Submit your post

Follow Us

पाक PM इमरान खान ने घटियापने की बात कही, पूर्व पत्नी ने लताड़ दिया

इमरान खान. पूर्व क्रिकेटर और पाकिस्तान के करंट प्राइम मिनिस्टर. वैसे तो काफी ज़हीन और गंभीर बातों के लिए जाने जाते हैं, लेकिन इस बार उन्होंने बेहद घटिया बात कही है. रेप को लेकर. बात इतनी घटिया थी कि सोशल मीडिया पर उन्हें लताड़ने वालों में उनकी पूर्व पत्नी भी शामिल थीं.

ऐसा क्या कहा इमरान खान ने?

इमरान टीवी पर एक इंटरव्यू दे रहे थे. इस दौरान उनसे रेप के बढ़ते मामलों को लेकर सवाल पूछा गया. इमरान बोले कि रेप के बढ़ते मामले किसी भी समाज में बढ़ती असभ्यता और बेहूदगी का नतीजा हैं. उन्होंने औरतों को खुद को ढककर रखने की सलाह देते हुए कहा,

“पर्दा का पूरा कॉन्सेप्ट ही टेम्प्टेशन को अवॉइड करना है. हर किसी के पास टेम्प्टेशन रोकने की इच्छाशक्ति नहीं होती है.”

यानी इमरान खान ने कहा कि अगर महिलाएं पूरे कपड़े पहनेंगी, चेहरा ढककर रखेंगी तो पुरुष उन्हें देख नहीं पाएंगे. और देखेंगे नहीं तो लालच में नहीं आएंगे, और रेप नहीं करेंगे.

एक देश का प्रधानमंत्री ऐसी ओछी बात कह रहा है. रेप के लिए लड़कियों को ज़िम्मेदार बता रहा है. बता रहा है कि रेप करने वाले पुरुष तो बेचारे मासूम हैं, स्त्री के शरीर की अपनी लालसा को कंट्रोल नहीं कर पाते.

एक्स वाइफ जेमिमा ने लताड़ दिया

इस घटिया टिप्पणी के लिए इमरान खान की जमकर आलोचना हुई. और उनके खिलाफ मोर्चा खोलने वालों में सबसे आगे थीं उनकी पूर्व पत्नी. ब्रिटिश फिल्ममेकर जेमिमा गोल्डस्मिथ. जेमिमा ने कुरान से एक हिस्सा कोट करते हुए ट्वीट किया,

“यकीन करने वाले पुरुषों को बताओ कि उन्हें अपनी नज़रों पर नियंत्रण रखना है और अपने प्राइवेट पार्ट की रक्षा करनी है.” कुरान 24:31

जिम्मेदार पुरुष होगा.

जेमिमा ने आगे लिखा,

मैं मना रही हूं कि ये बात मिसकोट या मिस ट्रांसलेशन हो. जिस Imran Khan को मैं जानती थी वो कहता था, ‘औरत पर नहीं, आदमी की आंखों पर पर्दा डालो.’

जेमिमा की इस बात पर कुछ लोगों ने लिखा कि जिस इमरान को वो जानती थीं वो एक मॉडर्न क्रिकेटर थे. ये इमरान एक राजनेता हैं. इमरान के बयान पर जेमिमा की तरह ही कुछ लोगों ने कड़ी प्रतिक्रिया दी. एक शख्स ने लिखा,

‘कपड़े उतारकर कौन घूम रहा है? इस्लाम की टीचिंग के मुताबिक अपना पूरा शरीर ढकने वाली औरतें भी दबोची जाती हैं. उनका शोषण और रेप होता है. तीन साल की छोटी बच्चियों का रेप होता है. मदरसों में छोटे लड़कों का शोषण होता है. क्या ये लोग रिवीलिंग कपड़े पहनते हैं?’

वकील और लेखिका राबिया ओ चौधरी ने लिखा,

‘हे ईश्वर, ये सुनकर मैं बहुत परेशान हो गई. मेरे पेरेंट्स उस वक्त मेरे घर पर थे और ये सुनकर मुझे गुस्सा आ गया. औरतें, लड़कियां और छोटे बच्चे मॉलेस्टेशन का शिकार होते हैं, फिर चाहे वो जो पहनें. किसी को भी इन महोदय से धार्मिक सलाह लेने की ज़रूरत नहीं है.’

इंडिया-पाकिस्तान में लोग एक जैसे ही हैं

इमरान की बात का कुछ लोगों ने विरोध तो किया. लेकिन जेमिमा को ट्वीट पर कई जवाब ऐसे थे जिनमें लिखा था कि इमरान सही कह रहे हैं. हम ये ट्वीट्स यहां नहीं लगा रहे, क्योंकि ऐसी किसी भी चीज़ को बढ़ावा देना हम उचित नहीं समझते जो रेप जैसे गंभीर अपराध की जिम्मदारी औरत पर डालते हैं. फिर भी अपने शब्दों में बता रहे हैं कि किस तरह की बातें लिखी गई थीं. कई लोगों ने कुरान का एक और हिस्सा ट्वीट करते हुए लिखा कि औरतों को कैसे अपनी नज़र झुकाकर रहना चाहिए, कैसे अपना चरित्र बचाकर चलना चाहिए.

एक जनाब ने लिखा कि औरत आधे कपड़े पहनकर आएगी तो पुरुष बेचारा क्या करेगा. ये तो नैचुरल ही है न कि पुरुष आकर्षित होगा. इस शख्स ने तो चोर पुलिस का उदाहरण तक दे डाला कि फर्ज़ कीजिए आप पुलिसवाले हैं, किसी दुकान में चोरी की खबर आपको मिलती है तो लॉजिकली तो आप बुलेट प्रूफ जैकेट पहनकर जाएंगे न. अपनी सुरक्षा की जिम्मेदारी तो आपकी खुद की है न.

वैसे इंडिया में भी ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो रेप की किसी घटना के बाद इसी तरह का ज्ञान देते हैं.

‘लड़कों से दोस्ती रखोगी तो ऐसा होगा’

‘इतनी रात को बाहर जाने की क्या ज़रूरत थी’

‘कपड़े देखे उसके?’

‘खुद छोटे कपड़े पहनकर घूमेंगी, लड़के तो फिसलेंगे ही न’

और फिर ऐसी बातें कहने वालों में हमारे देश के नेता तो आगे रहते ही हैं.

मुलायम सिंह यादव- ‘लड़कों से गलती हो जाती है’

आरआर पाटिल- ‘रेप करना ही था तो चुनाव के बाद कर लेता’

तीरथ सिंह रावत- ‘फटी जींस पहनने वाली औरतें समाज को क्या संदेश देती हैं?’

कैलाश विजयवर्गीय- ‘औरतों को ऐसा शृंगार करना चाहिए जिससे श्रद्धा पैदा हो, न कि उत्तेजना. कभी-कभी महिलाएं ऐसा शृंगार करती हैं जिससे उत्तेजित हो जाते हैं लोग. महिलाओं को अपनी लक्ष्मण रेखा में रहना चाहिए.’

यानी नेता हो या जनता, हिंदुस्तान हो या पाकिस्तान. लोगों के दिमाग में एक ही तरह का कूड़ा जमा हुआ है. सबको लगता है कि छोटे कपड़े पहनकर औरतें पुरुषों को इनवाइट करती हैं. उनका शरीर ढका रहेगा तो पुरुष भी कंट्रोल में रहेंगे. जबकि तमाम ऐसे उदाहरण हैं जिनमें सलवार कमीज़ पहनने वाली, साड़ी पहनने वाली, पूरे बाज़ू के कपड़े पहनने वाली लड़कियां भी रेप और मॉलेस्टेशन का शिकार हुई हैं. दो साल, चार साल, पांच साल तक की छोटी बच्चियों से रेप के मामले लगातार सामने आते हैं, क्या ये मासूम बच्चियां भी रेप के लिए इनवाइट करती हैं?

रेप एक गंभीर और अक्षम्य अपराध है. ‘औरत ने कैसे कपड़े पहने थे,’ ‘औरत किस वक्त कहां थी,’ ‘औरत किसके साथ थी’ जैसी बातें रेपिस्ट का बचाव करती हैं, उसके किए को सही ठहराने की कोशिश करती हैं. औरत के सिर पर दोष मढ़ने की कोशिश करती हैं. जो कि पूरी तरह गलत और अन्याय पूर्ण है.


सफूरा ज़रगर के खिलाफ आपत्तिजनक बयान देने पर पायल रोहतगी पर कोर्ट ने एक्शन ले लिया

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

CRPF जवानों पर ऐसा क्या लिखा कि महिला को रेप की धमकी मिलने लगी

असमिया लेखिका शिखा शर्मा पर राजद्रोह का आरोप लगा है.

औरत का सिर मूंडने वाली, उस पर कालिख पोतने वाली भीड़ ने उसके बराबर जिम्मेदार पुरुष को छुआ तक नहीं

औरतों पर ऐसा अत्याचार करने वाली भीड़ को सज़ा कितनी मिलती है?

पंजाब: दलित नाबालिग लड़की से गैंगरेप, बॉयफ्रेंड सहित आठ पर आरोप

शादी की बात कहकर लड़की को जालंधर बुलाया था आरोपी.

मेरठ: परिवार का आरोप चार लड़कों ने गैंगरेप कर जहर पिलाया, पुलिस बोली- लड़की ने सुसाइड किया

पुलिस की पिस्टल छीन कर भाग रहा था आरोपी, एनकाउंटर में लगी गोली.

लड़की 'चरित्रहीन' है या उसका दुपट्टा खींच उस पर हाथ डालने वाली ये भीड़

बरेली में कपल को भीड़ ने पीटा, लड़की भैया-भैया कहकर रोती रही.

बरेली: घरवालों ने मर्जी के खिलाफ शादी की, होली पर मायके आई और प्रेमी के साथ जान दे दी

आरती का अपने प्रेमी रफाक़त के साथ शव मिला.

जूनियर से रेप के आरोप में CRPF का अर्जुन अवॉर्डी DIG सस्पेंड हो गया

महिला कॉन्स्टेबल का आरोप- DIG और इंस्पेक्टर लड़कियों पर सेक्स के लिए दबाव डालते थे, अश्लील मैसेज भेजते थे.

UP के आगरा में महिला का पति के सामने गैंगरेप, वीडियो बनाकर जान से मारने की धमकी दी

महिला होली वाले दिन अपने पति के साथ मायके जा रही थी. इसी दौरान आरोपियों ने उन्हें रोका.

शर्मनाक! जिसका रेप हुआ उसी को आरोपी के साथ रस्सी से बांधकर जुलूस निकाला गया

मध्य प्रदेश के अलीराजपुर की घटना.

पुलिसवाली ने आठ महीने की प्रेग्नेंट औरत को तीन किलोमीटर पैदल चलने पर मजबूर किया

महिला पुलिस इंस्पेक्टर की असंवेदनशील कार्रवाई पर क्या एक्शन लिया गया?