The Lallantop
Advertisement

बाल समय से पहले सफेद हो रहे हैं? कहीं ये गलतियां तो आप नहीं करने लगे

बालों को समय से पहले सफ़ेद होने से रोकना चाहते हैं तो उसके लिए डॉक्टर की बताई इस सलाह को जरूर फॉलो करें. इससे बालों के रंग में सुधार हो सकता है. अगर ऐसा किसी बीमारी या कंडीशन के कारण हो रहा है तो ज़रूरी है कि आप डॉक्टर से मिलें.

Advertisement
What causes white hair at early age how to prevent premature greying of hair
बालों का समय से पहले सफेद होना आजकल बहुत आम हो गया है
12 जून 2024 (Updated: 16 जून 2024, 12:07 IST)
Updated: 16 जून 2024 12:07 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

वो दौर गया जब बाल 40-45 की उम्र में सफ़ेद होने लगते थे. आजकल तो हाल ये है कि 18-19 साल की उम्र में ही बाल सफ़ेद होने लगे हैं. 20-30 साल के लोगों के बाल सफ़ेद हुए जा रहे हैं. कई सारी कंपनीज़ इस चीज़ का फ़ायदा भी उठाती हैं. अपनी जेबें भरने के लिए. आए दिन मार्केट में कोई न कोई नया प्रोडक्ट आ जाता है, जो बालों को काला करने का दावा करता है. लोग भर-भर के उसपर पैसा भी ख़र्चा करते हैं. लेकिन कोई फ़ायदा नहीं होता. उल्टा नुकसान हो जाता है (How to prevent premature greying of hair).

देखिए, सबसे ज़रूरी है प्रॉब्लम की जड़ तक पहुंचना. समय से पहले बालों का सफ़ेद होना, कई कारणों से हो सकता है. इसमें से एक बहुत बड़ी वजह आपकी डाइट भी है. यानी खान-पान. यानी अगर आपके खाने में कुछ ज़रूरी चीज़ों की कमी होगी, तो आपके बाल समय से पहले सफ़ेद हो जाएंगे. ये चीज़ें क्या हैं, इस बारे में डॉक्टर से समझेंगे. साथ ही जानेंगे कि आखिर कम उम्र में बाल क्यों सफेद हो रहे हैं? और इससे बचने के लिए क्या करें.

काले बाल समय से पहले सफ़ेद क्यों हो जाते हैं?

ये हमें बताया डॉ. जयश्री नूर ने.

डॉ. जयश्री नूर, कंसल्टेंट डर्मेटोलॉजिस्ट, मारेंगो एशिया हॉस्पिटल्स, गुरुग्राम

काले बाल कई कारणों से सफ़ेद हो जाते हैं. इनमें सबसे पहला है जेनेटिक कारण. अगर आपके माता-पिता या परिवार में किसी के बाल समय से पहले सफेद हुए हैं तो अगली पीढ़ी में भी बाल समय से पहले सफ़ेद हो सकते हैं. भारतीयों में बाल समय से पहले सफेद होने का मतलब है 25 से 30 साल में. इसे - प्रीमेच्योर ग्रेइंग ऑफ हेयर - कहा जाता है. बाल सफेद होने का दूसरा कारण पर्यावरण है. आजकल बहुत प्रदूषण है. इससे भी बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं.

तीसरा कारण पोषक तत्वों की कमी है. अगर आपके खान-पान में कुछ पोषक तत्वों की कमी है तो इससे भी बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं. अगर आप बहुत स्ट्रेस में रहते हैं तो भी बाल सफेद हो सकते हैं. अगर आप कई तरह के रंग या डाई इस्तेमाल करते हैं तो ये बालों को समय से पहले सफ़ेद कर सकता है. आजकल बच्चे जंक फूड या पैक्ड फूड बहुत खाते हैं. इनमें प्रिज़रवेटिव मिले होते हैं. इनकी वजह से भी बाल समय से पहले सफेद हो सकते हैं.

अगर हेल्दी लाइफस्टाइल रखेंगे तो बाल समय से पहले सफेद नहीं होंगे
बचाव और इलाज

अगर जेनेटिक वजहों से बाल सफेद हुए हैं तो इसमें कुछ नहीं किया जा सकता. हालांकि दूसरे कारणों को हम कंट्रोल कर सकते हैं. जैसे पर्यावरण, डाइट, स्ट्रेस, रंग या डाई. कुछ विटामिंस और मिनरल्स की कमी से बालों के सफेद होने का खतरा बढ़ जाता है. जैसे अगर विटामिन बी12 की कमी है. आयरन की कमी है, कैल्शियम की कमी है या विटामिन डी की कमी है तो भी बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं. ऐसे में खान-पान में सुधार करना ज़रूरी है. वहीं अगर आपको काम का स्ट्रेस है या बच्चों को पढ़ाई का तनाव है. तो, हम अपनी दिनचर्या में बदलाव कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें:- स्किन ही नहीं, गर्मियों में आंखों को बचाना भी ज़रूरी, टिप्स जान लीजिए!

जो बच्चे रात में देर से सोते हैं और सुबह देर तक सोते रहते हैं. उनकी लाइफ स्टाइल में बदलाव से फर्क पड़ेगा. अपने खान-पान को बदलें. बच्चों को जंक फूड न खाने दें. उन्हें घर की ताज़ी हरी सब्ज़ियों वाला खाना खिलाएं. इससे बालों के रंग में काफी सुधार आएगा. अगर स्ट्रेस है तो आप मेडिटेशन यानी ध्यान लगा सकते हैं. फिज़िकल एक्टिविटी ज़रूर करनी है. चाहे बच्चे हों या बड़े, सुस्त लाइफ स्टाइल न रखें. कोई न कोई खेल ज़रूर खेलें. अगर बड़े हैं तो जॉगिंग, रनिंग, योग, एक्सरसाइज़ और मेडिटेशन करें. ये आपकी लाइफ स्टाइल बदलने में मददगार रहेगा और बाल समय से पहले सफ़ेद होने से भी रुक जाएंगे.

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

वीडियो: सेहत: पैनिक अटैक और एंग्जायटी में क्या अंतर होता है और इनका इलाज क्या है, डॉ. से जानिए

thumbnail

Advertisement

Advertisement