Submit your post

Follow Us

स्मृति ईरानी देश की औरतों को निराश करने से पहले मोदी के पुराने वीडियो देख लेतीं तो अच्छा होता

स्मृति ईरानी. देश की महिला एवं बाल विकास मंत्री हैं. 13 दिसंबर को उन्होंने संसद में एक बहुत बड़ा झूठ बोला. उन्हीं के शब्दों में कहें तो लोकसभा के अंदर उन्होंने ‘क्लैरियन कॉल’ दिया. रेप के लिए. अपनी पॉलिटिक्स चमकाने के लिए किस तरह झूठ बोला जा सकता है, ये स्मृति ने दिखा दिया.

#आखिर हुआ क्या?

राहुल गांधी 12 दिसंबर को झारखंड के गोड्डा में थे. चुनावी रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा,

प्रधानमंत्री जी ने कहा था ‘मेक इन इंडिया’. अब आप जहां भी देखो, मेक इन इंडिया नहीं है भैया, अब है रेप इन इंडिया. जहां भी देखो, अखबार खोलो झारखंड में महिला से बलात्कार, यूपी में देखो नरेंद्र मोदी के MLA ने लड़की का रेप किया, उसके बाद गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया. नरेंद्र मोदी एक शब्द नहीं बोलते. हर रोज़ रेप इन इंडिया. नरेंद्र मोदी कहते हैं बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ. नरेंद्र मोदी जी आपने ये नहीं बताया कि किससे बचाना है. बीजेपी के एमएलए से बचाना है.

आप भी सुन लीजिए-

इस भाषण में राहुल गांधी ने देश के कोने-कोने से लगातार सामने आ रही रेप की वारदातों और उनसे निपटने में केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की असफलता पर निशाना साधा था. राहुल गांधी विपक्ष के नेता हैं, उनका काम है सरकार पर सवाल उठाना, वही उन्होंने किया. राहुल के भाषण की इस क्लिप को मैंने कई बार सुना. उसमें मुझे कहीं भी रेप के लिए क्लैरियन कॉल सुनाई नहीं दिया. कहीं पर भी रेप का आह्वान सुनाई नहीं दिया. लेकिन…

# तूने जो न कहा वो मैं सुनता रहा

असल में हुआ तो यही. राहुल ने जो नहीं कहा, स्मृति ईरानी ने वो भी सुन लिया. राहुल रेप की घटनाओं पर मोदी सरकार को घेर रहे थे, स्मृति कहने लगीं कि राहुल गांधी आह्वान कर रहे हैं कि भारत में आकर बलात्कार करें. राहुल ने कहा, ‘देश में रेप हो रहे हैं’, स्मृति ने मतलब निकाला, ‘राहुल कह रहे हैं देश की महिलाओं का रेप होना चाहिए.’ स्मृति ने लोकसभा में कहा,

एक पार्टी का नेता सार्वजनिक तौर पर क्लैरियन कॉल देता है कि हिंदुस्तान की महिलाओं का बलात्कार होना चाहिए. ये देश के इतिहास में पहली बार हुआ है जो कांग्रेस पार्टी का नेता रेप जैसे संगीन जुर्म को पॉलिटिकल मॉकरी का हिस्सा बनाता हो. ये पहली बार हुआ है कि गांधी खानदान का एक बेटा सरेआम कह रहा है कि आओ हिंदुस्तान में बलात्कार करो. मैं पूछना चाहती हूं कि क्या राहुल गांधी का वक्तव्य है कि भारत का हर पुरुष एक महिला का रेप करना चाहता है? क्या राहुल गांधी आह्वान करते हैं कि देश की महिलाओं का बलात्कार होना चाहिए?

एक बयान को कितने बुरे तरीके से पेश किया जा सकता है. अपने राजनीतिक फायदे के लिए उसे मरोड़कर कितना घटिया बनाया जा सकता है, लोकसभा में स्मृति ईरानी ने इसी का उदाहरण पेश किया है.

राजनीति में हमने देखा है कि एक नेता दूसरे के बयान के क्लिप काटकर, उनके गलत या आधे-अधूरे मतलब के साथ पेश करने की कोशिश करते हैं. लेकिन स्मृति ने जो किया वो उससे एक कदम आगे था. हम सबने देखा और सुना कि राहुल गांधी ने क्या कहा. और उसके बाद स्मृति ईरानी ने संसद में जो कहा वो भी हमने सुना. जो स्मृति ने कहा वो राहुल के शब्द नहीं थे. वो स्मृति ईरानी के खुद के शब्द थे. जिन्हें उन्होंने इस तरह पेश करने की कोशिश की जैसे राहुल गांधी ने कहा हो.

# राहुल का कहा राजनीति है तो मोदी तो 2013 से यही कर रहे हैं

स्मृति ईरानी ने संसद में कहा कि राहुल ने रेप पर राजनीति की. राहुल के बयान को राजनीति से प्रेरित कहने से पहले स्मृति ईरानी को 2013-14 के नरेंद्र मोदी के कुछ भाषण सुन लेने चाहिए थे.

2013 में दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी ने चुनावी रैली में कहा था,

हम निर्भया को कैसे भूल सकते हैं, ये जिस प्रकार का माहौल इन्होंने बनाया है. मेरी आपसे प्रार्थना है कि 4 दिसंबर को जब आप वोट करने जाएं तो कुछ चीज़ें याद करके जाएं. ये मेरी दिल्ली जिसे इन्होंने रेप कैपिटल बना दिया. इंडिया गेट पर निर्भया के लिए नौजवान रात-रात ठंड में गुज़ारा करते थे, उन पर ठंडे पानी की बौछार गिराई गई. रामलीला मैदान में आधी रात को दिल्ली पुलिस को जुल्म करने के लिए भेजा जाता था. लोगों को पीटा जाता था.

आप भी सुनिये. लंबा वीडियो है. 26वें मिनट से सुनियेगा.

उसी दौरान एक और चुनाव रैली में नरेंद्र मोदी ने कहा था,

दिल्ली से बलात्कार की घटनाओं के समाचार आते हैं, आते हैं कि नहीं आते हैं? आपने दिल्ली को जिस प्रकार से रेप कैपिटल बना दिया है और उसके कारण पूरी दुनिया में हिंदुस्तान की बेइज्जती हो रही है. आपके पास मां बहनों की सुरक्षा के लिए न कोई योजना है, न आपमें दम है, न आप इसके लिए कुछ कर सकते हैं.

उस वक्त दिल्ली में शीला दीक्षित के नेतृत्व वाली कांग्रेस और केंद्र में मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार थी. यानी अगर स्मृति ईरानी को लगता है कि राहुल गांधी अभी रेप पर राजनीति कर रहे हैं. तो उनकी पार्टी के नेता, जिस सरकार में वो दूसरी बार मंत्री बनी हैं, उसके मुखिया 2013 से रेप पर राजनीति करते रहे हैं.

#विरोध करिये, कुतर्क नहीं और ये तो कुतर्क से भी घटिया था

राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर सवाल उठाए. रेप के मामलों से निपटने में सरकार की असफलता पर सवाल उठाए. स्मृति ईरानी सवालों के जवाब दे सकती थीं. बता सकती थीं कि सरकार क्या कदम उठा रही है. आंकड़े (अगर हों) तो उन्हें रख सकती थीं कि उनकी सरकार अपने छठे साल में है और इस तरह के मामलों से निपटने में कितनी सफल रही है. ‘ओला ऊबर की वजह से ऑटो सेक्टर में मंदी’, ‘गाय ऑक्सीजन देती है’, ‘इंडिया में रेप होते हैं, भारत में नहीं’ टाइप के कुतर्क भी दे सकती थीं. ज्यादा से ज्यादा क्या होता, ट्रोल होतीं.

कहते हैं कि जब उनके पास आपके सवालों के जवाब नहीं होते तो वो कुतर्क करते हैं, आपका मज़ाक उड़ाते हैं और आपको गलत रोशनी में दिखाने की कोशिश करते हैं. स्मृति ईरानी ने भी वही किया.

रेप के मुद्दे को पॉलिटिकल मॉकरी का हिस्सा राहुल गांधी ने नहीं, स्मृति ईरानी ने बनाया. अपने झूठ में ईरानी ने देश के इतिहास और गांधी परिवार को भी घसीट लिया. झूठ बोलते वक्त उन्हें इस बात का भी ख्याल नहीं रहा कि देश की औरतें उन्हें देख रही हैं, उनसे रेप के खिलाफ कड़े कदम की उम्मीद कर रही हैं.

लोकसभा चुनाव में जब स्मृति ने राहुल गांधी को हराया, और अमेठी अपने नाम किया तो वो सिर्फ उनके लिए ‘तबीयत से पत्थर उछालने’ वाला मौका नहीं था. देश की आधी आबादी, देश की लड़कियों  के लिए गर्व का मौका था. वो लोकसभा में सबसे ज्यादा 78 महिलाओं के आने भर का उल्लास नहीं था. वो खुशी इस बात की थी कि वो स्मृति ईरानी जिन्हें पिछले चुनाव में लोगों ने पूरी तरह नकार दिया था उन्होंने हार नहीं मानी. बल्कि, अपनी कड़ी मेहनत से गांधी परिवार का किला भेद दिया.

लेकिन आज, उस जीत के सात महीने बाद, उसी स्मृति ईरानी ने देश की आधी आबादी को निराश कर दिया है. रेप पर अपनी राजनीति से. रेप जैसे गंभीर अपराध पर झूठ बोलकर, रेप पर सवाल उठाने वाले अपने विरोधी को एक अपराधी की तरह पेश करके. स्मृति ईरानी! आपने इंडिया की युवा लड़की को निराश किया है.


वीडियोः राहुल गांधी को स्मृति ईरानी ने ‘रेप इन इंडिया’ और ‘रेप कैपिटल’ पर घेरा, नरेंद्र मोदी के वीडियो निकल आए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

गार्गी कॉलेज में यौन शोषण की शिकायत करने वाली लड़कियां पीछे क्यों हटीं?

बीते महीने इनका आरोप था कि लड़कों ने कॉलेज में घुसकर हुड़दंग किया.

यौन शोषण विक्टिम ने बयान लिखने को कहा तो दरोगा बोला, 'कोरोना वायरस हो गया है'

पुलिस भी चौंक गई है.

फ्लिपकार्ट बेचकर 6700 करोड़ कमाने वाले सचिन बंसल पर दहेज़ उत्पीड़न का केस

2008 में हुई थी शादी, पत्नी ने मारपीट और यौन हिंसा के भी आरोप लगाए हैं.

UP: लड़की का नाम सेक्स वीडियो में डालकर वॉट्सऐप पर वायरल कर दिया

पुलिस कह रही है सबको गिरफ्तार नहीं कर सकते, नंबर बदल लो.

सिस्टर अभया की कहानी जिन्हें 28 साल पहले जिंदा ही कुएं में फेंक दिया गया था

केरल की सबसे लंबी मर्डर मिस्ट्री जो 28 साल बाद भी नहीं सुलझ सकी है.

16 साल की बच्ची का रेप करने वाले पादरी के खिलाफ पोप फ्रांसिस ने कड़ी कार्रवाई की है

कौन है रॉबिन वदक्कुमचेरी, जिसके खिलाफ पोप ने कार्रवाई की.

जुरासिक पार्क के डायरेक्टर की पॉर्न स्टार बेटी किस मामले में गिरफ्तार हो गई

10 दिन पहले ही इंटरव्यू में पॉर्न स्टार बनने की कहानी सुनाई थी.

बॉयफ्रेंड से मिलने गई थी, रिश्तेदारों ने बीच चौराहे पर लड़की की चोटी काट दी

वीडियो वायरल होने के बाद तीन आरोपी गिरफ्तार.

एकतरफा प्यार में महिला पुलिसकर्मी के भाई की हत्या कराने वाले पूर्व इंस्पेक्टर को उम्रकैद

14 साल के माज़ अहमद की हत्या के लिए तीन शूटरों को सुपारी दी थी.

स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की ने सुप्रीम कोर्ट से नई मांग की है

स्वामी चिन्मयानंद पर रेप, अपहरण और ब्लैकमेलिंग का आरोप लगा है.