Submit your post

Follow Us

महिला डॉक्टर का आरोप, पेशेंट ने यौन शोषण किया, झुंड बनाकर हमला किया

14 अप्रैल को लोक नायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल (LNJP), दिल्ली की एक डॉक्टर कथित रूप से गालियों और यौन शोषण की शिकार हुई. जब इसका विरोध किया गया, तो गालियां देने वाले पेशेंट ने बाकी पेशेंट्स को इकठ्ठा कर मेडिकल स्टाफ को धमकाना शुरू कर दिया.

इस पूरे मामले पर मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज के रेजिडेंट्स डॉक्टर एसोसिएशन ने चिट्ठी लिखी. LNJP के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर जे सी पासी को. चिट्ठी में उन्होंने लिखा,

लोक नायक अस्पताल के सर्जिकल ब्लाक के वार्ड 5A में शाम 5:20 पर ये घटना हुई. एक पेशेंट ने वहां ड्यूटी पर तैनात महिला डॉक्टर को गालियां देना और अश्लील बातें कहना शुरू कर दिया. जब उनके साथ मौजूद डॉक्टर ने इस बात का विरोध किया, तो बाकी पेशेंट्स इकठ्ठा होकर मेडिकल स्टाफ को धमकाने लगे.  ऐसे में हेल्थकेयर वर्कर्स और स्टाफ ड्यूटी रूम में जाकर छिप गए. वहीं पेशेंट्स की भीड़ उस रूम का दरवाज़ा तोड़ने की कोशिश करती रही.

चिठ्ठी में आरोप लगाए गए हैं कि

1. जब फ्लोर इंचार्ज से संपर्क करने की कोशिश की गई, तो उन्होंने कोई एक्शन नहीं लिया. सिर्फ ड्यूटी रूम में बंद डॉक्टरों को निर्देश दिए. सिक्योरिटी भेजने का भी कोई इंतजाम नहीं किया.

2. जिस चीफ मेडिकल ऑफिसर की ड्यूटी थी,  उन्होंने भी डॉक्टर्स के कॉल नहीं उठाए और मामला सिक्योरिटी को बढ़ा दिया.

3. ड्यूटी पर मौजूद सिक्योरिटी ऑफिसर ने भी रेजिडेंट डॉक्टर्स का साथ नहीं दिया.

4. सर्जिकल ब्लॉक में जो सिक्योरिटी गार्ड और पुलिस ऑफिसर मौजूद थे, उन्होंने भी पांचवे फ्लोर के अलार्म्स को नज़रंदाज़ कर दिया.

5. जो मार्शल्स और गार्ड्स मौजूद थे, उनको PPE (पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट) सप्लाई  किए गए थे. लेकिन उनके पास वो मौजूद नहीं थे. जब डॉक्टरों ने उन्हें PPE दिए तब जाकर वो वार्ड में आए.

एसोसिएशन ने मांग की है कि जिस पेशेंट ने गालियां दी थीं और अश्लील बातें कही थीं, उसके खिलाफ FIR दर्ज की जाए. सभी COVID वार्ड्स में हथियारबंद पुलिसवाले तैनात किए जाएं. जो सिक्योरिटी ऑफिसर ड्यूटी पर था, उसके खिलाफ एक्शन लिया जाए. जो फ्लोर इंचार्ज थे, उन डॉक्टर्स से लेटर ऑफ एक्सप्लेनेशन मांगा जाए कि उन्होंने एक्शन क्यों नहीं लिया. उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई भी की जाए.

Two Person Doing Surgery Inside Room 1250655
डॉक्टर्स पर अटैक की ये कोई पहली घटना नहीं है. इससे पहले सफदरजंग अस्पताल की दो महिला डॉक्टर्स पर भी बाज़ार में हमला किया गया था. ये कहकर कि वो कोरोना फैला रही हैं. (सांकेतिक तस्वीर: Pexels)

LNJP हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर जे सी पासी से बात करने की कोशिश की गई.  बताया गया कि वो अपनी सीट पर अवेलेबल नहीं हैं. उनकी तरफ से कोई भी जानकारी मिलने पर स्टोरी अपडेट कर दी जाएगी.

फेडरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स  एसोसिएशन (FORDA) ने भी स्वास्थ्य मंत्री को चिट्ठी लिखकर ये मांग की है कि COVID वॉर्ड्स में ड्यूटी कर रहे डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए.

Forda Letter 700
FORDA द्वारा लिखी गई चिट्ठी की कॉपी.

इस चिट्ठी में ये भी मांग की गई है कि जो लोग कोरोना वॉरियर्स पर हमला करते हैं, उन पर POTA (प्रिवेंशन ऑफ टेररिस्ट एक्टिविटीज) एक्ट लगाया जाए. अस्पतालों में आक्रामक मरीजों के लिए अलग से सेल बनवाए जाएं. जो डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ अपनी जान खतरे में डालकर भी ड्यूटी निभा रहे हैं, उनकी सुरक्षा का जिम्मा सरकार को उठाना चाहिए, ऐसी मांग की गई है.


वीडियो: कोलकाता में डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ में फैला कोरोना, अस्पताल बंद होने से हालात और बिगड़े

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

भारत के सबसे अमीर आदमी मुकेश अंबानी को पछाड़ने वाली ये महिला कौन हैं?

मैकेंजी बेज़ोस कौन सी रेस में आगे निकल गई हैं?

बोल-सुन नहीं सकतीं, लेकिन लॉकडाउन में लोगों की मदद कर रही हैं ये महिला

नसीमा बेगम ने फैसला लिया था कि जो उनके बस में होगा, वो करेंगी.

लॉकडाउन के बीच बॉयफ्रेंड से शादी करने ऐसे पहुंची लड़की कि जानकर मुंह खुला रह जाए

पुलिस भी इम्प्रेस है.

हैकर्स ने फोटो के साथ खिलवाड़ किया तो इस एक्ट्रेस ने लथेड़कर रख दिया

अनुपमा अक्सर सिर्फ इंडियन कपड़ों में दिखती हैं, लेकिन हैकर्स ने तस्वीरें बदल दीं.

22 साल बाद आखिर मां बनीं ये डॉक्टर, लेकिन कोरोना पेशेंट्स के लिए घर छोड़ दिया

ड्यूटी को सबसे ऊपर रखते हुए अपने जुड़वां बच्चों से वीडियो कॉल पर मिलती हैं.

छह महीने के बच्चे ने कोरोना को हराया, मां ने बताया कैसे जीती जंग

'तनाव से भरे उस वार्ड में बच्चे की हंसी राहत देती थी.'

22 दिन के बच्चे को लेकर ड्यूटी पर पहुंच गईं IAS अफसर, कोरोना के चलते मैटरनिटी लीव छोड़ दी

विशाखपटनम नगर निगम की कमिश्नर हैं सृजना गुम्मला.

97 साल की महिला कोरोना पॉज़िटिव निकलीं, फिर वो हुआ जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी

1 अप्रैल को अस्पताल में एडमिट हुई थीं.

पत्नी की कीमोथेरेपी के लिए 130 किलोमीटर साइकिल चलाकर अस्पताल पहुंचे 65 साल के बुजुर्ग

कहानी जानने के बाद डॉक्टरों ने कमाल का काम किया.

लॉकडाउन: 1400 km स्कूटी चलाकर फंसे हुए बेटे को घर लाने वाली मां से मिलिए

रजिया बेगम ने कर्फ्यू पास बनवाया, सभी नियम फॉलो किए.