Submit your post

Follow Us

औरत की हत्या कर उसके शव के साथ रेप किया, कथित रेपिस्ट बोल-सुन नहीं सकता

उत्तर प्रदेश में एक ज़िला है लखीमपुर खीरी. यहां के एक गांव से बहुत ही घिनौनी वारदात सामने आई है. 11 अक्टूबर के दिन यहां एक औरत की पहले हत्या हुई. फिर उसके शव के साथ रेप किया गया. इस मामले में पुलिस ने आरोपी आदमी को पकड़ लिया है. आरोपी का नाम गंगाराम है. वो बोल और सुन नहीं सकता. यानी मूक-बधिर है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 11 अक्टूबर की शाम को गांव के खेतों में एक औरत का शव मिला था. शव अर्धनग्न अवस्था में था. गांववालों ने पुलिस को जानकारी दी. पुलिस ने सबसे पहले शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा. जिसमें ये बात सामने आई कि औरत को गला दबाकर मारने के बाद उसका रेप भी हुआ था.

पुलिस ने मामले की जांच के लिए एक टीम बनाई. लोगों से पूछताछ की. पड़ताल की. तब पता चला कि वो औरत बैंक से पैसे निकालकर अपने घर जा रही थी. वो खेतों से गुज़र रही थी. उसी वक्त गंगाराम वहां काम कर रहा था. उसने औरत को अकेला पाकर उस पर हमला किया. उसकी साड़ी से गला घोंटा और फिर उसके शव से रेप किया.

पुलिस ने गंगाराम को पकड़ा. अब क्योंकि वो मूक-बधिर था. इसलिए पूछताछ के लिए विशेषज्ञों की टीम बनाई गई. संकेतों में उससे पूछताछ हुई. तब गंगाराम ने कुबूल किया कि उसने ही औरत को मारा है. और उसके शव का रेप किया है. गंगाराम इस वक्त पुलिस की गिरफ्त में है. उसके खिलाफ केस दर्ज हो गया है.

गंगाराम ने जो किया वो नेक्रोफीलिया है. इसका अर्थ है किसी डेड बॉडी के साथ सेक्स करना. अजीब बात है कि डेड बॉडी के साथ सेक्स करने को लेकर इंडिया में कोई अलग धारा नहीं है. इसे सेक्शन 377 यानी अप्राकृतिक संबंध मानकर सजा दी जा सकती है.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

लॉकडाउन के दौरान पुरुषों के मुकाबले ज्यादा नौकरियां खो रही हैं महिलाएं?

नई स्टडी तो यही कहती है.

दलितों के नाम पर पैसा पीट रही थी ये कंपनी, लोगों ने आईना दिखा दिया

इसके बाद से माफ़ी मांगने का दौर जारी है.

क्या ये वेबसाइट, गे मैरिज अरेंज कराने के नाम पर समलैंगिकों को ठग रही है!

इस साइट के पीछे क्या चल रहा है? सीईओ ने हमें कोई जवाब नहीं दिया.

क्या जान-बूझकर तोड़ी गईं इस एथलीट की टोक्यो ओलंपिक की उम्मीदें?

दो साल बाद डोपिंग का केस बंद हुआ.

वीडियो कॉल के दौरान एक ट्रिक आपको घरेलू हिंसा से बचा सकती है

वायरल है ये तरीका.

आज जान लीजिए, सिर्फ़ औरतों को नहीं, इन लोगों को भी पीरियड होते हैं

मासिक धर्म से किसी का औरत होना डिसाइड नहीं होता.

बिहार, झारखंड और असम में कई जगह 'कोरोना माई' की पूजा क्यों की जा रही है

कई जगह से वीडियो आ रहे हैं.

इंटरनेट पर फेमिनिज्म की क्लास लगाने वाले लोग ये आर्टिकल पढ़ लें

फ्रेंडशिप एंडेड विद फेमिनिज्म, नाउ ह्यूमनिज्म इज माई बेस्ट फ्रेंड.

ये कौन सी तकनीक है जो चेहरे पर से चमड़ी की परत उतार देती है?

और इसके पीछे लोग पागल हो रहे हैं

सोशल मीडिया पर भद्दे मैसेज करने वाले इस एक्ट्रेस से थर-थर कांपते हैं!

मैसेज भेजते हैं, फिर पछताते हैं.