Submit your post

Follow Us

बहन के प्रेमी को लिंच करने वाले निर्मम हत्यारों से मिलिए

औरत की तरफ़ से अक्सर आदमी फ़ैसला लेता है. ये मान लिया जाता है कि इस फ़ैसले में औरत का फ़ैसला भी शामिल ही होगा. आदमी हमेशा से तय करता आया है कि औरत के लिए क्या अच्छा होगा. औरत का प्रेम भी आदमी ही तय करता है. पंजाब के गुरदासपुर में भाइयों ने अपनी बहन के लिए बहुत कुछ तय किया था. और जब सबकुछ वैसा नहीं हुआ जैसा तय था तो  उन लोगों ने हत्या कर दी. उस लड़के की हत्या जो उनकी बहन से प्यार करता था. जिससे उनकी बहन प्यार करती थी.

# हुआ क्या

यूसुफ मसीह उर्फ लक्की गुरदासपुर के तुंग का रहने वाला था.यूसुफ टाइल बनाने वाले एक भट्ठे में काम करता था. रीना (बदला हुआ नाम) भी इसी गांव की है. दोनों एक दूसरे के पड़ोसी थे. दो साल पहले दोनों में प्यार हुआ. लेकिन रीना के घरवाले इस रिश्ते के कतई ख़िलाफ़ थे. रीना के लाख कहने के बावजूद परिवार यूसुफ के साथ रिश्ते के लिए तैयार नहीं था. लेकिन रीना और यूसुफ घरवालों से छिपकर मिलते रहे.

इसी तरह दोनों गुज़रे शनिवार यानी 24 अगस्त को भी मिली. यूसुफ रीना से मिलने के लिए उसके घर गया. घरवालों को दोनों के मिलने की आहट मिल गई. लड़की के भाइयों ने यूसुफ को पकड़कर पीटना शुरू किया. रात भर पीटते रहे. लोग बता रहे हैं कि गांव वालों ने शोर सुनकर रीना के भाइयों और दोस्तों को रोकने की भी कोशिश की. लेकिन उन्हें भी धमकाकर वापस भेज दिया गया. सुबह तक यूसुफ की मौत हो चुकी थी. गांववालों ने पुलिस को ख़बर की. पुलिस ने आकर लड़की के घर से यूसुफ की लाश बरामद की. लड़की और उसकी मां को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया. दोनों पर हत्या का केस दर्ज किया गया है. लड़की के भाई और उसके साथी फ़रार हैं.

# लड़के के घरवाले कुछ और कह रहे हैं

यूसुफ के घरवाले इस बात को नहीं मान रहे कि यूसुफ रात को रीना से मिलने गया था. यूसुफ के घरवालों ने पुलिस में जो शिकायत दर्ज कराई है उसमें अपहरण और हत्या का मामला है. उनका कहना है-

शनिवार 24 अगस्त को दोपहर तीन बजे गांव वरसोला में मेला देखने जा रहे यूसुफ को हरदोछन्नी बाईपास से किडनैप किया गया. इसके बाद आरोपित उसे अपने घर ले आए. देर रात तेजधार हथियारों से उस पर हमला कर दिया. रात एक बजे तक यूसुफ के चिल्लाने की आवाज सुनकर गांव के लोग पहुंचे तो आरोपितों ने हथियार दिखाकर उन्हें भगा दिया. रात को ही जब आरोपित शव को ठिकाने लगाने की योजना बना रहे थे तो किसी ने पुलिस को सूचित कर दिया.

# दो महीने पहले घर से भागे थे दोनों

दो महीने पहले यूसुफ और रीना घर से भागकर श्रीनगर चले गए थे. तब भी लड़की का परिवार ही इन्हें श्रीनगर से ढूंढ़कर वापस लाया था. लड़की के परिवार ने मामला पंचायत में उठाया था. पंचायत में लड़की के परिवार ने कहा था कि यूसुफ को छह महीने के लिए गांव से बाहर भेज दिया जाए. इस बीच वे लड़की की शादी कहीं दूसरी जगह करवा देंगे. पंचायत में समझौता हुआ. समझौते के बाद यूसुफ का परिवार गांव छोड़कर गुरदासपुर के प्रेम नगर में किराए के एक मकान में रहने लगा. परिवार ने गांव तो छोड़ दिया, लेकिन यूसुफ और रीना का प्रेम प्रसंग पहले ही तरह चलता रहा.

# पुलिस का क्या कहना है

थाना सदर प्रभारी मक्खन सिंह ने स्थानीय मीडिया को बताया कि आरोपितों के घर के एक कमरे से यूसुफ का शव बरामद हुआ है. लड़की और उसकी मां को गिरफ्तार कर लिया है. लड़की के भाई और एक अन्य आरोपित फरार हैं. सभी आरोपितों पर हत्या का केस दर्ज किया गया है.


 

वीडियो: क्या सच में रुपये को पीछे छोड़ बांग्लादेशी टका आगे निकल गया है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

'हराम की बोटी' कहकर लड़कियों के प्राइवेट पार्ट को काटा और सिल दिया जाता है

सोमालिया में लड़कियों के ख़तने के मामले लॉकडाउन के दौरान बढ़ गए हैं.

जिस महिला की बालकनी से बीजेपी नेता कूदे थे, उसे गिड़गिड़ाता देख स्वाद लिया जा रहा है

'गर्लफ्रेंड' कहला रही महिला रो रही है, वीडियो में अपशब्द सह रही है.

लड़की की हत्या पर लोगों ने दुख जताया, डोनेशन दिए, फिर ऐसा क्या हुआ कि वापस लेने लगे?

आया हाशेम को बाज़ार में गोली मार दी गई थी.

पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था जिन दो महिलाओं को उम्मीद से देख रही है, वो कौन हैं?

दुनिया में पैसों के मामले में टॉप पदों पर हैं कारमेन रेनहार्ट और गीता गोपीनाथ.

18 महीने बंधक बना कर रखी गई लड़की अपने देश लौटी तो उसे 'आतंकवादी' कह दिया गया

इस्लाम अपनाने का खामियाज़ा भुगत रही लड़की की कहानी.

अब भारत को ओलंपिक मेडल दिलाएगी, साइकल पर पिता को बिठाकर गुरुग्राम से दरभंगा आने वाली ज्योति?

सात दिन में 1200 किलोमीटर नाप गई थी ज्योति.

अज़ान के वक़्त मस्जिद में न जा सकीं, अब महिलाओं को एंट्री दिलाने के लिए लड़ रही हैं

फरहा शेख ने वो घटना बताई, जिसने उन्हें याचिका डालने पर मजबूर कर दिया.

कोलकाता के लोगों और प्रशासन ने 500 नर्सों को शहर छोड़ने पर मजबूर किया

ऐसे वक़्त में, जब उनकी सबसे ज्यादा ज़रुरत है.

मृत पति की लाश लेने अस्पताल पहुंची, तो ऐसा राज खुला कि खाली हाथ ही लौट गई!

लाश लेना तो दूर, कहा- इसकी शकल भी नहीं देखना चाहती.

TikTok ने फैज़ल सिद्दीकी को ऐसी सज़ा दी कि सबकी अक्ल ठिकाने आ जाएगी

TikTok बोला- जो बात नहीं मानेगा, उसके साथ ऐसा ही होगा.