Submit your post

Follow Us

उस महिला की कहानी, जिसकी कैल्कुलेशन ने आदमी को चांद पर पहुंचाया

बीसवीं सदी का अमेरिका. आज़ादी को दो सौ साल हो चुके थे. फिर भी कई खांचों में बंटा हुआ था. इनमें से जो सबसे गहरी खाई थी, वो थी नस्लभेद की. श्वेत और अश्वेत लोगों के बीच की खाई. साथ खाना, साथ पढ़ना, साथ बैठना तक संभव नहीं था.

ऐसे अमेरिका में अश्वेत अमेरिकन होना. तिस पर महिला होना. हर तरह से ‘डिसएडवांटेज’ वाली स्थिति.  फिर भी कैथरीन जॉनसन ने हार नहीं मानी. इतिहास रचा. और कुछ ऐसा रचा कि आज भी अगर इंसान मंगल या चांद पर जाए, तो उसमें इनका बड़ा हाथ होगा.

कौन थीं ये कैथरीन जॉनसन?

नेशनल एरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन. NASA. अमरीका का स्पेस रीसर्च संस्थान. इसी में काम करती थीं. मैथमटीशियन थीं. 33 साल के अपने करियर में इन्होंने अपनी कैलकुलेशंस के ज़रिए बड़े-बड़े स्पेस प्रोग्राम्स में हाथ बंटाया.

वेस्ट वर्जिनिया में इनका जन्म हुआ था. चार बच्चों में सबसे छोटी थीं. बचपन से ही मैथ में काफी तेज़ थीं. इनके लिए स्कूल में खास तौर पर नए कोर्स तक जुड़वाए गए थे. स्कूल से निकल कर ग्रेजुएट स्कूल में जाने वाली वो पहली अश्वेत महिला थीं, वेस्ट वर्जिनिया में. इस समय तक सेग्रीगेशन (श्वेत और अश्वेत लोगों को अलग-अलग रखने की व्यवस्था) लागू था.

Kat At Nasa Wiki 700
NASA में काम करतीं कैथरीन. (तस्वीर: विकिमीडिया)

नेशनल एडवाइजरी कमिटी फॉर एरोनॉटिक्स में उनकी जॉब लगी. वहां पर उनका काम कैल्कुलेशन करना था. वो महिलाओं की जिस टीम में थीं, उसे स्कर्ट पहनने वाली कम्प्यूटर टीम कहा जाता था. उन लोगों का मुख्य काम प्लेनों के ब्लैक बॉक्सेज़ से डेटा निकालकर उसे स्टडी करना, और सटीक मैथेमैटिकल कैल्कुलेशन करना था. फिर एक दिन पुरुषों की टीम में लोग कम पड़े, तो उन्हें एक्स्ट्रा व्यक्ति की ज़रूरत पड़ी. कैथरीन और उनकी एक कलीग को पुरुषों की टीम में भेजा गया. वहां पर उनकी स्किल्स देख कर लोग इतने प्रभावित हुए कि उन्हें पुरानी टीम में वापस नहीं भेजा गया.

Kat 1983 700
1983 में कैथरीन. बचपन से ही मैथ्स में इंटरेस्ट था. आगे चलकर उन्होंने अपनी इसी खासियत की वजह से ‘ह्यूमन कम्प्यूटर’ का तमगा हासिल किया. (तस्वीर: विकिमीडिया)

कैथरीन अश्वेत थीं, इसलिए उन्हें श्वेत लोगों से अलग बैठना पड़ता था. अलग बाथरूम इस्तेमाल करने होते थे. अलग जगह पर खाना पड़ता था. लेकिन इन सबके बावजूद वो डटी रहीं. उन्होंने ये कैसे किया? इस सवाल के जवाब में कैथरीन ने बताया था कि वो ये सब इग्नोर कर देती थीं. एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था,

‘उन दिनों महिला होने के नाते हमें अपनी बात मजबूती से रखनी पड़ती थी. मजबूती और उग्रता से. NASA के शुरूआती दिनों में महिलाओं को रिपोर्ट्स पर अपना नाम लिखने की अनुमति नहीं थी. मेरे डिविजन में किसी भी महिला का नाम रिपोर्ट पर नहीं लिखा गया था. मैं टेड स्कोपिन्सकी के साथ काम कर रही थी. वो ह्यूस्टन जाना चाहते थे. लेकिन हमारे सुपरवाइजर हेनरी पियर्सन उन्हें रिपोर्ट फिनिश करने पर मजबूर कर रहे थे. हेनरी को महिलाएं पसंद नहीं थीं. टेड ने उनसे कहा, कैथरीन रिपोर्ट फिनिश कर देगी. बाक़ी का भी अधिकतर काम उसी ने किया है. हेनरी के पास कोई दूसरा उपाय नहीं बचा था. तब मैंने रिपोर्ट ख़त्म की, और पहली बार हमारे डिविजन से किसी महिला का नाम किसी रिपोर्ट पर गया.’

कैथरीन ने ही 1970 में अपोलो 11 मिशन के रास्ते की कैल्कुलेशंस करने में मदद की थी. यानी जिस रास्ते से रॉकेट को उड़ना था, उस रास्ते की पूरी कैल्कुलेशन करने में कैथरीन की महत्वपूर्ण भूमिका थी. उन्हें ह्यूमन कम्प्यूटर भी कहा जाता था. सबसे पहले जब US ने एक इंसान को स्पेस में भेजा था 1961 में, तब भी कैथरीन की कैल्कुलेशंस काम आई थीं. उनकी स्किल इतनी तगड़ी थी कि जब 1962 में धरती का चक्कर लगाने के लिए जॉन ग्लेन नाम के एस्ट्रोनॉट निकलने वाले थे, तब उन्होंने कैथरीन से अपनी फ्लाइट की कम्प्यूटर कैल्कुलेशंस को डबल चेक करने के लिए कहा था.

Kat In 2008 700
2008 में एक इंटरव्यू के दौरान कैथरीन. (तस्वीर: विकिमीडिया)

बेसिकली उनका काम ये था कि किसी भी स्पेस यान को किसी ख़ास जगह तक कैसे पहुंचाना है. उस जगह के हिसाब से उसके उड़ने का टाइम और जगह कैलकुलेट करना ताकि वो सही तरीके से उड़ सके और वापस आ सके, ये ज़िम्मेदारी कैथरीन की थी.

इतना सब कुछ करने के बावजूद उनके काम को काफी देर से पहचान मिली. क्योंकि वो एक ऐसे समय में काम कर रही थीं, जहां उनकी काबिलियत से पहले उनकी नस्ल, उनकी चमड़ी का रंग, और उनका जेंडर देखा गया. 2016 में आई हॉलीवुड फिल्म हिडन फिगर्स में ताराजी पी हेंसन ने उनका किरदार निभाया था. ये फिल्म बेहद पॉपुलर हुई थी. 2015 में प्रेसिडेंट बराक ओबामा ने उन्हें प्रेसिडेंशियल मेडल ऑफ फ्रीडम दिया था. ये किसी भी नागरिक को दिया जाने वाला सबसे बड़ा सम्मान है अमेरिका में.

Hidden Figures
हिडन फिगर्स फिल्म में अपोलो 11 मिशन (चांद पर जाने वाले मिशन) में भागीदारी करने वाली महिलाओं के योगदान को दिखाया गया था. इनमें कैथरीन शामिल थीं. उनका रोल ताराजी पी हेंसन ने निभाया था. (तस्वीर: ट्विटर)

उनके लिए श्रद्धांजलि में बिल बैरी, NASA के मुख्य इतिहासकार ने लिखा था,

अगर हम आज चांद या मंगल पर दुबारा जाएंगे, तो उनके मैथेमैटिकल कैलकुलेशंस इस्तेमाल करेंगे.


वीडियो: दिल्ली के सरकारी स्कूल जाकर मेलानिया ट्रंप ने क्या-क्या किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

गार्गी कॉलेज में यौन शोषण की शिकायत करने वाली लड़कियां पीछे क्यों हटीं?

बीते महीने इनका आरोप था कि लड़कों ने कॉलेज में घुसकर हुड़दंग किया.

यौन शोषण विक्टिम ने बयान लिखने को कहा तो दरोगा बोला, 'कोरोना वायरस हो गया है'

पुलिस भी चौंक गई है.

फ्लिपकार्ट बेचकर 6700 करोड़ कमाने वाले सचिन बंसल पर दहेज़ उत्पीड़न का केस

2008 में हुई थी शादी, पत्नी ने मारपीट और यौन हिंसा के भी आरोप लगाए हैं.

UP: लड़की का नाम सेक्स वीडियो में डालकर वॉट्सऐप पर वायरल कर दिया

पुलिस कह रही है सबको गिरफ्तार नहीं कर सकते, नंबर बदल लो.

सिस्टर अभया की कहानी जिन्हें 28 साल पहले जिंदा ही कुएं में फेंक दिया गया था

केरल की सबसे लंबी मर्डर मिस्ट्री जो 28 साल बाद भी नहीं सुलझ सकी है.

16 साल की बच्ची का रेप करने वाले पादरी के खिलाफ पोप फ्रांसिस ने कड़ी कार्रवाई की है

कौन है रॉबिन वदक्कुमचेरी, जिसके खिलाफ पोप ने कार्रवाई की.

जुरासिक पार्क के डायरेक्टर की पॉर्न स्टार बेटी किस मामले में गिरफ्तार हो गई

10 दिन पहले ही इंटरव्यू में पॉर्न स्टार बनने की कहानी सुनाई थी.

बॉयफ्रेंड से मिलने गई थी, रिश्तेदारों ने बीच चौराहे पर लड़की की चोटी काट दी

वीडियो वायरल होने के बाद तीन आरोपी गिरफ्तार.

एकतरफा प्यार में महिला पुलिसकर्मी के भाई की हत्या कराने वाले पूर्व इंस्पेक्टर को उम्रकैद

14 साल के माज़ अहमद की हत्या के लिए तीन शूटरों को सुपारी दी थी.

स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की ने सुप्रीम कोर्ट से नई मांग की है

स्वामी चिन्मयानंद पर रेप, अपहरण और ब्लैकमेलिंग का आरोप लगा है.