Submit your post

Follow Us

रेलवे स्टेशन पर सामान ढोती इन महिलाओं की तस्वीर में दिक्कत क्या है?

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस. 8 मार्च को मनाया जाता है. इसी सिलसिले में रेल मंत्रालय ने ट्वीट किया. तीन तस्वीरें डालीं जिनमें महिला पोर्टर्स (सामान उठाने वाली) अपना काम करते हुए दिख रही हैं. इसके साथ रेल मंत्रालय ने ट्वीट किया:

भारतीय रेलवे के लिए काम करते हुए इन महिला कुलियों ने ये साबित कर दिया है कि ये किसी से कम नहीं हैं. हम उन्हें सलाम करते हैं.

इस ट्वीट के बाद रेल मंत्रालय को मिले जुले रिएक्शन देखने को मिले. किसी ने ट्वीट करके कहा, यही महिला सशक्तिकरण है. एक अकाउंट ने लिखा,

इन बहादुर महिलाओं को कोई जबरन ये मेहनत वाला काम करने के लिए मजबूर नहीं कर रहा. कई महिलाएं खेतों में काम करती हैं. उसमें भी मेहनत होती है. इसलिए कड़ी मेहनत कर ईमानदारी से अपने परिवार के लिए चंद पैसे कमाने में कुछ भी गलत नहीं है.

वहीं कई लोगों ने रेलवे को इस बात पर खरी-खोटी सुनाई है. एक अकाउंट ने लिखा:

प्रिय रेलवे,

कुछ तो शर्म करो. ये बेचारी मजबूरी में कुली का काम कर रही हैं. अगर आप इन्हें इसके बदले कोई दूसरा काम दे सकें तो.

ध्यान से देखें तो अधिकतर ट्वीट रेल मंत्रालय के ट्वीट की तारीफ कर रहे हैं. उनके लिए ये महिला सशक्तिकरण है. जो इसकी आलोचना कर रहे हैं, उनमें से अधिकतर का ये कहना है कि महिलाएं बोझा ढोने के लिए थोड़े ही बनी हैं. शशि थरूर ने ट्वीट किया.

ये कितनी शर्म की बात है. लेकिन इसके लिए शर्माने के बजाए हमारा रेल मंत्रालय गरीब औरतों के भारी बोझा ढोने के शोषण की बात पर गर्व कर रहा है?

तीन चीज़ें हैं

#1.डिग्निटी ऑफ वर्क. यानी श्रम का बराबर सम्मान. चाहे वो एक सड़क साफ करने वाला आदमी हो, या जहाज का इंजन फिट करती इंजिनियर. काम सभी के आवश्यक हैं. इसमें गैर–बराबरी हमारे क्लासिस्ट (वर्ग भेदी) नज़रिए को दिखाता है. सामान उठाने को नीचा काम मानना गलत है.

#2. पुरुष हो या महिला, सभी को अपनी आजीविका के लिए काम करने का हक़ है. सभी को बराबर मौके मिलने चाहिए.

#3.जब खेतों में काम करने वाली, बोझा उठाने वाली महिलाओं के चेहरे इतनी तारीफ़ इकठ्ठा करते हैं. तो इन महिलाओं के अपने श्रम से पैसे कमाने पर क्या दिक्कत है?

Coolie W 1 700
सबकी मेहनत का मूल्य समान होना चाहिए. छोटे से छोटे काम से लेकर बड़े कॉर्पोरेट घरानों तक. (तस्वीर: ट्विटर)

हां. रेलवे को बैट्री चालित वाहन लगाने चाहिए. ट्रॉलियां देनी चाहिए यात्रियों को, जैसा एयरपोर्ट्स पर होता है. लेकिन जब तक वो सुविधा सभी के लिए उपलब्ध नहीं हो जाती, तब तक इस काम में जेंडर को लाना गलत ही कहा जाएगा.

जिस एक बात से दिक्कत होनी चाहिए फिलहाल, वो कुली शब्द का इस्तेमाल है. पुरुष हों या महिला, उनके लिए इस शब्द का इस्तेमाल करना गलत है. कई दशक पहले बंधुआ मजदूरी के लिए चीन, और कैरेबियाई देशों में भारत और आस पास के देशों से लोग भेजे गए.उन्हें कुली कहा गया. भारत में ये शब्द स्टेशन वगैरह पर सामान उठाने वाले सहायकों के लिए इस्तेमाल होता था.

Woman Coolie 700
सिर्फ पुरुष ही नहीं, महिलाएं भी बंधुआ मजदूर के तौर पर भेजी गई थीं. ऐसी ही एक ‘कुली महिला’ की तस्वीर. (तस्वीर:विकिमीडिया)

इसके पीछे वजह ये भी थी कि जब ट्रेन और पानी की जहाज की यात्रा ही इकलौता साधन थे तब बंधुआ मजदूर बड़े बाबुओं और मेम साहब के बड़े बक्से उठाकर लोड करते थे. इस शब्द को बेहद नस्लभेदी माना जाता है. आज पुरुषों के लिए भी स्टेशनों पर कुली शब्द इस्तेमाल नहीं होता. पोर्टर/सहायक कहा जाता है. आम बोलचाल में भले ये शब्द इस्तेमाल होता हो. लेकिन रेल मंत्रालय का अकाउंट एक ऑफ़िशियल अकाउंट है. भारत सरकार का. इस तरह के शब्द उनकी तरफ से तो नहीं ही कहे जाने चाहिए.


वीडियो: क्या है सिस्टर अभया का केस, जो केरल की अब तक की सबसे लम्बी मर्डर इन्वेस्टिगेशन है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

BJP विधायक पर रेप का आरोप, महिला ने कहा- मेरी बच्ची का DNA टेस्ट करा लें

दो दिन पहले विधायक की पत्नी ने केस दर्ज कराया था, 5 करोड़ मांग रही है महिला

गोरखपुर: नाबालिग से रेप करने के बाद शरीर के कुछ हिस्सों को सिगरेट से जलाया

पुलिस ने पॉक्सो एक्ट के तहत केस दर्ज कर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

बेटी के यौन शोषण की रिपोर्ट दर्ज कराई, घर पहुंचते ही आरोपी ने मार डाला

हैंड पंप को लेकर हुआ था झगड़ा. कुल्हाड़ी से काटकर हत्या

सुदीक्षा भाटी की मौत का मामला: पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर घटना की एक-एक जानकारी दी

10 अगस्त को हुई थी घटना, पुलिस ने छेड़छाड़ की बात पर क्या कहा?

यूपीः नाबालिग से गैंगरेप के बाद हत्या, आंख फोड़ने और जीभ काटने के दावे पर पुलिस ने क्या कहा?

लखीमपुर खीरी पुलिस ने दो आरिपोयों को गिरफ्तार किया.

सास की हत्या कर सब्जी वाली बोरी में लाश भरी, टैक्सी से ठिकाने लगाने निकली बहू पकड़ी गई!

आरोप है कि महिला ने अपने माता-पिता के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया.

भांजी की ऑनलाइन स्टडी के लिए स्कूल के वॉट्सऐप ग्रुप से जुड़ा, भेजने लगा उसी की अश्लील तस्वीरें

बच्ची 5वीं की स्टूडेंट, लॉकडाउन में घर से करती थी पढ़ाई

खुद को 'बाबा' बता बच्चियों और औरतों का रेप करता रहा, फिर महिलाओं की हिम्मत काम आई

'बदनामी' के डर से पीड़ित लड़कियां चुप थीं.

क्या सुदीक्षा के परिवार ने इंश्योरेंस के पैसों के लिए छेड़छाड़ की झूठी कहानी बनाई?

पुलिस ने कहा- फैक्ट्स को तोड़ मरोड़कर पेश किया जा रहा.

वेब सीरीज़ के नाम पर मॉडल से एडल्ट शूट करवाया, फिर पॉर्न साइट पर डाल दिया

इंदौर से मुंबई तक, इस तरह फैला है ये धंधा.