Submit your post

Follow Us

पुलिसवाली ने आठ महीने की प्रेग्नेंट औरत को तीन किलोमीटर पैदल चलने पर मजबूर किया

ओडिशा में एक महिला सब इंस्पेक्टर को सस्पेंड कर दिया गया है. वजह? एक गर्भवती महिला के प्रति असंवेदनशीलता दिखाते हुए इस महिला पुलिसकर्मी ने उसे तीन किलोमीटर पैदल चलने पर मजबूर किया. वो भी तब जब प्रेग्नेंट महिला जांच के लिए अपने पति के साथ डॉक्टर के पास जा रही थी.

आठ महीने की प्रेग्नेंट महिला को पैदल पर क्यों चलना पड़ा?

गुरुबारी बिरुली आठ महीने की गर्भवती हैं. ओडिशा के मयूरभंज जिले के एक गांव में रहती हैं. द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, 28 मार्च को वो अपने पति बिक्रम बिरुली के साथ जांच के लिए अस्पताल जा रही थीं. बाइक पर. बिक्रम ने हेलमेट पहना था, जबकि गुरुबारी के पास हेलमेट नहीं था. शरत पुलिस थाना इलाके में सब-इंस्पेक्टर रीना बक्सल ने उन्हें रोका. गुरुबारी ने हेलमेट नहीं लगाया था, इसे लेकर SI रीना बक्सल ने मोटर व्हीकल एक्ट के तहत उनका चालान काट दिया. बिक्रम के पास चालान भरने के लिए रुपये नहीं थे. उसने कहा कि वो पैसे ऑनलाइन जमा कर देगा. लेकिन पुलिस वाले इसके लिए राज़ी नहीं हुए.

पुलिसवाले बिक्रम को अपने साथ थाने ले गए. मौके से थाना करीब तीन किलोमीटर दूर था. द हिंदू की रिपोर्ट के मुताबिक, गुरुबारी ने भी पति के साथ थाने तक चलने की मांग की, लेकिन इंस्पेक्टर रीना बक्सल ने उनकी एक नहीं सुनी. पति के जाने के बाद रीना तेज़ धूप में पैदल चलकर थाने तक पहुंची.

pregnant
महिला आठ महीने की प्रेग्नेंट है. वो अपने पति के साथ अस्पताल जा रही थी, जांच के लिए. सांकेतिक फोटो.

इस घटना के बाद गुरबारी और बिक्रम ने सब-डिविज़नल पुलिस अफसर के पास इस पूरे मामले की शिकायत  की. उन्होंने पुलिस पर परेशान करने के आरोप लगाए. ये भी शिकायत की कि पुलिस थाने पहुंचने के बाद भी उन्हें दो घंटे बैठाकर रखा गया. जांच में शिकायत सही पाई गई, जिसके बाद मयूरभंज के पुलिस अधीक्षक स्मित परमार ने इंस्पेक्टर रीना बक्सल को सस्पेंड करके बारीपाड़ा हेडक्वार्टर में अटैच कर दिया है.

एसपी की तरफ से जारी स्टेटमेंट के मुताबिक, सब-इंस्पेक्टर बक्सल को गलत व्यवहार और अपना कर्तव्य ठीक से नहीं निभाने के लिए सस्पेंड किया गया है.

क्या कहता है मोटर व्हीकल एक्ट?

मोटर व्हीकल एक्ट के मुताबिक, किसी भी प्रकार का दोपहिया वाहन चलाने वाले व्यक्ति को हेलमेट पहनना अनिवार्य है. इससे केवल सिख समुदाय के उन लोगों को छूट दी गई है जो पगड़ी पहनते हैं. बिना हेलमेट गाड़ी चलाने पर पहली बार में 1000 रुपये का फाइन है. वहीं, बार-बार नियम तोड़ने पर लाइसेंस सस्पेंड करने या कैंसिल करने की कार्रवाई भी की जा सकती है. बाइक या स्कूटर पर पीछे बैठने वाले के हेलमेट नहीं पहनने पर फिलहाल देश के सभी राज्यों में कार्रवाई नहीं की जाती है. ओडिशा में दिसंबर, 2020 में स्टेट ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी ने पीछे बैठने वालों के लिए हेलमेट लगाना अनिवार्य कर दिया था.


बंगाल चुनाव: नंदीग्राम से CPI(M) उम्मीदवार मीनाक्षी मुखर्जी ममता और शुवेंदु पर क्या बोल गईं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

कच्ची उम्र में बाल विवाह के बाद पति के शोषण से ऐसे लड़ी छोटा देवी

14 की उम्र में हो गई थी शादी. आठ साल की लड़ाई के बाद मिला न्याय.

न्यूज़ीलैंड में जिस चीज़ को लेकर इंडिया की तारीफ़ हो रही है, जानकर आपको भी गर्व होगा

वहां की संसद में बच्चा गिरने पर पेड लीव देने का कानून पास हुआ है.

BJP के दिलीप घोष, तीरथ रावत जैसों पर स्मृति ईरानी ने फाइनली कुछ कहा है!

नेताओं का काम नीति बनाना है, न कि ये तय करना कि औरतें क्या पहनें.

रूपी कौर: पीरियड के खून की फोटो शेयर करने वाली पोएट, जिसपर अश्लीलता के आरोप लगते हैं

रुपि के इंस्टाग्राम पर 4.3 मिलियन यानी 43 लाख फॉलोअर्स हैं.

महिला अधिकारियों को लेकर आर्मी में इतना बड़ा झोल चल रहा और किसी को खबर नहीं!

विमेन ऑफिसर्स के साथ Army के भेदभाव वाले व्यवहार पर सुप्रीम कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी की है.

नन्स को जबरन ट्रेन से उतारा तो राहुल का RSS पर हमला, लोग रेप केस याद दिलाने लगे

राहुल गांधी बोले- अब से RSS को परिवार कहना बंद, क्योंकि उसमें परिवार वाले कोई गुण नहीं.

चुनाव आते ही औरतों के अंतर्वस्त्रों और कूल्हों पर पैनी नज़र क्यों रखने लगते हैं नेता

औरत के शरीर के उभार कैसे हैं, ये चुनाव या किसी भी बहस का मुद्दा कैसे हो सकता है?

'एक पांव ढका, एक खुला, इससे अच्छा ममता 'बरमूडा' पहन लेतीं.' सीरियसली, दिलीप घोष?

बीजेपी नेताओं को औरतों के कपड़े डिस्कस करने में न जाने कौन सा रस मिलता है.

चिंकी, राही और मनु ने शूटिंग वर्ल्ड कप में क्या गज़ब कर दिया?

ये होता है क्लीन-स्वीप.

हम मेंस टीम की तारीफ में लगे रहे और विमिंस टीम ने कमाल कर दिया

शफाली ने फिर बरसाए छक्के.