Submit your post

Follow Us

बालिग बेटी ने मर्ज़ी से शादी की, पिता-दादा 'लव-जिहाद' का नाम देने पर तुले हैं

राजस्थान का बीकानेर जिला. यहां  का बज्जू इलाका. पिछले कुछ दिनों से यहां एक अंतर धार्मिक शादी को लेकर बवाल मचा हुआ है. तमाम हिंदूवादी संगठन और लड़की के घरवाले इसे ‘लव जिहाद’ (Love Jihad) बता रहे हैं. लड़की के परिजनों ने तो एक वीडियो जारी कर न्याय ना मिलने पर आत्महत्या तक की बात कह डाली है. दूसरी तरफ लड़की का कहना है कि उसने अपनी मर्जी से शादी की है. लड़की ने भी जान से मारने की धमकी मिलने की बात कही है. पुलिस भी इसे ‘लव जिहाद’ का मामला नहीं मान रही है.

क्या है मामला?

इस अंतर धार्मिक शादी का सर्टिफिकेट भी सोशल मीडिया पर तैर रहा है. इस सर्टिफिकेट के अनुसार पति का नाम मुकतीयार खां और पत्नी का नाम मनीषा डूडी बताया है. दोनों ने बीकानेर के एफसीआई गोदाम के पास स्थित बंगला नगर में 10 दिसंबर 2020 को शादी की. पति की उम्र 22 साल और पत्नी की 18 वर्ष है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार मुकतीयार और मनीषा के परिवार के घनिष्ठ संबंध थे. दोनों के पिता बिजनेस पार्टनर भी रह चुके हैं. मुकतीयार का मनीषा के घर आना जाना था. इसी दौरान दोनों करीब आए और फिर शादी करने का निर्णय लिया.

दूसरी तरफ इस शादी के बाद से मनीषा के परिवारवाले उससे नाराज हो गए. खासकर उसके पिता और दादा. दोनों का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस वीडियो में दोनों ने मुकतीयार के ऊपर मनीषा को किडनैप करने का आरोप लगाया है. साथ ही इसे ‘लव जिहाद’ का मामला बताते हुए दोनों ने अपने समाज के लोगों से मदद करने की अपील की है.

बीकानेर में कथित love-jihad के मामले के बीच लड़का और लड़की की कोर्ट मैरिज का सर्टिफिकेट सामने आया है.
बीकानेर में कथित love-jihad के मामले के बीच लड़का और लड़की की कोर्ट मैरिज का सर्टिफिकेट सामने आया है.

मनीषा के पिता और दादा ने यह भी कहा कि लड़के की तरफ से उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही है. इस वीडियो में मनीषा के पिता सत्य नारायण डूडी और दादा हरी राम जाट रोते हुए भी नजर आ रहे हैं. इस दौरान मनीषा को अपनी इज्जत बताने पर उनका खास जोर है.

वीडियो में मनीषा के दादा और पिता कहते हैं-

“वे हमारी बेटी को साजिश करके ले गए. हमारे घर से उन्होंने मनीषा को किडनैप किया. अगर दो-तीन दिन में न्याय नहीं मिला तो हम आत्महत्या कर लेंगे. हिंदू समाज, जाट समाज और सर्व समाज से अपील है कि हमें न्याय दिलाएं. मनीषा हमारी इज्जत है. हमारी बेटी को किडनैप करने के बाद उन्होंने कहा कि तुम कुछ नहीं कर पाओगे. तुम्हारा हिंदू समाज कुछ नहीं कर पाएगा.”

दूसरी तरफ मनीषा डूडी ने अपने परिवार के इन दावों को झूठा बताया है. मनीषा ने उल्टा उसे और उसके पति को जान से मारने की धमकी मिलने की बात कही है. मनीषा का कहना है कि उसने अपनी मर्जी से कोर्ट में शादी की है और धर्म परिवर्तन भी नहीं किया. हां, उसके पति ने जरूर किया. मनीषा ने भी यह सब बातें एक वीडियो जारी करके कहीं.

वीडियो में मनीषा ने कहा-

“मैंने कोई जोर जबरदस्ती से शादी नहीं की है. ना ही मैंने धर्म परिवर्तन किया है. मेरे परिवार वाले झूठे वीडियो बना रहे हैं. मुझे किडनैप भी नहीं किया है. मैंने और मेरे पति ने थाने में एक दूसरे के लिए बयान दिए हैं और एसपी साहिबा को अपनी शादी के डाक्यूमेंट्स भी दिखाए हैं. यह कोई ‘लव जिहाद’ नहीं है.”

मनीषा ने अपील की है कि उसके प्रेम के नाम पर राजनीति न की जाए.

पुलिस ने ‘लव जिहाद’ पर क्या कहा?

इस मामले में हमने बीकानेर की एसपी प्रीती चंद्र से बात की. उन्होंने हमें बताया कि यह मामला ‘लव जिहाद’ का नहीं है. उन्होंने कहा-

“लड़का और लड़की बालिग हैं. दोनों ने अपनी मर्जी से शादी की है. दोनों ने मुझे अपनी शादी का सर्टिफिकेट भी दिखाया है. इसमें कहीं भी ‘लव जिहाद’ नहीं है. हम मामले पर नजर रखे हुए हैं.”

यह पूछने पर कि क्या लड़की के परिवार से पुलिस को कोई शिकायत मिली है, बीकानेर एसपी ने बताया कि अभी तक ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली है और जो हो रहा है, वो सोशल मीडिया पर ही हो रहा है. लड़की के पिता और दादा आत्महत्या करने की धमकी देने को लेकर भी प्रीती चंद्र ने कहा कि पुलिस अपनी नजर बनाए हुए है और फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है.

यह पूछने पर कि लड़की ने जान से मारने की धमकी मिलने की बात कही है, क्या पुलिस ने उसे और उसके पति को कोई सुरक्षा प्रदान की है, प्रीति चंद्र ने बताया,  “अभी तक लड़की ने इस संबंध में उनसे बात नहीं की है. लड़की के पास हमारा कॉन्टैक्ट नंबर है, अगर वह हमसे संपर्क करेंगी तो हम आगे की कार्रवाई करेंगे.”

राजनीति भी हो रही है

इस मामले को लेकर हिंदूवादी संगठनों द्वारा राजनीति भी हो रही है. इसमें बीजेपी सांसद भी कूद पड़े हैं. कथित तौर पर पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की मांग कर रहे हैं. सभी के निशाने पर राजस्थान की गहलोत सरकार है.

बाड़मेर से बीजेपी सांसद और केंद्र सरकार में मंत्री कैलाश चौधरी ने ट्वीट करते हुए कहा कि बेटी चाहे किसी भी धर्म में जन्मी हो, हमारी बेटियां हमारे लिए गौरव और इज्जत हैं. राजस्थान सरकार को बीकानेर में हुए ‘लव जिहाद’ की निष्पक्ष जांच करानी चाहिए और भविष्य में इस तरह के घिनौने कामों को पहले ही रोका जा सके, इसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार की तर्ज पर ‘लव जिहाद’ कानून बनाना चाहिए.

दूसरी तरफ प्रदेश की कांग्रेस सरकार की तरफ से अभी तक इस मामले पर कोई बयान नहीं आया है. हालांकि, ‘लव जिहाद’ कानून को लेकर कांग्रेस सरकार का रुख पहले से ही साफ है. प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस कानून को समाज को बाटने के लिए बीजेपी की साजिश बताते रहे हैं.


वीडियो-योगी सरकार ने कोर्ट में माना, नहीं मिला ‘लव जिहाद’ का कोई सबूत

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

ये कौन सा ट्रेंड है जिसमें गोरी लड़कियां काली दिखने के लिए सौ उपाय कर रही हैं

जिसके लिए किम कार्दाशियन तक ट्रोल हो रही हैं.

लड़कियों को 15 की उम्र में 'प्रजनन' लायक मानने वाले सज्जन सिंह को डॉक्टर-वकील का जवाब

शिवराज का विरोध करने के चक्कर में कांग्रेस नेता लॉजिक बेच आए.

अमिताभ की नातिन नव्या लड़कों की इस आदत से परेशान हैं, कहीं आप तो ये नहीं करते?

अगर करते हैं तो लड़कियां आपको भी मूर्ख समझती हैं.

शिवराज जी, लड़कियों का पीछा करने के लिए मनचले ही बहुत हैं, पुलिस की ज़रुरत नहीं

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया पर अपना काफ़ी मज़ाक उड़वा लिया है.

अगर पति नशेड़ी हो तो क्या पत्नी को मिल जाएगा उसकी प्रॉपर्टी का ज़िम्मा?

ऐसा ही मसला लेकर कोर्ट पहुंची थीं पूर्व सांसद राजकुमारी रत्ना सिंह.

शादी की जल्दी मची है तो ये गलती बिलकुल न करें, इस लड़की जैसा हाल न हो!

दिल तो टूटेगा ही, बैंक अकाउंट भी खाली हो जाएगा.

भारत में ट्रांसजेंडर लोगों के चुनावी अधिकार क्या हैं?

जानिए वोटिंग से लेकर उम्मीदवारी तक क्या-क्या दिक्कतें हैं?

शिवाजी को छत्रपति बनाने वाली साहसी औरत की कहानी

जीजाबाई, जिन पर काफी कुछ लिखा जाना अभी बाकी है.

डॉनल्ड ट्रंप का ट्विटर अकाउंट सस्पेंड करने वाली विजया गड्डे कौन हैं?

हैदराबाद में जन्मीं विजया गड्डे ट्विटर में नंबर 2 मानी जाती हैं...

सरकार को लपेटते वक़्त चीफ़ जस्टिस बोबडे भूल गए कि किसानों में महिलाएं भी होती हैं?

कम से कम कोर्ट में इस तरह की बात नहीं कही जानी चाहिए.