Submit your post

Follow Us

कुछ लोगों को गाड़ी चलाते समय धुंधला क्यों दिखता है?

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

रजत 40 साल के हैं. नोएडा में रहते हैं. उनका ऑफिस गुरुग्राम में है. वो रोज़ गाड़ी चलाकर ऑफिस जाते हैं और वापस आते हैं. एक साइड से उन्हें मोटामाटी 50 किलोमीटर पड़ता है. आने-जाने में हो गया इसका दुगुना. कुलमिलाकर उनके तीन से साढ़े तीन घंटे ड्राइव करते बीतते हैं. ऐसा वो कई सालों से कर रहे हैं. पर कुछ समय से उन्हें ड्राइव करते वक़्त कुछ दिक्कतें आ रही हैं. जैसे उन्हें अचानक धुंधला दिखने लगता है. जब सामने से किसी गाड़ी की रोशनी पड़ती है तो उनकी आंखें अडजस्ट नहीं कर पातीं. घर आते-आते उनको सिर में भयानक दर्द होने लगता है. यही नहीं, आजकल उन्हें एक गाड़ी से दूसरी गाड़ी के बीच की दूरी नापने में भी दिक्कत आ रही है.

रजत बताते हैं कि इस वजह से दिसंबर के महीने में उनका एक्सीडेंट बस होते-होते बचा. उनका कहना है कि उन्हें पहले कमज़ोर नज़र की प्रॉब्लम नहीं थी, उनको चश्मा भी नहीं लगा था. अब अचानक उन्हें ये दिक्कतें क्यों आ रही हैं, वो चाहते हैं कि हम डॉक्टर्स से बात करके पता करें कि लंबे समय तक गाड़ी चलाने से आंखों को किस तरह का नुकसान पहुंचता है. क्या कुछ ऐसी टिप्स हैं जो उनके जैसे लोगों के काम आ सकती है? तो सबसे पहले जानते हैं कुछ लोगों को गाड़ी चलाते समय अचानक धुंधला क्यों दिखते लगता?

कुछ लोगों को गाड़ी चलाते समय धुंधला क्यों दिखता है?

ये हमें बताया डॉक्टर शैलेन्द्र सबरवाल ने.

 

Dr.-Shalinder-Sabherwal – Best Eye Hospital In Delhi. Eye Specialists In Lasik, Cataract, Glaucoma, Cornea, Vitreo-Retina And Oculoplasty
डॉक्टर शैलेन्द्र सबरवाल, हेड, कम्युनिटी ऑपथैल्मोलॉजी एंड एसोसिएट मेडिकल डायरेक्टर, डॉक्टर श्रॉफ चैरिटी ऑय हॉस्पिटल

-कुछ लोगों को गाड़ी चलते समय धुंधला दिखता है.

-सबसे आम कारण है आंखों की कमज़ोरी या चश्मे का नंबर ग़लत हो.

-कुछ तरह के चश्मों का नंबर जिन्हें एस्टिगमैटिज्म कहा जाता है, उन्हें ठीक नहीं किया जाए तो उसकी वजह से टेढ़ा-मेढ़ा दिखता है गाड़ी चलाते समय.

-कुछ आंखों की बीमारी ऐसी भी होती हैं, जिनसे आंखों में आंसुओं की कमी हो जाती है.

-अगर आंखों में आंसुओं की कमी हो और लंबे समय तक गाड़ी चलाएं तब भी नज़र कुछ समय बाद कमज़ोर होने लगती है.

-कुछ और बीमारियां भी ज़िम्मेदार हैं जैसे मोतियाबिंद या काले मोतियाबिंद की शुरुआत.

-इनमें लाइट फैल जाती है.

-ऐसे में रात में गाड़ी चलते समय नज़र कमज़ोर हो जाती है.

-आंख ठीक भी हो लेकिन किसी को शुगर की बीमारी हो और गाड़ी चलाते समय लो शुगर हो.

-उस समय भी नज़र धुंधली हो जाती है.

How to Become a Better Driver
कुछ लोगों को गाड़ी चलते समय धुंधला दिखता है

-अगर दिन के समय या शाम के समय गाड़ी चलाते वक़्त नज़र धुंधली होने लगे तो उन्हें आंखों के डॉक्टर से ज़रूर मिलना चाहिए.

लंबे समय तक ड्राइव करने से आंखों में किस तरह की प्रॉब्लम हो सकती हैं?

-लंबे समय तक गाड़ी चलाने से भी कई बार आंखों में दिक्कत आती है.

-सबसे आम परेशानी है आंखों की मांसपेशियों का थक जाना.

-गाड़ी चलाते समय हम चीज़ों पर फोकस करते हैं.

-उसकी वजह से सिर में दर्द होना.

-थकावट हो जाना आम है.

-लंबे समय तक गाड़ी चलाने से आंखों के झपकने का रेट कम हो जाता है.

-उससे आंख में सूखापन आने लग जाता है.

-जिसकी वजह से आंखें लाल हो जाती हैं.

-खुजली होती है.

-अगर लंबे समय तक गाड़ी चलानी है तो कोशिश करें कि बीच में ब्रेक लें.

-अगर धूप में ज़्यादा गाड़ी चलाते हैं तो चश्मे पहनें.

-अगर आंखों में सूखेपन की दिक्कत आ रही है तो डॉक्टर की सलाह से ड्रॉप्स डाल सकते हैं.

Toyota of N Charlotte shares more tips for driving at night
लंबे समय तक गाड़ी चलाने से आंखों के झपकने का रेट कम हो जाता है

-गाड़ी चलाने से पहले और बीच में ब्रेक लेकर.

रात में ड्राइव करते समय आंखों की रोशनी ठीक रखने के टिप्स

-अगर रात में लंबे समय तक गाड़ी चलाते हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखें.

-गाड़ी चलाते समय हम ज़्यादातर लाइट देख रहे होते हैं.

-इससे आंखों पर ज़ोर पड़ता है.

-इसलिए गाड़ी की विंडशील्ड को साफ़ रखें.

-गाड़ी की लाइट्स को साफ़ रखें.

-इससे ज़्यादा बेहतर दिखाई देगा, स्ट्रेस कम पड़ेगा.

-रात को लंबा ड्राइव करना है तो ब्रेक लेते रहें.

-अपने चश्मे में एडजस्टमेंट करें.

-आप एंटी ग्लेर चश्मे बनवा सकते हैं.

-कुछ लोग नाईट विज़न चश्मे इस्तेमाल करते हैं, पर डॉक्टर इसका ज़्यादा इस्तेमाल करने से मना करते हैं.

-क्योंकि ये लाइट को कट करते हैं.

-अगर आप रात में ज़्यादा ड्राइव नहीं करते, फिर भी समस्या आती है.

-तो हो सकता है आपकी आंखों में ड्राईनेस की दिक्कत हो या सफ़ेद मोतियाबिंद की शुरुआत हो.

-ऐसे में आंखों का चेकअप करवाना चाहिए.

Karnataka: 25 Regional Transport Offices likely to procure driving simulators soon | India News,The Indian Express
कुछ लोग नाईट विज़न चश्मे इस्तेमाल करते हैं, पर डॉक्टर इसका ज़्यादा इस्तेमाल करने से मना करते हैं

-ड्रॉप्स या सर्जरी की ज़रुरत है तो वो आपको बताया जाएगा.

कुछ लोगों को ड्राइव करते समय डेप्थ परसेप्शन की दिक्कत क्यों होती है?

-कुछ लोगों को गाड़ी चलाते समय दूरी/गहराई नापने में दिक्कत आती है.

-इसे डेप्थ परसेप्शन कहा जाता है.

-जब हम दोनों आंखों से देखते हैं तो हमारा दिमाग दोनों आंखों ने जो पिक्चर खींची होती है, उसे आपस में जोड़ देता है और जानकारी देता है.

-जिससे दूरी या गहराई पता चलती है.

-इसका हमें ब्रेन से सिग्नल मिलता है.

-ये कई दफ़ा कुछ लोगों में मुश्किल होता है क्योंकि उनकी एक आंख में कोई बीमारी या प्रॉब्लम होती है.

-ये भेंगेपन के कारण भी हो सकता है यानी दोनों आंखें एक साथ किसी चीज़ को नहीं देख पातीं.

-अगर मालूम नहीं पड़ता कि सामने वाली गाड़ी कितनी दूर है तो आंखों की जांच ज़रूर करवानी चाहिए.

-डॉक्टर बता सकते हैं कि क्या कोई ऐसी परेशानी है जो ठीक हो सकती है.

-कुछ लोगों में ये बचपन से होता है.

-ऐसे में ये पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाता.

-इस केस में कुछ चीज़ें काम आती हैं.

Distracted Driving Study Finds Most Drivers Use Cell Phones Behind the Wheel | WIRED
जब हम दोनों आंखों से देखते हैं तो हमारा दिमाग दोनों आंखों ने जो पिक्चर खींची होती है, उसे आपस में जोड़ देता है और जानकारी देता है

-जैसे ये देखें कि गाड़ी किस रफ़्तार से चल रही है, कितनी दूर दिख रही है, कितनी साफ़ दिखाई दे रही है.

-इन चीज़ों से आईडिया लगाएं कि गाड़ी कितनी दूर है.

ड्राईवर लाइसेंस बनवाने से पहले आंखों के क्या टेस्ट करवाएं?

-लाइसेंस लेने से पहले नज़र का टेस्ट करवाना चाहिए.

-जिसमें दोनों आंखों का अलग से टेस्ट होता है.

-ये देखा जाता है कि हम कितना साफ़ देख पा रहे हैं.

-अगर नज़र कम निकलती है और चश्मा पहनने से ठीक हो सकती है तो चश्मा बनवाएं.

-कुछ साल पहले तक जिन लोगों को कलर विज़न की दिक्कत होती थी यानी जो लोग कुछ रंगों के बीच फ़र्क नहीं बता पाते थे, उनको इंडिया में लाइसेंस नहीं मिलता था.

-लेकिन पिछले साल से सरकार ने मंजूरी दे दी है.

-जिनको माइल्ड या मॉडरेट दिक्कत है उनको लाइसेंस मिल सकता है.

-इसलिए कलर विज़न टेस्ट भी होना चाहिए ताकि पता चल सके कि ये दिक्कत माइल्ड या मॉडरेट है.

-हर कुछ समय में आंखों की जांच करवाने से पता चल सकता है कि कोई ऐसी बीमारी तो नहीं जो नज़र को भले ही डायरेक्ट असर नहीं कर रही हो.

-लेकिन जब ड्राइव करते हैं तो फ़र्क पड़ता है.

-क्योंकि आंखों में लाइट लगने के कारण दिक्कत हो सकती है.

गाड़ी चलाते समय अगर आपको नज़र से जुड़ी कोई दिक्कत आ रही है तो ज़रूरी है कि आप अपनी आंखों का टेस्ट करवाएं. और जैसे डॉक्टर साहब ने बताया लाइसेंस बनवाने से पहले भी आंखों की जांच करवाएं. जब आप मोटरसाइकिल, गाड़ी या कोई भी वाहन चलाते हैं तो आपके साथ-साथ और लोगों की जान भी आपके हाथों में होती है. और अगर आपको लग रहा है कि आंखों पर लाइट पड़ने से दिक्कत हो रही है, दूरी का पता नहीं चल रहा तो इसे इग्नोर न करें. किसी डॉक्टर से ज़रूर मिलें.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

श्वेता सिंह गौर की बेटी बोली- पापा ने कहा था, स्कूल से लौटोगी तो मां मरी मिलेगी

श्वेता सिंह गौर की बेटी बोली- पापा ने कहा था, स्कूल से लौटोगी तो मां मरी मिलेगी

पुलिस ने 29 अप्रैल को श्वेता के पति दीपक को गिरफ्तार किया है. श्वेता की मौत के बाद से ही दीपक फरार चल रहे थे.

रूसी सैनिक ने नाबालिग को रेप से पहले धमकाया- मेरे साथ सोओ नहीं तो 20 और ले आऊंगा

रूसी सैनिक ने नाबालिग को रेप से पहले धमकाया- मेरे साथ सोओ नहीं तो 20 और ले आऊंगा

विक्टिम 16 साल की है और घटना के वक्त छह महीने की प्रेग्नेंट थी.

UP: BJP की जिला पंचायत सदस्य श्वेता सिंह गौर की मौत, घर पर मिला शव, पति फरार

UP: BJP की जिला पंचायत सदस्य श्वेता सिंह गौर की मौत, घर पर मिला शव, पति फरार

मौत से कुछ घंटे पहले फेसबुक पोस्ट में खुद को बताया था घायल शेरनी.

राजस्थानः लिफ्ट देने के बहाने महिला को कार में बैठाया, फिर रेप और मर्डर के बाद कुएं में फेंकने का आरोप

राजस्थानः लिफ्ट देने के बहाने महिला को कार में बैठाया, फिर रेप और मर्डर के बाद कुएं में फेंकने का आरोप

कार की नंबर प्लेट से हुई आरोपी की पहचान.

पेरू की सरकार ऐसा बिल ले आई कि रेपिस्ट को नपुंसक बना दिया जाएगा

पेरू की सरकार ऐसा बिल ले आई कि रेपिस्ट को नपुंसक बना दिया जाएगा

तीन साल की बच्ची का रेप हुआ, लोग इतने नाराज़ हुए कि सरकार को इतना बड़ा कदम उठाना पड़ा.

13 साल की लड़की का इतनी बार गैंगरेप हुआ कि पुलिस ने 80 लोगों को आरोपी बनाया

13 साल की लड़की का इतनी बार गैंगरेप हुआ कि पुलिस ने 80 लोगों को आरोपी बनाया

कोरोना से मां की मौत हुई, विक्टिम को अस्पताल से उठा ले गई औरत.

शक था कि पत्नी पॉर्न एक्ट्रेस है, बच्चों के सामने दिल दहलाने वाली क्रूरता की

शक था कि पत्नी पॉर्न एक्ट्रेस है, बच्चों के सामने दिल दहलाने वाली क्रूरता की

कर्नाटक के बेंगलुरु की घटना.

'तुम तलाकशुदा, मेरी बीवी के ब्रेस्ट्स नहीं, हम दोनों एक-दूसरे के काम आ जाएंगे'

'तुम तलाकशुदा, मेरी बीवी के ब्रेस्ट्स नहीं, हम दोनों एक-दूसरे के काम आ जाएंगे'

हॉस्टल वॉर्डन का आरोप, प्रिंसिपल सेक्स करने का दबाव बना रहा था.

उस शाम नदिया रेप पीड़िता के साथ क्या हुआ था? जमीनी हकीकत आई सामने

उस शाम नदिया रेप पीड़िता के साथ क्या हुआ था? जमीनी हकीकत आई सामने

इस मामले को लेकर पश्चिम बंगाल सरकार सवालों के घेरे में है.

पत्नी जेल अधिकारी, पति ने कैदियों से मिलाने के बहाने महिला का यौन शोषण किया?

पत्नी जेल अधिकारी, पति ने कैदियों से मिलाने के बहाने महिला का यौन शोषण किया?

यूपी के बाराबंकी का मामला, घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है.