Submit your post

Follow Us

पटना: आर्मी स्कूल में पढ़ाने वाली टीचर का शव लटका मिला, दहेज हत्या के आरोप में पति अरेस्ट

बिहार की राजधानी पटना. यहां का खगौल इलाका. आर्मी स्कूल की एक महिला टीचर का बीती 13 मई को निधन हो गया. ये महिला टीचर पटना के ही दानापुर स्थित सैनिक स्कूल में पढ़ाती थीं. साल 2016 में इनकी शादी हुई थी. आरोप है कि ससुरालवाले लगातार इस महिला टीचर पर दहेज का दबाव बना रहे थे और फिर अंतत: उनकी हत्या कर दी. इस मामले में संबंधित धाराओं में  FIR दर्ज हो चुकी है. वहीं टीचर के पति को अरेस्ट करने की जानकारी भी सामने आई है.

क्या है मामला?

पूरे मामले को जानने के लिए हमने मृतका के भाई सुनील राय से बात की. पटना के शाहपुर स्थित डिफेंस कॉलोनी में रहने वाले सुनील ने हमें बताया कि उनकी बहन निशा कुमारी ने साल 2011 में दानापुर के आर्मी स्कूल में पढ़ाना शुरू किया था. 29 जनवरी 2016 को निशा कुमारी की शादी खगौल में रहने वाले अंजनी कुमार से कर दी गई. इस दौरान अंजनी के परिवार को 15 लाख रुपये के साथ जेवर इत्यादि भी दिए गए. सुनील ने आरोप लगाया कि शादी के तुरंत बाद अंजनी और उसके परिवार वाले और पैसों का दबाव बनाने लगे. इससे उनकी बहन परेशान रहने लगी. जिसके चलते वो मायके वापस आ गई और तीन साल तक यहीं रही.

सुनील ने हमें बताया कि इस साल जनवरी महीने में अंजनी कुमार उनकी बहन को वापस ससुराल ले गए. बहन जाने को तैयार नहीं थी, लेकिन अंजनी के बार-बार विनती करने पर वह मान गईं.  ससुराल पहुंचने के बाद उसके ऊपर फिर से दबाव डाला जाने लगा. वो काफी परेशान रहने लगी. फिर एक दिन अचानक से पता चला कि उसकी मौत हो गई. यह जानकारी निशा और अंजनी के चार साल के बेटे आराध्य श्री निवास ने फोन के जरिए दी. सुनील ने हमें बताया-

“बच्चे ने पांच बजकर पैंतालीस मिनट के आसपास फोन किया था. मेरी मम्मी के फोन पर फोन आया था. करीब 40 सेकेंड तक बात चली. उसने बताया कि मम्मी की डेथ हो गई. हमें भरोसा नहीं हुआ तो हमने उससे वीडियो कॉल करने को कहा. उसने वीडियो कॉल करके दिखाया. निशा की बॉडी बेड पर पड़ी हुई थी. हम लोग यहां से तुरंत निकले. मैंने बीच रास्ते ही पुलिस को फोन कर दिया. पहले मेरी बात दानापुर थाने में हुई. फिर उन्होंने बताया कि मामला खगौल थाने के तहत आएगा. खगोल थाने में बड़े ऑफिसर से बात हुई. फिर घर पहुंचकर मैंने फोन किया. फिर करीब 6.45 के आसपास पुलिस आई. उसके बाद पुलिस ने अपना काम किया. एक नोट भी मिला. उसमें आखिरी लाइन लिखी थी कि आज मेरे बेटे को भी छीन लिया. वो नोट पुलिस ले गई.”

सुनील ने हमें यह भी बताया कि बहन की मौत के बाद ससुरालवाले किसी भी प्रक्रिया में शामिल नहीं हुए. उन्होंने बताया-“मैंने वहां पर दो-तीन चीजें देखीं. फंदा काफी छोटा था. उसपर लटकने का चांस मुझे काफी कम लग रहा था. शरीर ठंडा हो चुका था. मतलब कि हो सकता है कि रात में ही कुछ अनहोनी हुई हो.  हम फिर पार्थिव शरीर को दानापुर सदर अस्पताल ले गए. पोस्टमार्टम के लिए. वहां काफी देर इंतजार किया कि निशा के ससुरालवाले आएं. लेकिन वे नहीं आए. हमारा शक बढ़ने लगा. फिर हम अंतिम संस्कार के लिए पार्थिव शरीर को शाहपुर घाट लेकर गए. वहां पर भी ससुराल पक्ष से कोई नहीं आया. इसके बाद हमारा शक और बढ़ गया. क्योंकि पैसे के लिए दबाव पहले से ही बनाया जा रहा था. ऐसे में फिर हमने थाने में मामला दर्ज कराया.”

सुनील के मुताबिक ससुरालवाले लगातार यही कहते रहे कि निशा ने खुदकुशी की है. लेकिन जिस तरह से ससुरालवालों ने व्यवहार किया, उससे उन्हें यकीन हो गया कि उनकी बहन का मर्डर हुआ है. हमने निशा के ससुरालवालों का पक्ष जानने की भी कोशिश की. लेकिन उनसे हमारा संपर्क हो नहीं पाया.

सुनील और उनके पिता ने मिलकर इस मामले में खगौल थाने में FIR दर्ज कराई. पुलिस ने निशा के पति, सास, ससुर और ननद के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 (B) यानी दहेज हत्या के तहत मामला दर्ज किया है. सुनील ने बताया कि FIR दर्ज कराने के एक दिन बाद ही निशा के पति अंजनी कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार किया. इस बात की तस्दीक के लिए हमने खगौल थाने के SHO को फोन किया. उन्होंने यह कहते हुए किसी भी तरह की जानकारी देने से मना कर दिया कि जब तक हम उनके थाने नहीं जाएंगे, वे किसी भी प्रकार की जानकारी साझा नहीं करेंगे. हमने उनसे कहा कि कोविड -19 की कवरेज के कारण हमारे रिपोर्टर दूसरी जगहों पर तैनात हैं. ऐसे में SHO बोले कि यहां कोई कोरोना नहीं है और जानकारी लेने के लिए आपको आना ही पड़ेगा.

FIR की कॉपी.
लिखित शिकायत की कॉपी.

बहरहाल, दूसरी तरफ सुनील ने हमें बताया कि पुलिस ने कोरोना हवाला का देकर पोस्टमार्टम रिपोर्ट देर से देने की बात कही है और अभी तक उन्हें रिपोर्ट नहीं मिली है. दूसरी तरफ, निशा कुमारी अपने स्टुटेंड्स की नजर में किसी रोल मॉडल सरीखीं थीं. उनका व्यक्तित्व किस तरह का था, ये हमें उनके एक पुराने स्टूडेंट आकाश ने बताया-

“वे बहुत ही मजबूत इच्छा शक्ति वाली महिला थीं. हम सबके लिए यह मानना बहुत मुश्किल है कि वो आत्महत्या कर सकती हैं. वे अपने छात्रों के लिए प्रेरणा थीं. वे अपने छात्रों को सपोर्ट करती थीं. उनका उत्साह बढ़ाती थीं. मैं अपील करता हूं कि इस मामले में निष्पक्ष जांच हो और जल्द से जल्द हमें न्याय मिले.”

फिलहाल सुनील राय अपनी बहन के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं. सुनील का कहना है कि यह लड़ाई काफी लंबी होने वाली है और वे इसे आखिर तक लड़ने के लिए तैयार हैं. हम भी आशा करते हैं कि इस मामले की जो भी सच्चाई है, जल्द से जल्द सामने आए.


 

वीडियो- अमेठी: बच्ची की मौत पर रेप का शक, पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट का हवाला देकर खारिज किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

Tokyo Olympic के पहले दिन टेबल टेनिस से खुश हों या दुखी?

Tokyo Olympic के पहले दिन टेबल टेनिस से खुश हों या दुखी?

कहीं जीते तो कहीं हारे भारतीय पैडलर्स

इस फेमस अमेरिकन सीरीज़ में काम कर चुके एक्टर ने बताई ट्रांस वुमन बनने की कहानी

इस फेमस अमेरिकन सीरीज़ में काम कर चुके एक्टर ने बताई ट्रांस वुमन बनने की कहानी

एक साल लगे खुद को रिइंट्रोड्यूस करने में.

ब्लॉगः नौकरीपेशा औरतों पर बेतुकी बात लिखते हुए ये बातें भूल गईं मैत्रेयी पुष्पा!

ब्लॉगः नौकरीपेशा औरतों पर बेतुकी बात लिखते हुए ये बातें भूल गईं मैत्रेयी पुष्पा!

लिखा कि औरतें नौकरी अपने लिए करती हैं, घर तो वो भी चलते हैं जहां औरतें काम पर नहीं जातीं.

सऊदी अरेबिया में औरतों को एक और जरूरी अधिकार मिल गया है

सऊदी अरेबिया में औरतों को एक और जरूरी अधिकार मिल गया है

खाकी वर्दी में औरतें इस अहम जगह की सुरक्षा कर रही हैं.

पेगासस लिस्ट में जिन महिलाओं का नाम आया, उन्होंने इस पर क्या कहा?

पेगासस लिस्ट में जिन महिलाओं का नाम आया, उन्होंने इस पर क्या कहा?

लिस्ट में उस महिला का भी नाम है जिसने पूर्व CJI पर यौन शोषण के आरोप लगाए थे.

पूर्व CJI रंजन गोगोई पर यौन शोषण के आरोप लगाने वाली महिला की जासूसी हो रही थी?

पूर्व CJI रंजन गोगोई पर यौन शोषण के आरोप लगाने वाली महिला की जासूसी हो रही थी?

पेगासस वाली लिस्ट में महिला और उसके परिवारवालों के 11 फोन नबंर शामिल हैं.

राज कुंद्रा के अरेस्ट होने पर शिल्पा के बारे में अश्लील बातें लिखने वाले कहां रुकेंगे?

राज कुंद्रा के अरेस्ट होने पर शिल्पा के बारे में अश्लील बातें लिखने वाले कहां रुकेंगे?

लोग योग संभोग वाले जोक्स लिख रहे हैं.

स्कूली किताबों में कब तक केवल राम स्कूल जाता रहेगा, सीता रोटी बनाती रहेगी?

स्कूली किताबों में कब तक केवल राम स्कूल जाता रहेगा, सीता रोटी बनाती रहेगी?

आपके बच्चों की टेक्स्टबुक्स इस तरह उनके दिमाग में ज़हर भर रही हैं.

पुराना माल, नया पैकेट: 'बालिका वधू' के फर्स्ट लुक से और क्या पता चलता है?

पुराना माल, नया पैकेट: 'बालिका वधू' के फर्स्ट लुक से और क्या पता चलता है?

कितना अलग होगा बाल विवाह पर बना ये शो

महामारी की तरह फैली दहेज़ प्रथा को रोकने ने लिए केरल सरकार ने लगाया ये आइडिया

महामारी की तरह फैली दहेज़ प्रथा को रोकने ने लिए केरल सरकार ने लगाया ये आइडिया

क़ानून काम नहीं आ रहे, देखें ये फैसला कितना काम आता है.