Submit your post

Follow Us

कोरोना वायरस: देश पर आफत पड़ी, तो 'ब्यूटी क्वीन' ताज उतारकर वापस डॉक्टर बन गईं

भाषा मुख़र्जी. मिस इंगलैंड रह चुकी हैं. पिछले साल अगस्त में ताज पहना था. अब उतार दिया है. इसलिए नहीं कि नई मिस इंगलैंड चुन ली गई हो. बल्कि इसलिए ताकि वो कोरोना वायरस से लड़ सकें. अपने देश के लिए. वहां के लोगों के लिए. कैसे? वो ऐसे, कि भाषा डॉक्टर हैं. और अब वो अपने दूसरे साथी डॉक्टर्स के साथ मिलकर कोरोना वायरस से लड़ेंगी.

स्कूल में बुली किया गया, आगे चलकर इंगलैंड की आइकन बनीं

भाषा मूलतः भारत से हैं. 9 साल की थीं, जब कोलकाता से उनके मम्मी-पापा इंगलैंड शिफ्ट हो गए. डर्बी नाम की जगह पर. वहां पर उनके पापा शेफ का काम करते थे, मम्मी दुकान चलाती थीं. वहां उन्हें एडजस्ट करने में बहुत दिक्कत आई. भाषा ने मिरर को दिए एक इंटरव्यू में बताया,

‘हम जब इंग्लैंड आए, तो चीज़ें बहुत अलग थीं. आर्थिक दिक्कतें बहुत थीं. पैसा नहीं था. मेरा पूरा परिवार एक ही कमरे में सोता था. और वो घर हम दूसरे परिवारों के साथ शेयर करते थे. चैरिटी शॉप्स से कपड़े खरीदा करते थे हम. इस वजह से स्कूल में भी मुझे बहुत बुली किया जाता था. मुझे आज भी वो दिन याद है. वर्ल्ड बुक डे का. इस दिन स्कूल ड्रेस नहीं पहननी होती. बच्चे अपने पसंदीदा कैरेक्टर वाले कपड़े पहन कर जाते थे. हम वो कपड़े नहीं खरीद सकते थे. तो मैं नॉर्मल कपड़े पहनकर स्कूल गई थी. एक बच्चे ने मुझसे कहा, ‘आवारा बनकर क्यों आई हो’?

Bhasha 3
(तस्वीर: भाषा मुख़र्जी का इन्स्टाग्राम)

इन सबसे बचने के लिए मैंने लाइब्रेरी का सहारा लिया. वहीं बैठकर सारा समय पढ़ती रहती थी. कोशिश करती कि कैसे बेहतर नंबर ला पाऊं. जिससे मेरे टीचर्स मुझसे खुश रहें.’

स्कूल में उनके बेहतरीन मार्क्स की वजह से उन्हें नॉटिंगहैम यूनिवर्सिटी में दाखिला मिल गया. वहां उन्होंने मेडिकल साइंस, मेडिसिन, और सर्जरी में डिग्री ली. लेकिन उनके लिए ये आसान नहीं था. कॉलेज में उन्होंने डिप्रेशन झेला. इससे डील करने के लिए उन्होंने मॉडलिंग शुरू कर दी. चैरिटी के लिए काम किया. साथ-साथ पढ़ाई करती रहीं.

अब उनके नाम के आगे डॉक्टर लगा है. पांच भाषाएं बोलती हैं. लेकिन बचपन में बुलीइंग और कॉलेज में डिप्रेशन झेलने की वजह से वो इसकी ज़रुरत समझती हैं. आगे चलकर मेंटल हेल्थ में स्पेश्लाइज करना चाहती हैं. मिस इंगलैंड बनने के बाद भी वो कई चैरिटी संस्थानों से जुड़ीं. अगस्त 2019 में ताज जीतने के बाद अगले ही दिन वो पिलग्रिम हॉस्पिटल में ड्यूटी करने पहुंच गई थीं.

Bhasha 4
जब दिल्ली आई थीं भाषा तब उन्हें ये मोमेंटो दिया गया था.(तस्वीर: भाषा मुख़र्जी का इन्स्टाग्राम)

दिसंबर में मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता हुई थी. उसमें इंगलैंड को रिप्रेजेंट करने गई थीं भाषा. मार्च में भारत आईं. महीने भर के लिए. ये भी चैरिटी का ही काम था. लेकिन जब वो यहां थीं, तब उन्हें लगातार मैसेज मिल रहे थे इंगलैंड से. उनके साथ के डॉक्टर्स उन्हें बता रहे थे कि हालात कितने खराब हैं. ऐसे में अपने पुराने हॉस्पिटल से उन्होंने कॉन्टैक्ट किया. कहा कि वो काम पर वापस आना चाहती हैं.

CNN को दिए इंटरव्यू में भाषा ने बताया,

मिस इंग्लैण्ड का ताज पहनना इस वक़्त गलत सा महसूस हो रहा है. भले ही ये मानवता से जुड़े कामों के लिए ही क्यों न हो. जब इस वक़्त पूरी दुनिया में लोग कोरोनावायरस से मर रहे हैं, और मेरे कलीग्स इतनी मेहनत कर रहे हैं. जब आप विदेशों में भी समाज सेवा के लिए जाते हैं, आपसे उम्मीद होती है कि आप क्राउन पहनेंगे, तैयार होंगे, सुन्दर दिखेंगे.

Bhasha 5
भाषा ने निर्णय लिया कि इस वक़्त वो एक डॉक्टर के तौर पर अपने देश के लिए ज़्यादा काम कर सकती हैं.(तस्वीर: भाषा मुख़र्जी का इन्स्टाग्राम)

लेकिन मैं घर वापस आना चाहती थी और सीधे काम पर लगना चाहती थी. मुझे लगा कि इसी दिन के लिए मैंने अपनी डिग्री ली है. और इस सेक्टर का हिस्सा बनने का इससे बेहतर समय और कब होगा. जिस तरह पूरे विश्व के लोग जरूरी काम कर रहे लोगों की तारीफ़ में लगे हुए थे, मैं उनमें से एक बनना चाहती थी. मुझे पता था कि मैं मदद कर सकती हूं.

इस वक़्त भाषा यूके पहुंच चुकी हैं. ब्रिटिश हाई कमीशन ने इंतजाम करके उन्हें भारत से यूके भेजा. जर्मनी के फ्रैंकफर्ट से होते हुए लंदन गईं वो. इस वक़्त सेल्फ आइसोलेशन में हैं. जैसे ही इससे निकलेंगी, डॉक्टर का अपना रोल दोबारा निभाएंगी.

जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के अनुसार यूके में अभी तक नॉवेल  कोरोना वायरस के 48 हजार मामले सामने आ चुके हैं. पांच हजार के करीब मौतें हो चुकी हैं, वहां के PM बोरिस जॉनसन भी कोरोना पॉजिटिव निकले हैं और अस्पताल में भर्ती हैं.


लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

डिलिवरी के लिए पहुंची महिला को अस्पताल ने लौटा दिया, सड़क पर बच्चे को जन्म दिया

...और बच्चे की मौत हो गई.

कोरोना वायरस: लॉकडाउन का फायदा उठाकर 9 लड़कों ने नाबालिग का गैंगरेप किया

ऐसे माहौल में भी इन लड़कों को डर नहीं लगा.

'कोरोना' चिल्लाकर लड़की पर थूकने वाले को पुलिस ने धर लिया है

दिल्ली का ही है आरोपी, सफ़ेद स्कूटी और CCTV फुटेज ने मदद की

महिला क्रिकेटर्स ने हेड कोच पर यौन शोषण के आरोप लगाए, कोच को सस्पेंड किया गया

कोरोना के कारण हेड कोच की मुश्किल और भी बढ़ गई.

निर्भया के दोषियों से पहले रेप के अपराध में आखिरी बार फांसी इस शख्स को हुई थी

जिसके बारे में बाद में कहा गया कि वो बेगुनाह था.

ईवेंट के लिए असम से कानपुर पहुंची मॉडल, बिजनेसमैन ने दोस्तों के सामने रेप किया

पार्टी के बाद दोस्त के बंगले लेकर गया था.

वेटनरी डॉक्टर गैंगरेप जैसा मामला फिर, पुलिया के नीचे नग्न हालत में महिला की लाश मिली

सिर कुचला हुआ, शरीर पर सोने के गहने सही-सलामत.

बॉक्सिंग टूर्नामेंट के लिए कोलकाता जा रही स्टूडेंट का उसी के कोच ने ट्रेन में रेप किया

ट्रेनर को पुलिस ने सोनीपत से गिरफ्तार कर लिया है.

सौम्या हत्याकांड: जब एक पत्रकार लड़की के मर्डर का राज़ दूसरी लड़की से मर्डर से खुला

दिल्ली के पॉश इलाके में क्रूर हत्या को अंजाम देने वाला एक बार फिर पकड़ा गया है.

इंटरनेट के ज़रिए डेटिंग पार्टनर या दूल्हा खोज रही हैं तो इन लड़कियों की कहानी पढ़िए

आपका वो हाल न हो, जो इनका हुआ.