Submit your post

Follow Us

18 साल के लड़के पर आरोप, 9 महीने की बच्ची को खिलाने के बहाने रेप किया

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में खुर्जा देहात के तहत आने वाले एक गांव से नौ महीने की एक बच्ची के कथित रेप का मामला सामने आया है. ‘आज तक’ से जुड़े पत्रकार मुकुल शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक, घटना 18 जुलाई की है. घरवालों ने पुलिस में दोपहर के वक्त कथित रेप की शिकायत दर्ज कराई. घरवालों का कहना है कि गांव का एक लड़का सुबह उनके घर आया था, उनकी 9 महीने की बच्ची को खिलाने के नाम पर अपने साथ लेकर गया. जहां अकेले में उसने बच्ची का कथित रेप किया, जब बच्ची रोने लगी तो उसे तुरंत उसके घर छोड़कर भाग गया. परिवार वालों ने जब बच्ची की हालत देखी, तो समझ गए कि बच्ची के साथ क्या हुआ है. परिवार वालों ने आरोपी लड़के को खोजना चाहा, लेकिन तब तक वो गांव से फरार हो चुका था. परिवार वालों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. पुलिस ने बच्ची की मेडिकल जांच कराई, जिसमें पहली नज़र में ये बात सामने आई कि बच्ची के साथ लैंगिक छेड़छाड़ हुई थी, जो कि रेप की कैटेगिरी में ही आता है.

बच्ची के घरवालों का आरोप है कि आरोपी लड़के की उम्र 18-19 साल है. उसका नाम राजा है. उसकी मां ने लड़के के ममेरे भाइयों की मदद से उसे गांव से भगा दिया. पुलिस ने पूछताछ के दौरान दोनों ममेरे भाइयों को हिरासत में ले लिया. और बाद में आरोपी की भी गिरफ्तारी हो गई. इस मामले में सीओ खुर्जा जनपद के सीओ सुरेश कुमार सिंह ने मीडिया से बात की. उन्होंने कहा-

“एक महिला द्वारा ये आरोप लगाया गया था, सूचना दी गई थी कि उसकी 9 महीने की बच्ची के साथ दुष्कर्म किया गया. जानकारी मिलने पर पुलिस तुरंत सक्रिय हुई. उचित धाराओं में केस दर्ज किया गया. बच्ची का उचित उपचार सुनिश्चित किया गया. SSP महोदय के निर्देशन में तीन टीमें थाने के स्तर पर गठित की गई थीं. टीमों ने बहुत कोशिश करके, लगभग सात-आठ घंटे के अंदर ही अभियुक्त को गिरफ्तार कर लिया. इसके साथ ही केस में पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है.”

इस पूरे केस में एक राहत की बात ये रही कि बच्ची की हालत इस वक्त ठीक है. 9 महीने की बच्ची, जिसे अभी किसी बात की कुछ समझ नहीं है, वो भी सुरक्षित नहीं है. ये देख और सुन शर्म आती है.


वीडियो देखें: बड़े शहरों में प्रेगनेंट महिलाओं को कम कोविड वैक्सीन क्यों लग रही हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

साड़ी पहनती थी, इसलिए मेरे बिना ही क्लाइंट मीटिंग्स में चले जाते थे कलीग्सः इंदिरा नूई

साड़ी पहनती थी, इसलिए मेरे बिना ही क्लाइंट मीटिंग्स में चले जाते थे कलीग्सः इंदिरा नूई

इंदिरा नूई की ऑटोबायोग्राफी 'माय लाइफ ऐट फुल' रिलीज़ हुई है.

कच्चे पपीते से लेकर यूट्यूब के नुस्खे: बच्चा गिराने के लिए न करें ये भयानक गलतियां

कच्चे पपीते से लेकर यूट्यूब के नुस्खे: बच्चा गिराने के लिए न करें ये भयानक गलतियां

यूट्यूब पर ट्यूटोरियल देख एक महिला खुद का अबॉर्शन कर रही थी, ऐसा हाल हो गया

ज़िंदगीभर जेल में रहेगा औरतों का रेप और बच्चों की तस्करी करने वाला सिंगर R Kelly

ज़िंदगीभर जेल में रहेगा औरतों का रेप और बच्चों की तस्करी करने वाला सिंगर R Kelly

कोर्ट ने माना- केली ने अपनी स्टारडम का इस्तेमाल कर महिलाओं और बच्चों का यौन शोषण किया.

वो टेस्ट जिसमें महिला खिलाड़ियों को साबित करना पड़ता है कि वो महिला हैं

वो टेस्ट जिसमें महिला खिलाड़ियों को साबित करना पड़ता है कि वो महिला हैं

तापसी पन्नू की आने वाली फिल्म 'रश्मि रॉकेट' स्पोर्ट्स में होने वाले जेंडर वेरिफिकेशन टेस्ट पर बात करती है.

REET का एग्ज़ाम देने गई लड़कियों के कपड़ों की अस्तीन क्यों काट दी गई?

REET का एग्ज़ाम देने गई लड़कियों के कपड़ों की अस्तीन क्यों काट दी गई?

क्या चीटिंग रोकने के लिए ऐसा किया या कारण कुछ और है?

जिस इवेंट में CJI ने औरतों के अधिकारों पर बात की, उसकी बार काउंसिल ने आलोचना क्यों कर दी?

जिस इवेंट में CJI ने औरतों के अधिकारों पर बात की, उसकी बार काउंसिल ने आलोचना क्यों कर दी?

CJI ने जुडीशरी में औरतों की 50 प्रतिशत भागीदारी पर जोर दिया, साथ ही इंफ्रास्ट्रक्चरल बदलावों की बात की.

आइसलैंड से आई एक गलत खबर और दुनिया में जेंडर इक्वालिटी पर बहस छिड़ गई

आइसलैंड से आई एक गलत खबर और दुनिया में जेंडर इक्वालिटी पर बहस छिड़ गई

आइसलैंड की कौन सी बात उसे भारत से कई गुना बेहतर देश बनाती है?

कोविड से जूझते हुए UPSC में तीसरी रैंक लाने वाली अंकिता जैन ने ऐसे की तैयारी

कोविड से जूझते हुए UPSC में तीसरी रैंक लाने वाली अंकिता जैन ने ऐसे की तैयारी

अंकिता के पति IPS हैं, बहन ने भी 21वीं रैंक हासिल की है.

महिला अधिकार कार्यकर्ता कमला भसीन का 75 वर्ष की उम्र में निधन

महिला अधिकार कार्यकर्ता कमला भसीन का 75 वर्ष की उम्र में निधन

नारीवाद और पितृसत्ता पर कई किताबें लिखी हैं, जिनमें से कई का 30 से अधिक भाषाओं में अनुवाद हुआ.

UPSC की महिला टॉपर जागृति अवस्थी, BHEL में इंजीनियर थी, नौकरी छोड़ दूसरे प्रयास में पाई सफलता

UPSC की महिला टॉपर जागृति अवस्थी, BHEL में इंजीनियर थी, नौकरी छोड़ दूसरे प्रयास में पाई सफलता

ग्रामीण, महिला और बाल विकास के क्षेत्र में काम करना चाहती हैं.