Submit your post

Follow Us

एकतरफा प्यार में महिला पुलिसकर्मी के भाई की हत्या कराने वाले पूर्व इंस्पेक्टर को उम्रकैद

23 मई 2013. लखनऊ में 14 साल के एक लड़के की गोली मारकर हत्या कर दी गई. लड़के का नाम था- माज़ अहमद. अब लखनऊ की एक लोकल कोर्ट ने इस मामले में एक इंस्पेक्टर समेत सात लोगों को दोषी पाया है. इन सात लोगों में संजय राय, रामबाबू उर्फ छोटू, अजीत उर्फ सिंटू, संदीप राय, राकेश सोनी, सुनील कुमार उर्फ राहुल राय को सजा सुनाई है.

# पूरा मामला क्या है ?

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, माज़ जिस महिला पुलिस का चचेरा भाई था, वो महिला गाज़ीपुर पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर संजय राय की दोस्त थी. संजय राय शादीशुदा था, लेकिन वो महिला पुलिसवाली से प्यार करता था. लेकिन महिला अपने पड़ोस में रह रहे युवक को पसंद करती थी. अब ये बात संजय को चुभ रही थी. इसी बात का बदला लेने के लिए उसने महिला पुलिस के परिवार की हत्या करने का प्लान बनाया. और सारा आरोपी पड़ोस के उस युवक पर डालने का सोचा, जिससे महिला की दोस्ती थी. राय को लगा कि वो केस को सॉल्व करने के बहाने महिला के समीप आ सकेगा. पर उल्टा हो गया.

पुलिस ने जांच में पाया कि संजय ने संदीप से संपर्क किया.संदीप एक गैंगेस्टर है, जो आज़मगढ़ जेल में बंद है. उसकी मदद से संजय ने तीन शूटर को हायर किया. उनके नाम थे- अजीत राय, राहुल राय और अजीत यादव. संजय के हाउस मेड राम बाबू ने उन शूटर के रहने का इंतजाम किया. लखनऊ में ही. वहीं सुनील ने राकेश की मदद से आग लगाने के सामानों का बंदोबस्त किया.

महिला अपने परिवार के साथ इंदिरानगर के फरीदनगर में रहती थी. यहां उसकी मां, दो भाई और एक चचेरा भाई साथ रहते थे. 29 मई, 2013 को तीनों शूटर उसके घर में गए. दरवाजा खटखटाया.  महिला के भाई ने दरवाजा खोला. तीनों ने अंदर घुसते ही टीवी देख रहे माज़ अहमद पर गोली चला दी. तीन गोली लगने से माज़ की मौत हो गई. इसके बाद पुलिस केस हुआ.  पुलिस पर भी दबाव था कि वो इस केस को जल्द से जल्द सॉल्व करे.

9, जून, 2013 को पुलिस ने शूटर अजीत और राहुल को अरेस्ट कर लिया. पुलिस ने जब उनके फोन रिकॉर्ड्स को खंगाला तो मालूम हुआ कि वो संदीप के जरिए संजय राय के संपर्क में था. इसके बाद संजय अंडरग्राउंड हो गया.

27 जून, 2013 को पुलिस ने संजय राय पर एक ईनामी राशि की घोषणा की. 9 जुलाई को उसे नौकरी से बर्खास्त भी कर दिया गया. और ठीक 6 दिन बाद संजय राय ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया.

राय के अलावा, राम बाबू, जो संजय के यहां काम करता था, अजीत राय, राहुल राय, संदीप राय, सुनील सैनी, राकेश सोनी और अजीत यादव को दोषी पाते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई, लेकिन अजीत यादव फरार है.

साथ ही अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश स्वपना सिंह ने संजय राय, राम बाबू, अजीत राय, संदीप राय और राकेश सोनी पर 25 हज़ार रुपये और सुनील कुमार सैनी और राहुल राय पर 30 हज़ार रुपये का जुर्माना लगाया है.


वीडियो देखें : महाराष्ट्र: सोलापुर से भाजपा सांसद का जाति प्रमाण पत्र निकला फर्जी, अब आगे क्या?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

कौन हैं ये पुष्पम प्रिया चौधरी जो बिहार की अगली CM बनने का दम भर रही हैं?

अखबार में इनकी नई पार्टी के पूरे-पूरे पन्नों के ऐड भी छपे हैं.

महिला दिवस पर इन सात महिलाओं ने चलाए पीएम मोदी के सोशल मीडिया अकाउंट

कोई बम धमाकों में बचीं तो कोई भूखों को खिलाती हैं खाना.

जानिए उन 16 महिलाओं की कहानी जिन्हें सरकार ने नारी शक्ति पुरस्कार दिया है

किसी को 'लेडी टार्जन' तो किसी को 'चंडीगढ़ का चमत्कार' कहा जाता है.

'दुनिया की बेस्ट मम्मी' का खिताब पाने वाले ये पापा कौन हैं?

आदित्य तिवारी की कहानी, जिन्होंने डाउन सिंड्रोम वाले बच्चे को गोद लेकर इतिहास रच दिया.

वो राजकुमारी जिनकी वजह से AIIMS में हम और आप अपना इलाज करवा पाते हैं

राजकुमारी अमृत कौर को Time मैगज़ीन ने 1947 के लिए वुमन ऑफ द ईयर चुना है.

कौन हैं नवनीत कौर राणा, वो सांसद जो लोकसभा में मास्क पहने दिखाई दीं?

इनके पति भी विधायक हैं.

रेलवे स्टेशन पर सामान ढोती इन महिलाओं की तस्वीर में दिक्कत क्या है?

रेल मंत्रालय ने ट्वीट कर इन तस्वीरों की तारीफ़ की है.

सत्ता में आने के बाद से अब तक PM मोदी महिला दिवस पर ये पांच चीज़ें कर चुके हैं

इस बार तो सोशल मीडिया अकाउंट महिलाओं को दे रहे हैं.

इस गाने में आलिया भट्ट, अनुष्का शर्मा, कटरीना कैफ़ सब हैं, लेकिन सबसे ख़ास बात ये है

'कुड़ी नू नचन दे' गाने में एक ऐसी चीज़ है, जो ज्यादातर गानों में नहीं मिलती.

इस बड़ी टीवी एक्ट्रेस ने बताया, 16 साल की उम्र में कास्टिंग काउच का कैसे किया सामना

मां से इंडस्ट्री छोड़ने की बात कही थी.