The Lallantop
Advertisement

महिलाओं को चाहिए पुरुषों से ज्यादा प्रोटीन, डॉक्टर ने बताई वजह

महिलाओं का शरीर अलग-अलग समय में कई बड़े बदलावों से गुज़रता है. जैसे- प्यूबर्टी, प्रेग्नेंसी और मेनोपॉज़. इस वजह से उन्हें पुरुषों की तुलना में ज़्यादा प्रोटीन की ज़रूरत पड़ती है.

Advertisement
Why protein is more important for women than for men
महिलाओं को 0.821 ग्राम प्रति किलो बॉडी वेट प्रोटीन लेना चाहिए. (सांकेतिक फोटो)
4 अप्रैल 2024
Updated: 4 अप्रैल 2024 14:09 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

हमारे शरीर को कई सारे पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है. खासकर प्रोटीन. तभी तो इन्हें हमारे शरीर का बिल्डिंग ब्लॉक कहा जाता है. शरीर में कोई टूट-फूट हो या कोई दूसरी दिक्कत. उसे ठीक करने के लिए प्रोटीन की ही ज़रूरत पड़ती है. हमारे शरीर के हर अंग का ख्याल रखने में प्रोटीन का बड़ा हाथ है. हालांकि, सबका काम सेम क्वांटिटी यानी एक ही मात्रा से नहीं चलता. महिलाओं को प्रोटीन की ज़रूरत पुरुषों से थोड़ी ज़्यादा होती है. डॉक्टर से जानिए कि आखिर ऐसा क्यों है? अगर महिलाएं कम प्रोटीन लेंगी तो इसका क्या नुकसान होगा? उन्हें दिनभर में कितना प्रोटीन लेना चाहिए. और वेज, नॉन वेज और वीगन वाले प्रोटीन के लिए क्या खाएं?

महिलाओं को ज्यादा प्रोटीन क्यों चाहिए?

ये हमें बताया डॉ. मधुलिका सिन्हा ने.

डॉ. मधुलिका सिन्हा, सीनियर कंसल्टेंट, गायनेकोलॉजी, आकाश हेल्थकेयर

महिलाओं को अलग-अलग समय पर प्रोटीन की ज़रूरत होती है. असल में सेक्स हॉर्मोन हमारे शरीर को कैटाबॉलिक स्टेट में डाल देते हैं. कैटाबॉलिक स्टेट यानी शरीर का पोषक तत्वों का छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ना. जब प्यूबर्टी यानी यौवनारम्भ होता है, तब हॉर्मोन्स बढ़ने लगते हैं. इसलिए इस समय प्रोटीन की ज़्यादा ज़रुरत होती है. फिर जब जब महिलाएं प्रेग्नेंट होती हैं, तब उन्हें प्रोटीन अधिक चाहिए होता है ताकि बच्चे को सही पोषण मिल सके, उसका विकास हो सके.

प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं के शरीर में कई बदलाव आते हैं. जैसे उनके मसल मास में. इसे मेनटेन करने के लिए भी प्रोटीन चाहिए. ठीक इसी तरह जब महिलाओं में मेनोपॉज़ होने वाला होता है, तब उन्हें सार्कोपेनिया होने का खतरा होता है. सार्कोपेनिया यानी मसल मास का कम होना. इससे बचने के लिए भी उन्हें प्रोटीन की बहुत ज़रूरत होती है. 

सही मात्रा में प्रोटीन नहीं लेते तो क्या नुकसान होता है?  

प्यूबर्टी, प्रेग्नेंसी और मेनोपॉज़ में महिलाओं का शरीर कई बदलावों से गुज़रता है. इस दौरान मसल मास को मेंटेन करने के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है. थोड़ा-सा प्रोटीन खाना भी बड़े काम का होता है. जो लोग डाइटिंग करते हैं, उनके लिए भी प्रोटीन लेना अहम है

शरीर को पर्याप्त प्रोटीन न मिलने से कमज़ोरी आने लगती है
महिलाओं को दिनभर में कितना प्रोटीन लेना चाहिए?

महिलाओं को 0.821 ग्राम प्रति किलो बॉडी वेट प्रोटीन लेना चाहिए. यानी अगर आपका वज़न 60 किलोग्राम है तो कम से कम आपको 48 ग्राम प्रोटीन लेना चाहिए. अगर हमारी थाली में प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में नहीं होता है, तो हमारे शरीर में उम्र से पहले ही कमज़ोरी आने लगती है. शरीर की इम्यूनिटी भी कम हो जाती है. ऐसा हुआ तो कई बीमारियां हम पर आसानी से अटैक कर सकती हैं. इसलिए, अपनी डाइट में प्रोटीन को ज़रूर शामिल करें. 

वेज, नॉन वेज और वीगन डाइट वाले प्रोटीन के लिए क्या खाएं?

वीगन डाइट प्लांट बेस्ड होती है यानी पेड़-पौधों से मिलने वाली चीज़ें. इसमें दूध और उससे बने प्रोडक्ट भी शामिल नहीं होते हैं. ऐसे में वीगन डाइट वाले प्रोटीन के लिए नट्स, दाल, सोयाबीन खा सकते हैं. अगर आप नॉन-वेजिटेरियन है तो आपके पास प्रोटीन के कई सोर्स हैं. जैसे लीन मीट, अंडे, दूध, दही. वहीं अगर आप वेजिटेरियन हैं तो दूध, दही के अलावा दाल और नट्स खा सकते हैं.

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

वीडियो: सेहत: स्तनों में गांठ ब्रेस्ट कैंसर है या कुछ और, कैसे पता चलेगा?

thumbnail

Advertisement

election-iconचुनाव यात्रा
और देखे

Advertisement

Advertisement