Submit your post

Follow Us

हाथरस केस: हाई कोर्ट ने पुलिस के बड़े अफसर से पूछा- अपनी बेटी का अंतिम संस्कार ऐसे होने देंगे?

हाथरस कथित गैंगरेप और हत्या मामला. 12 अक्टूबर को इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में इस मामले की सुनवाई हुई. विक्टिम के शव का परिवार की मर्ज़ी के बिना आधी रात को ही अंतिम संस्कार करने को लेकर कोर्ट ने पुलिस और प्रशासन से कड़े सवाल भी पूछे. केस की सुनवाई करते हुए जस्टिस पंकज मित्तल और जस्टिस रंजन रॉय के बेंच ने की.

से पूछा कि क्या वो अपनी बेटी का इसी तरह अंतिम संस्कार कर देते?

और क्या कहा कोर्ट ने?

‘इंडिया टुडे’ के कुमार अभिषेक और संजय शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़ित परिवार को कोर्ट में वकील सीमा कुशवाहा ने रिप्रेजेंट किया. सुनवाई के बाद उन्होंने मीडिया से बात की और बताया कि बेंच ने क्या-क्या कहा. उन्होंने बताया कि कोर्ट ने पुलिस के रवैये को लेकर नाराज़गी जताई. यूपी के ADG (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार से पूछा,’अगर आपकी बेटी होती, तो क्या आप शव को देखे बिना अंतिम संस्कार करने देते?’ ये सवाल सुनने के बाद ADG निशब्द हो गए.’

सीमा ने बताया कि कोर्ट ने पुलिस से ये भी सवाल किया कि अगर पीड़िता किसी अमीर परिवार से होती, तो भी क्या पुलिस इसी तरह का एक्शन लेती? ‘इंडिया टुडे’ की प्रीति चौधरी ने बताया कि कोर्ट ने ADG प्रशांत कुमार से ये भी पूछा कि ‘आप कैसे जानते हैं कि उसका रेप नहीं हुआ?’ दरअसल, पुलिस का कहना है कि मेडिकल जांच में रेप की पुष्टि नहीं हुई है.

DM ने माना कि उनका फैसला था

रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुनवाई के दौरान हाथरस के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट प्रवीण कुमार ने ये माना कि रात में ही अंतिम संस्कार करवा देने का फैसला उनका था. उन्होंने कहा कि काफी ज्यादा भीड़ थी, इसलिए कानून व्यवस्था को नियंत्रित रखने के लिए ये फैसला लिया गया था. इस पर पीड़ित परिवार ने हस्तक्षेप किया और कहा कि पुलिस भारी संख्या में तैनात थी, इसलिए कानून व्यवस्था की स्थिति नियंत्रण से बाहर होने का कोई सवाल ही नहीं था.

पीड़ित परिवार ने क्या मांग रखी?

वकील सीमा कुशवाहा ने बताया कि पीड़ित परिवार चाहता है कि केस यूपी के बाहर ट्रांसफर हो. क्योंकि परिवार को सुरक्षा को लेकर डर बना हुआ है. सीमा ने बताया कि परिवार को लगातार उन ग्रुप्स की तरफ से धमकियां मिल रही हैं, जो आरोपियों को सपोर्ट कर रहे हैं. परिवार ने कोर्ट से अपील की कि उन्हें सुनवाई के आखिरी और फाइनल नतीजे आते तक सुरक्षा प्रदान की जाए. सीमा ने कोर्ट से ये भी कहा कि जांच की जानकारियां प्राइवेट रखी जाएं, ताकि परिवार की निजता के साथ कोई समझौता न हो सके.

परिवार ने कोर्ट में कहा कि उनकी बेटी के शव का अंतिम संस्कार उनकी मर्ज़ी के खिलाफ हुआ था और उन्हें अंतिम संस्कार में शामिल भी नहीं होने दिया गया था.

‘परिवार के मानवाधिकारों का उल्लंघन हुआ’

सीमा कुशवाहा ने मीडिया से कहा कि पुलिस ने पीड़ित परिवार से उनके मानवाधिकारों को छीना है. सीमा ने कहा,

“अंतिम संस्कार के दौरान, हम मृत व्यक्ति के शव पर गंगा जल छिड़कते हैं. उन्होंने तो उसे कैरोसीन से जला दिया. उसके बेसिक ह्यूमन राइट्स छीन लिए.”

यूपी सरकार ने कोर्ट में क्या कहा?

एडिशनल एडवोकेट जनरल वीके शाही ने राज्य प्रशासन को कोर्ट में रिप्रेजेंट किया. सुनवाई के बाद जब मीडिया ने उनसे सवाल किया, तो उन्होंने कुछ भी कहने से मना कर दिया. केवल इतना कहा, ‘कोर्ट अपना फैसला देगा. अगली सुनवाई 2 नवंबर 2020 को है.’

किस मामले पर सुनवाई कर रहा है इलाहाबाद हाई कोर्ट?

हाथरस के एक गांव की 19 बरस की एक लड़की 14 सितंबर को कथित गैंगरेप का शिकार हुई. अलग-अलग अस्पतालों में इलाज चला. घटना के 15 दिन बाद उसकी मौत हो गई. चार आरोपियों की गिरफ्तारी हुई. लड़की की मौत के बाद रात में ही उसके शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया. परिवार वालों का कहना है कि उनकी मर्ज़ी के बिना पुलिस ने ज़बरन दाह संस्कार किया. इसके बाद लोगों का गुस्सा भड़का. पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ जगह-जगह पर विरोध प्रदर्शन हुए. दलित लड़की के कथित गैंगरेप और हत्या की घटना से ‘हैरान’ होकर इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ की बेंच ने 1 अक्टूबर को यूपी के उच्च अधिकारियों को समन भेजा.

एडिशनल चीफ सेक्रेटरी, पुलिस के डायरेक्टर जनरल, एडीजी- लॉ एंड ऑर्डर, डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट, हाथरस के सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस को समन भेजा गया. पीड़ित परिवार से भी कहा गया कि वो कोर्ट आकर अपना बयान दें. सभी पार्टियां 12 अक्टूबर को लखनऊ बेंच के सामने पहुंची. अपने बयान दर्ज करवाए. अब इस मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट अगली सुनवाई 2 नवंबर को करेगा.

सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई

वहीं सुप्रीम कोर्ट में भी इस मामले की सुनवाई चल रही है. 15 अक्टूबर को अगली सुनवाई होगी. पिछली सुनवाई में कोर्ट ने यूपी सरकार से तीन मुद्दों पर जवाब सौंपने को कहा था. पहला- पीड़ित परिवार और गवाहों के लिए किस तरह की सुरक्षा व्यवस्था की गई है? दूसरा- क्या पीड़ित परिवार के पास कोई वकील है? तीसरा- इलाहाबाद हाई कोर्ट के ट्रायल का क्या स्टेटस है.


वीडियो देखें: हाथरस: रात में लखनऊ जाने से पीड़ित परिवार ने मना क्यों कर दिया?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

सोशल मीडिया का असर देखिए; एक के लिए दर्द बना तो दूसरी के लिए दवा

एक्सिडेंट में एक पैर गंवाने के बावजूद TIME के कवर तक पहुंचने की दिलचस्प कहानी भी पढ़िए.

रिया चक्रवर्ती की मां ने बताया, किस हाल में है पूरा परिवार

और जानिए, साहित्य में नोबेल पाने वाली 16वीं महिला कौन है?

बालाकोट एयरस्ट्राइक में वायुसेना की इस अधिकारी ने दमखम दिखाया था, अब मिला बड़ा सम्मान

और जानिए, रंगभेद की वजह से सेरेना विलियम्स ने क्या कुछ झेला.

बिहार चुनाव में बेहद खास ज़िम्मेदारी संभालने जा रही हैं ये ट्रांसजेंडर महिला

और जानिए सबसे लंबे पैरों वाली लड़की के बारे में, जो अब गिनीज़ बुक में भी आ चुकी है.

IIT एंट्रेंस में टॉप करने वाली इस लड़की की बातें सुनकर दिल एकदम खुश हो जाएगा

और जानिए कि रिया चक्रवर्ती के बारे में अब क्या नई खबर आई है.

हाथरस केस: इस BJP विधायक ने एक बार फिर जहालत भरी बात कर दी है!

विधायक के बयान की आलोचना शुरू हो गई है.

बीजेपी-कांग्रेस की नेताओं पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप

और जानिए भदोही मामले में पुलिस ने क्या दावा किया.

देश में सामने आए रेप के इतने केस, आंकड़े शर्म से सिर झुकाने वाले हैं

यह भी पढ़ें- एक महिला ने तोड़ी जाति की बेड़ियां, दूसरी ने लॉकडाउन में कमाल कर दिया

शाहरुख की बेटी का दर्द छलका, कैसे सांवली होने पर लोग 'बदसूरत' कहा करते थे

और जानिए हाथरस कथित गैंगरेप में पुलिस पर लगे गंभीर आरोपों के बारे में.

यूपी की 'अतिक्रमण स्पेशलिस्ट' के बारे में जानकर आप तारीफ किए बिना नहीं रहेंगे

और हाथरस मामले में सोशल मीडिया पर चल रही ख़बरों के बीच पुलिस ने क्या कहा?