Submit your post

Follow Us

लड़की के साथ रेप का डरावना वीडियो वायरल, हैवानियत देखकर गुस्सा आता है

एक समाज के तौर पर हम बात तो ह्यूमन राइट्स की करते हैं. मगर हम अभी भी किसी बर्बर काल में जी रहे हैं. दरअसल एक वीडियो आया है. इस वीडियो में पांच लोग मिलकर एक लड़की को प्रताड़ित कर रहे हैं. वीडियो में जो कुछ भी है उसे देखकर दिल बैठ रहा है. गुस्सा आ रहा है. डर लग रहा है.

चलिए जानते हैं पूरा मामला क्या है?

वायरल वीडियो इतना भयावह है कि उसे हम आपको दिखा नहीं सकते हैं. चार आदमी और एक औरत मिलकर एक लड़की के साथ बर्बर व्यवहार कर रहे हैं. वीडियो में जबरन लड़की के कपड़े उतारे जा रहे हैं. उसके सिर पर पैर रखा जा रहा है. वो चिल्लाए न इसके लिए उसके मुंह पर कपड़ा डाल दिया जाता है. उसके प्राइवेट पार्ट में प्राइवेट पार्ट में पहले पैर का अंगूठा और फिर बाद में शराब की बोतल डाल दी जाती है.

पूरी घटना वीडियो कॉल के जरिए आरोपी दूसरों के साथ शेयर कर रहे थे. पीड़िता को घटिया से घटिया गाली दे रहे हैं.

कहां का वीडियो है?

अभी तक केवल इतना पता चल पाया है कि विक्टिम नॉर्थ ईस्ट के किसी राज्य की है. किस राज्य की है ये साफ नहीं है. कुछ लोग इस मामले को जोधपुर सुसाइड केस से जोड़ रहे हैं. वहां 23 मई को एक लड़की ने सुसाइड कर लिया था. लड़की मूल रूप से नगालैंड की थी. हालांकि, इन आशंकाओं को केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजूजू ने खारिज कर दिया. एक ट्वीट करते हुए उन्होंने जानकारी दी,

“नॉर्थ ईस्ट की लड़की का वायरल वीडियो, जिसमें उसके साथ चार आदमियों और एक महिला द्वारा बर्बरता की गई है, उसका रेप किया गया है, जोधपुर सुसाइड केस का नहीं है. मैंने जोधपुर के पुलिस कमिश्नर से विस्तार से बात की है. हालांकि, राक्षसों को पकड़ने के लिए सभी राज्यों की पुलिस को पूरा दमखम लगा देना चाहिए.”

असम पुलिस ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया?

दूसरी तरफ असम पुलिस ने आरोपियों को खोजने के लिए ऑपरेशन शुरू भी कर दिया है. असम पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल पर आरोपियों की फोटो डाली हैं और लिखा है,

“ये उन पांच अपराधियों की फोटो हैं, जो एक वायरल वीडियो में एक युवा लड़की के साथ बर्बरता करते हुए दिख रहे हैं. यह घटना कब की है और कहां की है, अभी साफ नहीं है. जिस किसी के भी पास इस अपराध और इन अपराधियों के संबंध में जानकारी हो, वो हमसे संपर्क करे. उन्हें इनाम दिया जाएगा.”

असम पुलिस की तरफ से यह भी कहा गया कि हो सकता है कि यह पूरा घटनाक्रम असम का ना हो लेकिन हम अपनी तरफ से अपराधियों को खोजने का प्रयास कर रहे हैं. इस जघन्य अपराध के अपराधियों को न्याय की चौखट पर लाने के लिए हम सबको मिलकर प्रयास करना होगा.

सोशल मीडिया पर न्याय की मांग

इस पूरे मामले का वीडियो बहुत तेजी से वायरल हुआ है. लोग पीड़िता के लिए न्याय की मांग कर रहे है. सोशल मीडिया पर इसके लिए एक हैशटैग के तहत मुहिम भी चलाई जा रही है. कोई आरोपियों को देखते ही गोली मारने की मांग कर रहा है तो कई फांसी की सजा देने को कह रहा है. इन सबके बीच लोगों के लिए सबसे स्तब्ध करने वाला तथ्य यह है कि आखिर एक महिला इस तरह के जघन्य अपराध में कैसे शामिल हो सकती है. इस सवाल को जवाब तो तब ही सामने आएगा, जब आरोपी पुलिस की गिरफ्त में होंगे. जब पीड़िता अपना बयान देगी. फिलहाल इस मामले में कोई और अपडेट हमारे पास नहीं है. नई जानकारी सामने आने पर हम आपको अपडेट करेंगे.


यूट्यूब पर दिख रहे ‘शिल्पी की शादी’ से जुड़े वायरल वीडियोज़ के पीछे कौन?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

भोजपुरी सिंगर शिल्पी राज ने रोते हुए बताया अपनी 'शादी' का सच; मारपीट, धोखाधड़ी के आरोप भी लगाए

यूट्यूब पर दिख रहे 'शिल्पी की शादी' से जुड़े वीडियो के पीछे कौन?

इरफान पठान की हर फैमिली फोटो में उनकी पत्नी का चेहरा छिपा क्यों रहता है?

इसी तरह की एक फोटो पर विवाद हो गया है.

समलैंगिक कपल्स को शादी करने का अधिकार मिलना क्यों ज़रूरी है?

समलैंगिक शादियों को लेकर केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट में क्या कहा?

मिडिल क्लास की लड़की, ब्याह के घर बिठा दी जाती लेकिन इस एक बात ने बना दिया पायलट

जोया की कहानी लाखों लड़कियों के लिए एक इंस्पिरेशन है.

कैप्टन अमरिंदर सिंह ढाई साल पुराने 'मीटू' मामले को अपने ही मंत्री के खिलाफ यूज़ कर रहे हैं?

IAS ऑफिसर ने लगाया था यौन शोषण का आरोप. पहले क्लीनचिट दी, अब नोटिस भेजा.

कोरोना के दौरान बच्चा साथ लेकर ट्रैफिक संभालती ये कॉन्स्टेबल सरकार के मुंह पर तमाचा है

औरत की मजबूरी को 'मां की ममता' कहकर महिमामंडित करना बंद करें.

महिला क्रिकेट टीम के करोड़ों रुपये दबाकर क्यों बैठा है BCCI?

बड़ी नाइंसाफी है.

इंटरनैशनल फुटबॉलर को लॉकडाउन में गुज़ारे के लिए क्या-क्या करना पड़ रहा, सरकार को शर्मिंदा होना चाहिए

नौ महीने पहले मदद का आश्वासन देकर भूल गई सरकार.

बिहार: मरीजों का हाल जानने अस्पताल पहुंची विधायक कुर्सी के लिए डॉक्टर से उलझ गईं

अब वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.

बॉम्बे हाईकोर्ट ने महिला को तीन बच्चों के गर्भपात की इसलिए दी अनुमति

गर्भावस्था 24 हफ्ते की कट ऑफ अवधि को पार कर गई थी.