Submit your post

Follow Us

महिला थाना प्रभारी की मौत के बाद हंगामा, परिवार ने साथी सब-इंस्पेक्टर पर टॉर्चर के आरोप लगाए

झारखंड का साहिबगंज ज़िला. यहां से एक महिला थाना प्रभारी के कथित सुसाइड का मामला सामने आया है. सोशल मीडिया पर भी लोग थाना प्रभारी के लिए इंसाफ की मांग कर रहे हैं. शुरुआती जांच में ये मामला सुसाइड का लग रहा है, लेकिन पुलिस का कहना है कि वो हर एंगल से केस की जांच कर रही है. वहीं महिला की मां ने दो अन्य महिला सब इन्सपेक्टर्स के ऊपर हत्या के आरोप लगाए हैं और पुलिस को लिखित में शिकायत भी दे दी है. इन सबके अलावा इस केस में एक के बाद एक नए-नए मोड़ आ रहे हैं. क्या है ये मामला? किस पर क्या आरोप लग रहे हैं? आज इसी पर बात करेंगे.

क्या है पूरा मामला?

जिस थाना प्रभारी की हम बात कर रहे हैं, वो साहिबगंज के महिला थाने में पोस्टेड थीं. 26 साल की थीं. झारखंड के रांची की रहने वाली थीं. ‘इंडिया टुडे’ से जुड़े प्रवीण और सत्यजीत कुमार की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2018 में उन्होंने सब इंस्पेक्टर का पद संभाला था. उसके पहले वो एक बैंक में नौकरी करती थीं. उनके पिता CRPF यानी सेंट्रल रिज़र्व पुलिस फोर्स में हैं. मृतका तीन बहनों में सबसे बड़ी थीं. हाल ही में उन्हें साहिबगंज महिला थाना प्रभारी की ज़िम्मेदारी दी गई थी. साहिबगंज में उनको पुलिस लाइन में एक क्वार्टर मिला था. उसी फ्लैट में एक अन्य महिला सब-इंस्पेक्टर मनीषा कुमारी भी रहती थीं. हालांकि कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ये कहा जा रहा है कि दो महिला सब-इंस्पेक्टर उनके साथ रहती थीं, लेकिन हमारे पास इसका कन्फर्मेशन नहीं है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सब-इन्सपेक्टर मनीषा ने 3 मई की रात करीब साढ़े आठ बजे पुलिस को जानकारी दी कि थाना प्रभारी अपना कमरा नहीं खोल रही हैं. उन्होंने पुलिस को बताया कि वो करीब आठ बजे ड्यूटी से अपने फ्लैट में वापस आई थीं, देखा कि थाना प्रभारी का कमरा अंदर से बंद है, उन्होंने आवाज़ लगाई, लेकिन दरवाज़ा नहीं खुला. इसके बाद मनीषा ने पुलिस को सूचना दी. खबर मिलते ही SP अनुरंजन किस्पोट्टा, DSP संजय कुमार समेत कुछ अन्य अधिकारी और पुलिसकर्मी फ्लैट पर पहुंचे. बंद कमरे का दरवाज़ा तोड़ा गया. जहां थाना प्रभारी का शव मिला. उन्होंने कथित तौर पर सुसाइड किया था. घरवालों को जानकारी दी गई, जो कि रांची जिले के एक गांव में रहते थे. अगले दिन यानी 4 मई को उनका परिवार साहिबगंज पहुंचा. फिर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया. उसके बाद शव को परिवार वालों के हवाले किया गया. 5 मई को अंतिम संस्कार किया गया.

इस मामले में मृतक थाना प्रभारी की मां ने पुलिस को एक लिखित शिकायत सौंपी है. जिसमें उन्होंने कहा है कि ये सुसाइड नहीं हत्या है. और दो महिला सब-इंस्पेक्टर्स पर टॉर्चर के आरोप लगाए हैं. एक आरोपी सब-इंस्पेक्टर का नाम है मनीषा कुमारी और दूसरी हैं ज्योत्सना महतो. मृत थाना प्रभारी की मां ने शिकायत पत्र में लिखा,

“मनीषा और ज्योत्सना हमेशा मेरी बेटी को टॉर्चर करती थीं. दस दिन पहले इन दोनों ने उसे पंकज मिश्रा के पास भेजा था. क्वार्टर मेरी बेटी के नाम पर था, फिर भी उसे टॉर्चर करती थीं. वो थाना प्रभारी बनी, उसे गाड़ी मिली इसलिए जलन होती थी. छोटी-छोटी बातों में नीचा दिखाती थीं. थाने से आने के बाद आखिरी बार जब उसने मुझे कॉल किया था, तब घबराते हुए कह रही थी कि पानी पीने के बाद उसे अकबकाई सी लग रही है. (यानी घुटन महसूस हो रही है). उसका शव रस्सी के द्वारा पंखे से लटकाया गया है. बॉडी घुटने के बल थी. गले में दो रस्सी के निशान थे. शरीर के कुछ अंगों में दाग है. दोनों हाथों पर भी है. ऐसा लग रहा है जैसे किसी ने उसके हाथों को पकड़ा हो. घुटने पर मारने का निशान है.”

Jharkhand Sahibganj (2)
मां के द्वारा दी गई शिकायत.

इसके साथ ही मां ने पुलिस से अपील की, कि मामले की जांच के लिए समिति का गठन किया जाए.

ऑडियो कॉल रिकॉर्डिंग भी वायरल

इसी केस से जुड़ी एक ऑडियो कॉल रिकॉर्डिंग भी सामने आई है. जो कथित तौर पर थाना प्रभारी के पिता और उनकी पहचान वाले एक लड़के की है. ऑडियो रिकॉर्डिंग से ऐसा पता चला है कि थाना प्रभारी उस लड़के से शादी करना चाहती थीं, लेकिन पिता का कहना था कि चूंकि वो लड़का दूसरी जाति का है, इसलिए शादी नहीं हो सकती. उसे अपनी जाति के लड़के से शादी करनी होगी. इस कथित ऑडियो रिकॉर्डिंग में जिस लड़के की आवाज़ है, वो ये कहता पाया गया है कि थाना प्रभारी ने आत्महत्या करने की भी बात कही थी.

इस रिकॉर्डिंग की पुष्टि करने के लिए पत्रकार प्रवीण और सत्यजीत कुमार ने थाना प्रभारी के पिता से बात की. उन्होंने एक्सेप्ट किया कि जो रिकॉर्डिंग वायरल हुई है, उसमें उन्हीं की आवाज़ है और इस तरह की बातचीत उनकी उस लड़के से हुई थी, जिससे उनकी बेटी शादी करना चाह रही थी. हालांकि इस रिकॉर्डिंग के सिलसिले में हमने पुलिस से भी बात करनी चाही, SP अनुरंजन किस्पोट्टा को कई बार कॉल लगाया गया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया. वहीं किसी भी अन्य पुलिस अधिकारी ने अभी तक ऑडियो के बारे में कुछ कहा नहीं है.

कथित रिकॉर्डिंग वायरल होने के पहले SP ने मीडिया से बात की थी. कहा था कि हर एंगल से मामले की जांच की जा रही है. जानकारी दी थी कि किसी तरह का सुसाइड नोट नहीं मिला है, पैरेंट्स ने एक आवेदन दिया है. बाकी तरह की बातें भी सामने आ रही हैं. पुलिस हर एंगल से जांच कर रही है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही साफ हो पाएगा कि मौत का कारण क्या था.

Jharkhand Sahibganj (3)
SP अनुरंजन किस्पोट्टा.

सोशल मीडिया पर न्याय की मांग

सोशल मीडिया पर इंसाफ के लिए ट्रेंड चल रहा है. लोग कह रहे हैं कि ये सुसाइड नहीं हत्या है, इसकी CBI जांच होनी चाहिए. कुछ लोग कह रहे हैं कि थाना प्रभारी जाति और नस्लभेद का शिकार हुई थीं. हालांकि इन दावों में कितनी सच्चाई है, इस पर हम कुछ नहीं कह सकते, क्योंकि पुलिस ज्यादा कुछ बता नहीं रही है इस केस के बारे में. बस इतना कहा जा रहा है कि जांच चल रही है.

Jharkhand Sahibganj (5)
सोशल मीडिया पर लोग इंसाफ की मांग कर रहे हैं.

‘आज तक’ के प्रवीण की रिपोर्ट के मुताबिक, थाना प्रभारी की मां ने जिस पंकज मिश्रा का नाम अपनी शिकायत में लिया है, वो सीएम हेमंत सोरेन के करीबी हैं. हालांकि उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है. उनका कहना है कि उन्हें कोविड हुआ था, औऱ वो पिछले 15 दिनों से लगातार इलाज करा रहे थे, आइसोलेशन में थे, साहिबगंज में थे ही नहीं, इसलिए किसी से उनकी मुलाकात हुई ही नहीं है. उन्होंने भी सरकार से इस मामले की हाई लेवल जांच कराने की मांग की है. हालांकि इस पर अभी तक हेमंत सोरेन का कोई रिएक्शन नहीं आया है. BJP विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि किसी महिला थाना प्रभारी की मौत बड़ा मामला है, इसकी उच्च स्तरीय जांच होना चाहिए.

इस मामले में अभी तक कुछ साफ हुआ नहीं है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी आई नहीं है. मां ने अलग आरोप लगाए हैं, एक कथित ऑडियो अलग वायरल हो रखा है. और पुलिस केवल यही कह रही है कि अभी जांच चल रही है. हम भी यही चाहते हैं कि जांच जल्दी हो, और निष्पक्ष हो. मौत की सही वजह और कारण जल्द ही सामने आएं.


वीडियो देखें: कोविड अस्पतालों में भर्ती कोरोना पेशेंट्स पर लगते यौन शोषण के आरोपों की वजह क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

ऐसे गाने यूट्यूब पर डालने से पहले कोई चेक नहीं करता क्या?

'धीयां' गाने में ऐसी ऐसी बातें कह गए हैं सिंगर कि 'आ दीवार मुझे मार' कहने का मन होता है.

लेखिका ने पूछा- इस आपदा में RSS कहां है, पूर्व IPS अधिकारी ने जवाब में घिनौनी बात लिख दी

क्लास लगी तो ट्वीट डिलीट कर दिया.

कोरोना में पैरेंट्स को खो चुके बच्चों को गोद लेने की कोशिश में ये गलती न करें

किसी बच्चे को अडॉप्ट करने की लीगल प्रोसेस क्या है?

PM मोदी को आदर्श बताकर चुनाव लड़ने उतरीं मिस इंडिया रनर अप दीक्षा सिंह चुनाव हार गईं

यूपी पंचायत चुनाव में उन महिला उम्मीदवारों की भी पोजीशन जान लीजिए, जिनका नाम चर्चा में रहा.

कोविड वॉर्ड में भर्ती एक पेशेंट पर महिला मरीज के यौन शोषण का आरोप

पुलिस ने कहा- आरोपी की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

यूपी पंचायत चुनाव में ड्यूटी से लौटी आठ महीने की प्रेग्नेंट टीचर की कोरोना से मौत

परिवार का आरोप- चुनावी ड्यूटी न करने पर FIR की धमकी मिली थी.

कोविड अस्पताल में दिन-रात ड्यूटी करती रहीं नर्स, प्रेगनेंट हुईं तो बिना नोटिस नौकरी से निकाल दिया

प्रेगनेंट नर्स मैटरनिटी लीव मांगती रहीं, लेकिन सीधे मना कर दिया गया.

60 की उम्र में निशानेबाजी शुरू कर मेडल्स से घर पाट देने वाली 'शूटर दादी' चंद्रो तोमर नहीं रहीं

चंद्रो और उनकी शूटर देवरानी प्रकाशी पर फिल्म भी बनी थी- सांड की आंख.

सुतपा सिकदर: वो लड़की जिसके लिए इरफ़ान ज़िंदा रहना चाहते थे

जो खोज-खोजकर इरफ़ान की इच्छाएं पूरी किया करती थीं

लड़की ने सोशल मीडिया पर मांगी ऑक्सीजन, तो लोगों ने भेज दी प्राइवेट पार्ट की फोटो

कोरोना मरीजों के लिए मदद मांग रही लड़कियों को अश्लील मेसेज भेजने वाले ये कौन लोग हैं?