Submit your post

Follow Us

लॉकडाउन: इंटरनेशनल चैंपियन पेड़ों से लटक और गेहूं काटकर कर रही हैं मेडल की तैयारी

हरियाणा का लाडवा गांव. यहां रहती हैं खुशबू पूनिया. भारतीय हैंडबॉल टीम की कप्तान रह चुकी हैं. अभी तक कई मेडल जीत चुकी हैं. लेकिन आज उनकी बात हम आपको क्यों बता रहे हैं?

क्योंकि लॉकडाउन के चलते सभी प्रैक्टिस सेंटर बंद हो गए हैं. इस वजह से टीम की खिलाड़ी किसी तरह जुगाड़ लगाकर घर पर ही प्रैक्टिस कर रही हैं. खुशबू ही नहीं, उनकी टीम की बाक़ी लड़कियां भी. ‘आज तक’ से जुड़े प्रवीण कुमार ने बताया कि खुशबू पेड़ों से लटक कर एक्सरसाइज कर रही हैं. और मांसपेशियां मजबूत रखने के लिए खेतों में गेहूं की कटाई भी कर रही हैं.

Khusbhoo 2
प्रैक्टिस करने वाली खिलाड़ी अपनी तस्वीरें ग्रुप पर भी भेजती हैं. (तस्वीर: प्रवीण कुमार/ आज तक)

रेगुलर दिनों में खुशबू डिवाइन लाइट स्कूल में कोच महाबीर पूनिया और अशोक पूनिया के पास ट्रेनिंग लेती हैं. फिलहाल उनके कोचों ने वॉट्सऐप पर दो ग्रुप बना दिए हैं. इन ग्रुप्स पर खेल से जुड़ी जानकारी भेजी जाती है. ये भी बताया जाता है कि कौन-कौन सी एक्सरसाइज करनी है. इन ग्रुप्स में खिलाड़ी अपनी प्रैक्टिस की फोटो भी शेयर करती हैं.

‘दी लल्लनटॉप’ से बातचीत में खुशबू ने बताया.

‘सुबह की एक्सरसाइज के लिए खेतों में चले जाते हैं. शाम की एक्सरसाइज घर पर कर लेते हैं. मेरी एक बहन और है, जो हैंडबॉल खेलती है मेरी तरह. छोटी वाली को मेडिकल की पढ़ाई करनी थी , तो वो बाहर है. फिलहाल मेरा अगला लक्ष्य है एशियन गेम्स में मेडल जीतना. ‘

करियर के बारे में पूछने पर खुशबू ने बताया कि अभी वो प्लस 2 की पढ़ाई पूरी कर रही हैं. आगे भी खेल पर फोकस रखेंगी. खेल के ज़रिए ही आगे जॉब भी मिल जाएगी, तो वो करेंगी.

3
इस वक़्त प्रैक्टिस सेंटर बंद होने पर खुशबू को लगा कि फिटनेस का ध्यान कैसे रखा जायेगा. फिर ये उपाय निकाला गया. (तस्वीर: प्रवीण कुमार/ आज तक)

कोच महाबीर पूनिया के मुताबिक़ आठ साल पहले तक केवल सात खिलाड़ी अभ्यास करने आती थीं. अब उनकी संख्या 40 हो गई है. पदक भी आने शुरू हो गए हैं. खुशबू एशियम और नेशनल गेम्स में गोल्ड जीतना चाहती हैं. इसके लिए तैयारी में जुटी हुई हैं. तभी लॉकडाउन के बावजूद वो और उनकी टीम अभ्यास का कोई भी मौक़ा छोड़ नहीं रहे.


वीडियो: तस्वीर: भूखे परिवार के संघर्ष को बयां करता ये लेख आपको सोचने पर मज़बूर कर देगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

बलरामपुर केस: पीड़िता की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या निकला?

बलरामपुर केस: पीड़िता की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या निकला?

दो लड़कों पर 22 साल की दलित लड़की से गैंगरेप का आरोप है.

लखनऊ: दलित युवती से गैंगरेप का आरोप, पुलिस ने केस दर्ज करने में एक महीने लगा दिए!

लखनऊ: दलित युवती से गैंगरेप का आरोप, पुलिस ने केस दर्ज करने में एक महीने लगा दिए!

हाथरस मामले के तूल पकड़ने के बाद जागी पुलिस.

राजस्थान: नाबालिग बहनों का आरोप- तीन दिन तक गैंगरेप हुआ, पुलिस ने कहा कि बयान तो ऐसा नहीं दिया था

राजस्थान: नाबालिग बहनों का आरोप- तीन दिन तक गैंगरेप हुआ, पुलिस ने कहा कि बयान तो ऐसा नहीं दिया था

राजस्थान की तीन घटनाएं, जो झकझोर देंगी.

बलरामपुर: गैंगरेप के बाद लड़की की हत्या का आरोप,  आधी रात को हुआ अंतिम संस्कार

बलरामपुर: गैंगरेप के बाद लड़की की हत्या का आरोप, आधी रात को हुआ अंतिम संस्कार

परिवार का कहना है कि ऑफिस से लौट रही लड़की को किडनैप कर दो लोगों ने उसका रेप किया.

हाथरस केस: जिस परिवार ने बेटी खोई, पुलिस उसे अंतिम संस्कार पर ज्ञान दे रही थी

हाथरस केस: जिस परिवार ने बेटी खोई, पुलिस उसे अंतिम संस्कार पर ज्ञान दे रही थी

परिवार चाहता था कि अंतिम विदाई से पहले बेटी एक बार घर आ जाए. पुलिस नहीं मानी.

हाथरस केस: परिवार का आरोप, 'जबरन जला दिया बेटी का शरीर, हमें आखिरी बार देखने भी न दिया'

हाथरस केस: परिवार का आरोप, 'जबरन जला दिया बेटी का शरीर, हमें आखिरी बार देखने भी न दिया'

अंतिम संस्कार के वक्त परिवार वाले मौजूद नहीं थे.

हाथरस: कथित गैंगरेप के बाद लड़की को इतना पीटा कि रीढ़ टूट गई, 15 दिन तड़पने के बाद मौत

हाथरस: कथित गैंगरेप के बाद लड़की को इतना पीटा कि रीढ़ टूट गई, 15 दिन तड़पने के बाद मौत

गर्दन, स्पाइनल कॉर्ड, सब जगह गहरी चोट लगी थी.

वेब सीरीज में काम दिलाने के बहाने तस्वीरें मंगवाता, फिर ब्लैकमेल करता था

वेब सीरीज में काम दिलाने के बहाने तस्वीरें मंगवाता, फिर ब्लैकमेल करता था

आरोपी ने सोशल मीडिया पर कई फेक प्रोफाइल्स बना रखी थीं.

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोपी की पांच बेटियां हैं.

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

उस समय मां ने ही शव की पहचान की थी.