Submit your post

Follow Us

'कोरोना' चिल्लाकर लड़की पर थूकने वाले को पुलिस ने धर लिया है

22 मार्च को दिल्ली के विजयनगर में मणिपुर की एक लड़की के ऊपर किसी ने पान की पीक थूकी. और कोरोना चिल्लाया. मामला सोशल मीडिया में काफी उछला. अब पुलिस ने उस आदमी को पकड़ लिया है जिसने कथित तौर पर ये काम किया था.

आरोपी मॉडल टाउन, दिल्ली में ही गुड़मंडी के पास रहता है. उम्र चालीस साल है. शादीशुदा है, और दो बच्चों का बाप है. एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करता है.

कैसे पकड़ाया अपराधी?

शिकायत आने के बाद मुख़र्जी नगर थाने में पुलिस ने IPC की धारा 509 (किसी महिला को अपमानित करने के उद्देश्य से किया गया कोई काम) के तहत मामला दर्ज किया. उसके बाद जिस इलाके की घटना थी, वहां आस-पास के CCTV फुटेज देखने शुरू किए. आरोपी सफ़ेद स्कूटी चला रहा था, ये बात लड़की ने बताई थी. इसके आधार पर पुलिस ने फुटेज के साथ-साथ सफ़ेद स्कूटी भी आस पास के एरिया में ढूंढनी शुरू की. आखिर मार्च की 25 तारीख को आरोपी को पुलिस ने धर लिया. स्कूटी भी पुलिस ने अपने कब्जे में ले ली  है.


वीडियो: PM मोदी के लॉकडाउन के ऐलान के बाद सरकार ने क्या नियम कानून बनाए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

कोरोना लॉकडाउन: बेसहारा गरीबों पर चुटकुले बना रहे लोगों के लिए 2 मिनट का मौन

इस दौर में जिनकी अक्ल की मौत हुई है.

कोरोना: इटली में फंसे 263 भारतीयों को वापस लाने वाली कैप्टन, मोदी जिनके फैन हो गए

20 मार्च की रात पूछा गया, 'इटली जाओगी?', स्वाति ने फिर जान की बाज़ी लगा दी.

हवाई जहाज के स्टाफ में थी, मोहल्ले वालों ने झुट्ठै फैला दिया कि कोरोना हो गया

उसके बाद मां और बेटी ने जो भेदभाव झेला, दुखी कर देगा.

‘अवेंजर्स’ फ़िल्म की एक्ट्रेस पूरी दुनिया में कोरोना वायरस फैलाने के इंतज़ाम में लगी हैं

इनकी बातें सुनकर तो यही लग रहा है.

कोरोना वायरस से जूझ रहे केरल से आया ये वीडियो देखकर आपके दिल को सुकून मिलेगा

सोशल मीडिया पर इसके वायरल होने की वजह भी कमाल है.

किस्सा दुर्गा भाभी का, जिन्होंने भगत सिंह की 'पत्नी' बनकर उन्हें अंग्रेजों से बचा लिया

बम बनाना जानती थीं, पिस्तौल चलाने में माहिर थीं

कोरोना कहकर लड़की पर थूकने के पीछे दो सौ साल पुरानी नफरत बोल रही है

चमड़ी के रंग से लेकर आंखों के साइज तक- नस्लभेद, वो जो हमने देख कर भी नहीं देखा.

जन्मदिन विशेष: स्मृति ईरानी जैसी मजबूत महिलाओं का पॉलिटिक्स में होना क्यों जरूरी है?

क्योंकि इसी पॉलिटिक्स में संजय निरुपम जैसे लोग भी मौजूद हैं.

जस्टिस भानुमती : रात ढाई बजे कोर्ट खोलकर निर्भया के दोषियों को फांसी तक पहुंचाने वाली जज

इससे पहले भी कई महत्वपूर्ण फैसले सुना चुकी हैं.

सीमा कुशवाहाः पायल बेचकर कॉलेज की फीस भरी थी, अब निर्भया के दोषियों को फांसी तक पहुंचा दिया

असल में चर्चा एपी सिंह के बजाए इस वकील की होनी चाहिए.