Submit your post

Follow Us

करीना कपूर के इस वायरल वीडियो पर उनको ट्रोल करने से पहले ये पढ़ लें

5
शेयर्स

करीना कपूर खान. हिंदी सिनेमा में खासी मशहूर. पति- सैफ अली खान. बेटा- तैमूर अली खान. वही तैमूर, जिसके नाम पर देश में ‘तैमूर पत्रकारिता’ शुरू हुई. इन्हीं करीना का एक वीडियो वायरल हो रहा है. पहले इन्स्टाग्राम पर आया. उसके बाद सोशल मीडिया पर हर जगह चलने लगा. पहले आप वो वीडियो देख लीजिए:


View this post on Instagram

A post shared by yogen shah (@yogenshah_s) on

इस वीडियो में दिखाई दे रहा है कि किस तरह करीना तैमूर को अपनी गोद में लेकर बाहर आ रही हैं. उनके चारों तरफ भीड़ लगी हुई है. इसी में एक छोटी बच्ची आती है और करीना के पीछे-पीछे चलने लगती है. करीना रुकती नहीं हैं और सीधे जाकर गाड़ी में बैठ जाती हैं.

अब इस वीडियो के स्क्रीनशॉट शेयर हो रहे हैं. कहा जा रहा है कि करीना ने उस बच्ची को नज़रअंदाज़ करके अच्छा नहीं किया. धड़ल्ले से करीना की बुराइयां की जा रही हैं. कोई और उन्हें ‘एटीट्यूड दिखाने वाली’ कह रहा है, तो कोई उन्हें बुरा-भला कह रहा है.

एक मां है. अपने बच्चे को गोद में लेकर जा रही है. भीड़ में. उसके चारों तरफ लोग ही लोग हैं. उसे जल्दी है वहां से निकलने की. ऐसे में आस-पास क्या हो रहा है, उसे ध्यान नहीं.

करीना के इस वीडियो को अगर आप ध्यान से देखें, तो पाएंगे कि करीना का ध्यान नीचे की तरफ है भी नहीं. जस्टिफाई नहीं कर रहे, आप खुद ही देखिए. वो बच्ची साइड में आती है, शायद इस उम्मीद में कि करीना उसकी तरफ देखकर मुस्कुरा ही देंगी. लेकिन साथ में चल रही पुलिसवाली महिला उसे साइड कर देती है. इन सभी के बीच करीना का ध्यान सामने की ओर है. वो चलती हुई जाकर अपनी गाड़ी में बैठ जाती हैं.


View this post on Instagram

A post shared by Viral Bhayani (@viralbhayani) on

समझा जा सकता है. पैसे में पगे अमीर लोगों की नज़रअंदाज़ी और उनके रूखे व्यवहार पर गम तो खाया ही जा सकता है. गुस्सा आना भी जायज़ है. लेकिन थोड़ा ठहरकर दोबारा देखिए. क्या ये वो मौका है?

एक विशेषण होता है. डेविल्स एडवोकेट. यानी ‘बुरे व्यक्ति’ का पक्ष लेने वाला. यहां पर शायद आपको ये लग सकता है कि करीना का पक्ष लिया जा रहा है. लेकिन सीधी-सी बात ये है कि सोशल मीडिया पर जिस तरह की ट्रोलिंग आंख बंद कर की जा रही है, वो बात कितनी सही है?

एक मासूम बच्ची है, जो भीड़ की परवाह किए बिना करीना की ओर बढ़ती है. लेकिन सिक्योरिटी उसे अलग कर देती है. करीना को पता भी नहीं चलता. वो पूरे वीडियो में कहीं भी उस बच्ची को झिड़कती या दूर करती नज़र नहीं आ रही हैं. अगर ऐसा दिखाई देता, तो उनकी आलोचना का मतलब भी होता.

आप खुद ही सोचकर देखिए. कितनी बार भीड़-भाड़ में हमें खुद पता नहीं चलता कि हमारे आस-पास कोई है. या हमारा ध्यान नहीं जाता. ऐसे में इस बात को लेकर कोई अगर हमें भला-बुरा कहना शुरू कर दे तो?

एक आइडियल दुनिया वो होती, जहां किसी बच्ची को इस तरह भीड़ के धक्के खाकर अपने सर्वाइवल के लिए संघर्ष न करना पड़ता. ये वो दुनिया होती, जहां उस बच्ची को भी गोद में उठाकर दुलार देने वाला उसका परिवार होता. वो बच्ची सड़क पर न होकर स्कूल में होती. उसे भी उतना ही प्यार मिलता, जितना करीना की गोद में बैठे तैमूर को मिल रहा है. लेकिन अगर ऐसा नहीं है, तो उसका ठीकरा फोड़ने भर के लिए कोई सिर ढूंढना कहां तक जायज़ है, जिस पर जिम्मेदारी उतार कर हम अपने ही समाज की नाकामी का अपराधबोध छुपा लें.


वीडियो: अमित शाह ने बताया क्या है NPR और इसका NRC से क्या संबंध है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

चार बेटियों से यौन शोषण के आरोप में पिता गिरफ्तार

बेटी ने टीचर को बताया फिर मामले का पता चला.

तीसरी बार भी बेटी न हो जाए, इस डर से प्रेगनेंट बीवी को मारकर टुकड़े कर डाले

पुलिस से कहता रहा कि पत्नी लापता है, बड़ी बेटी ने सच्चाई बताई.

भारत में खेलों का ये हाल है कि 29 कोचों पर यौन शोषण के आरोप लगे हैं

जबकि कई लड़कियां डर के मारे शिकायत वापस भी ले लेती हैं

सुपरमॉडल को अश्लील तस्वीरों में टैग कर झूठी न्यूज़ फैलाता था, अब भुगत रहा है

नताशा सूरी ने ऐसा सबक सिखाया कि खुद को गायब कर लिया.

बीवी पर शक था कि उसके अपने पिता के साथ सम्बन्ध हैं, तेज़ाब फेंक कर भाग निकला!

गुजरात के नडियाद की खबर.

19 साल की लड़की गायब हुई, गुजरात पुलिस बोली 'सुरक्षित है', आखिर में पेड़ से लटकी लाश मिली

दलित सुमदाय से आने वाला ये परिवार बेटी के लिए भटकता रहा और पुलिस सोती रही.

नशे में धुत्त पुलिसवाले ने मोहल्ले की बच्ची से रेप करने की कोशिश की

पुलिसवाले की पहले गिरफ्तारी हुई थी. अब बर्खास्त भी हो गया.

तेलंगाना: सरकारी कॉलेज में तीन लड़कियां प्रेगनेंट हो गईं, जांच हुई तो डराने वाला राज़ खुला

अंडरग्रेजुएशन की लड़कियां हैं.

8 साल पहले अपहरण हुआ, बार-बार बिकी, प्रेगनेंट हुई: मौत से बचती लड़की की कहानी

कभी 20 हजार में, तो कभी 1.5 लाख रुपये में बेची गई.

रांची की 'निर्भया' के दोषी को तीन साल के अंदर सुनायी फांसी की सजा

आरोपी की मां का DNA मैच हुआ, तब गिरफ्तारी हुई.