Submit your post

Follow Us

शादी का कार्ड बांटने निकली लड़की कई दिन बाद मिली; किडनैपिंग, गैंगरेप और बेचे जाने का आरोप

उत्तरप्रदेश का झांसी जिला. यहां से एक 18 साल की लड़की के साथ कथित तौर पर गैंगरेप का मामला सामने आया है. घटना 18 अप्रैल की बताई जा रही है. महिला अपनी शादी के कार्ड बांटने जा रही थी. तब उसका अपहरण किया. और उसका कथित रूप से गैंगरेप किया गया.

झांसी गैंगरेप का पूरा मामला क्या है?

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, लड़की की 21 अप्रैल को शादी थी. और वो 18 अप्रैल को अपनी शादी के कार्ड गांव में बांट रही थी. इस दिन तीन लोगों ने उसका अपहरण कर लिया और कथित तौर पर तीनों ने उसका रेप किया. पीड़िता ने आरोप लगाया है कि आरोपियों ने पहले कुछ दिन तक उसे अलग-अलग जगहों पर रखा और गैंगरेप किया. फिर कुछ दिनों बाद उसे एक नेता को बेच दिया. नेता ने उसे कुछ दिनों तक झांसी में रखा. बाद में पीड़िता की मर्ज़ी के खिलाफ उसे मध्य प्रदेश के दतिया में किसी और के साथ रहने के लिए भेज दिया.

पीड़िता को जांच और इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में भेजा गया है.

ऐसे मिली पुलिस को जानकारी

झांसी तहरौली पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज़ किया गया और आरोपियों की तलाश के लिए जांच टीम गठित की गई है. पुलिस ने 9 मई को कहा,

“FIR में पीड़िता ने आरोप लगाया है कि 21 अप्रैल को होने वाली अपनी शादी के कार्ड बांटने महिला अपने गांव जा रही थी. जहां 18 अप्रैल को गांव के तीन युवकों ने उसको किडनैप कर लिया. पीड़िता ने यह भी आरोप लगाया है कि उन्होंने उसे कुछ दिनों के लिए अलग-अलग जगहों पर रखा. फिर एक राजनीतिक दल के नेता को बेच दिया. नेता ने पहले उसे झांसी में रखा लेकिन कुछ दिन बाद पीड़िता को ज़बरदस्ती दतिया के एक गांव में किसी और के साथ रहने के लिए भेज दिया. जहां से लड़की ने अपने पिता को फोन किया. जिसके बाद पुलिस की मदद से उसे वहां से रेस्क्यू किया गया.”

तहरौली के सर्किल ऑफिसर अनुज सिंह ने इंडिया टुडे को बताया  कि विक्टिम का बयान मजिस्ट्रेट के सामने भी दर्ज कर लिया गया है. उन्होंने बताया कि मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है और आरोपियों कि खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.


मलयालम फिल्मों के एक्टर विजय ने रेप का आरोप लगाने वाली लड़की के साथ क्या किया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

'खाने वाली मिट्टी' ऑनलाइन तक बिकने लगी, डॉक्टर ने इसके पीछे की पोल खोल दी

'खाने वाली मिट्टी' ऑनलाइन तक बिकने लगी, डॉक्टर ने इसके पीछे की पोल खोल दी

सबकी पसंद और चॉइस अलग अलग है. किसी को कच्ची मिट्टी पसंद होती है, तो कोई भुनी मिट्टी खाता है, कोई चूल्हे से कुरेदकर तो कोई भट्टी में पकी मिट्टी खाने का शौकीन होता है.

कौन हैं सना इरशाद मट्टू जिन्हें दानिश सिद्दीकी के साथ पुलित्जर अवॉर्ड मिला है

कौन हैं सना इरशाद मट्टू जिन्हें दानिश सिद्दीकी के साथ पुलित्जर अवॉर्ड मिला है

कोविड के दौरान ली गई तस्वीर के लिए अवॉर्ड दिया गया है.

मैरिटल रेप पर दिल्ली HC के फैसले से ऐन पहले सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

मैरिटल रेप पर दिल्ली HC के फैसले से ऐन पहले सुप्रीम कोर्ट ने क्या कहा?

इंदिरा जयसिंह ने लिखा- उम्मीद है मैरिटल रेप जल्द अपराध की श्रेणी में लाया जाएगा.

सातवीं के लड़कों ने प्रिंसिपल को लिखी चिट्ठी- लड़कियां धर्राटे काट रही हैं

सातवीं के लड़कों ने प्रिंसिपल को लिखी चिट्ठी- लड़कियां धर्राटे काट रही हैं

लड़कों की शिकायत- लड़कियां नाम रखती हैं, डायलॉगबाजी करती हैं.

एक-तिहाई से ज्यादा महिलाएं घरेलू हिंसा से पीड़ित, NFHS की नई रिपोर्ट में डराने वाले खुलासे

एक-तिहाई से ज्यादा महिलाएं घरेलू हिंसा से पीड़ित, NFHS की नई रिपोर्ट में डराने वाले खुलासे

शारीरिक हिंसा के 80% से ज़्यादा मामलों में अपराधी पति होता है.

नसबंदी के बाद पुरुषों में सेक्स करने की क्षमता कम हो जाती है?

नसबंदी के बाद पुरुषों में सेक्स करने की क्षमता कम हो जाती है?

समझा जाता है कि नसबंदी से आदमी की सेक्स करने की ताकत कम हो जाएगी या जो आदमी बच्चा नहीं पैदा कर सकता तो काहे का मर्द.

फिल्म में नुसरत कॉन्डम सेल्स गर्ल बनीं, लोगों ने घटियापने की हद पार कर दी

फिल्म में नुसरत कॉन्डम सेल्स गर्ल बनीं, लोगों ने घटियापने की हद पार कर दी

नुसरत बरूचा की फिल्म 'जनहित में जारी' 10 जून को रिलीज़ हो रही है.

मंदिरा बेदी को ऐसा क्या कहा गया कि उन्होंने इंस्टाग्राम तस्वीर का कमेंट बॉक्स ही बंद कर दिया?

मंदिरा बेदी को ऐसा क्या कहा गया कि उन्होंने इंस्टाग्राम तस्वीर का कमेंट बॉक्स ही बंद कर दिया?

जिस वक़्त पर मंदिरा को सपोर्ट करना चाहिए था उस वक़्त भी कुछ लोगों ने उन्हें जज किया, ओछी बातें कहीं.

राहुल गांधी जिस सहेली की शादी में नेपाल गए, उनका पूरा सच ये है!

राहुल गांधी जिस सहेली की शादी में नेपाल गए, उनका पूरा सच ये है!

कौन हैं सुम्निमा उदास?

पूर्व AAP पार्षद निशा सिंह कौन हैं, जिन्हें हिंसा 'भड़काने' के लिए 7 साल की सजा हुई है?

पूर्व AAP पार्षद निशा सिंह कौन हैं, जिन्हें हिंसा 'भड़काने' के लिए 7 साल की सजा हुई है?

निशा सिंह गूगल की नौकरी छोड़ राजनीति में आई थीं.