Submit your post

Follow Us

शराब की लत आपके शरीर के साथ क्या करती है?

यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.

इंदौर के रहने वाले 29 साल के एक शख्स ने हमें ईमेल भेजा है. उन्हें शराब पीने की लत है. 16 की उम्र से वो शराब पी रहे हैं. रोज़ पीते हैं और तब तक पीते हैं जब तक वो अपनी सुध नहीं खो देते. उन्होंने ये लत छोड़ने की बहुत कोशिश की, घरवालों ने भी सारे उपाय कर लिए पर कोई फायदा नहीं हुआ. इस लत की वजह से उनकी नौकरी चली गई, शादी टूट गई और अब उनका शरीर भी साथ छोड़ रहा है. आप सालों तक हद से ज़्यादा शराब पीते हैं तो उसका असर आपकी सेहत पर भी पड़ता है. वो चाहते हैं कि  हम उनकी और उनके जैसे और लोगों की मदद करें. ये लत कैसे छुडाएं, इसके बारे में पता करें.

एल्कोहॉल एब्यूज क्या होता है?

ये हमें बताया डॉक्टर अखिल ने.

डॉक्टर अखिल अगरवाल, मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट, मानश हॉस्पिटल, कोटा
डॉक्टर अखिल अगरवाल, मेंटल हेल्थ एक्सपर्ट, मानश हॉस्पिटल, कोटा

-हम शराब पीने की आदत को तीन हिस्सों में बांट सकते हैं

-पहला है नॉर्मल या सोशल एल्कोहॉलिज्म

-दूसरा है एल्कोहॉल एब्यूज

-तीसरा है एल्कोहॉल डिपेंडेंस

अगर आप अपनी जिम्मेदारियां जैसे ऑफिस, सामाजिक, या परिवार के काम पूरे न कर पा रहे हों. गाड़ी चलाते समय शराब नहीं पीनी चाहिए. फिर भी पी रहे हों. काम की जगह या रिस्की जगह पर शराब नहीं पीनी चाहिए. पर अगर इन जगहों पर भी आप अगर शराब पीते हैं. शराब के कारण आप लीगल मसलों में पड़ रहे हों. तो इसको एल्कोहॉल एब्यूज कहा जाता है.

-अगर आप ज़्यादा से ज़्यादा शराब पी पाते हैं. थोड़ी मात्रा से काम नहीं चलता है, अगर शराब नहीं पीते तो विदड्रॉल सिंपटम होते हैं यानी वो लक्षण जो किसी लत को छोड़ने के बाद महसूस होते हैं. इसके कारण आपकी लाइफ और काम पर लगातार असर पड़ता है. आप शराब छोड़ नहीं पाते. अगर ये लक्षण हैं तो मतलब आप एल्कोहॉल डिपेंडेंट हैं. ये कुछ तरीके हैं जिनसे पता चलता है कि इंसान को शराब की लत तो नहीं लग रही.

किन लोगों को लगती है शराब की लत?

-फैमिली लाइफस्टाइल

-अधिक पार्टी लाइफ

-आदमियों में औरतों के मुकाबले शराब की ज़्यादा लत होती है

-हाई इकॉनमिक और लो इकॉनमिक ग्रुप्स में

Image result for alcohol abuse
आप लगातार शराब पी रहे हों. तो इसको एल्कोहॉल एब्यूज कहा जाता है

-कुछ जेनेटिक फैक्टर भी होते हैं

-पीयर प्रेशर यानी साथियों का प्रेशर

सेहत पर क्या असर पड़ता है?

-शराब सिर के बालों से लेकर, पैरों के नाख़ूनों तक को नुकसान पहुंचाती है

-शराब शरीर के हर सेल के मेम्ब्रेन (सेल की बाहरी परत) पर असर करती है. शुरुआत में उसका लचीलापन बढ़ाती है, बाद में उसे सख्त कर देती है

-आपके व्यवहार में परिवर्तन आता है

-नींद खराब हो जाती है

-अल्सर होने के चांसेस बढ़ते हैं

-शरीर को विटामिंस सोखने में परेशानी होती है

-शरीर में कैंसर का खतरा

Image result for alcohol abuse
शराब सिर के बालों से लेकर, पैरों के नाख़ूनों तक को नुकसान पहुंचाती है

-लिवर की बीमारियां होती हैं

-बीपी बढ़ता है

-डायबिटीज़ वालों में शुगर बढ़ेगा

-अगर शराब 20 से 30 ग्राम डेसीलीटर हो तो ये आपके सोचने-समझने की शक्ति और हाथ-पैरों की मूवमेंट को कम करता है

-अगर शराब की मात्रा और बढ़ती है तो सोचने-समझने की शक्ति और कम हो जाती है

-अगर शराब 80 से 200 ग्राम प्रति डेसीलिटर हो तो आपको उल्टियां होती हैं

-चिड़चिड़ापन होता है

-मूड खराब रहता है

-200 ग्राम प्रति डेसीलिटर से ज़्यादा शराब हो तो आप अपने होश खो बैठते हैं

-कई साइड इफ़ेक्ट हैं. जैसे आप ड्राइव नहीं कर सकते, ठीक से बोल नहीं पाते

-300 ग्राम से ज़्यादा होने पर बेहोशी या मौत भी हो सकती है

इलाज

-शराब की लत का उपचार संभव है

-इसमें तीन ज़रूरी स्टेप हैं

-अव्वल तो इसका बचाव ही उपचार है

-सबसे पहले होता है इंटरवेंशन. यानी पेशेंट में डिनायल ख़त्म किया जाता है. जैसे वो मानने के लिए तैयार नहीं होता कि वो ज़्यादा नहीं पीता. इसे ख़त्म किया जाता है

Image result for alcohol abuse

200 ग्राम प्रति डेसीलिटर से ज़्यादा शराब हो तो आप अपने होश खो बैठते हैं

-दूसरा है डिटॉक्सिफिकेशन (शरीर से बाहर निकालना)

-तीसरा है रीहैबिलिटेशन (पुनर्वास). इसमें लगातार साइकोथेरेपी, परिवार का सपोर्ट मोटिवेशन और अगर ज़रूरत पड़ती है तो रिहैब सेंटर (नशा मुक्ति केंद्र) में एडमिट किया जाता है

उम्मीद है जो लोग एल्कोहॉल एब्यूज कर रहे हैं, जिनको इसकी लत है, ये टिप्स उनके काम ज़रूर आएंगी. किसी भी चीज़ की लत छुड़ाना मुश्किल ज़रूर हो सकता है, पर नामुमकिन नहीं. ख़ासतौर पर अगर सवाल आपकी ज़िंदगी और परिवार का हो तो. इसलिए कोशिश ज़रूर करिए.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

9 बरस की बच्ची से रेप और हत्या कर टुकड़ों में काट दिया था शव, कोर्ट ने सुनाई फांसी की सज़ा

POCSO स्पेशल कोर्ट ने चार्जशीट फाइल होने के 25 दिन में सुनाई सज़ा.

मध्य प्रदेश: रेप की कोशिश में लड़की की रीढ़ की हड्डी तोड़ी

पीड़िता छह महीने तक बेड से हिल भी नहीं सकती.

उन्नाव में तीन दलित लड़कियों के साथ जो हुआ, वो पूरा मामला क्या है?

दो लड़कियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जहर की पुष्टि. तीसरी की हालत अभी भी क्रिटिकल.

प्रेमी के साथ मिलकर पूरे परिवार को मारने वाली शबनम, जिसे अब कभी भी फांसी हो सकती है

फांसी हुई तो आज़ाद भारत में सज़ा-ए-मौत पाने वाली पहली महिला होगी शबनम.

अपनी जूनियर से फ्लर्ट करते हैं तो कोर्ट ने आपके लिए ये स्पेशल बात कही है

मामला मध्यप्रदेश के एक जिला जज से जुड़ा है.

'तुम्हारी मां क्या करती हैं? LOL', सवाल पूछने वाले ट्रोल को नव्या नवेली ने प्यार से समेट दिया

नव्या ने अपनी मां को 'कामकाजी' बताते हुए एक पोस्ट शेयर किया था.

ट्यूशन पढ़ाने गई दलित टीचर की अर्धनग्न हालत में लाश मिली, रेप की आशंका

सोशल मीडिया पर विक्टिम का नाम ट्रेंड कर रहा है.

लड़की प्रेमी के साथ घर छोड़कर गई, दो महीने बाद कुएं में मिला उसका सिर, खेत में मिली बॉडी

लड़की के प्रेमी सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

18 साल की लड़की दो महीने में छह बार बेची गई, आखिर में उसने सुसाइड कर लिया

एमपी के कपल ने नौकरी दिलाने के नाम पर लड़की को किडनैप किया था.

पुलिस पर आरोप, कथित रेप पीड़िता का शव आरोपी से जलवाया कि सबूत मिट जाएं

लाश को जलाने का वीडियो वायरल हो गया.