Submit your post

Follow Us

यूपी: ऑनलाइन मीटिंग के दौरान दलित महिला प्रधान को कुर्सी से नीचे बैठने को कहा!

यूपी के महोबा जिले में अनुसूचित जाति की महिला प्रधान को कुर्सी से नीचे बैठने को कहा गया. ऐसा उस वक्त हुआ जब गांव के पंचायत भवन में एक ऑनलाइन मीटिंग चल रही थी. महिला प्रधान का आरोप है कि दबंगों के उसे जाति सूचक शब्द कहे और कुर्सी से नीचे बैठने को कहा. पुलिस ने इस मामले में मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. पुलिस का कहना है कि जांच जारी है और उसी के हिसाब से आगे की कार्रवाई की जाएगी.

महोबा शहर कोतवाली के नथुपुरा गांव की प्रधान हैं सविता देवी. सविता को लोगों ने प्रधान चुना है, लेकिन ये बात शायद कुछ लोगों को पसंद नहीं आई. उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा,

“वो जातिवादी शब्दों का इस्तेमाल कर रहे थे, गाली दे रहे थे कि तुम यहां कुर्सी पर क्यों बैठी हो, नीचे बैठो. गालीगलौच कर रहे थे. गंदी-गंदी गालियां दी गईं हम लोगों को. मेरे पति और छोटी ननद भी वहीं बैठी थीं. उनके साथ भी गाली गलौज की गई. इसके बाद मारपीट की स्थिति बन गई. वो दबंग लड़का था. उसके साथ 4-5 लोग थे जो उसके सहयोगी थे.”

उन्होंने कहा कि ये पूरा वाकया उस वक्त हुआ जब 4 जून को अधिकारियों के साथ प्रधानों की मीटिंग चल रही थी. सविता का कहना है कि इस मीटिंग में SDM भी शामिल थे, और अधिकारी भी शामिल थे. ये सविता की पहली मीटिंग थी. उन्होंने कहा,

“वो लोग आए और कहा कि अधिकारियों से ये सब बातें बोलो. हमने कहा कि सब बता दिया है कि क्या कमी है. उन्होंने कहा कि हमारे सामने बोलो. हमने समझाया कि बार-बार कहना ठीक नहीं है, लेकिन वह बदतमीजी करने लगा फिर. संविधान में सबको बराबर अधिकार दिए गए हैं. फिर भी हमें कुर्सी से नीचे बैठने को कहा गया.”

सविता का कहना है कि उन्होंने इस मामले में मुकदमा दर्ज कराया. इसका परिणाम ये हुआ कि पुलिस ने मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, जबकि बाकी लोगों की तलाश जारी है. ASP आरके गौतम ने इस मामले में मीडिया से बात करते हुए कहा,

“इस मामले में मुकदमा दर्ज किया जा चुका है. क्षेत्राधिकारी नगर के द्वारा इसकी जांच की जा रही है. एक व्यक्ति को इसमें गिरफ्तार कर लिया है. बाकी नामित आरोपियों के खिलाफ साक्ष्य जुटाया जा रहा है. जल्दी ही इसका निस्तारण किया जाएगा.”

इंडिया टुडे से जुड़े महोबा के संवाददाता नाहिद अंसारी की रिपोर्ट के मुताबिक 1994 में भी किसनिया नाम की एक अनुसूचित जाति की महिला इस गांव की प्रधान बनी थीं. गांव के रसूखदार लोगों को ये बात पसंद नहीं आई थी. तब भी कुर्सी पर बैठने का विवाद था और आज भी है.

दलित दूल्हे के घोड़े पर बैठने से विवाद

महोबा का ही एक और मामला सोशल मीडिया पर चर्चा में है. एक दलित युवक अलखराम की 18 जून को शादी है. उसकी इच्छा है कि वो घोड़ी पर बैठे, लेकिन गांव के लोग इसके खिलाफ हैं. अलखराम ने इस मामले की जानकारी पुलिस को दी और मदद मांगी, साथ ही सोशल मीडिया पर भी गुहार लगाई. पुलिस का कहना है कि युवक की बारात को पूरी सुरक्षा दी जाएगी और वह जैसे चाहेगा, वैसे ही बारात होगी. वहीं भीम आर्मी ने भी युवक की शादी में शिरकत की घोषणा की है.

जानकारी मिलने पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने दो सदस्यीय टीम को थाना महोबखंड इलाके के गांव में भेजा. स्थानीय अखबारों में छपी खबरों के मुताबिक कांग्रेस घोड़ी का इंतजाम करने की बात कही है.


वीडियो- नेता नगरी: UP विधानसभा चुनाव के पहले CM योगी और मंत्रियों के बीच क्या उठा पटक हो रही है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

कोविड से हुई मौत मानकर कर दिया अंतिम संस्कार, 18 दिन बाद घर लौटी महिला

कोविड से हुई मौत मानकर कर दिया अंतिम संस्कार, 18 दिन बाद घर लौटी महिला

आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले का मामला. अस्पताल वालों ने पैसे देकर भेजा महिला को घर.

इमाम पर मस्जिद में बच्ची से रेप का आरोप लगा तो लोगों ने ज्वाला गुट्टा को क्यों घेर लिया?

इमाम पर मस्जिद में बच्ची से रेप का आरोप लगा तो लोगों ने ज्वाला गुट्टा को क्यों घेर लिया?

लोग पीड़िता को छोड़ ये खोजने निकल पड़ते हैं कि रेपिस्ट पंडित है या इमाम.

76 साल की मिसेज़ वर्मा का कूल फैशन सेंस देख जवान लड़कियां भी शर्मा जाएं

76 साल की मिसेज़ वर्मा का कूल फैशन सेंस देख जवान लड़कियां भी शर्मा जाएं

इन्होंने बता दिया कि उम्र तो बस एक नंबर है.

तरुण तेजपाल को रेप के आरोप से बरी करने का कोर्ट का फैसला घेरे में क्यों है?

तरुण तेजपाल को रेप के आरोप से बरी करने का कोर्ट का फैसला घेरे में क्यों है?

बॉम्बे हाई कोर्ट ने भी तेजपाल को नोटिस भेज दिया है.

वीरता पुरस्कार जीत चुकी लड़की को नहीं मिल रहा सरकारी राशन, अवॉर्ड लौटा दिया

वीरता पुरस्कार जीत चुकी लड़की को नहीं मिल रहा सरकारी राशन, अवॉर्ड लौटा दिया

अपनी बहन को तेंदुए के हमले से बचाने के लिए आठ साल पहले मिला था अवॉर्ड.

शादी किए बिना सिंगल पिता बनना चाहते हैं तो अपनाइए ये कानूनी तरीके

शादी किए बिना सिंगल पिता बनना चाहते हैं तो अपनाइए ये कानूनी तरीके

तुषार कपूर 2016 में पिता बने थे और उनका शादी का कोई प्लान नहीं है.

ब्लॉग: सरकारें 'स्मार्ट' शहर तो बना लेंगी, मगर औरतों के लिए 'समझदार' शहर कैसे बनेगा?

ब्लॉग: सरकारें 'स्मार्ट' शहर तो बना लेंगी, मगर औरतों के लिए 'समझदार' शहर कैसे बनेगा?

औरतों को 'बहन' मानने वाली हमारी सरकारें ये बुनियादी गलतियां कर रही हैं.

'रेज़र घिसो, दाढ़ी निकलेगी': शेविंग से जुड़े वो झूठ जो हम बचपन से सच मानकर बैठे हैं

'रेज़र घिसो, दाढ़ी निकलेगी': शेविंग से जुड़े वो झूठ जो हम बचपन से सच मानकर बैठे हैं

लड़कियों को इन झूठों से काफी उल्लू बनाया गया है.

कपड़ों और खिलौनों के नाम पर बड़ी आसानी से भरा जा रहा बच्चों के दिमाग में ज़हर

कपड़ों और खिलौनों के नाम पर बड़ी आसानी से भरा जा रहा बच्चों के दिमाग में ज़हर

स्पेन में पुरुष टीचर्स 'लड़कियों वाली स्कर्ट' पहनकर क्यों स्कूल जा रहे हैं?

पन्नी में बंधी लाशों को जलाने वाली औरतों की कहानी, जो लोगों के घटिया तानों से ऊपर उठ चुकी हैं

पन्नी में बंधी लाशों को जलाने वाली औरतों की कहानी, जो लोगों के घटिया तानों से ऊपर उठ चुकी हैं

जब लावारिस शवों के अंतिम संस्कार के लिए महिला ने बड़ी नौकरी छोड़ दी!