Submit your post

Follow Us

'CAB' का सपोर्ट करने वाले ने प्रियंका गांधी पर बेहद घटिया कमेंट किया और धरा गया

5
शेयर्स

28 दिसंबर के दिन कांग्रेस का फाउंडेशन डे होता है. इस बार पार्टी के फाउंडेशन डे पर प्रियंका गांधी लखनऊ में थीं. उन्होंने वहां कार्यकर्ताओं को संबोधित किया, फिर पूर्व IPS अधिकारी दारापुरी के परिवार से मिलने गईं. दारापुरी को CAA के खिलाफ फेसबुक पर लिखने के कारण गिरफ्तार कर लिया गया था. जब प्रियंका उनके घर के लिए रवाना हुईं, तो उन्हें पुलिस ने रोक लिया. फिर वो स्कूटी से उनके घर गईं. मुलाकात के बाद प्रियंका ने मीडिया से बात की. आरोप लगाए कि पुलिस ने उन्हें घेर लिया था और उनका गला दबाया था. हालांकि बाद में पुलिस का बयान भी आ गया था. लखनऊ सर्किल ऑफिसर डॉ. अर्चना सिंह ने कहा कि प्रियंका के साथ कोई गलत बर्ताव नहीं किया गया था.

इस पूरे मामले को हमारी टीम ने कवर किया. इस पर खबर भी पोस्ट की, हेडिंग में वही लिखा गया, जो प्रियंका ने अपने बयान में कहा था. हमने खबर की हेडिंग दी- ‘प्रियंका गांधी का UP पुलिस पर बड़ा आरोप, ‘मुझे घेरा और मेरा गला दबाया’.

हर स्टोरी की तरह इस खबर को भी हमने दी लल्लनटॉप के फेसबुक पेज पर शेयर किया. हर स्टोरी की तरह लोगों के रिएक्शन भी आए. इन सबके बीच रितेश बर्नवाल नाम के आदमी ने भी कमेंट किया. बहुत ही वाहियात, भद्दा, निचले दर्जे का कमेंट. बस एक कमेंट ने ही उसकी मानसिकता की पोल खोल दी. उसने क्या लिखा था, ये बताने लायक नहीं है.

हां, लेकिन हम ये बता सकते हैं कि उन दिग्गज भाईसाहब की प्रोफाइल कैसी दिखती थी. ‘थी’ इसलिए, क्योंकि अब उसका अकाउंट फेसबुक पर नहीं दिख रहा है. रितेश बर्नवाल ने अपने नाम के नीचे लिखा था, ‘गर्व से कहो हम हिंदू हैं’. प्रोफाइल फोटो अपनी लगा रखी थी, जिसके ऊपर लिखा था, ‘मैं CAB को सपोर्ट करता हूं’. शायद उन्हें ये नहीं पता था कि CAB अब CAA हो चुका है. चलिए इसे छोड़िये. कवर फोटो की बात करते हैं. पीएम नरेंद्र मोदी की तस्वीर को कवर फोटो बना रखा था.

Ritesh Baranwal
रितेश बर्नवाल का फेसबुक पेज. अब नहीं दिख रहा है.

गिरफ्तारी हो गई है

रितेश के कमेंट का स्क्रीनशॉट जब वायरल हुआ, तो कांग्रेस के नेताओं ने उसके खिलाफ शिकायत की. पुलिस ने उसके खिलाफ IPC की कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया. 31 दिसंबर की शाम उसे हिरासत में ले लिया गया. रितेश गोरखपुर का रहने वाला है. इस वक्त पुलिस की गिरफ्त में है. पूछताछ चल रही है.

भरे पड़े हैं ऐसे लोग

खैर, रितेश का कमेंट इकलौता ऐसा कमेंट नहीं था, जो उस खबर पर आया. ऐसे लोग भरे पड़े हैं, जो उसकी तरह ही सोचते हैं और जिन्होंने उस तरह के कमेंट किए. जिन्हें लगता है कि किसी का विरोध करना है, तो उस पर भद्दे कमेंट कर दो. खासतौर पर अगर किसी औरत का विरोध करना हो, तो ज्यादातर लोग उसकी देह, उसके रंग को ही टारगेट करते हैं. ऐसे लोगों के लिए औरतें आसान टारगेट हो जाती हैं.

पॉलिटिक्स में औरतों की संख्या आदमियों के मुकाबले बेहद कम हैं. फिर अगर बात फेमस चेहरों की हो, तो वो संख्या और भी कम है. ऐसे में अगर कोई महिला राजनेता किसी तरह का कोई बयान देती है, किसी तरह का एक्शन लेती है, तो उसे टारगेट करना लोगों को आसान लगता है.

कल्पना कीजिए कि अगर प्रियंका की जगह राहुल गांधी होते या वो इस तरह का बयान देते, तो क्या उनके लिए उनके शरीर से जुड़ा कोई कमेंट आता? नहीं आता. उन्हें उनकी राजनीतिक क्षमता को लेकर टारगेट किया जाता, जो समय-समय पर किया जाता रहा है.

सवाल ये है कि किसी महिला राजनेता को टारगेट करने के लिए उसके शरीर पर कमेंट क्यों होता है? उसके काम पर, उसकी राजनीतिक क्षमता पर बात क्यों नहीं की जाती? अगर ऐसा किया जाएगा, तो बेहतर होगा.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

चार बेटियों से यौन शोषण के आरोप में पिता गिरफ्तार

बेटी ने टीचर को बताया फिर मामले का पता चला.

तीसरी बार भी बेटी न हो जाए, इस डर से प्रेगनेंट बीवी को मारकर टुकड़े कर डाले

पुलिस से कहता रहा कि पत्नी लापता है, बड़ी बेटी ने सच्चाई बताई.

भारत में खेलों का ये हाल है कि 29 कोचों पर यौन शोषण के आरोप लगे हैं

जबकि कई लड़कियां डर के मारे शिकायत वापस भी ले लेती हैं

सुपरमॉडल को अश्लील तस्वीरों में टैग कर झूठी न्यूज़ फैलाता था, अब भुगत रहा है

नताशा सूरी ने ऐसा सबक सिखाया कि खुद को गायब कर लिया.

बीवी पर शक था कि उसके अपने पिता के साथ सम्बन्ध हैं, तेज़ाब फेंक कर भाग निकला!

गुजरात के नडियाद की खबर.

19 साल की लड़की गायब हुई, गुजरात पुलिस बोली 'सुरक्षित है', आखिर में पेड़ से लटकी लाश मिली

दलित सुमदाय से आने वाला ये परिवार बेटी के लिए भटकता रहा और पुलिस सोती रही.

नशे में धुत्त पुलिसवाले ने मोहल्ले की बच्ची से रेप करने की कोशिश की

पुलिसवाले की पहले गिरफ्तारी हुई थी. अब बर्खास्त भी हो गया.

तेलंगाना: सरकारी कॉलेज में तीन लड़कियां प्रेगनेंट हो गईं, जांच हुई तो डराने वाला राज़ खुला

अंडरग्रेजुएशन की लड़कियां हैं.

8 साल पहले अपहरण हुआ, बार-बार बिकी, प्रेगनेंट हुई: मौत से बचती लड़की की कहानी

कभी 20 हजार में, तो कभी 1.5 लाख रुपये में बेची गई.

रांची की 'निर्भया' के दोषी को तीन साल के अंदर सुनायी फांसी की सजा

आरोपी की मां का DNA मैच हुआ, तब गिरफ्तारी हुई.