Submit your post

Follow Us

थाने में ही क्यों करनी पड़ी हल्दी की रस्म, महिला कॉन्स्टेबल ने बताया

देश में कोरोना का कहर जारी है. हर दिन कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. ऐसे में फ्रंटलाइन वर्कर्स दिन रात लोगों की सेवा में अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं. चाहे वो पुलिसकर्मी हो या फिर स्वास्थ्यकर्मी. काम का दबाव इतना ज्यादा है कि जरूरी काम के लिए भी छुट्टी बड़ी मुश्किल से मिल रही है. ऐसा ही एक मामला आया है राजस्थान से. एक महिला पुलिस कॉन्स्टेबल अपनी हल्दी की रस्म की वजह से चर्चा में है. चर्चा इसलिए हो रही है क्योंकि उनकी हल्दी की ये रस्म थाने में हुई. 30 अप्रैल को उनकी शादी है. लेकिन, कोरोना की वजह से उन्हें ज्यादा छुट्टी नहीं मिली. इसलिए उनके सहकर्मियों ने उनकी हल्दी वाली रस्म थाने में ही कर दी.

क्या है पूरा मामला

राजस्थान के डूंगरपुर में इंडिया टुडे से जुड़े पत्रकार राजेश जोशी के मुताबिक़, आशा रोत्त राजस्थान के डूंगरपुर थाने में पुलिस कॉन्स्टेबल हैं. 30 अप्रैल को उनकी शादी है. लेकिन राज्य में कोरोना के हालात के कारण उन्हें शादी के लिए बहुत कम छुट्टियां मिली. इसलिए उन्होंने अपनी हल्दी की रस्म थाने में ही निभाई. थाने के दूसरे सहकर्मियों ने आशा की हल्दी को खास बनाया अब इस हल्दी की रस्म का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

महिला कांस्टेबल्स ने थाने में गाए मंगल गीतबांसवाड़ा के डूंगरपुर में पुलिस थाने में ही महिला कांस्टेबल की हल्दी की रस्में पूरी की गईं। कोरोना की महामारी में ड्यूटी की वजह से घर से जाने की नहीं मिल पाई थी छुट्टी।

Posted by Rajasthan Tak on Saturday, 24 April 2021

इस बारे में अधिक जानकारी के लिए हमने डूंगरपुर थाने की कॉन्स्टेबल आशा से बात की. उन्होंने दी लल्लनटॉप को बताया-

“मेरी शादी पिछले साल 2 मई को होने वाली थी. लॉकडाउन के कारण पिछले साल शादी नहीं हो पाई. इस बार शादी 30 अप्रैल को है. इस साल भी कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण लॉकडाउन जैसी स्थिति है और ज्यादा छुट्टी मिलना संभव नहीं है. इसलिए जब हल्दी की रस्म के लिए छुट्टी नहीं मिली तो थाने में ही मेरे सहकर्मियों ने इसका आयोजन कर दिया. मुझे परिवार जैसा ही महसूस हुआ और बहुत खुशी हुई. अब मुझे छुट्टी मिल गई है.”

बीते 24 घंटे में राजस्थान में 15 हज़ार से ज्यादा कोरोना के नए मामले सामने आए हैं. पूरे राजस्थान में कर्फ्यू लगा हुआ है. एक जिले से दूसरे जिले में जाने पर रोक है. जरूरी सामान की दुकानें भी सुबह 6 बजे से सुबह के 11 बजे तक ही खुल रही हैं. शादी समारोह में 50 से ज्यादा लोगों के शामिल होने की इजाज़त नहीं है. शादी का फंक्शन 3 घंटे में ही निपटाने का आदेश है. प्राइवेट गाड़ियों में भी 50 फीसदी लोग ही सफ़र कर सकते हैं.


पीपीई किट पहन दिन रात कोविड ड्यूटी कैसे निभा रही हैं महिला डॉक्टर?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

कपड़ा फैक्ट्री में 19 महिलाओं से जबरन काम कराया जा रहा था, पुलिस ने बचा लिया

तीन महीने की ट्रेनिंग के लिए बुलाया, फिर बंधक बना लिया.

ग्वालियर: COVID सेंटर में वॉर्ड बॉय पर मरीज से रेप की कोशिश का आरोप, गिरफ्तार

आरोपी को नौकरी से निकाला.

बाप पर आरोपः दो साल तक बेटी का रेप किया, दांतों से चबाकर उसकी नाक काट ली

पैसे देकर दूसरे लड़के से रेप करवाने का भी आरोप है.

सुसाइड कर रहे पति को रोकने की जगह पत्नी उसका वीडियो क्यों बना रही थी?

पति की मौत हो गई है.

लड़कियों को बेरहमी से घसीट रही पुलिस के वायरल वीडियो का पूरा सच क्या है

क्या कार्रवाई के लिए पुलिस फसल पकने का इंतज़ार कर रही थी?

रेप के आरोपी NCP नेता को बचाने की कोशिश कर रहा था ACP, कोर्ट ने दिन में तारे दिखा दिए

ये सुनकर कोई भी पुलिस वाला शर्मिंदा हो जाए.

POCSO कोर्ट ने आंख मारने और फ्लाइंग किस को यौन उत्पीड़न माना, एक साल की सजा सुनाई

कोर्ट ने 15 हजार का जुर्माना भी लगाया.

'वर्जिनिटी टेस्ट' में फेल हुई तो जात पंचायत ने तलाक कराने का आदेश दे दिया

मामला कोल्हापुर का है. दो बहनों की एक ही परिवार में शादी हुई थी.

CRPF जवानों पर ऐसा क्या लिखा कि महिला को रेप की धमकी मिलने लगी

असमिया लेखिका शिखा शर्मा पर राजद्रोह का आरोप लगा है.

औरत का सिर मूंडने वाली, उस पर कालिख पोतने वाली भीड़ ने उसके बराबर जिम्मेदार पुरुष को छुआ तक नहीं

औरतों पर ऐसा अत्याचार करने वाली भीड़ को सज़ा कितनी मिलती है?