Submit your post

Follow Us

परिवार के लिए छह नक्सलियों से अकेले भिड़ गई, एक कमांडर को मार डाला

झारखंड का गुमला ज़िला. यहां का वृंदा नायक टोली गांव. करीब तीन दिन पहले, यहां रहने वाले एक परिवार के ऊपर कुछ नक्सलियों ने हमले की प्लानिंग की. बंदूक लेकर पहुंच भी गए, गोलीबारी भी शुरू कर दी. लेकिन परिवार की एक महिला ने हिम्मत से काम लेते हुए अपने परिवार को बचा लिया और एक नक्सली कमांडर को भी मार गिराया.

‘आज तक’ से जुड़े मुकेश कुमार सोनी ने मामले में और जानकारी दी. बताया कि नक्सली को ढेर करने वाली महिला का नाम विनीता है. जिस नक्सली को मारा, वो पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) का सब जोनल कमांडर बसंत गोप था.

क्या है पूरा मामला?

तीन दिन पहले बसंत गोप अपने छह नक्सली साथियों के साथ विनीता के घर पहुंचा था. घर के अंदर विनीता, उसका पति, देवर और बाकी कुछ और लोग भी थे. सब सो रहे थे. बसंत और उसके साथियों ने घर के दरवाज़े पर गोलियां चलानी शुरू कर दी. दरवाज़ा तोड़ने की कोशिश करने लगे. विनीता ने हालात से निपटने का फैसला किया. कुल्हाड़ी उठाई और दरवाज़े के पीछे खड़ी हो गईं. जैसे ही वो लोग दरवाज़ा तोड़कर अंदर आए, विनीता ने कुल्हाड़ी से हमला कर दिया. बसंत गोप पर. वो भी तब जब सारे नक्सलियों के हाथ में बंदूकें थीं. बसंत बुरी तरह घायल हो गया. उसके साथियों ने उसे उठाया और भाग गए.

Jharkhand 1
बसंत गोप का शव ले जाती पुलिस. फोटो- मुकेश कुमार.

इधर गांववालों ने पुलिस को जानकारी दी. गुमला टीम की पुलिस गांव पहुंची. नक्सलियों को खोजना शुरू किया. अगली सुबह जंगलों से पुलिस को बसंत का शव मिला. लंबी सी लकड़ी से शव बंधा हुआ था. शायद उसके साथियों ने उसे बचाकर ले जाने के लिए लकड़ी से बांधा था, लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई. तब बाकी साथी उसे छोड़कर भाग खड़े हुए.

दो साल पहल विनीता के ससुर को मारा था

विनीता के देवर ने बताया कि उनका परिवार पहले से ही नक्सलियों के घेरे में रहा है. दो साल पहले नक्सलियों ने उनके पिता शनिचरवा उरांव की हत्या कर दी थी. उसके बाद पूरा परिवार रांची चला गया था. वहां मज़दूरी करने लगा था. लेकिन लॉकडाउन की वजह से ये परिवार गांव वापस आया था. ये बात बसंत गोप को पता चली, तो उसने विनीता के पति, यानी शनिचरवा के बेटे को मारने की प्लानिंग की और साथियों के साथ गांव पहुंच गए.

Jharkhand
विनीता का इनाम के पैसे और घर का सामान देते SP. फोटो- मुकेश कुमार.

थाना प्रभारी शंकर ठाकुर ने कहा,

‘बसंत कई घटनाओं में शामिल था. कई मामलों में फरार भी था. अब तक इसकी गिरफ्तारी नहीं हुई थी. गांव के लोगों से जो लेवी की मांग होती थी, वो मेरी समझ से अब बंद हो जाएगी.’

गुमला एसपी (सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस) हरदीप जनार्दन ने विनीता को इनाम के तौर पर 21 हज़ार रुपए दिए. साथ ही तीन बोरा चावल, 20 किलो आलू और 10 किलो प्याज भी दिया गया.


वीडियो देखें: अपनी बेटी के लिए टिकटॉक डाउनलोड किया, आज लाखों में हैं इनके फॉलोवर्स

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

अस्पताल के कर्मचारियों पर आरोप- डिलीवरी के बाद महिला का यौन शोषण किया

दूध की टेस्टिंग के लिए महिला को सैंपल देना था.

बॉयज़ लॉकर रूम: विक्टिम ने बताया, लड़कों के घरवाले शिकायत वापस लेने को कह रहे हैं

इंस्टाग्राम के इस ग्रुप के चैट वायरल होने के बाद छानबीन शुरू.

अफेयर का शक था, इसलिए पुलिसवाले ने कॉन्स्टेबल पत्नी को गोली से उड़ा दिया

अगले दिन कुछ ऐसा हुआ, जिसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी.

जामिया की सफ़ूरा के अजन्मे बच्चे को 'नाजायज़' कहने वालों की अब खैर नहीं!

दिल्ली महिला आयोग ने पुलिस के सामने तीन मांगें रखी हैं.

'बॉयज़ लॉकर रूम' में लड़कियों का रेप प्लान करने वाले लड़कों का भांडा कैसे फूटा?

इस इंस्टाग्राम ग्रुप के एडमिन को दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम सेल ने गिरफ्तार किया है.

'गर्ल्स लॉकर रूम': लड़कियों की चैट वायरल, जिसमें लड़कों की नग्न तस्वीरें शेयर होती थीं

पहले 'बॉयज़ लॉकर रूम' के चैट्स वायरल हुए थे.

बिहार: तीन बूढ़ी औरतों को पंचायत ने वो 'सज़ा' दी, जिसे सुनकर इंसानियत शर्मसार हो जाए!

तीन बूढ़ी औरतें घर छोड़ने पर मजबूर हुईं.

बनारस में महिला पत्रकार ने सुसाइड किया, नोट में स्थानीय SP नेता को ज़िम्मेदार बताया

आरोपी SP नेता इस वक्त पुलिस की हिरासत में है.

बॉयज लॉकर रूम: गैंगरेप का प्लान बना रहे लड़के दिल्ली के नामी स्कूलों में पढ़ते हैं

इंस्टाग्राम के इस ग्रुप में लड़कियों से जुड़ी और भी भद्दी बातें होती थीं.

'बॉयज़ लॉकर रूम': नाबालिग स्कूली लड़कों का ग्रुप, जहां गैंगरेप के प्लान बनते हैं

ये कोई गुंडे नहीं, साउथ दिल्ली के स्कूली बच्चे हैं.