Submit your post

Follow Us

'हराम की बोटी' कहकर लड़कियों के प्राइवेट पार्ट को काटा और सिल दिया जाता है

चार साल की छोटी बच्ची. उसे ये भी नहीं पता कि उसे आस-पास वाले लड़की क्यों कहते हैं. या फिर उसमें और पड़ोस के हमउम्र लड़के में क्या फर्क है, उसे नहीं मालूम. फिर एक दिन उसके घर एक औरत आती है. हाथ में पतला सा ब्लेड लिए. लड़की की मां उसे समझाती हैं, ये आंटी इसलिए आई हैं, ताकि तुम ‘पवित्र’ रह सको. तुम्हारे शरीर से गंदगी हटाने आई हैं ये. थोड़ा दर्द होगा. सह लो. फिर बिना किसी एनिस्थीसिया या दवा के, वो बच्ची जमीन पर लिटा दी जाती है. एक झटके में उसे बेतहाशा दर्द होता है, और वो सुध-बुध भूल जाती है. उसका ख़तना किया जा चुका है.

‘द गार्डियन’ की रिपोर्ट के अनुसार सोमालिया की लड़कियों के ख़तने (फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन) के मामले इस लॉकडाउन के दौरान बेतहाशा बढ़ गए हैं. क्योंकि लॉकडाउन की वजह से वो घर पर ही रह रही हैं. और खतना करने वाले लगातार घर-घर जाकर पूछ रहे हैं, कि क्या उनके घर में कोई ऐसी लड़की है जिसका ख़तना किया जा सके? ऐसे में इस खतरनाक प्रथा से बचना उनके लिए और भी मुश्किल हो गया है.

इस खबर पर आगे बढ़ने से पहले थोड़ा सा बैकग्राउंड समझ लीजिए.

सोमालिया अफ्रीका महाद्वीप में एक देश है. इसके आस-पास केन्या और इथियोपिया हैं. यहां की जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा इस्लाम धर्म को मानता है. 2005 से लेकर 2012 के बीच यहां के पाइरेट (समुद्री डाकू) लगातार ख़बरों में बने हुए थे. अंतरराष्ट्रीय समुद्री फोर्सेज ने साथ मिलकर उन्हें कंट्रोल करने की कोशिशें कीं जिससे इनका ख़तरा थोड़ा कम हुआ. यहां पर अल शबाब नाम का इस्लामिक मिलिटेंट समूह एक्टिव है, जिसकी वजह से भी सोमालिया ख़बरों में बना रहता है. इस देश की 98 फीसद लड़कियों/महिलाओं का खतना किया जा चुका है.

Somalia Britannica
नक़्शे पर सोमालिया जहां दिखाई देता है, उसे अफ्रीका का सींग (हॉर्न ऑफ अफ्रीका) कहते हैं. क्योंकि ये एक सींग की शक्ल में उभरा हुआ दिखाई देता है. (तस्वीर: encyclopedia britannica)

फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन क्या है?

मुस्लिम और यहूदी समुदाय में बचपन में ही लड़को के लिंग के आगे की खाल काट दी जाती है. पर यह तो हुई लड़कों की बात. लड़कियों में उनका क्लिटरिस काटा जाता है. यह एक ऐसा अंग है जिसके बारे में लोगों को बहुत ही कम जानकारी है. यहां तक कि क्लिटरिस के लिए आम भाषा में कोई शब्द ही नहीं है. हां, संस्कृत में इसे भग्न-शिश्न कहते हैं. यह खाल का एक छोटा सा टुकड़ा होता है जो लड़कियों के वल्वा (वजाइना के लिप्स यानी बाहरी भाग कहते हैं) के ठीक ऊपर होता है.

Types Of Fgm Endfgm Eu 700
अलग अलग तरह के ख़तने जो लड़कियों के किए जाते हैं. किसी में सिर्फ क्लिटरिस को काटा जाता है, तो किसी में मूत्र और पीरियड का खून आने की जगह छोड़कर पूरी वजाइना सिल दी जाती है. मेडिकल भाषा में इस प्रक्रिया को इन्फिबुलेशन कहते हैं. (तस्वीर: endfgm.eu)

बात सोमालिया की.

UNFPA के एक अनुमान के अनुसार इस साल लगभग तीन लाख सोमालियन लड़कियों का ख़तना किया जाएगा. मामलों में बढ़ोतरी इसलिए भी देखी जा रही है क्योंकि हाल में रमजान का महीना चल रहा था. ये ख़तना करने का पारम्परिक समय माना जाता है. यही नहीं, आने वाले दस सालों में पूरी दुनिया में करीब बीस लाख लड़कियों का ख़तना किए जाने की आशंका है. क्योंकि हाल में फैली COVID-19 महामारी की वजह से इस प्रथा को रोकने के लिए वैश्विक स्तर पर किए जा रहे प्रयास धीमे पड़ रहे हैं, और आगे भी हालात ऐसे ही बने रह सकते हैं.

सादिया एलिन. सोमालिया में काम करती हैं. प्लैन इंटरनेशनल नाम के एक NGO की हेड हैं. ये संगठन 71 देशों में बच्चों की सुरक्षा और उनके अधिकारों के लिए काम करता है. उनके अनुसार परिवार लॉकडाउन के समय का इस्तेमाल कर रहे हैं, अपने लड़कियों का ख़तना कराने के लिए. ऐसा इसलिए क्योंकि ख़तने के बाद ठीक होने में लड़कियों को काफी समय लगता है. चूंकि अभी उन्हें स्कूल नहीं जाना, तो उन्हें जबरन घर पर रखा जा सकता है.  जो लोग ख़तना करते हैं, वो लोग भी अपना बिजनेस बढ़ाने के लिए घर-घर जाकर पूछ रहे हैं.

Fgm Ap
फीमेल जेनिटल म्यूटिलेशन को मानवाधिकारों का हनन माना जाता है. इसके खिलाफ पिछले कुछ सालों में कैम्पेनिंग काफी तेज़ हुई है. (तस्वीर: AP)

ख़तने के क्या नुकसान हैं?

ख़तना काफ़ी छोटी उम्र में ही हो जाता है. इस वजह से छोटी-छोटी बच्चियां महीनों तक दर्द से तड़पती रहती हैं.डॉ. माला खन्ना एक स्त्रीरोग विशेषज्ञ हैं. दिल्ली में प्रैक्टिस करती हैं. उन्होंने बताया कि ख़तने की वजह से पेशाब करने में बहुत तकलीफ होती है. अलग-अलग प्रकार के इन्फेक्शन हो जाते है. सिस्ट यानी गांठें हो जाती हैं. यहां तक कि जब वो बच्चे को जन्म देने वाली होती हैं तो उन्हें काफी गंभीर दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

अब जब इस प्रथा के इतने नुकसान हैं, तो इसे करते ही क्यों है?

वजह सुनकर आपको और भी अजीब लगेगा. ये माना जाता है कि अगर लड़कियों का क्लिटरिस काट दिया जाए तो वो सेक्सुअली एक्साइट नहीं होगी. शादी से पहले उनका सेक्स करने का मन नहीं करेगा. वो वर्जिन और ‘साफ़’ रहेंगी.

Prevalence Of Fgm Wiki 700
दुनिया के अलग अलग देशों में महिलाओं का ख़तना करने की दर कितनी है, ये इस मैप से समझा जा सकता है. जितना गहरा रंग, उतने ज्यादा मामले. (तस्वीर: wikimedia commons)

क्या ऐसा कुछ अपने देश में भी होता है?

भारत में एक कम्युनिटी है दाऊदी बोहरा. यह शिया मुस्लिम समुदाय का एक हिस्सा है. इनमें लड़कियों का ख़तना होता है. इस समुदाय की बड़ी-बूढ़ी औरतें क्लिटरिस को ‘हराम की बोटी’ कहती हैं.  2017 में एक अंग्रेजी अखबार ने ऑनलाइन सर्वे किया था. उसके मुताबिक इस कम्युनिटी की 98% औरतों ने माना था कि उनका ख़तना हुआ है. और 81% औरतों ने कहा था कि ये बंद होना चाहिए.

एक महिला हैं मासूमा रनाल्वी. उन्होंने महिलाओं के ख़तने के खिलाफ एक कैंपेन स्टार्ट किया था. कुछ वक़्त पहले, मासूमा ने प्रधामंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को इसके बारे में एक चिट्ठी भी लिखी थी. वो चाहती थीं कि पीएम मोदी यह प्रथा ख़त्म करवाने में महिलाओं की मदद करें.

Unicef Usa
लड़कों के ख़तने में उनके पेनिस के ऊपर की एक्स्ट्रा खाल काटी जाती है. इससे उनकी सेक्स लाइफ पर कोई असर नहीं पड़ता. लेकिन लड़कियों के ख़तने की वजह से न सिर्फ उनकी सेक्स लाइफ खराब होती है, बल्कि कई तो कभी ऑर्गेज्म तक ही नहीं पहुंच पातीं. उन्हें काफी दर्द होता है ,न सिर्फ सेक्स के दौरान बल्कि पेशाब करने तक में परेशानी होती है. (तस्वीर: unicefusa)

कानून क्या कहता है?

इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में भी PIL (जनहित याचिका) दाखिल हुई थी, जुलाई 2018 में. सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने मौलिक अधिकारों का ज़िक्र करते हुए कहा कि किसी भी महिला का ख़तना करना महिलाओं के मौलिक अधिकारों का हनन है. कोर्ट ने आर्टिकल 15 (जाति, धर्म, लिंग के आधार पर भेदभाव पर रोक) के बारे में बताते हुए कहा कि किसी भी व्यक्ति के शरीर पर उसका अपना अधिकार है. खतना प्रथा के खिलाफ और भी कई लोगों ने पीआईएल दाखिल की है. सरकार की तरफ से अटॉर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल ने कहा कि सरकार ‘फीमेल जेनेटल म्यूटिलेशन’ के खिलाफ दर्ज़ हुए पीआईएल के समर्थन में है. 42 देशों में इसे प्रतिबंधित कर दिया गया है. जिनमें से 27 देश अफ्रीका के हैं. सुप्रीम कोर्ट की बेंच में न्यायाधीश ए.एम. खानविल्कर, डी. वाय. चंद्रचूड़ और चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने अपनी राय देते हुए कहा था-

‘ख़तना कैसे किया जाता है इससे फर्क नहीं पड़ता. मुद्दा ये है कि ये औरतों के मौलिक अधिकारों का हनन है. खासकर आर्टिकल 15 का. ख़तने पर रोक लगाना ज़रूरी है ताकि सुनिश्चित हो सके कि आपके शरीर पर केवल आपका हक़ है. संविधान दोनों ही जेंडर के प्रति संवेदनशील है. ऐसी प्रथा जो औरतों को केवल आदमियों के भोग की वस्तु बनाती हो वो संवैधानिक तौर पर ग़लत है.’

इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में अभी भी सुनवाई चल रही है. दूसरे भी कई देश हैं जहां ये प्रथा चलती है. वहां भी मानवाधिकार के लिए काम करने वाले संगठन इसके विरोध में लगातार कैम्पेन चला रहे हैं. कुछ को सफ़लता भी मिली है.  हाल में ही खबर आई थी कि सूडान में FGM को अब अपराध की श्रेणी में रखा गया है. दंड के तौर पर तीन साल की सजा का प्रावधान किया गया है.


वीडियो: औरतों के ख़तने पर क्या कहा Supreme Court ने 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

अलका लांबा ने 2 साल पहले मोदी को अपशब्द कहे, अब उनके चरित्र पर हमला किया जा रहा

कोई किसी को 'नपुंसक' कहता है, कोई किसी को 'वेश्या': नेताओं की क्रिएटिविटी के क्या कहने.

सुसाइड करने वाली एक्ट्रेस के आखिरी शब्द, 'सब ठीक है' वाली मानसिकता को हिलाकर रख देंगे

काम न मिलने की वजह से परेशान टीवी एक्ट्रेस प्रेक्षा मेहता ने सुसाइड कर लिया था.

केरल: पत्नी की जान लेने के लिए अजीब वारदात को अंजाम दिया, यूट्यूब से मिला आइडिया!

चार महीने में दूसरी बार किया ऐसा काम.

बेटी से रेप की कोशिश कर रहा था, पत्नी, बेटे और बेटी ने गला दबाकर मार डाला

महिला ने की थी दूसरी शादी, पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज किया.

झारखंड में महिलाओं ने महिला को चप्पल की माला पहनाई, कपड़े उतारकर गांव में घुमाया

वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने की कार्रवाई, 200 के खिलाफ केस दर्ज.

राजस्थान में कोरोना टेस्ट के नाम पर महिला से गैंगरेप, आरोपी अरेस्ट

राजस्थान के चुरु से अपने मायके पश्चिम बंगाल के हावड़ा जाने के लिए पैदल ही निकली थी.

छह लोगों ने सड़क किनारे महिला की बेरहमी से पिटाई की, पुलिस वाले देखते रहे

वीडियो वायरल होने के बाद दो पुलिसवाले सस्पेंड.

शादी में 5 लाख कैश मिला था, लेकिन स्कॉर्पियो के लिए ससुराल वालों ने बहू को मार डाला!

आखिरी बार खाने की थाली तक छीन ली.

नग्न फोटो भेजकर सेक्स चैट करने को कहता था लड़का, लड़के की उम्र मत पूछिए

टेलीग्राम इस्तेमाल करने वाले सतर्क हो जाएं.

दो लड़कियां रिलेशनशिप में थीं, घरवाले खिलाफ थे, तो मजबूर होकर भयानक फैसला कर लिया!

कुछ महीने पहले करीबी दोस्ती की वजह से काम से निकाल दिया गया था.