Submit your post

Follow Us

चित्रकूट में 200 रुपये के बदले गरीब नाबालिग लड़कियों का बलात्कार हो रहा है

उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके में है चित्रकूट. ये दिल्ली से लगभग 700 किलोमीटर दूर है. यहां गरीब परिवारोंं की छोटी बच्चियों से अवैध खदानों में मजदूरी कराई जा रही है. यही नहीं, उनका यौन शोषण और बलात्कार भी किया जा रहा है.

‘इंडिया टुडे’ की पत्रकार मौसमी सिंह की रिपोर्ट के अनुसार, यहां पर 12 से 14 साल की बच्चियां अवैध खदानों में काम करने को मजबूर हैं. उन्हें ठेकेदार और बिचौलिये काम देने के नाम पर बुलाते हैं. 300-400 रुपए दिहाड़ी देने की बात कहते हैं. लेकिन साथ में शर्त रख देते हैं. कि उन्हें अपना शरीर भी बेचना होगा. इस तरह ये नाबालिग बच्चियां लगातार रेप का शिकार हो रही हैं.

Into 2
बातचीत में वहां की लड़कियों ने बताया कि मना करने पर उन्हें धमकाया जाता है. (तस्वीर: इंडिया टुडे)

कार्वी गांव की एक लड़की ने बताया,

“हम मजबूर हैं, हमें हां करनी पड़ती है. वो हमें काम देते हैं, हमारा शोषण करते हैं, और हमारी दिहाड़ी भी पूरी नहीं देते. जब हम शारीरिक संबंध बनाने की उनकी मांग को नकार देते हैं, तो वो हमें धमकी देते हैं कि काम नहीं देंगे. अगर हमें काम नहीं मिला तो हम खायेंगे क्या? हम हारकर उनकी शर्तें मान लेते हैं.”

कारवी गांव की ही एक और लड़की ने बताया,

“ठेकेदारों ने खदानों के पास के टीले के पीछे बिस्तर लगा रखे हैं. वो हमें वहां ले जाते हैं, और बारी-बारी से हमारा यौन शोषण करते हैं. हमें वहां एक-एक करके जाना होता है. जब हम मना करते हैं, तो वो हमें पीटते हैं. दर्द होता है, लेकिन सह लेते हैं. हम और कर भी क्या सकते हैं. दुख़ होता है. फिर मरने का या यहां से भाग जाने का सोचते हैं.”

दफई गांव की एक और लड़की ने बताया कि ये ठेकेदार अपना असली नाम उन लड़कियों को नहीं बताते. उसकी मां ने बताया कि कभी डेढ़ सौ तो कभी दो सौ रुपए देकर टरका दिया जाता है. जब बच्चे घर आते हैं तो अपना दुखड़ा बताते हैं. लेकिन वो लोग कुछ कर नहीं सकते. मजदूर हैं. परिवार का पेट भी तो भरना है. लड़की के पिता बीमार हैं, उनका इलाज भी करवाना है. उसने बताया,

“अगर हम बिना मेकअप किए खदानों में काम करने जाते हैं, तो ठेकेदार हमसे पूछते हैं कि हम अपनी दिहाड़ी के साथ क्या करते हैं. सौ रुपए में कोई क्या ही कर लेगा. हम मार्केट से कुछ चूड़ियां खरीद लेते हैं. अगर कोई वो नहीं पहनता, तो वो लोग पूछते हैं कि हम अपना पैसा कहां खर्च कर रहे है.”

मामला सामने आने के बाद चित्रकूट के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट शेषमणि पांडे ने जांच के आदेश दिए हैं.

उत्तर प्रदेश कमीशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट्स के चेयरपर्सन डॉक्टर विशेष गुप्ता ने कहा कि इस मामले का संज्ञान लिया गया है और जांच के लिए टीम भेजी जाएगी.

चित्रकूट के ASP आर एस पांडे ने कहा कि उन्हें इस तरह की किसी घटना के बारे में कोई जानकारी नहीं है. कहा कि वे और उनकी टीम पूरी तरह सजग हैं. गांव के गार्ड्स को नज़र रखने की हिदायत दी है कि वो गांव में हो रही हर घटना को रिपोर्ट करें.


वीडियो: कानपुर से फरीदाबाद कैसे पहुंचा विकास दुबे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

लॉकडाउन में जब आप शौक पूरे कर रहे थे, आपकी मां क्या कर रही थीं?

उनसे पूछ कर देखा?

आर्मी की महिला अफ़सरों को उनका अधिकार देने में भारत सरकार और देर करने वाली है?

परमानेंट कमीशन की 17 साल लम्बी लड़ाई, जिसमें सरकार की कोर्ट में कुछ नहीं चली.

डायरेक्टर गौरी शिंदे, जिनकी फिल्म में 'शशि' को देखकर लोगों को अपनी मां याद आ गईं

और 'इंग्लिश-विंग्लिश' देखकर कई भ्रम टूटे.

सिंधु को हराकर ओलंपिक गोल्ड जीतने वाली कैरोलीन मारीन ने दिल छू लेने वाला काम किया है

स्पैनिश बैडमिंटन स्टार हैं कैरोलीना मारीन.

जब सरोज खान ने गाने की एक लाइन पर 16 एक्सप्रेशन दिए और डायरेक्टर भौंचक रह गईं

कहानी निर्मला नागपाल के सरोज खान और फिर एक आइकन बनने की

हिमाचल के इस गांव के हर घर की महिला पर पुलिस केस क्यों दर्ज है?

काज़ा गांव में रहने वाली महिलाओं ने ऐसा क्या कर दिया था?

घिनौनी मानसिकता! प्रोड्यूसर को लड़की की शक्ल वाला कहकर ज़लील किया गया

कुछ लोग मज़ाक उड़ाते थे, कुछ लोग ब्लैकमेल तक करते थे.

सैकड़ों महिलाओं को बच्चे पैदा करने से रोक रहा है चीन?

जबरन कराई जा रही नसबंदी, कराए जा रहे गर्भपात.

पाकिस्तान को मिली पहली महिला लेफ्टिनेंट जनरल, भारत में सबसे पहले ये पद किस महिला को मिला?

कौन हैं डॉक्टर निगार जौहर?

कौन थीं मार्शा पी. जॉनसन, जिनके लिए गूगल ने आज डूडल बनाया है

बेहद खास वजह से इनका नाम बड़ी इज्जत से लिया जाता है.