Submit your post

Follow Us

केरल की पहली ट्रांसजेंडर RJ, विधानसभा चुनाव उम्मीदवार रहीं अनन्या अपने फ्लैट में मृत पाई गईं

अनन्या कुमारी एलेक्स. पहली ट्रांसजेंडर रेडियो जॉकी और केरल विधानसभा चुनाव में पहली ट्रांसजेंडर उम्मीदवार. वह अपने घर में मृत पाई गईं. पुलिस के मुताबिक, मंगलवार, 20 जुलाई की शाम को उनका शव कोच्चि स्थित उनके फ्लैट में लटका मिला.

पुलिस क्या कर रही है?

अनन्या ने बताया था कि वह सेक्स रिअसाइनमेंट सर्जरी के बाद गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रही थीं. उन्होंने बताया था कि सर्जरी के बाद एक साल होने को थे लेकिन समस्याओं की वजह से वो ज़्यादा देर तक खड़ी नहीं रह पा रही थीं. इसकी वजह से वह कोई काम भी नहीं कर पा रही थीं. अनन्या ने बताया था कि सर्जरी के दौरान हुई गलती के चलते वह स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का सामना कर रही थीं.

पुलिस के मुताबिक अनन्या की मौत शारीरिक कष्ट के कारण हुई प्रतीत होती है. पुलिस मामले की जांच कर रही है. वहीं अनन्या के दोस्तों ने मुख्यमंत्री के पास शिकायत दर्ज कर उनकी मौत की जांच की मांग की है.

विस चुनाव उम्मीदवारी पर क्या कहा था?

अनन्या कुमारी एलेक्स केरल में ट्रांसजेंडर समुदाय की पहली व्यक्ति थीं, जिन्होंने विधानसभा चुनाव लड़ा, हालांकि उन्होंने डेमोक्रेटिक सोशल जस्टिस पार्टी के नेताओं पर मानसिक प्रताड़ना और जान से मारने की धमकी का आरोप लगाते हुए अपना नामांकन वापस ले लिया था.

उन्होंने अप्रैल 2021 में हुए केरल विधानसभा चुनाव में मलप्पुरम जिले के वेंगारा निर्वाचन क्षेत्र में डेमोक्रेटिक सोशल जस्टिस पार्टी के उम्मीदवार के रूप में प्रचार शुरू किया था. बाद में वह अपनी पार्टी के नेताओं की धमकियों और उत्पीड़न के बीच चुनाव से हट गईं.

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, अनन्या कुमारी ने कहा था,

मुझे DSJP पार्टी के नेताओं द्वारा इस्तेमाल किया गया. मुझे चुनाव लड़वाने के पीछे उनका एक प्लान था जिसे मैं शुरू में समझ नहीं पाई. मेरे पास एक व्यक्तित्व है और मेरी अपनी राय है. मैं आत्मसमर्पण करने के लिए तैयार नहीं हूं.

18 की उम्र में घर छोड़ दिया था

मूलतः कोल्लम की रहने वाली अनन्या 28 साल की थीं. पेशे से मेकअप आर्टिस्ट और रेडियो जॉकी रही. वो केरल की पहली ट्रांसजेंडर रेडियो जॉकी रहीं. उन्होंने केरल इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल को भी होस्ट किया था. अनन्या को मलयालम, इंग्लिश, हिंदी, तमिल और कन्नड़ भाषाएं आती थीं.

अनन्या जब पैदा हुईं तो उनका शरीर लड़के का था, लेकिन अंदर से वो लड़की थीं. उन्हें लड़कियों जैसे कपड़े पहनना, वैसे रहना अच्छा लगता था, लेकिन परिवारवाले और रिश्तेदार इसके लिए उन्हें टोकते थे. अपनी जेंडर आइडेंटिटी को लेकर अनन्या को काफी कुछ झेलना पड़ा. 12वीं के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी, क्योंकि उनके जेंडर को लेकर उन्हें काफी ज्यादा परेशान किया जाने लगा था. अनन्या ने बताया था कि 18 की उम्र में उन्होंने घर छोड़ दिया था. पेट पालने के लिए उन्होंने भीख मांगी, सीवर साफ किया, पेट्रोल पंप में काम किया. अनन्या का कहना था कि वो महिलाओं और ट्रांसजेंडर्स के लिए एक सुरक्षित समाज बनाना चाहती हैं.

अब अनन्या इस दुनिया में नहीं हैं. पुलिस मौत के कारणों का पता लगा रही है.


केरल चुनाव की पहली ट्रांसजेंडर उम्मीदवार ने अपना नाम वापस क्यों ले लिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

पूर्व CJI रंजन गोगोई पर यौन शोषण के आरोप लगाने वाली महिला की जासूसी हो रही थी?

पेगासस वाली लिस्ट में महिला और उसके परिवारवालों के 11 फोन नबंर शामिल हैं.

राज कुंद्रा के अरेस्ट होने पर शिल्पा के बारे में अश्लील बातें लिखने वाले कहां रुकेंगे?

लोग योग संभोग वाले जोक्स लिख रहे हैं.

स्कूली किताबों में कब तक केवल राम स्कूल जाता रहेगा, सीता रोटी बनाती रहेगी?

आपके बच्चों की टेक्स्टबुक्स इस तरह उनके दिमाग में ज़हर भर रही हैं.

पुराना माल, नया पैकेट: 'बालिका वधू' के फर्स्ट लुक से और क्या पता चलता है?

कितना अलग होगा बाल विवाह पर बना ये शो

महामारी की तरह फैली दहेज़ प्रथा को रोकने ने लिए केरल सरकार ने लगाया ये आइडिया

क़ानून काम नहीं आ रहे, देखें ये फैसला कितना काम आता है.

ओलंपिक में पदक जीतने वाली ये भारतीय एथलीट्स अब क्या कर रही हैं?

दो खिलाड़ी तो इस बार के ओलंपिक में भी खेलेंगी.

सब्जी बेचकर परिवार का पेट पालने वाली महिला बनीं ब्लॉक प्रमुख

पैसों से होने वाले चुनावों के बीच गरीब महिला के हौसलों की जीत

हाथ-पैर काम नहीं करते, 'रेंगते' हुए कोरोना को रोकने में लगीं ये बहादुर महिला

जन्म से ही चलने और खड़े होने में असमर्थ हैं जयंती.

मंत्री जी के साथ सेल्फी चाहिए तो जेब से 100 रुपए निकालो!

मध्य प्रदेश की मंत्री ऊषा ठाकुर का सेल्फी प्लान.

बड़े शहरों में प्रेगनेंट महिलाओं के कोविड टीकाकरण का स्टेटस क्या है?

मुंबई में पहले दिन केवल 10 प्रेगनेंट महिलाओं ने ही क्यों लगवाई कोविड वैक्सीन.