Submit your post

Follow Us

ब्रेस्ट का आकार बहुत बड़ा हो रहा है, कहीं इस 'मेडिकल कंडीशन' के चलते तो नहीं?

5
शेयर्स

दिल्ली के एक अस्पताल में डॉक्टरों ने एक महिला के शरीर पर से 11 किलो कम किए. आप सोच रहे होंगे ये ज़रूर कोई वज़न कम करने वाली सर्जरी रही होगी. लेकिन ऐसा नहीं है.

हिन्दुस्तान टाइम्स में छपी खबर के अनुसार, दिल्ली के डॉक्टरों ने 56 साल की एक महिला की सर्जरी की. इस सर्जरी में उसके ब्रेस्ट्स से टिशूज हटाए गए. इन टिशूज का वज़न 11 किलो था.

ऐसा क्या हुआ था?

ये महिला जाइगैन्टोमेस्टिया नाम की कंडीशन से जूझ रही थी. इसमें ब्रेस्ट के टिशूज काफी ज्यादा बढ़ जाते हैं. जिस डॉक्टर ने उनकी सर्जरी की, उनका नाम डॉक्टर अजय कश्यप है. उन्होंने बताया,

‘ब्रेस्ट रिडक्शन को अक्सर लोग एक कॉस्मेटिक प्रक्रिया मानते हैं. लेकिन इस मामले में इस सर्जरी ने इस महिला की ज़िन्दगी बदल दी. ये बहुत ज्यादा टिशूज की मात्रा है. वो मेरे पास आई तो बहुत ज्यादा दर्द था उन्हें, पीठ और कन्धों में. उनके ब्रेस्ट्स इतने भारी हो चुके थे कि उनको चलने फिरने में परेशानी हो रही थी. वो सीधे चल भी नहीं पाती थीं.’

इस कंडीशन में क्या होता है?

इस कंडीशन में कई बार जूझ रही महिला की रीढ़ की हड्डी पर बुरा असर पड़ता है. (तस्वीर साभार: phitsanulokhotnews)
इस कंडीशन में कई बार जूझ रही महिला की रीढ़ की हड्डी पर बुरा असर पड़ता है. (तस्वीर साभार: phitsanulokhotnews)

इस कंडीशन को जाइगैन्टोमेस्टिया, ब्रेस्ट हाइपरट्रोफी जैसे नामों से जाना जाता है. ये कॉमन नहीं है. इसमें ब्रेस्ट के टिशू नॉर्मल स्टार से काफी ज्यादा बढ़ जाते हैं. मेडिकल टर्म्स में कहें, तो शरीर के कुल वज़न के तीन फीसद से ज्यादा अगर ब्रेस्ट्स का वज़न हो, तो इस कंडीशन की आशंका होती है. यानी अगर आपका वज़न 70 किलो है, तो ब्रेस्ट्स का वज़न 2.1 किलो से ज्यादा नहीं होना चाहिए. लेकिन ये कोई इकलौता पैरामीटर नहीं है. इस कंडीशन का पहला रिकॉर्डेड केस साल 1670 में देखने को मिला था.

किन्हें होती है ये दिक्कत?

ये दिक्कत जेनेटिक भी हो सकती है, हॉर्मोनल भी. प्रेग्नेंसी के दौरान भी ये ट्रिगर हो सकता है. कई मामलों में ऐसा देखा गया है कि लड़कियों के पहले पीरियड्स के समय अचानक उनकी ब्रेस्ट ग्रोथ काफी बढ़ जाती है. जापान में बारह साल की बच्ची के साथ ऐसा हुआ था, जब आठ महीने के भीतर उसके ब्रेस्ट्स का साइज़ काफी बढ़ गया था. इसकी वजह से उसकी रीढ़ की हड्डी भी झुक गई थी. इसकी वजह से सर्जरी करना बेहद ज़रूरी हो गया था. ये  दिक्कत उन लोगों को होने की आशंका ज्यादा होती है जिन्हें हॉर्मोनल दिक्कतें ज़्यादा होती हैं. पहले पीरियड्स और प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन, प्रोलैक्टिन इत्यादि हॉर्मोन काफी बनते हैं. इनकी वजह से भी ब्रेस्ट टिशू में काफी ज्यादा ग्रोथ देखने को मिलती है.

कुछ मामले इतने सीरियस होते हैं कि महिला का चलना फिरना तक मुश्किल हो जाता है. (सांकेतिक तस्वीर साभार: phitsanulokhotnews)
कुछ मामले इतने सीरियस होते हैं कि महिला का चलना फिरना तक मुश्किल हो जाता है. (सांकेतिक तस्वीर साभार: phitsanulokhotnews)

इलाज क्या है?

ये इस पर निर्भर करता है कि ब्रेस्ट्स टिशूज कितने अधिक बढ़े हुए हैं. अगर बहुत ज्यादा ग्रोथ है, और ये आपके शरीर की सेहत पर असर डाल रही है, तो सर्जरी भी करवाई जा सकती है. या फिर हॉर्मोनल ट्रीटमेंट की मदद से इसे ठीक किया जा सकता है. आमतौर पर जब कम उम्र में ऐसे केसेज होते हैं, तो इंतज़ार करने की सलाह डॉक्टर्स देते हैं. इस समय शरीर में कई बदलाव आ रहे होते हैं जिन पर दवाइयों का गलत असर पड़ सकता है. जब तक ग्रोथ स्टेबलाइज नहीं हो जाती तब तक डॉक्टर कोई भी सर्जरी या हॉर्मोन ट्रीटमेंट करने से बचते हैं. अगर ब्रेस्ट का आकार प्रेग्नेंसी के दौरान ही बढ़ता है, तो दवाइयों के सहारे इसे कम करने की कोशिश की जाती है.

वैसे तो ये कंडीशन बहुत कॉमन नहीं है, लेकिन फिर भी अगर आपको अपने ब्रेस्ट के वज़न की वजह से दिक्कत होती है, या उसकी वजह से आपको बैक पेन की शिकायत हो रही है, तो आपको अपने डॉक्टर से एक बार सलाह ज़रूर ले लेनी चाहिए.


वीडियो: कारों की बिक्री, मंदी और मिलेनियल्स का क्या लेना-देना है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

हैदराबाद गैंगरेप आरोपियों के एनकाउंटर के बाद पीड़ित परिवार का भावुक करने वाला बयान

देर रात पुलिस ने चारों आरोपियों का एनकाउंटर किया.

हैदराबाद कांड के सात दिन बाद बक्सर में मिली लड़की की जली हुई लाश, रेप की आशंका

बिहार में 24 घंटे के अंदर दो ऐसे मामले सामने आए हैं.

HIV पॉज़िटिव निकला कुख्यात रेपिस्ट 'जीवाणु', 7 साल की बच्ची भी वायरस की शिकार

40 से ज्यादा लोगों का रेप कर चुका है आरोपी.

सार्वजनिक शौचालय में बच्चे का यौन शोषण, विरोध किया तो गाल काट दिया

3 घंटे तक बच्चा शौचालय में डरा-सहमा बैठा रहा.

रात में अकेले सफर करने वाली औरतों को पुलिस की गाड़ी घर तक छोड़ेगी

पंजाब पुलिस की पहल, सुरक्षित साधन न मिले तो 100, 112 और 181 पर कॉल लगाएं.

हैदराबाद गैंगरेप पीड़िता के खिलाफ फेसबुक पर घटिया बातें लिखने वाला गिरफ्तार

कुछ ऐसा लिखा था जिसे हम बता भी नहीं सकते. पुलिस ने सबक सिखाया.

आदमी ने परिवार के तीन लोगों की हत्या कर दी, कहा- रेप करने गया था, चीखने लगे तो मार दिया

घटना का वीडियो बनाकर अपने परिवार वालों को दिखा रहा था.

तेलंगाना CM KCR गैंगरेप पीड़िता के परिवार से नहीं मिले, पर शादियां दुनिया जहां में अटेंड कर रहे

और महिलाओं की सुरक्षा का जो हल सीएम ने निकाला है, वो तो मूड खराब करने वाला है.

ओडिशा में पुलिस कॉन्सटेबल ने साथियों के साथ मिलकर महिला का गैंगरेप किया

बस स्टैंड पर खड़ी होकर बस का इंतजार कर रही थी.

डॉक्टर के गैंगरेप के बाद हैदराबाद पुलिस ऐसा छिछला काम करेगी, यकीन नहीं होता

लोगों का गुस्सा बढ़ रहा है, कॉमन सेन्स घट रहा है.