Submit your post

Follow Us

जमशेदपुर के अस्पताल में प्रेग्नेंट महिला के साथ जो हुआ वो रूह कंपा देने वाला है!

झारखंड का जमशेदपुर. यहां रहने वाली एक औरत ने महात्मा गांधी मेमोरियल (MGM) अस्पताल के स्टाफ पर लापरवाही और भद्दा बर्ताव करने का आरोप लगाया है. ‘आज तक’ से जुड़े अनूप सिन्हा ने जानकारी दी कि 30 बरस की इस महिला का मिसकैरेज हो गया है.

महिला ने क्या आरोप लगाए?

फरहीन (बदला हुआ नाम) कहती हैं कि वो प्रेगनेंट थीं. 16 अप्रैल को उनकी हालत बहुत खराब हो गई थी. उन्हें ब्लीडिंग हो रही थी. उन्हें MGM अस्पताल ले जाया गया. जहां अस्पताल के स्टाफ ने उनसे ठीक से बात नहीं की. ठीक से चेकअप नहीं किया. इसके अलावा उनसे अपना खून साफ करने के लिए भी कहा. अस्पताल के स्टाफ ने उन पर कोरोना फैलाने का आरोप भी लगाया. फरहीन ने अपनी कहानी बताते हुए कहा,

‘मुझे अस्पताल के लेबर रूम ले जाया गया. वहां सिस्टर, डॉक्टर किसी ने मेरी मदद नहीं की. मैं गिर रही थी. मैंने उनसे कहा कि मेरी मदद करिए. पलंग ऊंचा था, मैं उस पर चढ़ नहीं पा रही थी. इसलिए मदद मांगी. उन्होंने कहा कि खुद से चढ़ो. मैं किसी तरह पलंग में चढ़ी. तब तक मेरी ब्लीडिंग और बढ़ गई. पूरा पलंग गंदा हो गया. फर्श गंदा हो गया. स्टाफ ने मुझसे कहा कि अपने कपड़े खुद उतारो. मैंने मदद मांगी, तो कहा, ‘यहां तमाशा करने आई हो’. मैंने कहा कि आप मेरे घर के लोगों को अंदर भेज दो, उन्होंने कहा कि वैसे ही पड़ी रहो. मुझे करीब 10 मिनट तक वैसे ही छोड़ दिया.’

आगे फरहीन ने बताया कि कुछ देर बाद एक डॉक्टर आईं. उन्होंने बिना चेकअप किए इलाज शुरू कर दिया. फरहीन ने आगे कहा,

‘मेरे एक पैर में बहुत तकलीफ थी. अभी भी है. उन्होंने पता नहीं मेरे पैर को कैसे किया कि दर्द और बढ़ गया. मैं चीखी. मुझसे कहा कि चिल्लाओ मत. उसके बाद मेरे पैर में पांच-छह थप्पड़ मारे. जब दर्द बढ़ गया, तो मैं घर के लोगों के बुलाने के लिए चिल्लाने लगी. उन्होंने (स्टाफ) फिर मुझसे मेरा नाम पूछा. मैंने नाम बताया. इतने में मेरे घर के लोग आ गए. मैंने उनसे कहा कि मुझे लेकर चलो.’

Mgm
MGM मेडिकल कॉलेज और अस्पताल की बिल्डिंग. मामले में अस्पताल के किसी भी स्टाफ के खिलाफ अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. पुलिस का कहना है कि कमिटी की रिपोर्ट आने के बाद ही एक्शन लिया जाएगा. फोटो क्रेडिट- MGM वेबसाइट.

आगे फरहीन ने बताया कि वो वहां से जाने के लिए ज़मीन पर उतरीं, तो उनकी ब्लीडिंग और बढ़ गई. वो अपने घर वालों के साथ बाहर जाने लगीं, तो अस्पताल के स्टाफ ने उनसे कहा कि पहले वो फर्श पर पड़ा खून साफ करें. फरहीन बताती हैं,

‘मेरी बहन ने उनसे कहा कि मेरी हालत ठीक नहीं है, ऐसी बात न करें. इस पर उन्होंने कहा कि मरीज़ खुद साफ करके जाए. फिर मैंने कहा कि मैं साफ नहीं करूंगी. मैंने इतना बोला ही था कि उन्होंने चप्पल उताकर मुझे मारना शुरू कर दिया. फिर मैंने अपने भाई को आवाज़ दी. मेरे भाई-बहन मुझे लेबर रूम से बाहर लेकर गए.’

फरहीन ने बताया कि दो नर्सों ने उनके साथ ऐसा बर्ताव किया. साथ ही ये भी कहा कि उनके चेहरे पर मास्क था, लेकिन वो उन्हें पहचान सकती हैं. आगे बताया,

‘जब हम बाहर जाने लगे, तो एक नर्स ने कहा ‘जाओ-जाओ, तुम लोगों की वजह से तो कोरोना फैल रहा है. तुम लोग पूरा गंदगी फैलाकर रखी हो.’ उसके बाद बहुत गंदी-गंदी गाली देने लगी.’

फरहीन ने बताया इन सबके बाद उनके भाई-बहन उन्हें लेकर बाहर चले गए. ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की रिपोर्ट के मुताबिक, इस घटना के बाद उन्हें एक दूसरे नर्सिंग होम ले जाया गया, जहां पता चला कि उनका मिसकैरेज हो गया है.

Pregnant Woman
महिला का मिसकैरेज हो चुका है. MGM अस्पात के बाद उसे पास के एक नर्सिंग होम ले जाया गया था. जहां मिसकैरेज का पता चला. प्रतीकात्मक तस्वीर- Pixabay.

क्या कहता है अस्पताल प्रशासन?

इस मुद्दे पर ‘द लल्लनटॉप’ ने MGM अस्पताल के सुपरिटेंडेंट डॉक्टर संजय कुमार से बात की. उन्होंने बताया कि फरहीन ने लिखित शिकायत जमशेदपुर के डिप्टी कमिश्नर (DC) डॉ रवि शंकर शुक्ला को दी है. उन्होंने मामले की जांच के लिए एक कमिटी बनाई है. डॉक्टर संजय कुमार ने कहा,

’18 अप्रैल को उन्होंने (फरहीन) ने लिखित में शिकायत दी है. उसी रात जांच कमिटी बना दी गई. जांच के बाद पता चलेगा कि क्या होगा.’

जब उनसे पूछा गया कि जांच खत्म होने की उम्मीद कब तक है? तो उन्होंने जवाब दिया,

‘ये हम नहीं बता सकते. DC ही बता पाएंगे. अस्पताल की तरफ से कमिटी में डिप्टी सुपरिटेंडेंट डॉक्टर नकुल चौधरी हैं.’

पुलिस ने अब तक क्या किया?

‘द लल्लनटॉप’ ने इस मामले में जमशेदपुर के सीनियर सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस (SSP) अनूप बिरथरे से बात की. उन्होंने बताया कि फरहीन ने अब तक कोई FIR नहीं कराई है, केवल ज़िला प्रशासन को लिखित में शिकायत दी है. आगे कहा,

‘क्योंकि ये मामला अस्पताल के अंदर का है. मेडिकल डिपार्टमेंट से जुड़ा हुआ है. इसलिए इसमें DC साहब ने जांच के लिए एक टीम (कमिटी) बनाई. जिसमें दो मजिस्ट्रेट हैं. एक मेल और एक फीमेल. एक पुलिस अधिकारी और MGM के डिप्टी सुपरिटेंडेंट शामिल हैं. टीम को एक रिपोर्ट तैयार करने को कहा गया है. उन लोग आज (20 अप्रैल) को रिपोर्ट देंगे, तब चीज़ें साफ होंगी कि क्या किया जाना है. क्योंकि घरवालों ने पुलिस को लिखकर कुछ नहीं दिया है अभी. इसलिए रिपोर्ट आने के बाद ही हम एक्शन लेंगे. अगर किसी की लापरवाही सामने आएगी तो उस पर कार्रवाई होगी.’

मामले की जांच चल रही है. FIR नहीं हुई है. DC के पास लिखित शिकायत की गई है. जैसे ही जांच कमिटी की रिपोर्ट आएगी, हम आप तक जानकारी पहुचाएंगे.


वीडियो देखें: लॉकडाउन में पति राजस्थान में फंसे थे, भोपाल में दृष्टिहीन पत्नी से रेप हो गया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

इलाज के बाद एंबुलेंस तक नहीं मिली, 23 किमी पैदल चलकर घर पहुंची 75 साल की महिला

असम के जोरहाट की ख़बर है.

पूरी दुनिया कह रही है, इन सात महिला नेताओं से सीखो कोरोना वायरस से कैसे लड़ना है

ऐसा क्या किया इन्होंने कि इनके देश में कोरोना हारने को है?

सोना महापात्रा ने कंगना की बहन रंगोली को सपोर्ट किया, लोग अनफॉलो करने लगे

तबलीगी जमात पर ट्वीट के चलते रंगोली का अकाउंट सस्पेंड हुआ है.

कोरोना: शाही बहू ने पहने अस्पताल कर्मी के कपड़े, सफाई वगैरह का काम करेंगी

अस्पताल में छोटे काम कर हेल्थ वर्कर्स को सहारा देंगी.

बिना ब्रा पहने वीडियो बनाया था, ट्रोल हुईं तो एक और वीडियो बनाकर कसर पूरी कर दी

एक्ट्रेस पद्मलक्ष्मी- 1, ट्रोल्स- 0

रंगोली चंदेल का विरोध करने वाले ये लोग खुद रंगोली जैसी हिंसक और घटिया सोच रखते हैं

'जमाती' से जुड़े ट्वीट के बाद कंगना रनौत की बहन रंगोली को लपेटा गया है.

11 महीने का बच्चा कोरोना पॉजिटिव निकला, मां आठ दिन से अस्पताल में साथ लिए बैठी है

इंदौर के इंडेक्स मेडिकल कॉलेज में वहां का सबसे कम उम्र का कोरोना पेशेंट.

इस राज्य की 70 लाख आम औरतों ने बता दिया कि कोरोना के आगे कभी हार नहीं मानेंगी

20 लाख मास्क बनाये. लोगों के घर तक सब्ज़ियां पहुंचा रही हैं.

भारत के सबसे अमीर आदमी मुकेश अंबानी को पछाड़ने वाली ये महिला कौन हैं?

मैकेंजी बेज़ोस कौन सी रेस में आगे निकल गई हैं?

बोल-सुन नहीं सकतीं, लेकिन लॉकडाउन में लोगों की मदद कर रही हैं ये महिला

नसीमा बेगम ने फैसला लिया था कि जो उनके बस में होगा, वो करेंगी.