Submit your post

Follow Us

भारत की पहली कोरोना वायरस मरीज ने बताया, हॉस्पिटल वाले रोज उनके कपड़े क्यों जला देते थे

20 साल की लड़की, जो भारत में कोरोना वायरस की पहली पॉजिटिव पेशेंट निकली थी, वो पूरी तरह ठीक हो गई है. केरल के त्रिशूर मेडिकल हॉस्पिटल में भर्ती इस लड़की की जांच में कोरोना वायरस अब नेगेटिव पाया जा चुका है. वो घर भी आ गई हैं. आखिर किस तरह उसका डायग्नोसिस हुआ और किस तरह वो ठीक हुईं, उसकी पूरी कहानी पढ़िए यहां.

केस का बैकग्राउंड क्या है?

चीन में पढ़ने वाली 20 साल की ये मेडिकल स्टूडेंट कुछ और स्टूडेंट के साथ चीन से भारत आई थीं. वो चीन के वुहान में पढ़ रही थीं, जहां कोरोना वायरस का सबसे पहला और भारी अटैक हुआ था. जब उन्हें जुकाम और बुखार हुआ, तो वो डॉक्टर के पास जांच कराने पहुंचीं. एक के बाद एक टेस्ट हुए. वो हॉस्पिटल में ही थीं, जब भारत में नॉवेल कोरोना वायरस का पहला पॉजिटिव केस मिलने की खबर आई. कन्फर्मेशन के बाद पता चला कि वही पहली पॉजिटिव मरीज थीं.

Who Twitter Corona 700
WHO (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ने कोरोना को वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है. (सांकेतिक तस्वीर: WHO Twitter)

वायरस का पता चलने के बाद क्या हुआ?

डेकन हेराल्ड को दिए इंटरव्यू में लड़की ने बताया,

‘जैसे ही डॉक्टर्स ने कन्फर्म किया कि मैं कोरोना पॉजिटिव हूं, मैंने अपने साथ वहां से आए तकरीबन 20 लोगों को फोन कर इस बात की जानकारी दी. उनसे भी कहा कि वो सावधान रहें. मेरी सेहत ठीक थी. मुझे दूसरी कोई बीमारी नहीं थी, इसलिए मैं निश्चिन्त थी कि मैं ठीक हो जाऊंगी. मेरे अधिकतर रिलेटिव और दोस्त मुझसे मिलने आए, मेरे पूरी तरह वायरस फ्री होने के बाद. लेकिन पब्लिक का ध्यान खींचने से बचने के लिए मैं अपनी पहचान अभी उजागर नहीं करना चाहती.’

‘नवभारत टाइम्स’ में छपी रिपोर्ट के अनुसार, लड़की ने बताया कि जब वो आइसोलेशन वार्ड में थीं, तब डॉक्टर रोज़ उनके पहने हुए कपड़े जला देते थे. कहते थे कि अपना फोन बिलकुल साफ़ रखना है. यही नहीं, आइसोलेशन वार्ड में बिलकुल अलग-थलग रहने पर अगर बेचैनी या अजीब सा लगता था, तो उन्हें सांस लेने की एक्सरसाइज कराई जाती थी.

Random Sad Woman Pixabay 700
जिस लड़की का ये केस है, उन्होंने अपना नाम और पहचान उजागर नहीं करने की बात की. वो पब्लिक अटेंशन से बचना चाहती हैं. (सांकेतिक तस्वीर: पिक्साबे)

कब रिलीज हुईं?

इनके टेस्ट 11 फरवरी को ही नेगेटिव आ गए थे, लेकिन कन्फर्मेशन का इंतज़ार था. आखिरकार 20 फरवरी को उन्हें त्रिशूर मेडिकल हॉस्पिटल से रिलीज किया गया. लेकिन सावधानी बरतने के लिए 1 मार्च तक उन्हें घर में क्वारंटाइन करके रखा गया था. अब उनकी कहानी सामने आई है. अभी वो अपनी पहचान ज़ाहिर नहीं करना चाहतीं, इसलिए उनका नाम और उनका चेहरा यहां नहीं दिखाया गया है.

जब चीन में कोरोना वायरस कंट्रोल कर लिया जाएगा, उसके बाद वो वापस वहां जाकर अपनी डिग्री पूरी करेंगी. उनकी क्लास पहले ही ऑनलाइन शुरू हो गई हैं.


वीडियो: कोरोना वायरस से बचने के लिए भारत ने ख़ुद को दुनिया से ‘कोरोंटाइन’ कर लिया !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

BJP सांसद के पति पर महिला ने लगाए शोषण के आरोप, बोली- रात 1 बजे घर में घुस आए थे

सांसद रंजीता कोली और पूर्व सांसद ससुर ने आरोपों को गलत बताया, कहा- ये राजनीतिक साजिश है

महिला का आरोप- सात आदमियों ने पहले पोल्ट्री फार्म और फिर होटल में गैंगरेप किया

लिफ्ट देने के नाम पर गाड़ी में बिठाया था.

भदोही: जिस लड़की के रेप-मर्डर की बात पर बवाल हुआ, उसके दूसरे PM रिपोर्ट में क्या निकला?

पुलिस ने बताया कि दोबारा पोस्टमॉर्टम क्यों किया गया.

आगरा : डॉक्टर लड़की ने शादी से इनकार कर दिया था, लड़के ने गला दबाकर मार डाला!

हत्या का आरोपी भी डॉक्टर है, मेडिकल ऑफिसर है.

भदोही रेप और मर्डर केस: पुलिस ने ऐसा क्या ट्वीट किया कि डिलीट करना पड़ गया

अपनी ही सरकार को लेकर पुलिस ने कुछ कहा था.

वायरल वीडियो में बोली लड़की- पहले हिंदू बनकर शादी की, फिर जबरन धर्म बदलवा दिया

ग्वालियर की लड़की ने कश्मीर में बताई आपबीती, कुल्हाड़ी से गला काटने वाले थे

बच्ची की प्रेग्नेंसी को सात महीने हो गए तब पता चला महीनों से उसका रेप हो रहा था

आरोपी जान से मारने की धमकी देता था.

BJP विधायक पर रेप का आरोप, महिला ने कहा- मेरी बच्ची का DNA टेस्ट करा लें

दो दिन पहले विधायक की पत्नी ने केस दर्ज कराया था, 5 करोड़ मांग रही है महिला

गोरखपुर: नाबालिग से रेप करने के बाद शरीर के कुछ हिस्सों को सिगरेट से जलाया

पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

बेटी के यौन शोषण की रिपोर्ट दर्ज कराई, घर पहुंचते ही आरोपी ने मार डाला

हैंड पंप को लेकर हुआ था झगड़ा. कुल्हाड़ी से काटकर हत्या