Submit your post

Follow Us

अस्पताल पहुंचाने वाले कॉन्स्टेबल के नाम पर महिला ने अपने बच्चे का नाम रखा

दिल्ली की एक महिला ने अपने बच्चे का नाम उस पुलिस कॉन्स्टेबल के नाम पर रखा है जिसने उन्हें डिलीवरी के लिए अस्पताल पहुंचाया. कॉन्स्टेबल का नाम दयावीर सिंह है. मामला नार्थ-वेस्ट दिल्ली के अशोक विहार का है.

दरअसल, 28 साल की अनूपा को 23 अप्रैल की सुबह लेबर पेन शुरू हो गया. परिवारवालों ने एंबुलेंस को कॉल किया. पर कई बार कॉल करने के बाद सहायता नहीं मिली. फिर पड़ोस में रह रहे एक व्यक्ति ने SHO आरती शर्मा और बीट कॉन्स्टेबल दयावीर को फोन किया. उनसे मदद मांगी. आदेश मिलते ही दयावीर गाड़ी लेकर मौके पर पहुंचे. उन्होंने देखा की अनूपा की सास रो रही है. क्योंकि उन्हें लग रहा था कि अब उनकी कोई मदद नहीं कर पाएगा. लेकिन दयावीर फौरन अनूपा को लेकर अस्पताल पहुंचे. हिंदूराव अस्पताल में भर्ती कराया.

दयावीर के मुताबिक, जिन लोगों ने सुबह फोन करके मदद मांगी थी, उन्होंने ही बताया कि अनूपा ने अपने बेटे का नाम दयावीर रखा है. ये जानने के बाद मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं. वहीं अनूपा की सास का कहना है कि अगर दयावीर समय पर न आते, तो मां-बच्चे दोनों की जान पर बात बन आती. दयावीर ने जान बचाई है, इसलिए बच्चे का नाम दयावीर रखा जाएगा. वहीं, अनूपा का कहना है कि अगर बेटी हुई होती, तो उसका नाम SHO आरती के नाम पर रखते. 24 अप्रैल को भी दयावीर ने अनूपा को अस्पताल से घर भी छोड़ा.

ऐसा ही एक मामला यूपी के बरेली से सुनने को मिला था. तमन्ना अली खान प्रेगनेंट थीं. उनके पति लॉकडाउन के चलते  नोएडा में फंस गए थे. तब पुलिस ने तमन्ना को अस्पताल पहुंचाया था. नोएडा में फंसे पति को नोएडा पुलिस के एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह ने बरेली पहुंचने में मदद की थी. तमन्ना ने बेटे को जन्म दिया. उन्होंने पुलिस अधिकारी के नाम पर बेटे का नाम रणविजय खान रख दिया था.


देश में कोरोना वायरल के कितने मामले हैं, ये जानिए-

वीडियो देखें: UP में डिलीवरी के लिए आई गर्भवती औरत की अस्पताल ने मदद नहीं की और बच्चे की मौत हो गई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

बलरामपुर केस: पीड़िता की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या निकला?

बलरामपुर केस: पीड़िता की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या निकला?

दो लड़कों पर 22 साल की दलित लड़की से गैंगरेप का आरोप है.

लखनऊ: दलित युवती से गैंगरेप का आरोप, पुलिस ने केस दर्ज करने में एक महीने लगा दिए!

लखनऊ: दलित युवती से गैंगरेप का आरोप, पुलिस ने केस दर्ज करने में एक महीने लगा दिए!

हाथरस मामले के तूल पकड़ने के बाद जागी पुलिस.

राजस्थान: नाबालिग बहनों का आरोप- तीन दिन तक गैंगरेप हुआ, पुलिस ने कहा कि बयान तो ऐसा नहीं दिया था

राजस्थान: नाबालिग बहनों का आरोप- तीन दिन तक गैंगरेप हुआ, पुलिस ने कहा कि बयान तो ऐसा नहीं दिया था

राजस्थान की तीन घटनाएं, जो झकझोर देंगी.

बलरामपुर: गैंगरेप के बाद लड़की की हत्या का आरोप,  आधी रात को हुआ अंतिम संस्कार

बलरामपुर: गैंगरेप के बाद लड़की की हत्या का आरोप, आधी रात को हुआ अंतिम संस्कार

परिवार का कहना है कि ऑफिस से लौट रही लड़की को किडनैप कर दो लोगों ने उसका रेप किया.

हाथरस केस: जिस परिवार ने बेटी खोई, पुलिस उसे अंतिम संस्कार पर ज्ञान दे रही थी

हाथरस केस: जिस परिवार ने बेटी खोई, पुलिस उसे अंतिम संस्कार पर ज्ञान दे रही थी

परिवार चाहता था कि अंतिम विदाई से पहले बेटी एक बार घर आ जाए. पुलिस नहीं मानी.

हाथरस केस: परिवार का आरोप, 'जबरन जला दिया बेटी का शरीर, हमें आखिरी बार देखने भी न दिया'

हाथरस केस: परिवार का आरोप, 'जबरन जला दिया बेटी का शरीर, हमें आखिरी बार देखने भी न दिया'

अंतिम संस्कार के वक्त परिवार वाले मौजूद नहीं थे.

हाथरस: कथित गैंगरेप के बाद लड़की को इतना पीटा कि रीढ़ टूट गई, 15 दिन तड़पने के बाद मौत

हाथरस: कथित गैंगरेप के बाद लड़की को इतना पीटा कि रीढ़ टूट गई, 15 दिन तड़पने के बाद मौत

गर्दन, स्पाइनल कॉर्ड, सब जगह गहरी चोट लगी थी.

वेब सीरीज में काम दिलाने के बहाने तस्वीरें मंगवाता, फिर ब्लैकमेल करता था

वेब सीरीज में काम दिलाने के बहाने तस्वीरें मंगवाता, फिर ब्लैकमेल करता था

आरोपी ने सोशल मीडिया पर कई फेक प्रोफाइल्स बना रखी थीं.

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोपी की पांच बेटियां हैं.

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

उस समय मां ने ही शव की पहचान की थी.