Submit your post

Follow Us

खो-खो प्लेयर की हत्या करने वाले का कुबूलनामा- "उसे देख मेरी नीयत बिगड़ जाती थी"

उत्तर प्रदेश का बिजनौर. यहां कुछ दिन पहले दिनदहाड़े एक लड़की की हत्या कर दी गई थी. आरोपी लड़की का रेप करना चाहता था, उसने कोशिश भी की थी, लेकिन कामयाब न हो सका और अंत में उसने लड़की को मार डाला. जिस लड़की के साथ ये सब हुआ, वो नेशनल लेवल की खो-खो प्लेयर थी. नौकरी करना चाहती थी, लेकिन अब उसका ये सपना अधूरा ही रहेगा. इस केस में राहत की बात ये है कि पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

क्या है ये पूरा मामला?

‘इंडिया टुडे” के संजीव शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश का बिजनौर ज़िला. यहां रेलवे स्टेशन के पास बनी एक कॉलोनी में एक लड़की रहती थी. अपने परिवार के साथ. 24 साल की थी. खो-खो की नेशनल प्लेयर थी. 10 सितंबर यानी बीते शुक्रवार की दोपहर वो अपने घर से निकली. एक राजकीय इंटर कॉलेज में इंटरव्यू देने के लिए. लेकिन देर शाम तक वो घर नहीं लौटी. घरवालों ने उसे फोन भी मिलाया, तो नंबर बंद आ रहा था. लड़की की बहन ने मीडिया को बताया कि शाम के समय उन्हें उनकी बहन की जानकारी मिली. उनकी चाची और ताई को कहीं से पता चला था कि रेलवे स्टेशन के पास रखे स्लीपर्स के बीच एक लड़की बेहोश पड़ी हुई है. जब वो लोग देखने पहुंचे, तो पता चला कि ये वही खो-खो प्लेयर है. पुलिस को जानकारी दी गई. पता चला कि लड़की की मौत हो चुकी है. पुलिस ने शव को कब्ज़े में लेते हुए जांच शुरू कर दी.

लड़की के पिता ने पुलिस में केस दर्ज कराया. लड़की की बहन ने मीडिया से कहा-

“मेरी बहन हमें स्लीपर्स के बीच मिली. वो होश में नहीं थी. उसके गले में दुपट्टा कसकर बंधा हुआ था. उसे देखकर लग रहा था कि उसके साथ कुछ गलत भी हुआ होगा. क्योंकि कपड़े उसी तरह से दिख रहे थे. ये किसी एक व्यक्ति का काम नहीं है, क्योंकि मेरी बहन स्पोर्ट्सपर्सन थी, वो एक को हैंडल कर सकती थी. ये एक से ज्यादा व्यक्तियों का काम है. हमारी किसी से कोई दुश्मनी नहीं है.”

घरवालों ने रेप का शक जताया था, और कहा था कि एक से ज्यादा लोगों ने मिलकर इस घटना को अंजाम दिया होगा. रिपोर्ट्स के मुताबिक, लड़की के शव पर चोटों के निशान थे. पास में एक थैला भी पड़ा हुआ था. एक दांत भी टूटा हुआ था और खून भी बह रहा था. चूंकि शव रेलवे स्टेशन के स्लीपर्स के गोदाम में मिलाथा, इसलिए जीआरपी और पुलिस में काफी देर तक मामले को लेकर सीमा विाद चलता रहा. शुरुआत में जीआरपी पुलिस ने घटनास्थल का दौरा किया और अपने थाने में मुकदमा दर्ज कर लिया था. रेलवे पुलिस की एसएसपी अपर्णा गुप्ता ने घटनास्थल का दौरा किया था और मीडिया से बात भी की थी. बताया था कि IPC के सेक्शन 302 के तहत मामला दर्ज किया गया था.

13 सितंबर तक ये केस शासन के आदेश के बाद रेलवे पुलिस से लेकर सिविल पुलिस को सौंप दिया गया. बिजनौर एसपी डॉक्टर धर्मवीर सिंह ने मामले की जांच का ज़िम्मा एसपी सिटी डॉक्टर प्रवीण रंजन को सौंपा. चार टीमों का गठन किया गया और साथ ही एसओजी और स्वॉट टीम को भी लगाया गया. ये टीमें घटनास्थल पर मिले सबूतों के आधार पर जांच में जुट गईं. उन्हें स्पॉट से एक टिफिन मिला था. जिसमें डेढ़ रोटी और सब्ज़ी मौजूद थीं. टिफिन को कब्ज़े में लेकर फिंगरप्रिंट की मदद से जांच शुरू की गई. लड़की के मोबाइल को भी ट्रेस करने का कोशिश हुई, चूंकि घटना के बाद से ही लड़की का फोन गायब था. ट्रेस करने पर पता चला कि ये मोबाइल घटनास्थल से डेढ़ किलोमीटर दूर आदमपुर गांव के आस-पास जाकर बंद हो गया था. इसके अलावा पुलिस को एक कॉल रिकॉर्डिंग भी हाथ लगी थी. जो कि घटना के वक्त की थी. हत्या के कुछ देर पहले तक लड़की अपने किसी दोस्त से फोन पर बात कर रही थी, लेकिन अचानक से ही लड़की के चिल्लाने की आवाज़ आने लगी. इस रिकॉर्डिंग में लड़की ने शुरू मैं चीखते हुए छोड़ देने की बात कही थी. एक जगह पर लड़की ने अंकल शब्द का भी यूज़ किया था. पुलिस ने इन शब्दों को भी जांच में शामिल किया था. लड़की के दोस्त के फोन पर ये रिकॉर्ड हो गया था. इस रिकॉर्डिंग को भी पुलिस को सौंप दिया गया था. ये रिकॉर्डिंग लोकल सोशल मीडिया नेटवर्क में वायरल भी हुई थी.

पुलिस कैसे पहुंची आरोपी तक?

खैर, सबसे बड़ा सबूत यहां लड़की का गुम हुआ फोन ही बना. जिस लोकेशन पर फोन बंद हुआ था, वहीं से पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार किया. फोन के अलावा चप्पल, गला घोटने वाली रस्सी और शर्ट भी अहम सबूत बने थे. 14 सितंबर यानी आज आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया. आरोपी का नाम शहजाद उर्फ हादिम है. पुलिस की पूछताछ में ये सामने आया है कि उसने रेप की मंशा से घटना को अंजाम दिया था. बिजनौर पुलिस ने इस मामले में एक प्रेस रिलीज़ भी जारी की. जिसमें पुलिस ने अपनी कार्रवाई का पूरा ब्यौरा दिया. बताया कि शव को कब्ज़े में लेने के बाद सबसे पहले पोस्टमार्टम किया गया, जिसकी फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी भी की गई. चूंकि लड़की के परिवार वालों ने रेप की आशंका जताई थी, लेकिन पुलिस का ये कहना है कि मेडिकल में रेप की पुष्टी नहीं हुई है. इस प्रेस रिलीज़ में पुलिस ने आरोपी के पूछताछ की जानकारी भी दी. आरोपी का कहना है-

“मैं बिजनौर रेलवे स्टेशन पर पल्लेदारी का काम करता हूं और स्टेशन पर आने वाली मालगाड़ियों से माल को उतारता और चढ़वाता हूं. मैं गांजा और चरस का सूखा नशा करता हूं और शराब भी पीता हूं. 10 सिंतबर को भी मैं बिजनौर रेलवे स्टेशन पर काम करने के लिए गया था, लेकिन उस दिन स्टेशन पर कोई काम नहीं था, तो मैं वहीं लगे स्लीपर्स में बैठ गया और गांजे का नशा भी किया. एक लड़की वहां से अक्सर आया-जाया करती थी. उसे देखकर मेरी नीयत खराब हो जाता करती थी. 10 सितंबर को भी मैंने उसे दोपहर करीब 12 बजे वहां से जाते हुए देखा था. उसे देखकर मेरी नीयत फिर खराब हो गई थी और मैं उसके वापस आने का इंतज़ार करता रहा. दोपहर करीब दो बजे वो लड़की लौट रही थी. उसे देख मैं वहीं स्लीपर्स पर खड़ा हो गया. जब वो मेरे पास आई तो मैंने उसे स्लीपर्स में बनी खाली जगह पर तत्कालिक व्यभिचारिक उद्वेग की वजह से खींच लिया. उस समय वो लड़की फोन पर बात कर रही थी. जब मैंने उसे खींचा तो वो चिल्लाई. मैंने पास में पड़ी रस्सी उठाकर उसके गले में डाल दी. उसका गला उस रस्सी और उसके दुपट्टे से कस दिया. और उसे स्लीपर्स के बीच में पड़ी खाली जगह में खींच लिया.”

इस प्रेस रिलीज़ के अलावा पुलिस अधीक्षक डॉ धर्मवीर सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की. जहां उन्होंने बताया कि आरोपी शहजाद का मकसद रेप ही था, लेकिन जब उसने ऐसा करने की कोशिश की, तभी कुछ लोग वहां से गुज़र रहे थे. इसलिए वो अपने मकसद में कामयाब नहीं हो सका. किसी को लड़की की मौजूदगी का पता न चले इसलिए उसका गला दबाया. और मौका मिलते मिलते ही वो वहां से भाग गया. साथ में उसका फोन भी अपने साथ लेकर गया, क्योंकि उस पर लगातार फोन आ रहे थे.

पुलिस को घटनास्थल से एक चप्पल मिली थी. जब मोबाइल को ट्रेस करते हुए पुलिस आरोपी तक पहुंची, तो दूसरी चप्पल भी बरामद हो गई. घटनास्थल पर शर्ट के दो बटन मिले थे. वो शर्ट भी आरोपी के घर पर मिली. हालांकि उस पर खून के निशान थे, लेकिन उसकी पत्नी से उसे धो दिया था. आरोपी अभी पुलिस की गिरफ्त में है.

जैसा कि पहले बताया कि जिस लड़की की मौत हुई, वो खो-खो प्लेयर है. 2016 में बिहार की ओर से महाराष्ट्र में हुई खो-खो प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था. पढ़ाई के दौरान विश्वविद्यालय में होने वाले कॉम्पिटिशन्स में भी कई बार पार्ट लिया था. मामला जैसे ही सामने आया था, इस पर लोगों के रिएक्शन्स आने शुरू हो गए थे. खो-खो फेडरेशन के प्रेसिडेंट सुधांशू मित्तल ने भी इस मामले पर दुख जताया है. उन्होंने भी पुलिस के सामने मांग रखी थी कि जल्द से जल्द आरोपी को गिरफ्तार किया जाए.

एक युवा खिलाड़ी, जो शायद आगे बहुत कुछ कर सकती थी, अब हमारे बीच नहीं है. हम उम्मीद करते हैं कि उसके गुनहगार को हमारा कानून कड़ी से कड़ी सज़ा देगा. रेप, यौन शोषण जैसे अपराध आए दिन हमारी नज़रों के सामने आते हैं. ये इतने कॉमन हो गए हैं कि हम कई बार इन्हें इग्नोर कर देते हैं. ये कड़वा है, लेकिन सत्य है. अगर हम आंकड़ों की बात करें तो 2020 में NCRB यानी नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो की एक रिपोर्ट आई थी. जिसमें बताया गया था कि साल 2019 में रोज़ाना भारत में औसतन 88 रेप के मामले सामने आए थे. इस साल रेप के कुल 32 हज़ार 33 मामले रिपोर्ट हुए थे. ये तो वो केस हैं, जो रिपोर्ट हुए, कितने तो ऐसे हैं जो शर्मिंदगी और डर की वजह से दबकर रह जाते हैं.


वीडियो देखें: केवल अफगानिस्तान ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई देशों की सत्ता में महिलाओं के कोई भागीदारी नहीं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

नो शेव नवंबर कैम्पेन में लड़कियां क्यों पार्ट नहीं लेतीं?

नो शेव नवंबर कैम्पेन में लड़कियां क्यों पार्ट नहीं लेतीं?

क्यों लड़कियां अपने बॉडी हेयर को सेलिब्रेट नहीं करतीं?

टेनिस स्टार पेंग शुआई 10 दिन से गायब, पूर्व उप-राष्ट्रपति पर गंभीर आरोप

टेनिस स्टार पेंग शुआई 10 दिन से गायब, पूर्व उप-राष्ट्रपति पर गंभीर आरोप

पेंग ने पोस्ट में लिखा था, "आज मैं सच बोलकर रहूंगी."

केरल की अनुपमा की कहानी, जो बताती है कि लोग किस हद तक निर्दयी हो सकते हैं

केरल की अनुपमा की कहानी, जो बताती है कि लोग किस हद तक निर्दयी हो सकते हैं

एक साल से अपने बच्चे को खोज रही है अनुपमा.

अबॉर्शन के नियमों में क्या बदलाव हुए, डिटेल में समझिए MTP Act

अबॉर्शन के नियमों में क्या बदलाव हुए, डिटेल में समझिए MTP Act

MTP ऐक्ट को डीटेल में समझकर अपने अबॉर्शन राइट्स जानिए

वो औरतें जिनके बिना किसान आंदोलन कभी पूरा नहीं हो पाता

वो औरतें जिनके बिना किसान आंदोलन कभी पूरा नहीं हो पाता

केंद्र सरकार ने किसान कानून वापस लेने का फैसला किया है.

ये 5 सवाल किसी भी शादीशुदा लड़की को बुरे लग सकते हैं

ये 5 सवाल किसी भी शादीशुदा लड़की को बुरे लग सकते हैं

ऐसे सवाल न केवल लड़की को असहज करते हैं, बल्कि बहुत सेक्सिस्ट भी होते हैं.

पीरियड ना आने की वजह मेनोपॉज़ तो नहीं है?

पीरियड ना आने की वजह मेनोपॉज़ तो नहीं है?

कैसे पता करें कि कोई महिला मेनोपॉज से गुजर रही है? एक्सपर्ट से सुनें.

अरे रे! टीवी पर रोज़ रोने वाली एक्ट्रेस अपनी खुद की विदाई पर ठहाके लगाती रही

अरे रे! टीवी पर रोज़ रोने वाली एक्ट्रेस अपनी खुद की विदाई पर ठहाके लगाती रही

श्रद्धा आर्या की शादी की तस्वीरें और वीडियोज़ भयंकर वायरल हैं.

कौन हैं सौरभ कृपाल, जो भारत के पहले समलैंगिक जज बन सकते हैं

कौन हैं सौरभ कृपाल, जो भारत के पहले समलैंगिक जज बन सकते हैं

कॉलेजियम ने उनका नाम हाई कोर्ट जज के लिए रिकमेंड किया है.

टाइट पैंट पहनने की वजह से आपको तो नहीं होती ये दिक्कत?

टाइट पैंट पहनने की वजह से आपको तो नहीं होती ये दिक्कत?

'कैमल टो' का मतलब जानेंगे तो सिर पकड़ लेंगे.