Submit your post

Follow Us

वो नेता, जो खुद को 'गोबर में पैदा हुई' बताती हैं और कमलनाथ के लिए कांटा बन गई हैं

इमरती देवी. बीजेपी नेता और मध्य प्रदेश में कैबिनेट मंत्री हैं. खबरों में हैं. क्योंकि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक रैली में मंच से इनके लिए ‘आइटम’ शब्द का इस्तेमाल कर दिया. उसके बाद वह ऐसे घिरे कि माफी मांगनी पड़ी. विवाद यहीं खत्म नहीं हुआ. अब कैबिनेट मिनिस्टर इमरती देवी का एक विडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वह कमलनाथ की मां और बहन को ‘आइटम’ कहती नजर आ रही हैं. इमरती देवी पहले भी अपने बयानों और कामों को लेकर खबरों में रही हैं. आइए डालते हैं इसी पर एक नजर-

पहले जान लीजिए, कमलनाथ वाला झगड़ा क्या था?

मध्य प्रदेश में 3 नवंबर को 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ 18 अक्टूबर को डबरा सीट से पार्टी प्रत्याशी की कैम्पेनिंग में पहुंचे थे. कमलनाथ ने मंच से इमरती देवी के लिए इशारों में कहा,

सुरेंद्र राजेश हमारे उम्मीदवार हैं. सरल स्वभाव के सीधे-साधे हैं. ये उसके जैसे नहीं है, क्या है उसका नाम? मैं क्या उसका नाम लूं? आप तो उसको मुझसे ज्यादा अच्छे से जानते हैं, आपको तो मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था, ‘यह क्या आइटम है’.”

इस बयान पर कमलनाथ की खूब आलोचना हुई. सियासत भी गरमाई. यहां तक कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी उनके बयान की आलोचना की. पहले तो कमलनाथ अड़े रहे कि उन्होंने कुछ गलत नहीं कहा. लेकिन बाद में खेद जताया. कहा-

बीजेपी को अहसास हो रहा है कि वह हार नहीं रहे, पिट रहे हैं इसलिए ध्यान भटका रहे हैं… वो कहते हैं मैंने असम्मानित बात कही. मैं तो सम्मान करता हूं महिलाओं का. अगर कोई सोचता है कि ये असम्मानित है तो मुझे इस बात का खेद है.

इसी बीच एमपी बीजेपी की शिकायत पर चुनाव आयोग ने 21 अक्टूबर को कमलनाथ को नोटिस जारी कर दिया. सफाई देने को कहा.

इमरती देवी ने क्या कहा?

कमलनाथ की आइटम वाली बात पर इमरती देवी ग्वालियर के चिम्मक गांव में हुई रैली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के सामने फूट-फूट कर रो पड़ीं. उनका एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी चला. कांग्रेस के प्रचारक आचार्य प्रमोद ने ये वीडियो ट्वीट किया. इसमें कमलनाथ के लिए इमरती देवी कह रही हैं-

वो बंगाल का आदमी है. वो मध्य प्रदेश में आया केवल मुख्यमंत्री बनने के लिए. उसको बोलने की सभ्यता नहीं है. वो मुख्यमंत्री पद से हटा, तो पागल हो गया. अब पागल होकर पूरे मध्य प्रदेश में घूम रहा है तो हम क्या कर सकते हैं. (वो) कुछ भी कह सकता है… क्या उसकी मां और बहन आइटम होगी, हमें पता थोड़े ही है.

अब जानते हैं इमरती देवी के बारे में?

इमरती देवी MP के दतिया जिले से हैं. 14 अप्रैल 1975 को यहां के चरबरा गांव में पैदा हुईं. हायर सेकंडरी तक पढ़ी हैं. घरवाले खेती-किसानी करते हैं.

साल 2008 में विधानसभा सदस्य चुनी गईं. 2013 और 2018 में भी विधानसभी पहुंचीं, ग्वालियर जिले के डबरा विधानसभा क्षेत्र से ही.

अनुसूचित जाति/जनजाति हित रक्षा संघ की संरक्षक भी रही हैं. 2004-2009 के बीच जिला पंचायत ग्वालियर की सदस्य और कृषि उपज मंडी ग्वालियर की संचालक व सदस्य रहीं.

इमरती देवी ने 25 दिसम्बर, 2018 को कमलनाथ की सरकार में मंत्री पद की शपथ ली. बाद में, ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थन में कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले 21 विधायकों में शामिल थीं. इसकी वजह से कमलनाथ सरकार गिर गई थी.

जब शिवराज सिंह चौहान की फिर से सरकार बनी तो जुलाई 2020 में इमरती देवी को भी मंत्री बनाया गया. अभी महिला एवं बाल विकास विभाग संभाल रही हैं.

Imarti Devi Fb 4
इमरती देवी इस साल सितम्बर से कई विवादों में आ चुकी हैं. (तस्वीर: फेसबुक)

‘सिंधिया के साथ कुएं में गिरने को तैयार’

ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ इनकी वफादारी के किस्से जबर मशहूर हैं. इस साल मार्च में जब ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए, तब कांग्रेस सरकार में मंत्री इमरती देवी ने कहा था,

सिंधिया कुएं में गिरेंगे तो हम भी साथ में गिरेंगे.

Imarti Devi Scindia Fb
इमरती देवी ज्योतिरादित्य सिंधिया की कट्टर समर्थक हैं. (फेसबुक)

इससे पहले कार्यकाल में जब ये प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री थीं तो इनका एक वीडियो काफी वायरल हुआ था. इसमें ये ज्योतिरादित्य सिंधिया के पैर छूते दिख रही थीं. इमरती देवी को जब मंत्री बनाया गया था, तब उन्होंने कहा था-

अगर सिंधिया हमें झाड़ू लगाने को कहेंगे, तो हम ये काम भी करेंगे.

कई और वजहों से भी चर्चा में रही हैं

इसी सितंबर में इमरती देवी का एक वीडियो वायरल हुआ था. इसमें इन्होंने कहा था कि हम गोबर में पैदा हुए हैं, कोरोना हमारा क्या बिगाड़ लेगा. दरअसल, कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि इमरती देवी COVID पॉजिटिव आई हैं. इस पर उन्होंने पत्रकारों को ही लपेटते हुए कहा था,

मैं गोबर में पैदा हुई हूं इतने कर्रे कीटाणु है कि #कोरोना नहीं आएगा – #मंत्री_इमरती_देवी

ठीक है मान ली आपकी बात 🙏 #imartidevi #MadhyaPradesh #ShivrajSinghChauhan pic.twitter.com/AaK3ZcJ4pr

— Kumar kundan ostwal (@OstwalKumarp) September 4, 2020

सितम्बर 2019 में  इमरती देवी ने घोषणा की थी कि आंगनबाड़ी में बच्चों को पोषाहार में अंडे भी दिए जाएंगे. इसका काफी विरोध हुआ था, शाकाहारी लोगों द्वारा. इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को कहना पड़ा था कि बच्चों को अंडे नहीं दिए जाएंगे.

Imarti Devi Fb 3
इमरती देवी कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही दलों की सत्ता में मंत्री रही हैं. (तस्वीर: फेसबुक)

जनवरी 2019 में भी इमरती देवी उस वक्त खबरों में आई थीं, जब गणतंत्र दिवस के मौके पर वो अपना भाषण नहीं पढ़ पाई थीं. इन्होंने ज़िला कलेक्टर से अपना भाषण पढ़वाया था. बाद में, इस पर सफाई देते हुए कहा था-

मेरी तबियत ख़राब थी इसलिए भाषण नहीं पढ़ पाई.


वीडियो: कमलनाथ ने BJP के बवाल के बाद अपने आइटम वाले बयान पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

एक लाख से भी ज्यादा महिलाओं की 'नग्न' तस्वीरें इंटरनेट पर पहुंचाने वाला कौन है?

इनमें से कई तस्वीरें नाबालिग लड़कियों की भी हैं.

कुरआन सिखाने के नाम पर इन स्कूलों में जो हो रहा है, वो देखकर आप आंखें झुका लेंगे

BBC की रिपोर्ट में सामने आईं भयानक अत्याचार की खबरें.

महिला का आरोप- पांच पुलिसवालों ने 10 दिन तक थाने में रेप किया

महिला के ऊपर हत्या का आरोप है और वो फिलहाल जेल में बंद है.

PUBG खेलने के दौरान जिन लड़कों से दोस्ती हुई, उन्होंने ब्लैकमेल करके बार-बार रेप किया

तीन लड़कों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

कोविड केयर सेंटर में काम कर रही नर्स ने शादी से इनकार किया, तो स्टॉकर ने ज़िंदा जलाया

नर्स ने लड़के को भागने से रोका लिया. नतीजा दोनों के लिए बुरा रहा.

यूपी के गोंडा में तीन नाबालिग दलित बहनों पर एसिड अटैक, हालत गंभीर

घर पर सो रही थीं बहनें, तब हुआ हमला.

हाथरस केस: हाई कोर्ट ने पुलिस के बड़े अफसर से पूछा- अपनी बेटी का अंतिम संस्कार ऐसे होने देंगे?

कोर्ट ने यूपी पुलिस की कार्रवाई पर नाराज़गी जताई है.

बक्सर: 7 लोगों पर आरोप- महिला को अगवा कर गैंगरेप किया, मासूम बेटे समेत नदी में फेंक दिया

डूबने से बच्चे की मौत हो गई है.

राजस्थान: लापरवाही से प्रेग्नेंट महिला की मौत का आरोप लगा 4 दिन से धरने पर गांववाले

विपक्षी दल गहलोत सरकार को घेरने में जुटे हैं

नाबालिग ने कथित रेप के बाद खुद पर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा ली

मध्य प्रदेश के रीवा की घटना, आरोपी भी नाबालिग है.