Submit your post

Follow Us

क्या 35 की उम्र के बाद प्रेगनेंट होना ख़तरनाक होता है?

आशिमा की शादी को 8 साल हो गए थे. वो 34 साल की हो गई थी. मां बनने का प्रेशर भी बहुत था. पर लेट प्रेग्नेंसी के बारे में अशीमा ने काफ़ी सुन रखा था. उससे डर था कि अगर वो अब मां बनती है तो प्रेग्नेंसी में काफ़ी दिक्कतें आएंगी.

सिर्फ़ आशिमा ही नहीं. 30 की उम्र पार कर चुकने के बाद बच्चा प्लान करने वाली लगभग हर औरत को होता है. तो आख़िर किस उम्र तक प्रेग्नेंसी सेफ़ मानी जाती है? लेट प्रेग्नेंसी किसे कहते हैं? और सबसे बड़ी बात. इसमें क्या दिक्कतें आ सकती हैं? इन सवालों के जवाब जानने के लिए हमने बात की डॉक्टर लवलीना नादिर से. वो फ़ोर्टिस और अपोलो हॉस्पिटल में स्त्रीरोग विशेषज्ञ हैं.

तो सबसे पहला सवालः

लेट प्रेग्नेंसी किसे कहते हैं?

यानी मां बनने की क्या वाकई कोई सही उम्र है? या सब समाज की देन है?

इसपर डॉक्टर लवलीना नादिर कहती हैं-

‘अगर कोई औरत 35 साल के बाद पहली बार प्रेगनेंट होती है, यानी उसका पहला बच्चा 35 साल के बाद होता है तो उसको ‘एडवांस्ड मैटरनल ऐज’ कहते हैं.’

Image result for pregnancy"
आख़िर किस उम्र तक प्रेग्नेंसी सेफ़ मानी जाती है? लेट प्रेग्नेंसी किसे कहते हैं?

तो क्या 35 साल के बाद प्रेगनेंट होना रिस्की है?

इसपर डॉक्टर नादिर कहती हैं-

‘औरतें 30 और उसके बाद भी हेल्दी बच्चों को जन्म देती हैं. बात बस इतनी है कि ‘एडवांस्ड मैटरनल ऐज’ यानी 35 के बाद कुछ रिस्क हैं जो बढ़ जाते हैं. पर इसका ये मतलब नहीं कि आप 35 के बाद मां नहीं बन सकतीं. या आपकी प्रेग्नेंसी नॉर्मल नहीं होगी. ऐसा कुछ भी नहीं है.’

35 साल के बाद प्रेगनेंट होने में क्या रिस्क आ सकते हैं?

फर्टिलिटी में गिरावट

फर्टिलिटी मतलब औरत या पुरुष के मां या बाप बन पाने की क्षमता. महिलाओं में उनकी ओवरीज़ अंडे बनाती हैं. ये अंडे जब स्पर्म से मिलते हैं तो प्रेग्नेंसी होती है. पर बढ़ती उम्र के साथ ये अंडे कम बनने लगते हैं. साथ ही उनकी क्वॉलिटी में भी कमी आती है. इसलिए प्रेगनेंट होने में मुश्किल आती है.

मिसकैरेज का ख़तरा बढ़ जाता है

लेट प्रेग्नेंसी में मिसकैरेज का ख़तरा बढ़ जाता है. यानी बच्चा गर्भ में गिरने का. 20 से 24 साल की औरतों में ये ख़तरा 8.9 फ़ीसदी होता है. वहीं 45 साल से ऊपर ये ख़तरा 74.7 फ़ीसदी हो जाता है. ऐसा अंडों की गिरती क्वॉलिटी की वजह से होता है.

स्टिलबर्थ का ख़तरा रहता है

स्टिलबर्थ यानी डिलीवरी के पहले या दौरान बच्चे की मौत हो जाना. इसका ख़तरा लेट प्रेग्नेंसी में ज़्यादा होता है. यानी 35 के बाद.

Image result for stillbirth"
 लेट प्रेग्नेंसी में स्टिलबर्थ की वजह साफ़ नहीं है.

जुड़वां बच्चे होने के चांसेस बढ़ जाते हैं

लेट प्रेग्नेंसी में जुड़वां बच्चे होने के चांसेस ज़्यादा होते हैं. वजह? उम्र के साथ आए हॉर्मोनल बदलावों के कारण एक ही समय में कई अंडे रिलीज़ होते हैं. IVF के द्वारा प्रेग्नेंट होने के केस में ये ज़्यादा होता है.

आपको डाईबीटीज़ हो सकती है

ये आम डाईबीटीज़ नहीं होती है. इसे जेस्टेशनल डायबिटीज कहते हैं. यानी वो डाईबीटीज़ जो केवल प्रेग्नेंसी के दौरान ही होती है. अगर इसको कंट्रोल नहीं किया गया तो गर्भ में बच्चे का साइज़ बड़े होने का ख़तरा रहता है.

हाई ब्लड प्रेशर

लेट प्रेग्नेंसी में हाई ब्लड प्रेशर का ख़तरा बढ़ जाता है.

इसके अलावा:

– नॉर्मल डिलिवरी के चांसेस कम हो जाते हैं. डॉक्टर ज़्यादातर ऑपरेशन से बच्चा डिलीवर करने को कहते हैं

– बच्चे के प्रीमच्यौर होने का ख़तरा भी बढ़ जाता है

डॉक्टर्स की मानें तो प्रेग्नेंसी के दौरान हेल्दी खाना खाइए. एक्टिव रहिए. समय-समय पर अपने डॉक्टर से मिलती रहिए.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

गुरुग्राम: मणिपुरी लड़की का आरोप- लोगों ने मारा-पीटा और कहा- समझ नहीं आता, यहां क्यों आती हो

लड़की के खिलाफ भी मामला दर्ज.

बच्ची ने दुकान खोलने से मना किया तो AIADMK के दो नेताओं ने उसे ज़िंदा जला दिया

लड़की के पिता के साथ पुरानी दुश्मनी थी, बदला ले लिया.

दिल्ली: ऑटो ड्राइवर ने पहले गर्भवती पत्नी की हत्या की, फिर पुलिस को बता दी पूरी कहानी

खुद ही सरेंडर करने भी पहुंच गया.

21 साल की नन की लाश कुएं में मिली, दूसरी नन ने लिखा- और कितनी लाशें चाहिए आंखें खोलने के लिए?

पुलिस का एक ही जवाब- जांच चल रही है.

'बॉयज़ लॉकर रूम' में नहीं हुई थी गैंगरेप प्लानिंग, लड़की ने लड़के की फेक ID बनाकर ये बात की थी

मार्च के महीने में हुई थी ये बातचीत.

80 साल के बुजुर्ग पर 22 साल की लड़की के रेप का आरोप

मामला अप्रैल का है, पीड़िता ने 8 मई को केस दर्ज कराया.

अस्पताल के कर्मचारियों पर आरोप- डिलीवरी के बाद महिला का यौन शोषण किया

दूध की टेस्टिंग के लिए महिला को सैंपल देना था.

बॉयज़ लॉकर रूम: विक्टिम ने बताया, लड़कों के घरवाले शिकायत वापस लेने को कह रहे हैं

इंस्टाग्राम के इस ग्रुप के चैट वायरल होने के बाद छानबीन शुरू.

अफेयर का शक था, इसलिए पुलिसवाले ने कॉन्स्टेबल पत्नी को गोली से उड़ा दिया

अगले दिन कुछ ऐसा हुआ, जिसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी.

जामिया की सफ़ूरा के अजन्मे बच्चे को 'नाजायज़' कहने वालों की अब खैर नहीं!

दिल्ली महिला आयोग ने पुलिस के सामने तीन मांगें रखी हैं.