Submit your post

Follow Us

मांगलिक दोष हटाने के लिए महिला टीचर ने 13 साल के स्टूडेंट से शादी कर डाली

पंजाब का जालंधर जिला. यहां का बस्ती बवा खेल इलाका. एक टीचर ने अंधविश्वास के चक्कर में अपने स्टू़डेंट से ही शादी कर ली. स्टूडेंट की उम्र मात्र 13 साल. टीचर ने उसके साथ ‘सुहागरात’ की रस्म भी निभाई. और बात केवल यहीं तक नहीं रुकी. एक हफ्ते के भीतर ही टीचर को विधवा घोषित किया गया. फिर शोक सभा भी बुलाई गई. यह सिर्फ इसलिए क्योंकि टीचर को अपनी कुंडली से कथित मांगलिक दोष को हटाना था.

क्या है मामला?

इंडिया टुडे से जुड़े मंजीत सहगल की रिपोर्ट के मुताबिक टीचर की शादी नहीं हो रही थी. ऐसे में उसके घरवाले परेशान थे. परेशानी यह कि लड़की कि कुंडली में कथित ‘मांगलिक दोष’ है. रिपोर्ट के मुताबिक एक पुजारी भी ‘मांगलिक दोष’ पर जोर दे रहा था. ऐसे में पुजारी ने टीचर के घरवालों को विशुद्ध अंधविश्वास से तुपा हुआ आइडिया दे डाला. पुजारी ने कहा कि किसी नाबालिग बच्चे के साथ लड़की की सिम्बोलिक यानी कि प्रतीकात्मक शादी करानी पड़ेगी. इससे उसका ‘मांगलिक दोष’ खत्म हो जाएगा.

जब पुजारी का सड़ा गला आइडिया टीचर के घरवालों को जंच गया, तो फिर प्लान बनाया गया. टीचर ने उसके पास ट्यूशन पढ़ने आने वाले एक 13 साल के बच्चे को बलि का बकरा बनाया. टीचर ने बच्चे के पैरेंट्स को बताया कि बच्चे को ट्यूशन के लिए एक हफ्ते तक टीचर के घर पर ही रुकना पड़ेगा. बच्चे के माता पिता ने भी हामी भर दी. सात दिन बीत गए. बच्चा वापस घर आया. पूरी कहानी बताई. शॉक्ड पैरेंट्स तुरंत पुलिस स्टेशन पहुंचे. अपनी शिकायत में उन्होंने बताया-

“टीचर और उनके परिवार ने जबरदस्ती शादी की रस्में निभाईं. इनमें हल्दी-मेंहदी और सुहागरात की भी रस्में शामिल थीं. बाद में टीचर को विधवा घोषित किया गया. उसके कंगन तुड़वाए गए. यहां तक कि शोक सभा भी आयोजित की गई. इन सबके दौरान बच्चे को कर्मकांड और दूसरे घरेलू काम करने के लिए भी मजबूर किया गया. उसे घर वापस नहीं आने दिया गया.”

पुलिस ने क्या बताया?

शिकायत के बाद टीचर थाने पहुंची. केस को रफा दफा करने के लिए बच्चे के परिवार पर दबाव डाला. जिसके चलते परिवार ने शिकायत वापस ले ली. बस्ती बवा खेल पुलिस थाने के SHO गगनदीप सिंह ने बताया कि पुलिस को शिकायत मिली थी लेकिन दोनों परिवार के बीच हुए समझौते के बाद वो वापस हो गई. हालांकि, सीनियर पुलिस अधिकारियों ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच के आदेश दिए हैं. जालंधर के DSP गुरमीत सिंह ने बताया कि बच्चा नाबालिग है और उसे एक घर में बंद रखना गैरकानूनी है. इस पूरे मामले की जांच चल रही है. दूसरी तरफ अभी तक उस टीचर और उसके घरवालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है. इस मामले के कानूनी पहलू जानने के लिए हमने एडवोकेट देविका से बात की. उन्होंने बताया-

“ये किडनैपिंग का मामला है. धोखे से बच्चे को किडनैप किया गया और फिर गैरकानूनी काम किए गए. इसमें केवल टीचर ही नहीं बल्कि उसके परिवार वाले और पुजारी को भी बुक किया जा सकता है. ये मामला पॉक्सो के तहत भी आता है. जैसा कि जिक्र है कि सुहागरात की रस्म निभाई गई. पॉक्सो एक्ट के अलग-अलग सेक्सशन के तहत सबको सजा हो सकती है.”

आखिर में यही कि ये पूरी कहानी पागलपन से भरी हुई है. जिसे सुनकर घिन आती है. घिन इसलिए क्योंकि एक तो इसमें एक नाबालिग को अजीब तरह की क्रूरता और सनकपन से जूझना पड़ा और दूसरा ये कि हमारे देश के संविधान में एक शब्द का जिक्र है. उसे वैज्ञानिक चेतना कहते हैं. संविधान आशा करता है कि सरकारें और नागरिक इस वैज्ञानिक चेतना से प्रेरित होकर तर्कसंगत व्यवहार करें. लेकिन ऐसा होता नहीं है.  वैसे आपने सुना तो होगा कि कथित मांगलिक दोष को दूर करने के लिए पेड़ और जानवरों के साथ महिलाओं की शादी कराई जाती है. ऐसी कई खबरें समय-समय पर आती रहती हैं. लेकिन किसी नाबालिग के साथ शादी की रस्मों को निभाने का यह केस अपने आप में यूनीक है.

कंजरवेटिव लोग ‘मांगलिक दोष’ को लेकर बेमतलब का डर भर देते हैं. कहा जाता है कि एक मांगलिक की शादी किसी दूसरे मांगलिक के साथ ही होनी चाहिए, नहीं तो अनर्थ हो जाता है. मसलन, पति पत्नी के रिश्तों में खटास आ जाती है. उनका स्वास्थ्य खराब हो जाता है. दोनों के बीच तनाव बढ़ जाता है, जो घरेलू हिंसा का भी रूप भी ले लेता है. ये सब उल्टे सीधे दावे हैं. इनका कोई ठोस आधार नहीं. अपनी दुकान चलाने और समाज को अंधविश्वासी बनाए रखने का जरिया भर हैं. क्या किसी आदमी का जीवन किसी दूसरे ग्रह की गति और चाल से प्रभावित होगा या फिर उसके द्वारा लिए गए फैसलों से? जो कपल मांगलिक नहीं होते, क्या उनके जीवन में कोई खटास नहीं आती. क्या उम्र से पहले हादसों का शिकार हो जान गंवाने वाले हर व्यक्ति का पार्टनर मांगलिक होता है? हमारे देश में आए दिन महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा की खबरें आती हैं. वो मार डाली जाती हैं, जला दी जाती हैं. क्या ये सभी महिलाएं ‘मांगलिक’ ही होती हैं?

एडवोकेट देविका.
एडवोकेट देविका.

हमारी फिल्मों और टीवी पर भी ‘मांगलिक दोष’ को बहुत बढ़ा चढ़ाकर दिखाया जाता है. लेकिन आपको लगता है कि केवल काल्पनिक शोज़ ही इस तरह की सोच को बढ़ावा देते हैं. तो आप गलत हैं. सबसे बड़ा उदाहरण तो ऐश्वर्या राय और अभिषेक बच्चन की शादी का है. ऐश्वर्या को मांगलिक बताया गया था. सिर्फ इतना ही नहीं, उनका कथित मंगल दोष मिटाने के लिए कई मंदिरों ने दावेदारी की थी. अभिषेक से शादी होने से पहले ऐश्वर्या की शादी पीपल के पेड़ से कराई गई थी. पूरे देश ने देखा था कि किस तरह हमारे स्टार्स भी इस तरह की रूढ़ियों से घिरे हुए हैं.

खैर, हम कह सकते हैं कि ये बच्चन परिवार का प्राइवेट मसला था. प्राइवेट में रहकर हम अपने बिलीफ फॉलो करें, कितने भी कर्म काण्ड मानें, कितने भी अन्धविश्वासी हो जाएं, चल जाता है. लेकिन अगर अपनी इन मान्यताओं को हम इस तरह दूसरों पर थोपने लगें. कि अपना उल्लू सीधा करने के लिए एक वयस्क एक नाबालिग से शादी कर ले. तो ये न केवल मूर्खतापूर्ण है. बल्कि गैर कानूनी भी है.

वीडियो- प्रेगनेंसी के 24 हफ्ते तक एबॉर्शन की मंज़ूरी देने वाले MTP बिल 2020 का विरोध क्यों?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

बड़ी-बड़ी कंपनियों की बनाई लिपस्टिक का जो सच सामने आया वो डराने वाला है

बड़ी-बड़ी कंपनियों की बनाई लिपस्टिक का जो सच सामने आया वो डराने वाला है

क्या आप जानते हैं कि पहली बार कब लिपस्टिक का इस्तेमाल हुआ?

हर्षद मेहता का भंडाफोड़ करने वाली सुचेता दलाल की कहानी, जिनसे अब भी ये अजीब सवाल पूछते हैं लोग

हर्षद मेहता का भंडाफोड़ करने वाली सुचेता दलाल की कहानी, जिनसे अब भी ये अजीब सवाल पूछते हैं लोग

धमकियां मिली, मानहानि का केस हुआ, करियर पर बन आई, फिर भी फर्ज़ से न हिलने वाली पत्रकार से मिलिए.

टेस्ट शुरू होने से पहले ही बेमंटी पर उतरा इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड?

टेस्ट शुरू होने से पहले ही बेमंटी पर उतरा इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड?

ऐसी पिच दी कि इंग्लैंड टीम भी गुस्सा है.

'प्रड्यूसर से शादी करो, फिल्म लिखने का क्रेडिट मिलेगा': डायरेक्टर की बात पर इंडस्ट्री में बवाल

'प्रड्यूसर से शादी करो, फिल्म लिखने का क्रेडिट मिलेगा': डायरेक्टर की बात पर इंडस्ट्री में बवाल

'हसीन दिलरुबा' फिल्म की राइटर कनिका ढिल्लों पर किस डायरेक्टर ने कही ये बात?

गूची के बेल्ट से इंटरनेट तोड़ने वाली मम्मी का वीडियो इंटरनेट पर आया कैसे, बेटी ने बताई कहानी

गूची के बेल्ट से इंटरनेट तोड़ने वाली मम्मी का वीडियो इंटरनेट पर आया कैसे, बेटी ने बताई कहानी

लोग बोले- अरे! ई तो हमरी मइया जैसी है.

पुलित्ज़र पाने वाली रिपोर्टर की कहानी, डरकर जिस पर चीन ने बैन लगा दिया था

पुलित्ज़र पाने वाली रिपोर्टर की कहानी, डरकर जिस पर चीन ने बैन लगा दिया था

जानिए, चीन के बैन के बाद भी मेघा राजगोपालन ने कैसे पूरी की उइगर मुसलमानों पर अपनी रिपोर्ट.

महिलाओं को पुजारी बनाने की TN सरकार की घोषणा पर बवाल, लोग बोले मस्जिद और चर्च में करके दिखाओ!

महिलाओं को पुजारी बनाने की TN सरकार की घोषणा पर बवाल, लोग बोले मस्जिद और चर्च में करके दिखाओ!

तमिलनाडु बीजेपी ने राज्य सरकार के कदम का समर्थन किया है.

सुशांत की मौत के एक साल बाद रिया चक्रवर्ती क्या कर रही हैं?

सुशांत की मौत के एक साल बाद रिया चक्रवर्ती क्या कर रही हैं?

कितनी फिल्में की या कितने टीवी शो में काम मिला?

सुशांत से जुड़ी पांच औरतें जो उनकी मौत के बाद खबरों में बनी रहीं

सुशांत से जुड़ी पांच औरतें जो उनकी मौत के बाद खबरों में बनी रहीं

सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून, 2020 को मुंबई के अपने फ्लैट में सुसाइड कर लिया था.

कहानी ट्रांस महिला डॉ अक्सा शेख की, जो पूरा एक कोविड वैक्सिनेशन सेंटर संभाल रही हैं

कहानी ट्रांस महिला डॉ अक्सा शेख की, जो पूरा एक कोविड वैक्सिनेशन सेंटर संभाल रही हैं

बचपन का अकेलापन, सुसाइड का ख्याल, डिप्रेशन से जूझकर खुद को दी नई पहचान.