Submit your post

Follow Us

इंटरनैशनल फुटबॉलर को लॉकडाउन में गुज़ारे के लिए क्या-क्या करना पड़ रहा, सरकार को शर्मिंदा होना चाहिए

संगीता सोरेन. अंतरराष्ट्रीय फुलबॉल प्लेयर. झारखंड के धनबाद की रहने वाली हैं. सरकार ने इनकी आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए अगस्त, 2020 में वादा किया था. पर नौ महीने बीत गए, हुआ कुछ नहीं.

6 अगस्त, 2020 को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट किया था,

डिप्टी कमिश्नर धनबाद, कृपया संगीता बेटी और उनके परिवार को जरूरी सभी सरकारी मदद पहुंचाते हुए सूचित करें. खेल-खिलाड़ियों को बढ़ावा देने के लिए सरकार कृतसंकल्पित है और जल्द ही नीति और कार्यप्रणाली के साथ जनता के समक्ष आने वाली है.

संगीता कि स्थिति के बारे में CM को एक वीडियो से चला था. उस वीडियो में वो पत्तल बनाती दिख रही थीं. 6 अगस्त, 2020 को पत्रकार सोहन सिंह ने वीडियो को शेयर किया था. वीडियो वायरल हो गया.

झारखंड के धनबाद जिले के बाघमारा की अंतरराष्ट्रीय फुटबॉलर संगीता सोरेन आज पत्तल बनाकर अपने और परिवार का भूख मिटाने को मजबूर हैं. संगीता 2018 में भूटान सहित एशिया के कई देशों में अपने राज्य और देश का नाम रोशन किया.पर आज इनकी सुध लेने वाला कोई नहीं.

9 महीने बाद बात क्यों हो रही है?

अब संगीता सोरेन का एक और वीडियो वायरल हुआ है. 22 मई, 2021 को वायरल हुए इस वीडियो में संगीता एक ईंट भट्टे पर काम करती हुई दिखाई दे रही हैं. इसे भी सोहन सिंह ने ट्विटर पर शेयर किया और लिखा,

अंतरराष्ट्रीय फुटबॉलर संगीता सोरेन के घर की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है. संगीता कहती हैं कि ईंट भट्ठा में दिहाड़ी मजदूरी करती हैं, जिससे किसी तरह घर का गुजर बसर चल रहा हैं. झारखण्ड के धनबाद की रहनेवाली संगीता ने फुटबॉल चैंपियन में खेलकर झारखंड का मान बढ़ाया हैं!

इस वीडियो के वायरल होने के बाद एक बार फिर सोशल मीडिया पर हलचल मच गई. संगीता की स्थिति जानने के लिए हमने उनसे बात की. संगीता सोरेन से सरकार की तरफ से अगस्त, 2020 में किए गए वायदे और मिली मदद के बारे में पूछा, तो उन्होंने बताया-

मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके बोला था. संज्ञान लिया था. सरकारी नौकरी की बात बोली थी. पर कुछ इम्प्रूवमेंट नहीं हुआ. बस कुछ अधिकारी आकर राशन दे गए थे. उसके बाद कुछ हुआ नहीं, जबकि सरकार को हर ऐसे खिलाड़ी को सरकारी नौकरी देनी चाहिए. उनकी आर्थिक रूप से मदद करनी चाहिए, जिससे वह खेल को आगे बढ़ा सकें. राज्य और देश का नाम रोशन कर सकें. हमारे पीछे जो भी बच्चे हैं, उन्हें इससे हौसला मिल सके. वह भी खेल सकें और झारखंड का नाम रोशन करते रहें. 

संगीता ने बताया कि ईंट भट्टा में काम करने वाला वीडियो वायरल हुआ तो क्षेत्र के विधायक समेत अन्य अधिकारी आए और कहा कि आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए बात आगे बढ़ाई जाएगी, जो प्रक्रिया होगी, उसके बारे में बताया जाएगा. संगीता ने बताया कि स्थानीय विधायक ने BCCL के अधिकारी से बात की, तो अधिकारी ने आश्वासन दिया है कि वो कहीं जॉइनिंग करा देंगे, जिससे आर्थिक स्थिति में सुधार हो जाए और खेल में भी कोई रुकावट न आए.

परिवार में क्या स्थिति है?

संगीता ने बताया कि परिवार में मम्मी-पापा, भैया-भाभी, उनके दो बच्चे, वो और उनका एक भाई और एक बहन हैं. दो बहनें बड़ी थीं, तो उनकी शादी हो गई है. कमाने वालों में वो खुद हैं, उनकी मां और बड़ा भाई है. उन्होंने बताया कि उनके पापा की नज़र कमज़ोर है. इसलिए वो काम नहीं कर पाते हैं. उनका भाई मजदूरी करता है. पर अभी कोई काम मिल नहीं रहा. इसलिए संगीता अपनी मां के साथ ईंट के भट्टे पर चली जाती हैं, ताकि उनका गुज़ारा हो सके.

झारखंड सरकार क्या कह रही है?

राज्य की खेल सचिव पूजा सिंघल ने बताया कि सरकार संगीता को सभी जरूरी आर्थिक सहायता मुहैया कराने में जुटी हुई है. साथ ही धनबाद के जिलाधिकारी को स्थिति का जायजा लेने का भी आदेश दिया गया है.

महिला आयोग और खेल मंत्री ने क्या कहा?

इस मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने झारखंड सरकार को पत्र लिखा है और संगीता को सपोर्ट करने की मांग की है. उन्होंने लिखा,

संगीता कुमारी की हालत देश के लिए शर्म की बात है. झारखंड सरकार  इस मुद्दे को प्राथमिकता से हल करे. ताकि संगीता अपना जीवन गरिमा के साथ जी सके.अपने परिवार का भरण पोषण कर सके.

लेटर की एक कॉपी अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) के अध्यक्ष को भी भेजी गई है.  

खेल मंत्री किरण रिजिजू ने भी ट्वीट कर संगीता को आर्थिक मदद का आश्वासन दिया है. लिखा-

मुझे फुटबॉलर संगीता सोरेन के बारे में जानकारी मिली है, जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भारत का प्रतिनिधित्व किया है, और इस महामारी में आर्थिक संकट झेल रही हैं. मेरे कार्यालय की तरफ से उनसे संपर्क किया है और जल्द ही उन्हें आर्थिक सहायता पहुंचाई जाएगी. एथलीटों के लिए सम्मानजनक जीवन सुनिश्चित करना हमारी प्राथमिकता है.

 10वीं में थीं, तब से खेलना शुरू किया 

संगीता ने बताया कि अभी उनकी उम्र 20 वर्ष है. 15 साल की थीं तब उन्होंने खेलना शुरू किया था. आस-पड़ोस के भईया लोगों को फुटबॉल खेलते देखा था, तो उन्हें भी इस फील्ड में रुचि हुई. संगीता ने बताया 2016 से शुरू किया था. 2017 में पहला सीनियर नेशनल खेला था. फिर 2018 में अंडर 17 जूनियर नेशनल खेला था, जिसके बाद इंडिया के लिए खेलने का मौका मिला. 2018 में ही भूटान में हुए एक टूर्नामेंट में भूटान और पाकिस्तान के खिलाफ खेला था और देश के लिए ब्रांज मेडल जीता था. 2018 में ही थाईलैंड के खिलाफ भी एक मैच हुआ, जो कि अंडर 19 का था. हालांकि इसमें कोई पोजीशन नहीं आई थी. आखिरी मैच संगीता ने 2019 में अरुणाचल प्रदेश में सीनियर नेशनल खेला था. और उसके बाद से लॉकडाउन के चलते घर में हैं.


वीडियो देखें: देख नहीं सकते, मगर रोज़ 5 किलोमीटर चलते हैं कि कोई प्यासा न रह जाए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

NCP कार्यकर्ता ने महिला सरपंच को पीटा, वीडियो वायरल

NCP कार्यकर्ता ने महिला सरपंच को पीटा, वीडियो वायरल

मामला महाराष्ट्र के पुणे का है. पीड़िता ने कहा – नहीं मिला न्याय.

सिविल डिफेंस वालंटियर मर्डर केस: परिवार ने की SIT जांच की मांग, हैशटैग चला लोग मांग रहे इंसाफ

सिविल डिफेंस वालंटियर मर्डर केस: परिवार ने की SIT जांच की मांग, हैशटैग चला लोग मांग रहे इंसाफ

पीड़ित परिवार का आरोप- गैंगरेप के बाद हुआ कत्ल.

उत्तर प्रदेश: रेप नहीं कर पाया तो महिला का कान चबा डाला, पत्थर से कुचला!

उत्तर प्रदेश: रेप नहीं कर पाया तो महिला का कान चबा डाला, पत्थर से कुचला!

एक साल से महिला को परेशान कर रहा था आरोपी.

मुझे जेल में रखकर, उदास देखने में पुलिस को खुशी मिलती है: इशरत जहां

मुझे जेल में रखकर, उदास देखने में पुलिस को खुशी मिलती है: इशरत जहां

दिल्ली दंगा मामले में इशरत जहां की जमानत में अब पुलिस ने कौन सा पेच फंसा दिया है?

किशोर लड़कियों से उनकी अश्लील तस्वीरें मंगवाने के लिए किस हद चला गया ये आदमी!

किशोर लड़कियों से उनकी अश्लील तस्वीरें मंगवाने के लिए किस हद चला गया ये आदमी!

खुद को जीनियस समझ तरीका तो निकाल लिया लेकिन एक गलती कर बैठा.

कॉन्डम के सहारे खुद को बेगुनाह बता रहा था रेप का आरोपी, कोर्ट ने तगड़ी बात कह दी

कॉन्डम के सहारे खुद को बेगुनाह बता रहा था रेप का आरोपी, कोर्ट ने तगड़ी बात कह दी

कोर्ट की ये बात हर किसी को सोचने पर मजबूर करती है.

रेखा शर्मा को 'गोबर खाकर पैदा हुई' कहा था, अब इतनी FIR हुईं कि अक्ल ठिकाने आ जाएगी

रेखा शर्मा को 'गोबर खाकर पैदा हुई' कहा था, अब इतनी FIR हुईं कि अक्ल ठिकाने आ जाएगी

यति नरसिंहानंद को आपत्तिजनक टिप्पणियां करना महंगा पड़ा.

अवैध गुटखा बेचने वाले की दुकान पर छापा पड़ा तो ऐसा राज़ खुला कि पुलिस भी परेशान हो गई

अवैध गुटखा बेचने वाले की दुकान पर छापा पड़ा तो ऐसा राज़ खुला कि पुलिस भी परेशान हो गई

इतने घटिया अपराध के सामने तो अवैध गुटखा बेचना कुछ भी नहीं.

अपनी ड्यूटी कर रही महिला अधिकारी की सब्जी बेचने वाले ने उंगलियां काट दीं

अपनी ड्यूटी कर रही महिला अधिकारी की सब्जी बेचने वाले ने उंगलियां काट दीं

इसके बाद सब्जी वाले ने जो कहा वो भी सुनिए.

पीट-पीटकर अपने डेढ़ साल के बच्चे को लहूलुहान कर देने वाली मां की असलियत

पीट-पीटकर अपने डेढ़ साल के बच्चे को लहूलुहान कर देने वाली मां की असलियत

ये वायरल वीडियो आप तक भी पहुंचा होगा.