्या बोलीं कांग्रेस नेता?

पार्क में एक्ट्रेस और उनकी दोस्तों से मारपीट के आरोप पर क्या बोलीं कांग्रेस नेता?

एक्ट्रेस सम्युक्ता हेगड़े ने लाइव वीडियो बनाया था. अब कविता रेड्डी ने भी अपना पक्ष रखा है.

मैट्रिमोनियल साइट पर दोस्ती की और फिर झूठ बोल-बोलकर 6.19 लाख रुपये ठग लिए

मैट्रिमोनियल साइट पर दोस्ती की और फिर झूठ बोल-बोलकर 6.19 लाख रुपये ठग लिए

पैसे न देने पर प्राइवेट फोटो पब्लिक करने की धमकी देता था.

लड़की की एक चालाकी ने दिल्ली के पार्कों में 20 गैंगरेप करने का आरोपी गैंग पकड़वा दिया!

लड़की की एक चालाकी ने दिल्ली के पार्कों में 20 गैंगरेप करने का आरोपी गैंग पकड़वा दिया!

दोस्तों के साथ घूमने आने वाली लड़कियों को बनाते थे शिकार, रेप के विडियो वायरल करने की देते थे धमकी.