Submit your post

Follow Us

करगिल युद्ध की महिला हीरो: गुंजन और श्रीविद्या, जिन्होंने सैकड़ों जवानों की जान बचाई थी

20 साल पहले भारत और पाकिस्तान के बीच, कश्मीर के करगिल में एक जंग हुई थी. इसे करगिल युद्ध कहते हैं. साल 1999 में हुई ये जंग करीब 3 महीने तक चली थी. 3 मई से 26 जुलाई तक, दोनों देशों के जवान एक-दूसरे से लड़ते रहे थे. आखिर में भारत को जीत मिल गई थी. इस जंग को 20 साल पूरे हो चुके हैं.

इंडियन आर्मी और एयर फोर्स ने मिलकर ये जंग लड़ी थी. इंडियन नेवी भी पूरी तरह से तैयार थी. ये जंग 1999 में हुई थी, उस वक्त औरतों को युद्ध में नहीं भेजा जाता था, लेकिन फिर भी उस लड़ाई में दो एयर फोर्स ऑफिसर्स ऐसी थीं, जिन्होंने जंग में हिस्सा लिया. और जंग वाले इलाके के ऊपर विमान उड़ाया. सैनिकों की मदद की. इन दो अधिकारियों का नाम है- गुंजन सक्सेना और श्रीविद्या राजन.

srividya-rajan-and-gunjan_072619055712.jpgश्रीविद्या राजन और गुंजन सक्सेना. फोटो- ट्विटर

ये दोनों ही वॉर ज़ोन में उड़ान भरने वाली पहली महिला आईएएफ (इंडियन एयर फोर्स) अधिकारी हैं. करगिल वॉर ज़ोन में इन्होंने विमान उड़ाया था. सीमा पर लड़ रहे सैनिकों की मदद के लिए इन दोनों महिलाओं को भेजा गया था. दोनों महिलाएं विमान से राशन देने जंग वाली जगह पर जातीं, घायल सैनिकों को लातीं और पाकिस्तान की पोजीशन पर नजर रखतीं थीं.

ट्रेनी पायलेट के तौर पर इनकी एंट्री हुई थी.

गुंजन को बचपन से ही सेना में जाने का मन था. उनके पिता और भाई, दोनों इंडियन आर्मी में ही थे, इसलिए गुंजन भी सेना में जाने की प्लानिंग कर रही थीं. उन्हें विमान उड़ाने का मन भी था. इसलिए ग्रेजुएशन के बाद दिल्ली के सफदरजंग फ्लाइंग क्लब में विमान उड़ाने के बेसिक्स भी सीखे.

1994 से वायु सेना में महिला ट्रेनी पायलेटों को लिया जाना शुरू हुआ. 25 महिला ट्रेनी पायलटों को लिया गया. उनमें गुंजन और श्रीविद्या भी थीं. उस वक्त महिलाओं को वॉर ज़ोन में विमान नहीं उड़ाने दिया जाता था. कारण ये दिया जाता था कि शारीरिक और मानसिक, दोनों ही तौर पर बहुत ज्यादा तनाव होता है, तो महिलाएं झेल नहीं पाएंगी. इस सोच की वजह से गुंजन और श्रीविद्या के पास खुद को साबित करने के मौके कम ही थे. उन्हें सही मौके का इंतजार था. मौका मिला, साल 1999 में. तब करगिल का युद्ध छिड़ गया.

kargil-war_072619055825.jpgकरगिल के युद्ध की एक तस्वीर. इस युद्द में भारत के 500 से ज्यादा जवान शहीद हो गए थे. फोटो- ट्विटर

युद्ध के वक्त इंडियन आर्मी को पायलेट्स की जरूरत पड़ी. फिर मुसीबत के वक्त महिला पायलेट्स को बुलाया गया. एयर फोर्स ने गुंजन और श्रीविद्या को वॉर ज़ोन में भेजने के लिए चुना. दोनों को जिम्मेदारी दी गई, कि जंग लड़ रहे सैनिकों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहें. घायल सैनिकों की मदद करें. उन्हें रेस्क्यू करें. विमान के जरिए, हवा में रहते हुए, वॉर ज़ोन पर पैनी नजर रखें. पाकिस्तानी सैनिकों की पोजीशंस पर नजर रखें. आर्मी यूनिट को अगर किसी चीज़ की जरूरत पड़े, तो उन्हें तुरंत वो चीज़ ले जाकर दी जाए.

वॉर ज़ोन में विमान उड़ाते वक्त कई बार गुंजन और श्रीविद्या के ऊपर पाकिस्तान की तरफ से अटैक भी हुआ था. लेकिन वो लोग खुद को और अपने विमान को किसी तरह बचाने में कामयाब रहीं. कई बार विमान उड़ाते वक्त, उन्हें पहाड़ों के टेढ़े-मेढ़े रास्तों से गुजरना पड़ता था, वो गुजरीं. कई बार दोनों के विमान क्रैश होते-होते बचे. दोनों चीता हेलिकॉप्टर्स उड़ा रही थीं. जिसमें ज्यादा हथियार भी नहीं थे, और जो दुश्मनों के अटैक से बचा भी नहीं सकता था, लेकिन फिर भी दोनों औरतों ने कदम पीछे नहीं हटाए.

gunjan-saxena_072619055929.jpgविमान में चढ़ते हुए गुंजन. फोटो- ट्विटर

गुंजन ने एक न्यूज़ चैनल को दिए इंटरव्यू में बताया था, कि उन्हें घायल जवानों की मदद करके सबसे ज्यादा सुकून मिलता था. गुंजन ने कहा था,

‘मुझे लगता है कि एक हेलिकॉप्टर पायलेट होने के नाते, आपको सबसे ज्यादा सुकून इस वक्त ही मिलता है. वो हमारा सबसे अहम काम था. मैं कहूंगी कि किसी की जिंदगी बचाकर जो फीलिंग आती है, वो सबसे ज्यादा संतुष्टी देती है. इसी जिम्मेदारी को निभाने के लिए तो हम लोग जंग में थे.’

गुंजन ने चॉपर पायलेट के तौर पर, 7 साल तक एयर फोर्स में सर्विस दी. करगिल युद्ध में बिना डरे, अपना काम करने के कारण उन्हें शौर्य चक्र अवॉर्ड भी दिया गया. गुंजन पहली भारतीय महिला थीं, जिन्हें ये अवॉर्ड मिला था.

गुंजन और श्रीविद्या, दोनों ने कभी लड़ाकू विमान नहीं उड़ाए थे, लेकिन दोनों ने ही करगिल युद्ध में बहुत अहम काम किया था. भले ही लोग उन्हें उस तरह से याद नहीं करते, जिस तरह से किसी सैनिक को करते हैं, लेकिन सच्चाई तो ये ही है कि इन दोनों औरतों ने युद्ध के वक्त सैंकड़ों जिंदगियां बचाई थीं.


वीडियो देखें : ट्रिपल तलाक़ तो सबने जान लिया, बाकी धर्मों में डिवोर्स कैसे होता ये जान लीजिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

गार्गी कॉलेज में यौन शोषण की शिकायत करने वाली लड़कियां पीछे क्यों हटीं?

बीते महीने इनका आरोप था कि लड़कों ने कॉलेज में घुसकर हुड़दंग किया.

यौन शोषण विक्टिम ने बयान लिखने को कहा तो दरोगा बोला, 'कोरोना वायरस हो गया है'

पुलिस भी चौंक गई है.

फ्लिपकार्ट बेचकर 6700 करोड़ कमाने वाले सचिन बंसल पर दहेज़ उत्पीड़न का केस

2008 में हुई थी शादी, पत्नी ने मारपीट और यौन हिंसा के भी आरोप लगाए हैं.

UP: लड़की का नाम सेक्स वीडियो में डालकर वॉट्सऐप पर वायरल कर दिया

पुलिस कह रही है सबको गिरफ्तार नहीं कर सकते, नंबर बदल लो.

सिस्टर अभया की कहानी जिन्हें 28 साल पहले जिंदा ही कुएं में फेंक दिया गया था

केरल की सबसे लंबी मर्डर मिस्ट्री जो 28 साल बाद भी नहीं सुलझ सकी है.

16 साल की बच्ची का रेप करने वाले पादरी के खिलाफ पोप फ्रांसिस ने कड़ी कार्रवाई की है

कौन है रॉबिन वदक्कुमचेरी, जिसके खिलाफ पोप ने कार्रवाई की.

जुरासिक पार्क के डायरेक्टर की पॉर्न स्टार बेटी किस मामले में गिरफ्तार हो गई

10 दिन पहले ही इंटरव्यू में पॉर्न स्टार बनने की कहानी सुनाई थी.

बॉयफ्रेंड से मिलने गई थी, रिश्तेदारों ने बीच चौराहे पर लड़की की चोटी काट दी

वीडियो वायरल होने के बाद तीन आरोपी गिरफ्तार.

एकतरफा प्यार में महिला पुलिसकर्मी के भाई की हत्या कराने वाले पूर्व इंस्पेक्टर को उम्रकैद

14 साल के माज़ अहमद की हत्या के लिए तीन शूटरों को सुपारी दी थी.

स्वामी चिन्मयानंद पर रेप का आरोप लगाने वाली लड़की ने सुप्रीम कोर्ट से नई मांग की है

स्वामी चिन्मयानंद पर रेप, अपहरण और ब्लैकमेलिंग का आरोप लगा है.